फीयोक्रोमोसाइटोमा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Pheochromocytoma
{{{other_name}}}
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
Pheochromocytoma high mag.jpg
High magnification micrograph of a pheochromocytoma showing the nested arrangement of cells (Zellballen) and stippled chromatin. H&E stain.
आईसीडी-१० C74.1
आईसीडी- 255.6
ICD-O: M8700/0
ओएमआईएम 171300
डिज़ीज़-डीबी 9912
मेडलाइन प्लस 000340
ईमेडिसिन med/1816  radio/552 ped/1788
एम.ईएसएच D010673

फीयोक्रोमोसाइटोमा या फेयोक्रोमोसाइटोमा (पीसीसी ), अधिवृक्क ग्रंथियों की मज्जा का एक न्यूरोएंडोक्राइन ट्यूमर (जिसकी उत्पत्ति क्रोमाफिन कोशिकाओं में होती है), या जन्म[1] के बाद जटिल रूप धारण करने में विफल होने वाला अतिरिक्त-अधिवृक्क क्रोमाफिन ऊतक है; यह ऊतक अत्यधिक मात्रा में कैटेकोलामीन का स्राव करता है, जो अधिवृक्क ग्रंथि में होने पर आम तौर पर एड्रीनलीन (एपिनेफ्रीन) और नोरेड्रीनलीन (नोरेपिनेफ्रिन) के रूप में होता है.[2] अतिरिक्त-अधिवृक्क पैरागैन्गलियोमास (जिसे अक्सर अतिरिक्त-अधिवृक्क फीयोक्रोमोसाइटोमास के रूप में वर्णित किया जाता है) काफी करीबी रूप से संबंधित (हालांकि कम आम) ट्यूमर हैं जो संवेदनिक तंत्रिका तंत्र के गैन्गलिया में उत्पन्न होते हैं और जिन्हें प्राथमिक संरचनात्मक उत्पत्ति स्थल के आधार पर नामित किया गया है.

संकेत एवं लक्षण[संपादित करें]

फीयोक्रोमोसाइटोमा के संकेत एवं लक्षण संवेदनिक तंत्रिका तंत्र की अतिक्रियाशिलता के संकेतों एवं लक्षणों की तरह हैं जिनमें शामिल हैं:

  • त्वचा उत्तेजना
  • पार्श्व दर्द
  • उच्च हृदय दर
  • उत्थित रक्त दाब जिसमें प्रवेगी (छिटपुट, प्रासंगिक) उच्च रक्त दाब शामिल है जिसका पता लगाना कभी-कभी और मुश्किल हो जाता है; फीयोक्रोमोसाइटोमा की उपस्थिति का एक अन्य सुराग ऑर्थोस्टेटिक हाइपोटेंशन (सिस्टोलिक रक्त दाब में 20 mmHg से अधिक गिरावट या रोगी के खड़े होने की स्थिति में डायस्टोलिक रक्त दाब में 10 mmHg से अधिक गिरावट) है.
  • तेज धड़कन
  • चिंता जो अक्सर घबराहट के दौरे की तरह लगती है
  • डायफोरेसिस (बहुत ज्यादा पसीना आना)
  • सिर दर्द
  • पीलापन
  • वज़न घटना
  • सूक्ष्मदर्शी से देखने पर स्थानीयकृत एमाइलॉयड संचय का पाया जाना
  • खून में ग्लूकोज का बढ़ा हुआ स्तर (जो मुख्य रूप से लिपोलाइसिस (संचित वसा का खंडन) के कैटेकोलामीन उत्तेजना की वजह से होता है जिसके फलस्वरूप मुक्त वसीय अम्ल का स्तर बढ़ जाता है और उसके बाद मांसपेशी कोशिकाओं द्वारा ग्लूकोज के उद्ग्रहण में अवरोध उत्पन्न होने लगता है. इसके अलावा बीटा एड्रीनर्जिक रिसेप्टर्स की उत्तेजना के फलस्वरूप ग्लाइकोजेनोलाइसिस और ग्लाइकोनियोजेनेसिस की क्रिया होती है और इस प्रकार रक्त में ग्लूकोज का स्तर बढ़ जाता है).

फीयोक्रोमोसाइटोमा की वजह से प्रतिरोधी धमनीय उच्च रक्त चाप की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है. फीयोक्रोमोसाइटोमा घातक साबित हो सकता है अगर इसकी वजह से असाध्य उच्च रक्तचाप या गंभीर रूप से उच्च रक्त दाब की समस्या उत्पन्न होती है. मानक रक्त दाब दवाओं की सहायता से इस उच्च रक्तचाप पर अच्छी तरह काबू नहीं पाया जा सकता है.

सभी रोगियों में सभी सूचीबद्ध संकेत एवं लक्षण दिखाई नहीं पड़ते हैं. इसकी सबसे आम प्रस्तुति सिरदर्द, बहुत ज्यादा पसीना आना और दिल की धड़कन का तेज हो जाना और साथ में एक घंटे के भीतर शांत हो जाने वाला दिल का दौरा पड़ना है.

ट्यूमर बढ़कर बहुत बड़ा हो सकता है लेकिन ज्यादातर ट्यूमर 10 सेमी से छोटे होते हैं.

आंकड़ें[संपादित करें]

  • अधिवृक्क मामलों में से लगभग 10% द्विपक्षीय होते हैं (जिससे वंशानुगत रोग का पता चलता है)
  • अधिवृक्क मामलों में से लगभग 10% बच्चों में होते हैं (इससे भी वंशानुगत रोग का पता चलता है)
  • लगभग 15% अतिरिक्त-अधिवृक्क हैं (जो किसी भी ऑर्थोसिम्पथेटिक ऊतक में स्थित होते हैं) जिनमें से 9% पेट में और 1% कहीं और स्थित होते हैं. कुछ अतिरिक्त अधिवृक्क फीयोक्रोमोसाइटोमा संभवतः वास्तव में पैरागैन्गलियोमा होते हैं लेकिन केवल शल्य विभाजन के बाद ही इनमें भेद किया जा सकता है.
  • अधिवृक्क मामलों में से 11.1% मामले असाध्य होते हैं लेकिन अतिरिक्त-अधिवृक्क मामलों में ऐसा 30% होता है.
  • लगभग 26% वंशानुगत होते हैं (पहले की राय के अनुसार 10%)
  • लगभग 3% विभाजन के बाद फिर से उत्पन्न होते हैं
  • प्रभावित व्यक्तियों में से लगभग 14% को धमनीय उच्च रक्तचाप (कैम्पबेबेल्स यूरोलॉजी) की समस्या नहीं होती है

कारण[संपादित करें]

फीयोक्रोमोसाइटोमा के मामलों में से 25% तक पारिवारिक हो सकता है. वीएचएल , आरईटी , एनएफ1 , एसडीएचबी और एसडीएचडी जींस के सभी उत्परिवर्तन पारिवारिक फीयोक्रोमोसाइटोमा/अतिरिक्त-अधिवृक्क पैरागैन्गलियोमा को जन्म दे सकते हैं.

फीयोक्रोमोसाइटोमा एकाधिक एडोक्राइन नियोप्लेसिया सिंड्रोम, टाइप आईआईए और टाइप आईआईबी (जिन्हें क्रमशः एमईएन आईआईए और एमईएन आईआईबी के नाम से भी जाना जाता है) का एक ट्यूमर है. उस सिंड्रोम के अन्य घटक नियोप्लाज्म में पैराथायरॉयड एडिनोमा और मेडुलारी थायरॉयड कैंसर शामिल हैं. ऑटोसोमल आरईटी प्रोटो-ओंकोजीन के उत्परिवर्तन इन असाध्यताओं को प्रेरित करते हैं. [3]. आरईटी ओंकोजीन के सामान्य उत्परिवर्तनों की वजह से मेडुलारी स्पंज किडनी की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है.[4]

एमईएन आईआई से जुड़ा फीयोक्रोमोसाइटोमा आरईटी ओंकोजीन उत्परिवर्तनों की वजह से हो सकता है. दोनों सिंड्रोम फीयोक्रोमोसाइटोमा के साथ-साथ थायरॉयड कैंसर (थायरॉयड मेडुलारी कार्सिनोमा) के लक्षण हैं. एमईएन आईआईए हाइपरपैराथायरॉयडिज्म के साथ भी प्रस्तुत होता है जबकि एमईएन आईआईबी म्यूकोसल न्यूरोमा के साथ भी प्रस्तुत होता है. अब इस बात को निर्विवाद मान लिया जाता है कि लिंकन एमईएन आईआईबी से पीड़ित थे न कि मार्फंस सिंड्रोम से जैसा कि पहले माना जाता था हालांकि यह बात अभी भी अनिश्चित है.

फीयोक्रोमोसाइटोमा न्यूरोफाइब्रोमेटोसिस के साथ भी जुड़ा हुआ है.

निदान[संपादित करें]

अधिवृक्क फीयोक्रोमोसाइटोमा का ऊतकविकृतिविज्ञान.एड्रेनेक्टोमी का प्रतिरूप.
एपनेफ्रिन
नॉरपाइनेफ़्रीन

प्लाज्मा (रक्त) में कैटेकोलामीन और मेटानेफ्रिन की माप करके या 24 घंटे के मूत्र संग्रह के माध्यम से इस रोग की पहचान की जा सकती है. एड्रीनर्जिक (एड्रीनलीन की तरह) अतिरिक्तता के अन्य कारणों पर ध्यान दिया जाना चाहिए जैसे हाइपोग्लाइसेमिया, तनाव, व्यायाम, और कैटेकोलामीन को प्रभावित करने वाली दवाइयां जैसे स्टिमुलैंट्स, मिथाइलडोपा, डोपामीन एगोनिस्ट, या गैन्गलियन ब्लॉकिंग एंटीहाइपरटेंसिव. यूरीनरी मेटानेफ्रिन और वीएमए (वेनिलीलमैंडेलिक एसिड) के स्तरों पर विभिन्न खाद्य पदार्थों (जैसे वेनिला आइसक्रीम) का भी असर पड़ता है. सिर, गर्दन और छाती और पेट की टी2 भारित एमआरआई या कंप्यूटरीकृत टोमोग्राफी द्वारा इमेजिंग से ट्यूमर की स्थिति का पता लगाने में मदद मिल सकती है. आयोडीन- 123 मेटा-आयोडोबेंजीलग्वानिडीन (आई123 एमआईबीजी) इमेजिंग के इस्तेमाल से भी ट्यूमरों की स्थिति का पता लगाया जा सकता है.

फीयोक्रोमोसाइटोमा अक्सर सबसे ज्यादा युवा-वयस्क से मध्य-वयस्क जीवन के दौरान होता है.

ये ट्यूमर अन्य एंडोक्राइन ग्लैंड कैंसरों के साथ एक पद्धति का निर्माण कर सकते हैं जिसे एकाधिक एंडोक्राइन नियोप्लेसिया (एमईएन) का नाम दिया गया है. फीयोक्रोमोसाइटोमा एमईएन 2 और एमईएन 3 (एमईएन 2बी) वाले रोगियों में हो सकता है. वॉन हिप्पेल लिंडाउ मरीजों में भी ये ट्यूमर विकसित हो सकते हैं.

फीयोक्रोमोसाइटोमा से जुड़े लक्षणों का अनुभव करने वाले रोगियों को यह पता होना चाहिए कि ऐसा शायद ही कभी होता है. हालांकि शव-परीक्षा होने तक इसका पता नहीं चलता है; इसलिए रोगी बुद्धिमानी से चिकित्सक को महत्वपूर्ण सुराग प्रदान करने का विकल्प चुन सकता है जैसे स्पष्ट चिंता के प्रसंग के दौरान रक्त दाब में होने वाले महत्वपूर्ण बदलावों को रिकॉर्ड करना.

परीक्षण[संपादित करें]

  • रक्त परीक्षण : रक्त प्लाज्मा में मुक्त मेटानेफ्रिन का विश्लेषण. उच्च स्तरों से फीयोक्रोमोसाइटोमा का संकेत मिलता है.
  • मूत्र परीक्षण : हालांकि यह परीक्षण प्लाज्मा परीक्षण की तुलना में थोड़ा कम प्रभावी है लेकिन फिर भी रोग पहचान प्रक्रिया में इसे बहुत प्रभावी माना जाता है. आम तौर पर सामान्य मनुष्यों में नोरेपिनेफ्रिन और एपिनेफ्रीन, वेनिलीलमैंडेलिक एसिड (वीएमए) और होमोवेनिलिक एसिड (एचवीए) के मेटाबोलाइट अपेक्षाकृत कम परिमाण में पाए जाते हैं. इन मेटाबोलाइटों के बढ़े हुए आंतरायिक स्राव से रोग का संकेत मिलता है लेकिन अन्य रोगों से इसे पूरी तरह से अलग नहीं किया जा सकता है जिनकी वजह से इसी तरह का स्राव हो सकता है.
  • अन्य परीक्षण :
  • अतीत में फीयोक्रोमोसाइटोमा के एक नैदानिक परीक्षण के रूप में क्लोनिडीन दिया जाता है जो उच्च रक्त दाब के इलाज में इस्तेमाल किया जाने वाला एक केन्द्रीय रूप से कार्य करने वाला अल्फा-2 एगोनिस्ट है. क्लोनिडीन मस्तिष्क में मौजूद कैटेकोलामीन की तरह होता है जिसकी वजह से अधिवृक्क मज्जा को नियंत्रित करने वाली संवेदनिक नसों की गतिविधि में कमी आती है. एक स्वस्थ अधिवृक्क मज्जा क्लोनिडीन दमन परीक्षण के प्रतिक्रियास्वरूप कैटेकोलामीन के उत्पादन को कम कर देगा; प्रतिक्रिया का अभाव फीयोक्रोमोसाइटोमा का सबूत है.
  • चिकित्सक के लिए एक अन्य परीक्षण अधिवृक्क ग्रंथि को धीरे से दबाना है. फीयोक्रोमोसाइटोमा अक्सर कैटेकोलामीन की बौछार करेगा जिसके बाद इससे जुड़े संकेत और लक्षण तुरंत दिखाई पड़ने लगते हैं. इस तरीके का इस्तेमाल करने का सुझाव नहीं दिया जाता है क्योंकि कैटेकोलामीन के संभवतः अत्यधिक निष्कासन से जटिलताओं की उत्पत्ति होने की सम्भावना रहती है.
  • चेतावनी : हिस्टामीन और टायरामीन के माध्यम से किया जाने वाला परीक्षण खतरनाक होता है और इसलिए इनका इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए.

ट्यूमर का अवस्थान[संपादित करें]

वयस्कों में फीयोक्रोमोसाइटोमा के लगभग 80% मामले एक तरफा और एकाकी, 10% द्विपक्षीय और 10% अतिरिक्त अधिवृक्कीय होते हैं. बच्चों में एक चौथाई ट्यूमर द्विपक्षीय और अतिरिक्त एक चौथाई अतिरिक्त-अधिवृक्कीय होते हैं. एकांत घाव दुर्गमतापूर्वक दायीं तरफ होते हैं. हालांकि फीयोक्रोमोसाइटोमा विकसित होकर बड़ा (3 किलो से ज्यादा) हो सकता है लेकिन ज्यादातर का वजन 100 ग्राम से कम और व्यास 10 सेमी से कम होता है. फीयोक्रोमोसाइटोमा अत्यधिक संवहनी होते हैं.

ट्यूमर बड़े, पोलीहेड्रल, प्लियोमोर्फिक क्रोमाफिन कोशिकाओं से बने होते हैं. इनमें से 10% से भी कम असाध्य होते हैं. कई अन्य एंडोक्राइन ट्यूमरों की तरह इसकी असाध्यता का पता भी हिस्टोलॉजिक रूपरंग से नहीं लगाया जा सकता है; फ्लो साइटोमेट्री से पता चलने वाले काफी संख्या में एनियूप्लॉयड और टेट्राप्लॉयड कोशिकाओं वाले ट्यूमरों के बार-बार होने की अधिक सम्भावना होती है. दूरवर्ती मेटास्टेसस या आसपास के ऊतकों के स्थानीय आक्रमण से असाध्यता का संकेत मिलता है.

अतिरिक्त-अधिवृक्कीय फीयोक्रोमोसाइटोमा: अतिरिक्त-अधिवृक्कीय फीयोक्रोमोसाइटोमा का वजन आम तौर पर 20 से 40 ग्राम और व्यास 5 सेमी से कम होता है. ज्यादातर फीयोक्रोमोसाइटोमा सीलियक, श्रेष्ठ मेसेंटेरिक, अवर मेसेंटेरिक गैन्गलिया और ऑर्गन ऑफ ज़ुकरकांडल के साथ पेट के भीतर स्थित होते हैं. लगभग 10% छाती में, 1% मूत्राशय के भीतर और 3% से कम गर्दन में आम तौर पर संवेदनिक गैन्गलिया या नवम कपालीय तंत्रिकाओं की अतिरिक्त कपालीय शाखाओं के साथ स्थित होते हैं.

विभेदक रोगनिदान[संपादित करें]

फीयोक्रोमोसाइटोमा के विभेदक रोगनिदान में शामिल हैं:

  • व्यग्रता संबंधी विकार
  • पैरागैन्गलियोमा
  • अनिवार्य उच्चरक्तचाप
  • हाइपरथायरॉयडिज्म (अतिगलग्रंथिता)
  • इंसुलिनोमा
  • पारे की विषाक्तता
  • पैरोक्सिस्मल सुप्रावेंट्रिकुलर टैकिकार्डिया
  • रीनोवैस्कुलर उच्चरक्तचाप
  • कार्सिनॉयड [5]

उपचार[संपादित करें]

ट्यूमर का शल्य उच्छेदन इलाज की पहली पसंद है जिसे या तो मुक्त लैपरोटोमी द्वारा नहीं तो लैपरोस्कोपी द्वारा किया जाता है.[6] पेरीऑपरेटिव प्रबंधन की जटिलता और कैटस्ट्रोफिक इंट्रा और पोस्टऑपरेटिव जटिलताओं की सम्भावना को देखते हुए इस तरह की सर्जरी केवल इस विकार के प्रबंधन के अनुभवी केन्द्रों में की जानी चाहिए. ऐसे केन्द्रों में शल्य चिकित्सीय विशेषज्ञता के अलावा आवश्यक एंडोक्राइन और संज्ञाहरण संसाधन भी हो सकते हैं. एड्रिनलेक्टोमी भी करना पड़ सकता है जो प्रभावित अधिवृक्कीय ग्रंथि(यों) का सम्पूर्ण शल्य चिकित्सीय निष्कासन है.

किसी भी शल्य चिकित्सीय विकल्प के लिए गैर-निर्दिष्ट और अपरिवर्तनीय अल्फा एड्रिनोसेप्टर ब्लॉकर फेनोक्सीबेंजामीन की सहायता से पूर्व इलाज की जरूरत पड़ती है (अपरिवर्तनीय अवरोध इसलिए महत्वपूर्ण है कयोंकि ट्यूमर से अत्यधिक मात्रा में कैटेकोलामीन के मुक्त होने से परिवर्तनीय अवरोध वशीभूत हो सकता है). ऐसा करने से शल्य चिकित्सा को आगे बढ़ाने में मदद मिलती है और दूसरी तरफ गंभीर इंट्राऑपरेटिव उच्च रक्तचाप की सम्भावना कम हो जाती है (क्योंकि ट्यूमर के साथ छेड़छाड़ करते समय ऐसा हो सकता है). कुछ अधिकारियों का सुझाव है कि हृदय गति को धीमा करने के लिए एक संयुक्त अल्फा/बीटा ब्लॉकर जैसे लेबेटालोल भी दिया जाना चाहिए. लेकिन फीयोक्रोमोसाइटोमा की उपस्थिति में "शुद्ध" बीटा ब्लॉकर जैसे एटीनोलोल का इस्तेमाल हरगिज नहीं करना चाहिए क्योंकि इस तरह के उपचार से निर्विरोध अल्फा एगोनिज्म और उसके बाद गंभीर और संभवतः दुर्दम्य उच्च रक्तचाप होने का खतरा पैदा हो सकता है.

फीयोक्रोमोसाइटोमा का मरीज सदा परिमाण क्षीण रहता है. दूसरे शब्दों में एक अनुपचारित फीयोक्रोमोसाइटोमा लंबे समय से उन्नत एड्रीनर्जिक स्थिति संबंधी विशेषता के फलस्वरूप रेनिन-एंजियोटेंसिन गतिविधि का लगभग सम्पूर्ण प्रावरोध हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप पेशाब में बहुत ज्यादा द्रव हानि होती है और इस प्रकार रक्त की मात्रा कम हो जाती है. इसलिए जब फीयोक्रोमोसाइटोमा को निकाल दिया जाता है जिससे कैटेकोलामीन के संचालन का प्रमुख स्रोत हट जाता है तो एक ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है जहां बहुत कम संवेदनिक गतिविधि के साथ-साथ परिमाण क्षीणता भी होती है. इसके परिणामस्वरूप गंभीर हाइपोटेंशन हो सकता है. इसलिए आम तौर पर फीयोक्रोमोसाइटोमा के मरीजों को उनकी शल्य चिकित्सा से पहले "साल्ट लोड" की सलाह दी जाती है. इसमें बस हस्तक्षेप हो सकता है जैसे ऑपरेशन से पहले अत्यधिक नमक वाले भोजन का उपभोग, प्रत्यक्ष नमकीन प्रतिस्थापन या नसों में सूई के माध्यम से नमकीन घोल का प्रतिस्थापन.

महामारी-विज्ञान[संपादित करें]

1,000,000 में 2–8 लोगों में फीयोक्रोमोसाइटोमा देखा जाता है और संयुक्त राज्य अमेरिका में हर साल लगभग 1000 मामले का निदान होता है. यह ज्यादातर युवा या मध्यम आयु के वयस्कों में होता है हालांकि वंशानुगत मामलों में इससे कम उम्र के लोगों में भी यह दिखाई देता है.

इतिहास[संपादित करें]

1886 में फ्रैंकल ने फीयोक्रोमोसाइटोमा के एक मरीज का पहला वर्णन किया हालांकि इस शब्द का इस्तेमाल सबसे पहले लुडविग पिक नामक एक रोगविज्ञानी ने 1912 में किया था. सन् 1926 में रॉक्स (स्विट्ज़रलैंड में) और मायो (यूएसए में) फीयोक्रोमोसाइटोमा हटाने वाले पहले सर्जन बने.

समाज और संस्कृति[संपादित करें]

  • एनबीसी टीवी श्रृंखला ईआर (जिसका प्रसारण 1994–2009 में किया गया) में कुछेक बार फीयोक्रोमोसाइटोमा का उल्लेख किया गया था और आम तौर पर निदान की दुर्लभता की वजह से डॉक्टरों ने इसमें काफी रुचि दिखाई थी.
  • एपिसोड "एक्सेप्टेंस " (जिसका प्रसारण 13 सितम्बर 2005 को किया गया था) टीवी श्रृंखला हाउस के दूसरे सत्र के प्रीमियर में हाउस के रोगी, एक मौत की सजा पाने वाला कैदी क्लेयरेंस (यह भूमिका एलएल कूल जे ने निभाई थी) को फीयोक्रोमोसाइटोमा से ग्रस्त पाया गया - ट्यूमर के एड्रीनलीन स्पैक की वजह से गुस्से में आकर उसने अपने चौथे शिकार को अनजाने में मार डाला.
  • लोकप्रिय कोंडर ट्रिलॉजी पर आधारित हेवन स्वोर्ड एण्ड ड्रैगन सेबर (इसके विभिन्न फिल्म, टेलीविजन और ग्राफिक उपन्यास रूपांतरणों के साथ) नामक तीसरे उपन्यास में मार्शल आर्टिस्ट क्सी क्सुन एक 'एंडोक्राइन विकार' से पीड़ित है जो काफी हद तक फीयोक्रोमोसाइटोमा की तरह है. उसकी कोंग्टोंग सेक्ट के सेवन हार्म्स फिस्ट की महारत की वजह से होने वाले इस विकार की वजह से उसे छिटपुट रूप से हेराकल्स की तरह 'पागलपन' के हमले से गुजरना पड़ता है और वह गुस्से से भरकर हिंसक बन जाता है और गलती से अपने प्रियजनों को अपना दुश्मन समझ लेता है.
  • टीवी श्रृंखला प्राइवेट प्रैक्टिस के तीसरे सत्र के "द वे वी वेयर " एपिसोड (जिसका प्रसारण 8 अक्टूबर 2009 को किया गया था) में 11 वर्षीय मरीज (टैमी लार्सन, जिसकी भूमिका एमिली रे ने निभाई थी) को अपने अंडाशय के अस्थानिक फीयोक्रोमोसाइटोमा का कष्ट उठाना पड़ता है जिसकी वजह से काफी गुस्सा आने लगता है और इसी तरह एक बार गुस्से में वह अपने पिता को चाक़ू मार देती है.
  • मिस्ट्री डायग्नोसिस का एक एपिसोड जो एक ऐसी महिला के बारे में था जिसे फीयोक्रोमोसाइटोमा था.
  • टीवी श्रृंखला मैश 4077 के दसवें सत्र के "संस एण्ड बॉलर्स" एपिसोड में हॉकआई को खबर मिलती है कि फीयोक्रोमोसाइटोमा का पता चलने के बाद उसके पिता सर्जरी करवा रहे हैं.
  • फीयोक्रोमोसाइटोमा की जटिलताओं की वजह से 40 साल की उम्र में ब्रिटिश अभिनेत्री कैटरीन कार्टिज का निधन हो गया.
  • राष्ट्रपति आइसेनहोवर की मौत भी शायद फीयोक्रोमोसाइटोमा की वजह से हुई थी.

पादलेख[संपादित करें]

  1. Boulpaep, Emile L.; Boron, Walter F. (2003). Medical physiology: a cellular and molecular approach. Philadelphia: Saunders. pp. 1065. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-7216-3256-4. 
  2. ईबीएससीओ (EBSCO) डेटाबेस यूआरएसी (URAC) द्वारा सत्यापित; न्यूयॉर्क के माउंट सीनै अस्पताल से एक्सेस किया गया
  3. Online 'Mendelian Inheritance in Man' (OMIM) MULTIPLE ENDOCRINE NEOPLASIA, TYPE IIA; MEN2A -171400
  4. Diouf B, Ka EH, Calender A, Giraud S, Diop TM (2000). "Association of medullary sponge kidney disease and multiple endocrine neoplasia type IIA due to RET gene mutation: is there a causal relationship?". Nephrol. Dial. Transplant. 15 (12): 2062–3. doi:10.1093/ndt/15.12.2062. PMID 11096158. 
  5. एजे गियानिनी, एचआर ब्लैक. साइकीऐट्रिक, साइकोजेनिक एंड सोमेटोसाइकीक डिसोर्डर्स हैंडबुक. गार्डन सिटी, न्यूयॉर्क. मेडिकलएग्जामिनेशन प्रकाशन कंपनी, 1978.पीपी. 213-214. आईएसबीएन 0-87488-596-5.
  6. Jaroszewski DE, Tessier DJ, Schlinkert RT, et al. (2003). "Laparoscopic adrenalectomy for pheochromocytoma". Mayo Clin. Proc. 78 (12): 1501–4. doi:10.4065/78.12.1501. PMID 14661679. 

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • न्यूरोब्लास्टोमा

बाह्य कड़ियां[संपादित करें]