फ़्रान्सीसी क्रान्ति

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(फ़्रांसीसी क्रांति से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख French Revolution के इस संस्करण से अनुवादित किया गया है.
फ्रांसीसी क्रांति (1789-1799) फ्रांस के इतिहास में राजनैतिक और सामाजिक उथल-पुथल और आमूल परिवर्तन की अवधि थी, जिसके दौरान फ्रांस की सरकारी सरंचना, जो पहले कुलीन और कैथोलिक पादरियों के लिए सामंती विशेषाधिकारों के साथ पूर्णतया राजशाही पद्धति पर आधारित थी, अब उसमें आमूल परिवर्तन हुए और यह नागरिकता और अविच्छेद्य अधिकारों के प्रबोधन सिद्धांतों पर आधारित हो गयी.

इस परिवर्तनों के साथ ही हिंसक उथल पुथल हुई जिसमें राजा का परीक्षण और निष्पादन, आतंक के युग में विशाल रक्तपात और दमन शामिल था, युद्घ (संघर्ष) में प्रत्येक अन्य मुख्य यूरोपीय शक्ति शामिल थी.

बाद की घटनाएं जिनके द्वारा क्रांति का पता लगाया जा सकता है, में शामिल हैं नेपोलियन का युद्ध, राजतन्त्र के दो अलग पुनर्स्थापन, और दो अतिरिक्त क्रांतियां जिन्होंने आधुनिक फ्रांस को आकृति दी.

अगली सदी में, फ्रांस किसी एक या अन्य बिंदु पर एक गणराज्य, संवैधानिक राजतंत्र और दो भिन्न साम्राज्यों के रूप में नियंत्रित किया गया.

अनुक्रम

कारण[संपादित करें]

सबसे ऐतिहासिक मॉडलों को मानने वाले लोग, प्राचीन व्यवस्था के कई समान लक्षणों को क्रांति के कारणों के रूप में पहचानते हैं.

आर्थिक कारकों में शामिल थे अकाल और कुपोषण, जिसके कारण रोगों और मृत्यु की सम्भावना में वृद्धि हुई, और क्रांति के ठीक पहले के महीनों में आबादी के सबसे गरीब क्षेत्रों में भुखमरी की स्थिति पैदा हो गयी.

अकाल यूरोप के अन्य भागों में भी फ़ैल गया, और अधिक मात्रा में खाद्य पदार्थों के लिए एक बुरे स्थानान्तरण ढांचे के द्वारा इसे कोई मदद नहीं मिली.

(हाल ही के अनुसंधान इस व्यापक अकाल के लिए अल नीनो प्रभाव को जिम्मेदार ठहराते हैं, जिसके बाद 1783 मेंआइसलैण्ड पर लाकी विस्फोट हुआ,[1] या छोटे बर्फ युग के ठंडा जलवायु के कारण फ्रांस आलू को मुख्य फसल के रूप में अपनाने में असफल रहा.[2]

एक अन्य कारण यह तथ्य था कि लुईस XV ने कई युद्ध लड़े, और फ्रांस को दिवालिएपन के कगार पर ले आये, और लुईस XVI ने अमेरिकी क्रांति के दौरान उपनिवेश में रहने वाले लोगों का समर्थन किया, जिससे सरकार की अनिश्चित वित्तीय स्थिति और बदतर हो गयी.

राष्ट्रीय ऋण लगभग दो अरब की राशि तक पहुंच गया. युद्ध के कारण उत्पन्न हुए सामाजिक बोझ में भारी युद्ध ऋण शामिल था, राजतंत्र की सैन्य विफलताओं और अयोग्यता के कारण और युद्ध के दिग्गजों के लिए सामाजिक सेवाओं के अभाव के कारण स्थिति और भी खराब हो गयी.

अकुशल और पुरानी वित्तीय प्रणाली राष्ट्रीय कर्ज के प्रबंधन में असफल रही, ऐसा कराधान की एक निहायत ही नाइन्साफ़ युक्त प्रणाली के के कारण हुआ. एक अन्य कारण था कुलीन वर्ग का निरंतर उल्लेखनीय उपभोग, आबादी पर वित्तीय बोझ के बावजूद, विशेष रूप से लुईस XVI और मारी एन्टोंइनेट की अदालत में ऐसी विभिन्नताएं देखी जाती थी.

अधिक बेरोजगारी और रोटी की ऊँची कीमतों के कारण भोजन पर अधिक धन व्यय किया जाता था, और अन्य आर्थिक क्षेत्रों में धन का व्यय अल्प होता था. रोमन कैथोलिक चर्च, जो देश का सबसे बड़ा ज़मींदार था, ने फसलों पर एक कर लगाया, जिसे डाइम या टिथे कहा जाता था. हालांकि डाइम ने राजतंत्र की कर की वृद्धि की गंभीरता को कम कर दिया, इसने सबसे गरीब लोगों की बुरी स्थिति को और भी बदतर बना दिया जो जो कुपोषण के साथ एक दैनिक संघर्ष का सामना कर रहे थे.

वहाँ पर आंतरिक व्यापार बहुत कम था और सीमा शुल्क में बहुत सी बाधाएं थीं.[3]

कई सामाजिक और राजनैतिक कारक थे, जिनमें से कई कारक थे द्वेष और आकांक्षाएं. प्रबोधन के आदर्शों के उत्थान के द्वारा इन की और ध्यान आकर्षित हुआ.

इसमें शामिल था शाही तानाशाही का द्वेष या नाराजगी; महत्वाकांशी पेशेवरों और व्यापारिक वर्गों के द्वारा शाही वर्गों और सार्वजनिक जीवन में उनकी प्रभाविता के प्रति द्वेष, क्योंकि इनमें से कई वर्ग नीदरलैंड और ग्रेट ब्रिटेन में व्यावसायिक शहरों में अपने सहकर्मियों के जीवन से परिचित थे; किसानों, मजदूरों और रूढ़ीवादियों का शाही वर्गों के द्वारा लागू किये गए पारंपरिक सामंती विशेषाधिकारों के प्रति द्वेष या नाराजगी; लिपिक लाभ (ईसाई चर्च का याचक-विरोधी) और धर्म की स्वतंत्रता का द्वेष और ग्रामीण पादरियों के द्वारा कुलीन बिशप (पादरियों का क्षेत्रीय अध्यक्ष) के प्रति द्वेष, कैथोलिक नियन्त्रण के लिए निरंतर घृणा, और बड़े प्रोटेस्टेंट अल्पसमुदायों के द्वारा सभी प्रकार के संस्थानों पर प्रभाव; स्वतंत्रता और (विशेष रूप से जैसे जैसे क्रांति आगे बढ़ी) गणतंत्रवाद की आकांक्षा; जेकॉस नेकर और ऐ आर जे टरगोट पर फायरिंग के लिए राजा के प्रति क्रोध (अन्य वित्तीय सलाहकारों के बीच), जिन्हें लोकप्रिय तरीके से लोगों के प्रतिनिधि के रूप में देखा जाता था.[4]

अंत में, शायद उपरोक्त सभी कारणों से लुईस XVI असफल रहा और उसके सलाहकार इनमें से किसी भी समस्या से प्रभावी तरीके से निपट नहीं पाए.[तथ्य वांछित]

क्रांति-पूर्व[संपादित करें]

वित्तीय संकट[संपादित करें]

लुईस XVI सिंहासन पर रहने के समय एक वित्तीय संकट का सामना कर रहा था; राष्ट्र दिवालियेपन की कगार पर था, और आय से अधिक व्यय थे.[5] इसका कारण था फ्रांस का सात साल तक युद्ध में शामिल रहना और अमेरिकी क्रांति में भाग लेना.[6] मई 1776, वित्त मंत्री टरगोट को बहुमत न मिलने के कारण बर्खास्त कर दिया गया. अगले वर्ष, एक विदेशी, जेकॉस नेकर, जो एक विदेशी थे, को वित्त महानिदेशक नियुक्त किया गया. उसे मंत्री नहीं बनाया गया क्योंकि वह एक प्रोटेस्टेंट था, और फ्रांस के नागरिक नहीं अपनाया जा सकता था.[7] नेकर ने महसूस किया कि देश की कराधान प्रणाली कुछ अनुचित बोझ के अधीन है;[7] शाही लोगों और पादरी वर्ग के लिए कई विशेषाधिकार मौजूद हैं.[8] उन्होंने तर्क दिया कि देश में कर बहुत उच्च नहीं हो सकते, शाही और पादरी वर्ग को करों में कोई रियायत नहीं दी जानी चाहिए, और प्रस्तावित क्या कि कर्ज लेकर देश की वित्तीय समस्या को हल किया जा सकता है.

नेकर ने इस दावे के समर्थन में एक रिपोर्ट का प्रकाशन किया जिसमें मोटे तौर पर 36,000 लीवरेज के द्वारा घाटे का अनुमान लगाया गया; और प्रस्तावित किया गया कि पार्लेमेंट की व्यय क्षमता को सीमित किया जाये. इसका रजा के मंत्रियों और नेकर के द्वारा अधिक स्वागत नहीं किया गया, उसकी स्थिति को स्थिर करने की आशा में उसे एक मंत्री के रूप में स्वीकार करने का तर्क दिया गया.

राजा ने इनकार कर दिया, नेकर को उसके पद से हटा दिया गया और चार्ल्स एलेग्जेंडर डी केलोने को निदेशक नियुक्त किया गया.[7]

केलोने ने शुरुआत में उदारतापूर्वक धन का व्यय किया, लेकिन उसे जल्दी ही जटिल वित्तीय स्थिति का अहसास हुआ और उसने एक नए कर कोड को लागू कर दिया.[9] इस प्रस्ताव में एक स्थिर भूमि कर शामिल था, जिसमें शाही और पादरी वर्गों के लिए भी करों को शामिल किया गया, और मई 1789 के लिए संपत्ति की एक बैठक का आयोजन किया गया; यह इस बात का संकेत था कि बोरबोन राजतन्त्र में अब तानाशाही नहीं रहेगी.[10]

1789 के एस्टेट जनरल[संपादित करें]

एस्टेट जनरल को तीन संपत्तियों में संगठित किया गया, क्रमशः: पादरी, शाही, और शेष फ्रांस.[11] 1614 में आखिरी बार जब एस्टेट जनरल की बैठक हुई, प्रत्येक एस्टेट को एक वोट मिला, और कोई भी दो तीसरे को रद्द कर सकते थे. पेरिस की पार्लेमेंट को डर था कि सरकार परिणाम को नियंत्रित करने के लिए एक सभा का आयोजन करने का प्रयास करेगी.

इस प्रकार, इस बात की आवश्यकता थी कि एस्टेट की व्यवस्था 1614 में की जाये.[12]

1614 के नियम स्थानीय सभाओं की प्रथाओं से अलग थे, जिनमें प्रत्येक सदस्य के पास एक वोट होता था, और तीसरी एस्टेट सदस्यता दोगुनी होती थी. उदाहरण के लिए, डोफाइन के प्रान्त में, प्रांतीय विधानसभा तीसरे एस्टेट के सदस्यों की संख्या को दोगुनी करने के लिए सहमत हो गयी, सदस्यता चुनाव को सहमती प्राप्त हुई, जिसमें प्रत्येक एस्टेट के लिए एक वोट के बजाय प्रत्येक सदस्य को एक वोट की अनुमति मिली.[13] पेरिस के उदारवादियों के एक निकाय, "कमिटी ऑफ़ थर्टी", ने एस्टेट के द्वारा मतदान के खिलाफ आंदोलन शुरू किया.

यह समूह मुख्य रूप से धनवान लोगों से बना था, इसने तर्क दिया कि डोफाइन की मतदान प्रणाली एस्टेट जनरल को निर्धारित करनी चाहिए.

उन्होंने तर्क दिया कि प्राचीन परंपरा पर्याप्त नहीं थी. क्योंकि "लोग ही प्रमुख शासक थे".[14] नेकर ने कुलीन लोगों की एक दूसरी सभा बुलाई, जिसमें 333 के लिए 111 के वोट के द्वारा दोहरे प्रतिनिधित्व की धारणा को अस्वीकार कर दिया.[14] राजा, हालांकि, 27 दिसंबर के प्रस्ताव के लिए सहमत हो गया; लेकिन उसने खुद एस्टेट जनरल के लिए प्रत्येक वोट के वजन पर चर्चा करना छोड़ दिया.[15]

चुनाव 1789 के वसंत में हुए; मताधिकार के लिए आवश्यकताएं थीं: 25 साल की उम्र और कर में छह से अधिक लिवरेस का भुगतान. सशक्त मतदान ने 1,201 प्रतिनिधियों का उत्पादन किया, जिसमें "291 शाही लोग, 300 पादरी, और तीसरे एस्टेट के 610 सदस्य" शामिल थे.[15] प्रतिनिधियों का नेतृत्व करने के लिए, "समस्याओं की सूची बनाने के लिए "बुक्स ऑफ़ ग्रिवेंसेस" (cahiers de doléances ) का संकलन किया गया.[11] पुस्तकों ने उन विचारों को अभिव्यक्त किया जो कुछ माह पहले कट्टरपंथी प्रतीत होते थे; हालांकि, अधिकांश लोगों ने सामान्य रूप से राजतन्त्र प्रणाली का ही समर्थन किया.

कई लोगों ने मन कि एस्टेट जनरल भावी करों को सहमति दे देगा, और प्रबोधन के आदर्श अपेक्षाकृत दुर्लभ थे.[12][16] प्रेस सेंसरशिप के उठने के बाद उदारवादी कुलीन लोगों और पादरियों के द्वारा पर्चे व्यापक हो गए.[14] दी एब्बे सीयेज ने पर्चे Qu'est-ce que le tiers état? में तीसरे एस्टेट के महत्त्व का तर्क दिया.

(तीसरा एस्टेट है? ), का प्रकाशन जनवरी 1789 में हुआ. उन्होंने कहा: "तीसरा एस्टेट क्या है? सभी कुछ. अब तक राजनैतिक क्रम में क्या रहा है? कुछ नहीं. यह क्या करना चाहता है?कुछ. "[12][17]

एस्टेट जनरल ने 5 मई 1789 को वर्सेलिज में एक सम्मलेन का आयोजन किया जिसका उदघाटन नेकर के द्वारा तीन घंटे के एक भाषण से हुआ.

तीसरे एस्टेट की मूल रणनीति थी यह सुनिश्चित करना कि एस्टेट जनरल का कोई भी फैसला अलग कक्ष में नहीं पहुंचना चाहिए, लेकिन इसके बजाय तीनों एस्टेट से एक साथ सभी सहायकों के द्वारा ऐसा किया जाना चाहिए (दूसरे शब्दों में, रणनीति यह थी कि तीनों एस्टेट को मिला कर एक सभा बनायी जाये) इस प्रकार उन्होंने मांग की कि सहायक क्रेडेंशियल्स की जांच (सत्यापन) सभी सहायकों के द्वारा सामान्य रूप में की जानी चाहिए; नाकि प्रत्येक एस्टेट आंतरिक रूप से अपने खुद के सदस्यों के क्रेडेंशियल्स का सत्यापन करे; लेकिन अन्य एस्टेट्स के साथ वार्ता इसे पाने में असफल रही. [16] साधारण लोगों ने पादरियों को अपील की जिन्होंने जवाब दिया कि उन्हें अधिक समय की आवश्यकता है. नेकर ने कहा कि प्रत्येक एस्टेट को क्रेडेंशियल्स का सत्यापन करना चाहिए और "राजा को एक निर्णायक के रूप में कार्य करना चाहिए".[18] हालांकि इसे पाने के लिए अन्य दो एस्टेट्स के साथ वार्ताएं असफल रहीं.[19]

राष्ट्रीय सभा (1789)[संपादित करें]

जेकस-लुईस डेविड द्वारा राष्ट्रीय असेंबली का चित्र जिसमें टेनिस कोर्ट की शपथ ली जा रही है.

10 जून 1789 को अब्बे सियेज के कहा कि तीसरा एस्टेट, जिसकी बैठक अब कम्युन्स (अंग्रेजी: "कामन्स") के रूप में होती है, अपनी शक्तियों के सत्यापन के साथ आगे बढ़ता है, और अन्य दो एस्टेट्स को भाग लेने के लिए आमंत्रित करता है, लेकिन उनके लिए इन्तजार नहीं करता है.

वे दो दिन बाद ऐसा करने के लिए आगे बढे, और 17 जून को इस प्रक्रिया को पूरा किया.[20] उसके बाद उन्होंने अधिक कट्टरपंथी वोट किया, अपने आप को राष्ट्रीय सभा घोषित कर दिया, एक सभा जो किसी एस्टेट की नहीं थी बल्कि "लोगों" की थी. उन्होंने अन्य आदेशों को अपने साथ शामिल होने के लिए आमंत्रित किया, लेकिन यह स्पष्ट कर दिया कि वे राष्ट्रीय मामलों को उनके साथ या उनके बिना संचालित करने का इरादा रखते हैं.[21]

इस प्रक्रिया पर नियंत्रण रखने और सभा के सम्मेलन को रोकने के प्रयास में, लुईस XVI ने Salle des États की समीपता का आदेश दिया जहां सभा की बैठक हुई थी, इसके लिए यह बहाना बनाया गया कि बढ़ई लोगों को दो दिन में एक शाही भाषण के लिए हॉल को तैयार करना है.

आउटडोर बैठक की अनुमति नहीं थी इसलिए सभा का आयोजन पास ही में एक इनडोर रीअल टेनिस कोर्ट में हुआ, जहां उन्होंने टेनिस कोर्ट शपथ की कार्यवाही की (20 जून 1789), जिसके तहत उन्होंने यह सहमति जताई कि वे तब तक अलग नहीं होंगे जब तक फ्रांस में एक संविधान लागू नहीं किया जायेगा. जल्दी ही पादरियों के अधिकांश प्रतिनिधि उनमें शामिल हो गए, ऐसा ही शाही वर्ग के 47 सदस्यों ने भी किया. 27 जून तक, राजसी (शाही) दल खुलेआम पीछे हट गया, हालांकि पेरिस और वर्सेलिज के आस पास बड़ी संख्या में सैन्य दल पहुँचने लगे.

पेरिस और अन्य फ्रांसीसी शहरों से सभा के समर्थन में सन्देश आने लगे.[22]

राष्ट्रीय संविधान सभा (1789-1791)[संपादित करें]

बस्टाइल का आक्रमण[संपादित करें]

इस समय तक नेकर तीसरे एस्टेट के लिए अपने समर्थन और मार्गदर्शन के लिए फ्रांसीसी कोर्ट के कई सदस्यों की दुश्मनी अर्जित कर चुका था.

मारी एन्टोंइनेट, राजा का छोटा भाई कोम्टे डी आर्तोईस, और राजा की गुप्त परिषद् के अन्य संरक्षक सदस्यों ने उससे आग्रह किया कि नेकर को उसकी राजा के वित्तीय सलाहकार की भूमिका के पद से बर्खास्त कर दिया जाये.

11 जुलाई 1789 को, नेकर के इस सुझाव के बाद कि शाही परिवार को धन संरक्षण के अनुसार रहना चाहिए, राजा ने उसे निकाल दिया, और उसी समय पूरी तरह से वित्त मंत्रालय का पुनर्गठन किया गया.[23]

पेरिस के कई लोगों ने संरक्षकों के द्वारा एक शाही तख्तापलट शुरू करने लुईस की कार्यवाही की पूर्व कल्पना की थी और जब उन्होंने अगले दिन यह खबर सुनी तो खुला विद्रोह शुरू कर दिया.

उन्हें यह भी डर था कि पहुँचने वाले सैनिक-मूल फ्रांसीसी दलों के बजाय फ्रांसीसी सेवाओं के तहत काम करने वाले अधिकांश विदेशी थे- उन्हें राष्ट्रीय संविधान सभा को बंद करने के लिए सम्मन (आह्वान) भेजा गया.

वर्सेलीज में सभा की बैठक, एक बार फिर से उनके बैठक के स्थान से निष्कासन को रोकने के लिए बिना रुके जारी रही. पेरिस में जल्दी ही दंगे, अराजकता, और बड़े पैमाने पर लूटपाट फ़ैल गयी.

इस भीड़ को जल्दी ही फ्रांसीसी गार्ड, और हथियारों व प्रशिक्षित सैनिकों का समर्थन मिलने लगा.[24]

14 जुलाई को, विद्रोहियों ने बेस्टाइल दुर्ग के भीतर हथियारों और गोला बारूद पर अपना ध्यान केन्द्रित किया, जो राजतन्त्रवादी अत्याचार का कथित प्रतीक था.

कई घंटों की लडाई के बाद उस दोपहर को जेल गिर गया. युद्ध विराम, जिसके परिणामस्वरूप आपसी नरसंहार रुक गया, के आदेश के बावजूद, गवर्नर मार्किस बर्नार्ड डे लोने को पीटा गया, उस पर वार किया गया और उसका सिर धड से अलग कर दिया गया; उसके सिर को एक नुकीले भाले पर रखकर शहर में परेड की गयी.

हालांकि पेरिस ने केवल सात कैदियों को रिहा किया (चार जालसाज, दो कुलीन लोग जिन्हें अनैतिक आचरण के लिए रखा गया था और एक हत्या का संदिग्ध), बेस्टाइल ने उस हर चीज के एक प्रभावशाली प्रतीक का काम किया जो प्राचीन शासन में नफरत का पात्र था.

होटल डे विले (सिटी हॉल) में लौटने के बाद भीड़ ने prévôt des marchands (संभवतया मेयर) जेकास डे फ्लेस्सेल्लेस को कपट का अभियुक्त पाया और उसे गोली मार दी गयी.[25]

फ्रांसीसी क्रांति के दौरान सेंस-क्युलोते के हाथों में तिरंगे का प्रारंभिक वर्णन

राजा और उसके सैन्य समर्थक कम से कम उस समय के लिए पीछे हट गए. ला फयेत्ते ने पेरिस में राष्ट्रीय गार्ड की कमान अपने हाथ में ले ली. जीन सिल्वेन बैली जो उस समय टेनिस कोर्ट शपथ की सभा के अध्यक्ष थे, कम्यून नामक एक नए सरकारी ढांचे के अर्न्तगत शहर के मेयर बन गए. राजा पेरिस गया, जहां 17 जुलाई को उसने Vive la Nation [राष्ट्र के लम्बे जीवन] और Vive le Roi [राजा के लम्बे जीवन] के लिए एक ट्राईकलर कोकाइड को स्वीकृति दी.[26] नेकर सत्ता में फिर से आया लेकिन उसकी जीत अल्पकालिक थी. एक चतुर वित्तज्ञ लेकन एक कम चतुर राजनीतिज्ञ, नेकर ने आम लोगों से क्षमा मांग कर आगे आने की कोशिश की, लेकिन अधिकांश लोगों के समर्थन को उसने खो दिया था.

उसने यह भी महसूस किया कि वह कुछ विचारों के बावजूद खुद ही फ्रांस को बचा सकता है.[तथ्य वांछित] शाही लोग राजा और लोगों की इस स्पष्ट सुलह से आश्वस्त नहीं थे.उन्होंने प्रवासी (émigrés) की तरह देश से भागना शुरू कर दिया, इनमें से कुछ ने साम्राज्य के भीतर गृह युद्ध की योजना बनाना शुरू कर दिया और फ्रांस के खिलाफ एक यूरोपीय गठबंधन के लिए आन्दोलन की शुरुआत की.[तथ्य वांछित] जुलाई के अंत तक, विप्लव और लोकप्रिय संप्रभुता की भावना पूरे फ्रांस में फ़ैल गयी. ग्रामीण क्षेत्रों में, बहुत से लोग इसके परे चले गए: कुछ लोगों ने "la Grande Peur" (दी ग्रेट फिअर) नामक सामान्य कृषक विद्रोह के एक भाग के रूप में छोटी संख्या में châteaux, और शीर्षकों को जला डाला.

इसके अलावा, वर्सेलीज में षड़यंत्र और बेरोजगारी के परिणामस्वरूप फ्रांस में लोगों की एक बहुत बड़ी संख्या के सड़क पर आ जाने की वजह से बड़े पैमाने पर अशांति और अफवाहें फ़ैल गयीं, (विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में) जिसके कारण व्यापक रूप से अशांति और नागरिक गडबडी पैदा हुई जिसने बहुत अधिक डर की स्थिति को जन्म दिया.[27]

एक संविधान की दिशा में कार्य[संपादित करें]

4 अगस्त 1789 को राष्ट्रीय संविधान सभा ने सामंतवाद को समाप्त कर दिया (हालांकि उस समय पर पर्याप्त किसान विद्रोह थे, जिससे पहले से ही सामंतवाद लगभग समाप्त हो चुका था), जो अगस्त आदेशों के रूप में जाना जाता है, इसने दूसरे एस्टेट के सामंती अधिकारों तथा पहले एस्टेट के द्वारा व्युत्पन्न कर दोनों को दूर कर दिया.

कुछ ही घंटों में, शाही, पादरी, कस्बे, प्रान्त, कम्पनियां, और शहरों ने अपने विशेषाधिकार खो दिए. संयुक्त राज्य की स्वतंत्रता की घोषणा को एक नमूने के रूप में देखते हुए, 26 अगस्त 1789 को सभा ने मनुष्य और नागरिकों के अधिकारों की घोषणा का प्रकाशन किया. अमेरिका की इस घोषणा की तरह, इसमें कानूनी प्रभाव से युक्त एक एक संविधान के बजाय सिद्धांतों का एक ब्यौरा शामिल था. राष्ट्रीय संविधान सभा न केवल कार्य के रूप में एक विधायिका के रूप में कार्य कर रही थी बल्कि एक नए संविधान का मसौदा तैयार करने के लिए एक निकाय के रूप में कार्य कर रही थी. नेकर, मौनीर, लेली-तोलेंडल और अन्य लोगों ने एक सीनेट के लिए असफल तर्क दिया, जिसमें लोगों के नामांकन पर राजा के द्वारा सदस्यों की नियुक्ति की जायेगी.

असंख्य शाही लोगों ने शाही लोगों के द्वारा चयनित एक भव्य उच्च सदन के लिए तर्क दिया.

दी पोपुलर पार्टी ने इसे जारी रखते हुए कहा: फ्रांस में एक एकल, यूनीकेमरल सभा होगी. राजा ने केवल एक "सस्पेंसिव वीटो" बनाये रखा"; वह कानून के क्रियान्वयन में देरी कर सकता था लेकिन इसे पूरी तरह से रोक नहीं सकता था. सभा ने अंततः 83 विभागों से ऐतिहासिक प्रान्तों को प्रतिस्थापित कर दिया, ये विभाग (départements) समान रूप से प्रशासित थे और क्षेत्रफल और जनसंख्या की दृष्टि से मोटे तौर पर बराबर थे. 1789 के अंत में, मूल रूप से वित्तीय संकट से निपटने के लिए बुलाई गयी सभा ने अन्य मामलों पर ध्यान केन्द्रित किया और इससे घाटे के स्थिति और बदतर हो गयी.

होनोरे मिराब्यु ने अब इस मामले का नेतृत्व किया, और सभा ने नेकर को पूर्ण वित्तीय तानाशाही दे दी.

वर्सेलीज में महिला मार्च[संपादित करें]

चित्र:Women's March on Versailles.jpg
वर्सेलिज में महिलाओं के मार्च की नक्काशी 5 अक्टूबर 1789

1 अक्टूबर 1789 राजा के अंगरक्षकों के द्वारा फैलाई गयी अफवाह के अनुसार राष्ट्रीय कोकेड को कुचल दिया गया था, जिसके बाद 5 अक्टूबर 1789 को पेरिस के बाजारों में महिलाओं ने इकठ्ठा होना शुरू कर दिया. पहले महिलाओं ने होटल डे विले की तरफ मार्च किया, इस बात की मांग की कि शहर के अधिकारी उनकी समस्याओं का समाधान करें.[28] महिलाएं कठोर आर्थिक स्थिति, विशेष रूप से रोटी की कमी का सामना कर रही थीं, उन्होंने इस स्थिति के लिए प्रतिक्रिया दर्शायी. उन्होंने राष्ट्रीय सभा को ब्लॉक करने के लिए राजभक्त प्रयासों के अंत की भी मांग की, और व्यापक गरीबी के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि राजा और उसके प्रशासकों को अच्छे विशवास के एक चिन्ह के रूप में पेरिस चले जाना चाहिए.

उन्हें शहर के अधिकारियों से कोई संतोषजनक प्रतिक्रिया प्राप्त नहीं हुई, जिसके कारण 7000 महिलाएं वर्सेलीज में मार्च में शामिल हो गयीं, उनके साथ कई छोटे हथियार और तोप के टुकड़े थे.

ला फयेत्ते के आदेश के तहत बीस हजार राष्ट्रीय गार्डों ने आदेश को बनाये रखने के लिए प्रतिक्रिया दी, और भीड़ के सदस्यों ने महल पर हमला बोल दिया, कई गार्डों या रक्षकों को मार डाला गया.[29] ला फयेत्ते ने अंततः राजा को भीड़ की इस मांग को स्वीकार करने के लिए तैयार कर लिया कि राजतन्त्र को पेरिस चले जाना चाहिए. 6 अक्टूबर 1789 को, राजा और शाही परिवार राष्ट्रीय गार्डों के संरक्षण में वर्सेलीज से पेरिस चले गए, इस प्रकार की राष्ट्रीय असेंबली को बनाये रखा गया.

क्रांति और चर्च[संपादित करें]

इस व्यंग्य चित्रण में, मोंक और नन 16 फरवरी 1790 को डिक्री के बाद अपनी नयी आजादी का आनंद उठाते हुए.

इस क्रांति के कारण रोमन कैथोलिक चर्च से राज्य को विशाल शक्तियों का स्थानान्तरण हुआ. प्राचीन व्यवस्था के तहत चर्च देश का सबसे बड़ा ज़मींदार बन गया था.1790 में पारित किये गए कानून में फसलों पर कर लेने के चर्च के अधिकार को समाप्त कर दिया गया, जिसे "डाइम" कहा जाता था, पादरी वर्ग के लिए विशेषाधिकारों को भी समाप्त कर दिया गया, और चर्च की संपत्ति को जब्त कर लिया गया.

2 दिसंबर 1789 के कानून के माध्यम से, सभा ने राष्ट्र के द्वारा चर्च की संपत्ति को अपने नियंत्रण में ले लेने के द्वारा (चर्च के व्यय कियो लेकर) वित्तीय संकट को संबोधित किया. संपत्ति की बहुत बडी मात्रा को नियंत्रित करने के लिए, सरकार ने नयी कागजी मुद्रा अस्सिगनेट शुरू की, जो जब्त की गयी चर्च की भूमि के द्वारा समर्थित थी. इसके बाद 13 फ़रवरी 1790 को नए कानूनों ने मठवासी प्रतिज्ञा के विधान को समाप्त कर दिया.पादरियों का नागरिक संविधान जो 12 जुलाई 1790 को पारित किया गया (हालांकि 26 दिसम्बर 1790 तक इस राजा के हस्ताक्षर नहीं हुए थे), इसने शेष पादरी वर्ग को राज्य के कर्मचारियों में बदल डाला, और इसके अनुसार यह जरुरी हो गया कि वे संविधान के प्रति वफादारी की शपथ लें, इसके तर्कपूर्ण निष्कर्ष के लिए गैलिकवाद अपनाया गया, जिसके लिए फ्रांस की कैथोलिक चर्च को राज्य का एक विभाग बना दिया गया, और पादरियों को राज्य के कर्मचारी बना दिया गया. इस कानून के जवाब में, ऐक्स, आर्चबिशप डे बोनल के आर्कबिशप, क्लरमोंट के बिशप ने राष्ट्रीय संविधान सभा से पादरियों की एक हड़ताल का नेतृत्व किया.

पोप पिउस VI ने इस नई व्यवस्था को स्वीकार नहीं किया, इसके परिणामस्वरूप वे पादरी जिन्होंने आवश्यक शपथ लेकर नयी व्यवस्था को स्वीकार किया था ("जुरर" या "संवैधानिक पादरी") और "गैर-जुरर" या "विरोधी पादरियों" जिन्होंने ऐसा करने से इनकार किया था, के बीच धार्मिक मतभेद पैदा हो गया.

आगामी वर्ष में पादरियों में हिंसक दमन देखा गया, जिसमें उन्हें कारावास में भेजा गया, पूरे फ्रांस में पुजारियों में नरसंहार हुआ.

नेपोलियन और चर्च के बीच 1801 के समझौते के परिणामस्वरूप विक्रिश्चनिकरण अवधि का अंत हुआ, और कैथोलोक चर्च और फ्रांसीसी राज्य के बीच एक सम्बन्ध के लिए नियम बनाये गए, इसका अंत तब हुआ जब 11 दिसम्बर 1905 को चर्च और राज्य के पृथक्करण के माध्यम से तीसरे गणतंत्र के द्वारा इसे रद्द कर दिया गया.

दलों का उद्भव[संपादित करें]

उपहासात्मक कार्टून इंग्लैंड में देखी गयी क्रांति की ज्यादतियों को दर्शाते हुए

सभा के भीतर गुट स्पष्ट होने लगे.कुलीन या अभिजात जैकस एंटोनी मारी डे कजलेस और अब्बे जीन-सिफ्रेन मौरी ने क्रांति का विरोध शुरू किया जो दायीं विंग (यह दल सभा में दाहिने हाथ की दिशा में बैठता था) के रूप में जाना जाता है.

"राजभक्त डेमोक्रेट" या राजतन्त्रवादियों , ने नेकर के साथ मिलकर, फ्रांस को ऐसी रेखा पर संगठित किया जो ब्रिटेन के संवैधानिक मॉडल से मिलती थी; इनमें शामिल थे जीन जोसेफ मॉनिअर, दी कोम्टे डे लेली-टोलेंदल, दी कोम्टे डे क्लरमोंट- टोनेरो, और पियरे विक्टर मालोट, कोम्टे डे विरियु.

यह "नेशनल पार्टी", जो सभा के केंद्र या बाएं केन्द्रीय भाग का प्रतिनिधित्व करती थी, में होनोरे मिराब्यु, ला फयेत्ते और बैली शामिल थे; जबकि एडरिन ड्युपोर्ट, बर्नावे, और एलेक्जेंडर लमेथ ने अधिक अतिवादी विचारों का प्रतिनिधित्व किया.

बायीं ओर लगभग एक ही व्यक्ति अपनी कट्टरता में अकेला था, वह था अररास लायर मेक्सिमिलन रोबेसपियरे.

अब्बे सियेज ने इस अवधि में कानून के प्रस्ताव का नेतृत्व किया, और राजनैतिक केंद्र और बायीं विंग के बीच कुछ समय के लिए सहमति का निर्माण किया. पेरिस में भिन्न समितियों, मेयर, प्रतिनिधियों की सभा, और व्यक्तिगत जिले प्रत्येक ने दूसरों से स्वतंत्र प्राधिकरण का दावा किया.

ला फयेत्ते के तहत तेजी से बढ़ते हुए मध्यम वर्गीय राष्ट्रीय गार्ड भी धीरे धीरे अपने आप में में एक शक्ति के रूप में उभरे, ऐसा ही कुछ अन्य स्वतः उत्पन्न सभाओं ने भी किया.

साज़िश और कट्टरपंथ[संपादित करें]

सभा ने प्राचीन व्यवस्था की प्रतीकात्मक सामग्री-अर्मोरोयल बियरिंग, लीवरेज आदि को समाप्त कर दिया- जिसने बाद में अधिक रुढिवादी शाही वर्ग को समाप्त किया, और उन्हें प्रवासी (émigrés) के रैंक में जोड़ा.

14 जुलाई 1790 को, और इसके बाद के कई दिनों के लिए, चेम्प डे मार्स के समूह ने फेटे डे ला फेडरेशन के साथ बेस्टाइल के पतन की सालगिरह मनायी; टेलीरैंड ने एक सामूहिक प्रदर्शन किया: प्रतिभागियों ने "राष्ट्र, कानून, और राजा के प्रति निष्ठां" की शपथ ली; और राजा और शाही परिवार ने सक्रिय रूप से भाग लिया.[30] निर्वाचकों ने मूलतः एक वर्ष तक सेवा करने के लिए एस्टेट जनरल के सदस्यों को चुना.

हालांकि, टेनिस कोर्ट शपथ की शर्तों के अनुसार, कम्यून खुद निरंतर बैठकों के लिए बाध्य था जब तक फ्रांस का संविधान न हो.

दायीं विंग के तत्वों ने अब एक नए चुनाव के लिए तर्क दिया, मिराब्यू जारी रहा उसने यह माना कि सभा की स्थिति मूल रूप से बदल गयी है, और संविधान को पूरा करने से पहले कोई नए चुनाव नहीं किये जाने चाहिए.[तथ्य वांछित] 1790 के अंत में, कई उभरते हुए छोटे प्रति क्रांतिकारी उत्पन्न हुए और क्रांति के खिलाफ पूर्ण सेना को या इसके किसी भाग को परिवर्तित करने के लिए प्रयास किये गए. यह सब समान रूप से विफल रहा. शाही अदालत ने "हर विरोधी क्रांतिकारी उद्यम को प्रोत्साहित किया और किसी भी स्वीकृति नहीं दी." [31] सेना ने काफी आंतरिक उथल-पुथल का सामना किया: जनरल बोउइले ने सफलतापूर्वक इस छोटे विद्रोह को ख़त्म कर दिया, जिससे उसे प्रति क्रान्तिकारी सहानुभूति के लिए (सटीक) प्रतिष्ठा मिली.

नया सैन्य कोड जिसके तहत पदोन्नति वरिष्ठता और सिद्ध योग्यता (कुलीनता के बजाय) पर निर्भर करती थी, ने कुछ मौजूदा अधिकारी सैनिकों को हटा दिया, जो émigrés की श्रेणी में शामिल हुए थे या खुद प्रति क्रान्तिकारी बन गए थे.[तथ्य वांछित] इस अवधि में फ्रांसीसी राजनीती में कई "राजनैतिक क्लब" उभरे, इनमें सबसे अग्रणी था जेकोबिन क्लब; 10 अगस्त 1790 तक जेकोबिन्स के साथ 152 क्लब जुड़ चुके थे.[32] जब जेकोबिन्स अधिक व्यापक लोकप्रिय संगठन बन गया, इसके कुछ संस्थापकों ने क्लब '89 के निर्माण के लिए इसे छोड़ दिया.

शाही लोगों ने पहले लघु क्लब डेस इम्पर्तिऑक्स की स्थापना की और बाद में क्लब मोनार्किक की स्थापना की गयी.

बाद में रोटी के वितरण के द्वारा सार्वजनिक पक्ष को जारी रखने का असफल प्रयास किया गया.फिर भी, वे निरंतर विरोध और यहाँ तक कि दंगों के लक्ष्य बने रहे, और अंततः जनवरी 1791 में पेरिस नगरपालिका प्राधिकरण ने क्लब मोनार्किक को बंद कर दिया.[तथ्य वांछित]

इन साज़िश के बीच, सभा ने निरंतर एक एक संविधान के विकास पर काम करना जारी रखा.एक नए न्यायिक संगठन ने सभी न्यायालयों को अस्थायी और सिंहासन से स्वतंत्र बना दिया. विधायक ने खुद राजतन्त्र के अलावा वंशानुगत कार्यालयों को समाप्त कर दिया.आपराधिक मामलों के लिए जूरी परीक्षण शुरू किये गए. राजा को युद्ध की प्रस्तावना के लिए अद्वितीय शक्तियां दी गयीं, वह विधायिका के साथ यह निर्णय लेगा कि युद्ध कब शुरू किया जाये.

सभा ने सभी आंतरिक व्यापारिक बाधाओं को ख़त्म कर दिया और सहकारी समितियों, स्वामित्व, और श्रमिकों के संस्थानों का दमन कर दिया: किसी भी व्यक्ति को एक लाइसेंस की खरीद के द्वारा व्यापर का अधिकार दिया गया; हड़तालें अवैद्य बन गयीं.[33]

1791 की सर्दियों में, सभा ने पहली बार émigrés के खिलाफ विधायिका पर विचार किया. इस बहस का मुद्दा था किसी व्यक्ति की छोड़ने की स्वतंत्रता के खिलाफ राज्य की सुरक्षा. मिराब्यू इस के खिलाफ जारी रहा जिसे उसने "ड्रेको के कोड में रखे जाने योग्य" कहा था.[31] लेकिन मिराब्यू की 2 अप्रैल 1791 को मृत्यु हो गई और वर्ष के अंत से पहले नई विधानसभा ने इस "ड्रेकोनियन पद्धति" को अपना लिया.[34]

वारेनेज के लिए शाही उड़ान[संपादित करें]

25 जून 1791 को शाही परिवार का लौटना, जीं-लुईस प्रियर के चित्र पर रंगीन कॉपर प्लेट

लुईस XVI, ने इस क्रांति के पथ का विरोध किया, लेकिन यूरोप के अन्य राजतन्त्रों की संभावित अविश्वसनीय सहायता को अस्वीकृत कर दिया, जनरल बोउइले के साथ काफी प्रयास किया, जिसने सभा और उत्प्रवास दोनों की निंदा की, और उसे शरण देने तथा मोंटमेडी में अपने कैम्प में समर्थन देने का वादा किया. 20 जून 1791 की रात को, शाही परिवार नौकरों का भेष धारण करके तुलेरीज भाग गया जबकि उनके नौकरों ने शाही कपडे पहने थे.

बहरहाल, अगले दिन राजा को पहचान लिया गया और 21 जून को देर से उसे वारेनीज में (म्यूज "विभाग" में) गिरफ्तार कर लिया गया.

उसे और उसके परिवार को संरक्षण के अर्न्तगत पेरिस भेज दिया गया, वे अभी भी नौकरों का भेष धारण किये हुए थे.

पेतिओन, लातौर-माबोर्ग, और एंटोनी पियारे जोसेफ मारी बर्नावे, सभा का प्रतिनिधित्व कर रहे थे, वे एपर्ने में शाही परिवार से मिले और उनके साथ लौट आये.

इस समय से, बर्नावे शाही परिवार का एक सलाहकार और समर्थक बन गया. भीड़ चुप रही जब वे पेरिस पहुंचे. सभा ने कानूनी तरीके से राजा को निलंबित कर दिया. वह और रानी मारी एन्टोंइनेट संरक्षण में रखे गए.[35][36][37][38][39]

संविधान को पूरा करना[संपादित करें]

चूंकि अधिकांश सभा एक गणतंत्र के बजाय संवैधानिक राजतन्त्र के पक्ष में थी, कई समूह एक समझौते पर पहुँच गए, जिससे लुईस XVI एक काल्पनिक मुखिया से कुछ अधिक हो गया: उसपर संविधान के प्रति एक शपथ लेने का दबाव डाला गया, और एक डिक्री ने घोषणा की कि अपनी शपथ से मुकर जाना, राष्ट्र पर युद्ध करने के उद्देश्य के लिए एक सेना बनाना, या उनके नाम पर किसी को भी ऐसा करने की अनुमति देना डी फेक्टो त्याग माना जायेगा.[तथ्य वांछित] जैकस पियरे ब्रिस्सोट ने एक याचिका तैयार की जिसमें यह कहा गया कि राष्ट्र की नजरों में लुईस XVI को उसकी उड़ान के बाद से उसके पद से हटा दिया गया है.

इस याचिका पर हस्ताक्षर करने के लिए चेम्प डे मार्स में एक विशाल भीड़ एकत्रित हुई. जोर्जेस डेंटन और केमिले देस्मोउलिन ने उग्र भाषण दिए. "जनता के आदेशों को संरक्षित रखने" के लिए नगर निगम अधिकारियों की सभा बुलायी गयी.

ला फयेत्ते के निर्देशों के अर्न्तगत राष्ट्रीय संरक्षक ने भीड़ का सामना किया.सैनिकों ने भीड़ पर गोलीबारी कर के पत्थरों की बौछार का जवाब दिया, इस प्रकार से 13 और 50 के बीच लोग मारे गए.[40] इस नरसंहार के मद्देनजर अधिकारियों ने देशभक्ति के कई क्लब बंद कर दिए, साथ ही कट्टरपंथी समाचार पत्र जैसे जीन-पॉल मरट्स ल'अमी ड्यू प्यूपल को भी बंद कर दिया गया.

डेनटन इंग्लैंड भाग गया; डेस्मोलिन और मरत छुप गए.[तथ्य वांछित] इस बीच, विदेश से एक नया खतरा पैदा हुआ: पवित्र रोमन सम्राट लियोपोल्ड II, पर्शिया के फ्रेडरिक विलियम द्वितीय, और राजा के भाई चार्ल्स-फिलिप, कोम्टे डी' अर्तोइस ने पिलनित्ज़ की एक घोषणा जारी की, जिसमें लुईस XVI को खुद कारण माना गया, उसकी पूर्ण स्वतंत्रता की मांग की गयी और यदि क्रान्तिकारी अधिकारी इसकी स्थितियों से इनकार कर दें, तो उनकी ओर से फ्रांस से आक्रमण के बारे में बताया गया.[41] फ्रांसीसी लोगों ने विदेशी राजतन्त्र के आदेशों के लिए कोई सम्मान प्रदर्शित नहीं किया, ओर बलपूर्वक दी गयी धमकियों के कारण सीमाओं का सैन्यीकरण किया गया.[तथ्य वांछित] यहाँ तक कि उसकी "वारेनीज को उड़ान" से पहले, सभा के सदस्यों ने अपने आप को सभा से बेदखल करने का निश्चय कर लिया, जिससे वे विधान सभा में सफल हुए. अब उन्होंने वे अलग अलग संवैधानिक कानून बनाये, जो उन्होंने के ही संविधान में पारित किये थे, मुख्य संशोधन के लिए एक अवसर के रूप में इसके उपयोग का चयन नहीं करने में उल्लेखनीय क्षमता का प्रदर्शन किया, ओर इसे हाल ही में संकलित लुईस XVI में जोड़ दिया, जिसने यह लिखते हुए स्वीकार किया "मैं इसकी घर पर सुरक्षा करूँगा, सभी विदेशी हमलों से इसकी रक्षा करूंगा, और सभी अर्थों में इसका निष्पादन करूंगा."

राजा ने सभा को सम्बोधित किया और सदस्यों और दर्शकों से उत्साहित प्रशंसा प्राप्त की. सभा के कार्यकाल का अंत 29 सितम्बर 1791 को निर्धारित किया गया.[तथ्य वांछित] मिग्नेट ने तर्क दिया कि "1791 का संविधान..........माध्यम वर्ग का कार्य था, उसके बाद प्रबलतम; क्योंकि यह प्रसिद्द तथ्य है कि प्रभावी बल संसथान पर कब्जा कर लेता है.......

इस संविधान में लोग सभी शक्तियों का स्रोत थे, लेकिन इस पर किसी ने प्रयोग नहीं किया.[42]

विधान सभा (1791-1792)[संपादित करें]

संवैधानिक राजतंत्र की असफलता[संपादित करें]

1791 के संविधान के तहत, फ्रांस ने एक संवैधानिक राजतंत्र के रूप में कार्य किया.राजा को निर्वाचित विधान सभा के साथ शक्तियों को बाँटना होता था, लेकिन अभी भी उसके पास उसका शाही वीटो था, और मंत्रियों के चयन की क्षमता उसके पास थी. विधान सभा की पहली बैठक 1 अक्टूबर 1791 को हुई, और एक साल से भी कम समय में बिगड़ कर अव्यवस्थित हो गयी. 1911 विश्वकोश ब्रिटानिका के शब्दों में: "सभा नियंत्रण के प्रयास में कुल मिलाकर असफल रही. इसने खजाने को खाली कर दिया, सेना और नौसेना को अनुशासनहीन बना दिया, और लोग एक सुरक्षित और सफल दंगे की वजह से गलत रास्ते पर चलने लगे." [43] विधान सभा के दायीं ओर लगभग 165 फेइलान्ट्स (संवैधानिक राजतन्त्रवादी) थे, बायीं ओर 330 गिरोनडिस्ट (उदारवादी रिपब्लिकन) और जेकोबिन्स (प्रति क्रान्तिकारी) थे, और लगभग 250 सहायक किसी भी गुट से सम्बंधित नहीं थे. जल्दी ही राजा ने विधायिका में वीटो दिया कि मृत्यु के साथ प्रवास या émigrés पर और डिक्री पर प्रत्येक गैर जूरी पादरी को आठ दिन के अन्दर पादरी वर्ग के प्रत्येक संविधान के अनुसार आवश्यक नागरिक शपथ लेनी होगी.

एक वर्ष के दौरान, इस तरह के मतभेद एक संवैधानिक संकट का कारण बन गए.[तथ्य वांछित]

संवैधानिक संकट[संपादित करें]

चित्र:French Revolution-1792-8-10.jpg
10 अगस्त 1792 पेरिस कम्यून - ट्युलेरिस पैलेस का तूफान

10 अगस्त 1792 की रात को, एक नई क्रांतिकारी पेरिस कम्यून द्वारा समर्थित विद्रोहियों ने टूलेरीज पर आक्रमण कर दिया. राजा और रानी ने कैदियों को समाप्त कर दिया और विधान सभा के एक अंतिम सत्र ने राजतन्त्र को निलम्बित कर दिया; एक तिहाई से कुछ अधिक सहायक मौजूद थे, उनमें से लगभग सभी जेकोब्सिन थे.

एक राष्ट्रीय सरकार विद्रोही कम्यून के समर्थन पर निर्भर थी. कम्यून ने जेलों में गिरोह भेजे जो 1400 पीडितों पर मनमाने अत्याचार करें, और फ्रान्स के अन्य शहरों में ऐसा ही एक प्रपत्र भेज दिया जिसमें उन्हें इस प्रकार के उदाहरण का अनुसरण करने के लिए आमंत्रित किया गया. विधानसभा ही पेशकश कर सकता.है केवल मंद प्रतिरोध कोसभा इसके लिए केवल क्षीण प्रतिरोध ही कर सकती थी. यह स्थिति सम्मलेन तक बनी रही, जब 20 सितंबर 1792 को एक नया संविधान लिखने के लिए बैठक बुलाई गयी, और फ्रान्स की नयी डी फेक्टो सरकार बन गयी. अगले दिन इसने राजतंत्र को समाप्त कर दिया गया और एक गणराज्य घोषित किया गया. इस तिथि को बाद में एक फ्रेंच रिपब्लिकन कैलेंडर के एक वर्ष की शुरुआत के रूप में अपनाया गया था.

युद्ध और विरोधी-क्रांति (1792-1797)[संपादित करें]

इस अवधि में हुई राजनीति ने स्वतः ही फ्रान्स को ऑस्ट्रिया और उसके सहयोगियों के साथ युद्ध की दिशा में आगे बढाया. राजा, फयूईलान्ट्स और गिरोनदिन्स विशेष रूप से युद्ध करना चाहते थे. राजा (और उसके साथ कई फयूईलान्ट्स) को उम्मीद थी कि युद्ध से उसकी लोकप्रियता में वृद्धि होगी; उसने किसी भी हार के शोषण के अवसर की भी उम्मीद की थी: परिणाम चाहे कोई भी हो उसे प्रबल बनाएगा.

इस गिरोंदिन्स पूरे यूरोप में क्रांति को फैला देना चाहते थे, और विस्तार के द्वरा फ्रान्स के भीतर क्रांति की रक्षा करना चाहते थे.

केवल कुछ कट्टरपंथी जेकोबिन्स युद्ध के खिलाफ थे, वे सिर्फ घरेलू क्रांति के विस्तार और प्रबलता को प्राथमिकता दे रहे थे.ऑस्ट्रिया के सम्राट लेओपोल्ड द्वितीय, मारी एन्टोंइनेट के भाई, शायद युद्ध से बचना चाहते थे, लेकिन 1 मार्च 1792 को उनका निधन हो गया.[44] फ्रांस (20 अप्रैल 1792) ऑस्ट्रिया और पर्शिया में युद्घ की घोषणा की और कुछ सप्ताह के बाढ़ ऑस्ट्रिया के पक्ष में आ गया. आक्रमणकारी पर्शियन सेना ने तब तक विरोध का सामना किया जब तक वाल्मी का युद्ध नहीं शुरू हुआ (20 सितंबर 1792), और उसे वापस जाने के लिए मजबूर नहीं किया गया. हालांकि, इस समय तक, फ्रांस में उथलपुथल थी, और राजतंत्र प्रभावी रूप से अतीत की एक बात बन चुकी थी.[तथ्य वांछित]

राष्ट्रीय सम्मलेन (1792-1795)[संपादित करें]

लुइस XVI की ह्त्या[संपादित करें]

लुइस XVI की ह्त्या जिसमें अब प्लेस दे ला कोनकोर्ड, खाली पेडस्टल के सामने खडा है, जहां उसके दादा लुईस XV की मूर्ती खडी है.

ब्राउनश्विक घोषणा पत्र में, इम्पीरियल और पर्शियन सेनाओं ने फ्रांसीसी आबादी पर जवाबी हमले की धमकी दी थी, यदि वह अग्रिम या राजशाही की बहाली का विरोध करेगा. इस कारण से लुइस ने फ़्रांस के दुश्मनों के साथ षड़यंत्र बनाया.17 जनवरी 1793 को लुइस मौत को एक सम्मलेन में बहुमत के साथ "सार्वजानिक स्वतंत्रता और आम सुरक्षा के खिलाफ षड़यंत्र" के रूप में देखा गया: 361 वोट राजा के पक्ष में हुए, 288 उसके खिलाफ और अन्य 72 वोट कई प्रकार की देरी की स्थितियों के निष्पादन के लिए थे.

पूर्व लुइस XVI, जिसे अब सितोयेन लुईस कापेट (नागरिक लुईस कापेट) कहा जाता है, की ह्त्या 21 जनवरी 1793 को गिलोटिन द्वारा वर्तमान के क्षेत्र प्लेस डी ला कोनकोर्ड में की गयी.

उसे मार डालने के बाद, कुछ नागरिक जो गवाह थे, वे भाग कर आगे बढे और उन्होंने मृत राजा के सिर से टपक रहे खून से अपने कपडे भिगो लिए.[45] भीड़ में अन्य लोग पागल हो गए, उन्होंने अपनी गर्दन काट डाली या सीन नदी में कूद गए.[46] - इतिहासकार एडम जामोय्सकी के अनुसार उन्होंने ऐसा राजा के प्रति अपने प्यार के कारण नहीं किया लेकिन इसलिए किया की उसे धरती पर भगवान के प्रतिनिधि के रूप में देखा जाता था. अपनी पुस्तक दी रिबेल में, अल्बर्ट केमस ने लिखा कि यह मृत्यु फ्रान्स के तत्कालीन इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ था, "एक ऐसा कार्य जिसने फ्रांसीसी दुनिया को धर्म निरपेक्ष बनाया, और फ्रांसीसी लोगों के उसके बाद के इतिहास से भगवान को निर्वासित कर दिया." [46] 21 जनवरी को हुई यह ह्त्या अन्य यूरोपीय देशों के साथ और अधिक युद्ध का कारण बनी.लुइस की ऑस्ट्रिया में जन्मी रानी मारी एन्टोंइनेट 16 अक्टूबर को गिलोटिन के पक्ष में आ गयी.[47]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

जब युद्ध बुरी तरह से चल रहा था, कीमतें बढ़ गयीं और गरीब श्रमिक-sans-culottes और कट्टरपंथी जेकोबिन्स ने दंगे शुरू कर दिए; कुछ क्षेत्रों में प्रति क्रांतिकारी गतिविधियां शुरू हो गयीं.

इसने संसदीय तख्तापलट के माध्यम से, जेकोबिन्स को शक्तियों पर कब्जा कर लेने के लिए उत्साहित किया, इसे गिरोंदिस्ट गुट के खिलाफ जनता का समर्थन जुटाने के द्वारा प्रभावित बल से गति मिली, और साथ ही इसने पेरिस के sans-culottes की गतिशील क्षमता का भी उपयोग किया. जेकोबीन और sans-culottes तत्वों के गठबंधन इस प्रकार से नयी सरकार का प्रभावी केंद्र बन गए. निति अधिक कट्टरपंथी हो गयी, क्योंकि "अधिकतम के नियम" ने खाद्य की कीमतों और अपराधियों के लिए सजा का निर्धारण किया.[48]

आतंक का राज्य[संपादित करें]

जन सुरक्षा समिति एक वकील मेक्सिकिलन रोब्सपियरे के नियंत्रण के अधीन आ गयी, और जेकोबसिन्स ने आतंक के राज्य को जीत लिया(1793-1794).

अभिलेखीय रिकॉर्ड के मुताबिक कम से कम 16,594 लोग गिलोटिन के अर्न्तगत या प्रति क्रन्तिकारी गतिविधियों के परिणामस्वरूप मारे गए,

[49] कई इतिहासकारों ने नोट किया कि 40,000 आरोपी कैदियों को संक्षिप्त सुनवाई के बिना या सुनवाई के बाद मार दिया गया.[49][50] 2 जून 1793 को, पेरिस वर्गों ने- enragés ("प्रवासी") जेक्स रोक्स और जेक्स हेबर्ट के द्वरा उत्साहित होकर-सम्मलेन का नियंत्रण किया, इसमें प्रशासनिक और राजनीतिक सुधार, रोटी के कम उचित मूल्य, और केवल "सेंस-क्लुतोस" के लिए चुनावी मताधिकार की सीमा तय करने के बारे में बात की गयी.[51] नेशनल गार्ड के समर्थन के साथ, वे जेक्स पियरे ब्रिस्सोत सहित 31 ग़िरोन्दिन नेताओं को गिरफ्तार करने के लिए कन्वेंशन को राजी करने में कामयाब रहे. इन गिरफ्तारियों के बाद, जेकोबसिन्स ने 10 जून को, क्रांतिकारी तानाशाही की स्थापना करते हुए जन सुरक्षा समिति का नियंत्रण प्राप्त कर लिया.

13 जुलाई को एक गिरोंदिन चारलोते कोरडे के द्वारा जेकोबिन नेता और पत्रकार जीन पॉल मारत की हत्या-जो अपनी खतरनाक बयानबाजी के लिए जाना जाता था, के परिणामस्वरूप जेकोबिन राजनैतिक प्रभाव में वृद्धि हुई.

राजा के खिलाफ अगस्त 1792 के विद्रोह के नेता जोर्जेस डेंटन, का कई राजनैतिक विरोधियों के द्वारा विरोध किया गया, उसे समिति से हटा दिया गया, और "अभ्रष्टाचारी" रोब्सपियरे प्रभावशाली सदस्य बन गए, क्योंकि इसने क्रांति के घरेलु और विदेशी शय्रुओं के खिलाफ कट्टरपंथी उपायों को अपनाया.[52]

इस बीच, 24 जून को इस सम्मलेन ने फ्रांस का पहला गणतंत्र संविधान स्वीकृत किया, इसे 1793 के फ्रांसीसी संविधान या वर्ष I के संविधान के रूप में संबोधित किया गया. यह कई सन्दर्भों में प्रगतिशील और कट्टरपंथी था, विशेष रूप से सार्वजनिक नर मताधिकार की स्थापना के द्वारा.

इसकी पुष्टि सार्वजनिक जनमत संग्रह के द्वारा की गयी लेकिन इसे कभी लागू नहीं किया गया, क्योंकि इसके प्रभावी हो पाने से पहले ही सामान्य प्रक्रियाएं निलंबित हो गयीं.[53] वेंडी में, किसानों ने फ्रांस की क्रांतिकारी सरकार के खिलाफ 1793 में विद्रोह कर दिया.वे पादरियों के नागरिक संविधान के द्वारा रोमन कैथोलिक चर्च पर अध्यारोपित परिवर्तनों से नाराज हो गए, और क्रांतिकारी सरकार की सेना की भरती को चुनौती देते हुए उन्होंने खुला विद्रोह शुरू कर दिया.[54] यह एक गुरिल्ला युद्ध बन गया जो वेंडी के युद्ध के रूप में जाना जाता है.[55] उत्तर के लोयर, तथाकथित चौंअस (राजभक्त विद्रोहियों) द्वारा सामान विद्रोह शुरू किये गए.[तथ्य वांछित]सावेने में हार के बाद, जब वेंडी में नियमित युद्ध ख़त्म होने वाला था, फ्रांसीसी जनरल फ्रेंकोइस जोसेफ वेस्तर्मेन ने जन सुरक्षा समिति को एक पत्र लिखा जिसमें कहा गया

"वेंडी नहीं बचा है. यह हमारी मुफ्त घुड़सवार फ़ौज के द्वारा इसकी पत्नियों और बच्चों सहित मार दिया गया. मैंने इन्हें सिर्फ जंगलों और सवाने के दलदल में दफना दिया है.आपने मुझे जो आदेश दिए थे उसके अनुसार, बच्चों को घोडों के पैरों के नीचे कुचलवा दिया, महिलाओं को मार डाला, कम से कम वे किसी और ब्रिगेंड को जन्म नहीं देंगी. मैं निन्दा करने के लिए एक कैदी नहीं हु.मैं सभी exterminated है.सड़कों लाशों के साथ बोया जाता है.सवाने में, हर समय ब्रिगेंड्स आत्मसमर्पण का दावा करने के लिए पहुंच रहें हैं, और हम उनको लगातार मारते जा रहें हैं........ दया एक क्रांतिकारी भावना नहीं है ."[56][57]

हालांकि, कुछ इतिहासकार इस दस्तावेज के अस्तित्व पर संदेह व्यक्त करते हैं [58] और अन्य कहते हैं कि इसमें किये गए दावे स्पष्ट तौर पर झूठे हैं- वास्तव में हजारों (जीवित) वेंडी कैदी थे, विद्रोह कुचले जाने से दूर था,[59] और सम्मलेन में स्पष्ट रूप से आदेश दिया गया कि महिलाओं, बच्चों और निहत्थे पुरुषों के साथ मानवता का व्यवहार किया जाये.[60] ऐसा लगता है कि यदि यह पत्र सही है, तो इसकी क्रिया और सफलता का वेस्तर्मेन का प्रयास अतिशयोक्तिपूर्ण है, क्योंकि वह अपने अपूर्ण सैन्य नेतृत्व की स्थिति से हटाये जाने के लिए उत्सुक था और और सेन्स-कुलोटे जनरल के लिए उनके विरोध के लिए उत्सुक था (यह इससे बचने में असमर्थ रहा क्योंकि वह डेंटन समूह के साथ गिलोटिन था) [61] ऐसा मन जाता है कि विद्रोह और उसके दमन (जिसमें दोनों और के नरसंहार, हत्याएं और सजायें शामिल हैं) ने 117 000 और 250 000 जानें ले लीं (170 000 नवीनतम अनुमानों के अनुसार).[62] इन बेहद क्रूर तरीकों की वजह से कई स्थानों पर गणतंत्र का दमन हुआ, विशेष इतिहासकार जैसे रेनाल्ड सेशर ने इस घटना को "जीनोसाइड या नरसंहार" कहा.

यह विवरण मास मीडिया में लोकप्रिय हो गया [63] लेकिन अवास्तविक और पक्षपाती होने के कारण इसे शिक्षा में काफी आलोचना का सामना करना पड़ा.[64] देश के पूर्व और पश्चिम में स्थानीय विद्रोह और विदेशी आक्रमण का सामना करते हुए, सबसे जरुरी सरकारी व्यापार युद्ध था.

17 अगस्त को, सम्मलेन ने सामान्य सैनिक भर्ती के लिए वोट किया, दी लिवी एन मासे , ने सभी नागरिकों को युद्ध के प्रयास में सैनिक या वितरक का काम करने के लिए प्रेरित किया.

चित्र:Guillotine model 1792.jpg
गिलोटिन: 18,000 और 40,000 के बीच आतंक के शासनकाल के दौरान लोगों को मार डाला गया.

इसका परिणाम एक नीति थी जिसके माध्यम से राज्य ने सरकार के विरोध को कुचलने के लिए हिंसक दमन का प्रयोग किया.

प्रभावी रूप से तानाशाही समिति के नियंत्रण में, सम्मलेन ने शीघ्र ही अधिक विधान को अधिनियमित कर दिया. 9 सितंबर को, सम्मलेन ने सेन्स कुलोटेस अर्धसैनिक बलों की स्थापना की जो क्रान्तिकारी सेनाएं थीं, जिसके द्वारा किसानों पर सरकार के द्वारा मांगे जाने वाले अनाज को समर्पित करने का जोर लगाया गया. 17 सितंबर को, संदिग्ध का कानून पारित किया गया, जिसने स्वतंत्रता के खिलाफ अल्प परिभाषित अपराधों के साथ प्रति क्रांतिकारियों के चार्ज को अधिकृत किया.

29 सितंबर को, सम्मलेन ने अन्य घरेलू सामान के लिए अनाज और रोटी की कीमत का निर्धारण किया, और मजदूरी पर एक सीमा का निर्धारण करने के लिए अधिकार का निर्धारण किया.[65] गिलोटिन हत्याओं की एक श्रृंखला का प्रतीक बन गया. लुईस XVI आतंक के शुरू होने से पहले ही गिलोटिन में शामिल हो गया था; रानी मारी एन्टोंइनेट, गिरोदिन्स, फिलिप एगालिटे (राजा की मृत्यु के लिए उसके वोट के बावजूद), मेडम रोलेंड, और कई अन्य लोगों की गिलोटिन के द्वारा ह्त्या कर दी गयी.

क्रांतिकारी ट्रिब्यूनल ने गिलोटिन के द्वारा हजारों लोगों की ह्त्या की संक्षिप्त निंदा की, जबकि भीड़ ने अन्य अपराधियों को मार डाला. आतंक के अधिकतम हो जाने पर, प्रति क्रान्तिकारी विचारों और क्रियाओं का थोडा सा इशारा (या, जैसा कि जेकस हेबेर्ट के मामले में हुआ, क्रान्तिकारी जील ने सत्ता में रहते हुए किया) भी किसी व्यक्ति पर शक का कारण बन सकता था, और परिक्षण हमेशा शेष प्रक्रिया के समकालीन मानकों के अनुसार आगे नहीं बढ़ते थे. कभी कभी लोगों को उनके राजनैतिक विचारों या कार्यों के लिए मारा गया, लेकिन अधिकांश लोगों को महज संदेह से परे किसी छोटे कारण की वजह से मारा गया या इसलिए मारा गया क्योंकि कोई उससे छुटकारा पाना चाहता था.

अधिकांश पीडितों को एक खुली लकडी की गाडी में (टम्बरल) अनौपचारिक रूप से गिलोटिन भेजा दिया गया.

विद्रोही प्रांतों में, सरकार ने प्रतिनिधियों के पास असीमित अधिकार थे और कुछ लोग अतिवादी दमन और गलत शब्दों का इतेमाल कर रहे थे. उदाहरण के लिए, जीन-बेप्टिस्ट करियर नोयाडेज ["drownings"] के लिए कुख्यात हो गया-जिसे उसने नेंट्स में संगठित किया [66]; उसे कार्य को यहाँ तक कि जेकोबिन सरकार के द्वारा भी अस्वीकृत किया गया और वापस बुला लिया गया.[तथ्य वांछित] एक अन्य विरोधी लिपिक विद्रोह 24 अक्टूबर 1793 को रिपब्लिकन कैलेंडर की स्थापना के द्वारा संभव हुआ. रोब्सपियरे की आस्तिकता और सदाचार की अवधारणा के खिलाफ हेबेर्ट के (और चामुटे के) नास्तिक आन्दोलन ने विक्रिश्चनिकृत समाज के लिए एक धार्मिक अभियान की शुरुआत की.

10 नवंबर को नोट्रे डेम कैथेड्रल में कारण की लौ के जश्न के साथ यह शिखर पर पहुँच गया था.[67] आतंक के राज ने क्रान्तिकारी सरकार को सैन्य हार से बचने में सक्षम बना दिया. जेकोबिन्स ने सेना के आकार को विस्तृत किया, और कारनोट ने कई कुलीन अधिकारीयों को जवान सैनिकों से प्रतिस्थापित कर दिया, जिन्होंने अपनी क्षमता और देशभक्ति का प्रदर्शन किया था.

रिपब्लिकन सेना ऑस्ट्रियन, पर्शियन, ब्रिटिश, और स्पेनिश को वापस भेज देने में सक्षम थी. 1793 के अंत में, सेना ने जीतना शुरू किया और आसानी से विद्रोहों को हरा दिया गया. वेन्टोस डिक्री (फरवरी, मार्च 1794) ने बंधुओं और क्रांति के विरोधियों के सामान की जब्ती, और जरूरतमंदों के लिए पुनर्वितरण का प्रस्ताव रखा.[68] 1794 के वसंत में, दोनों अतिवादी प्रवासी (enragés) जैसे हेबेर्ट और उदारवादी मोंतेग्नार्ड इन्डलजेंट्स जैसे डेंटन पर प्रति क्रांतिकारी गतिविधियों की कोशिश और गुलोटिन में शामिल होने का आरोप लगाया गया. 7 जून को रोब्सपियरे जिसने पहले कारण के पंथ की निंदा की थी, ने एक नए राज्य धर्म की वकालत की और "सर्वोच्च" के अस्तित्व को स्वीकार करने के लिए सम्मलेन की सिफारिश की.[69]

थर्मिडोरियन प्रतिक्रया[संपादित करें]

एनग्रेविंग: "जेकोबिन क्लब का बंद होना, 27-28 जुलाई 1794, की रात को, या 9/10 थर्मीडोर, गणतंत्र का वर्ष 2"

27 जुलाई 1794 को, थर्मिडोरियन प्रतिक्रिया के कारण रोब्स पियरे और लुईस डे सेंत की गिरफ्तारी और ह्त्या की गयी. नई सरकार मुख्यतः गिरोनडिस्ट से बनी हुई थी जिन्होंने आतंक को बनाये रखा, और सता लेने के बाद उन्होंने यहाँ तक कि उन जेकोबिन्स पर अत्याचार कर के बदला लिया, रोब्सपियरे के पराभव में, जेकोबिन्स क्लब को प्रबंधित करने में मदद की थी और इसके कई पूर्व सदस्यों की ह्त्या की थी, जिसे सफ़ेद आतंक के नाम से जाना जाता है.[तथ्य वांछित]

आतंक की ज्यादतियों के मद्देनजर, सम्मलेन ने 22 अगस्त 1795 को नया "वर्ष III का संविधान" स्वीकृत कर दिया.

एक फ्रांसीसी जनमत संग्रह ने दस्तावेज का अनुमोदन किया, जिसमें संविधान के पक्ष में 1,057,000 वोट आये, और विपक्ष में 49,000 वोट डाले गए.[70] मतदान के परिणामों को 23 सितंबर 1795 को, घोषित किया गया और 27 सितम्बर 1795 को नया संविधान प्रभाव में आया.[70]

निर्देशिका (1795-1799)[संपादित करें]

नए संविधान में एक डायरेक्टरी बनायी गयी (अंग्रेज़ी: Directory)और यह फ्रांस के इतिहास में पहली बाईकेमरल विधायिका थी.[71] संसद 500 प्रतिनिधियों से बनी थी-the Conseil des Cinq-Cents (500 की परिषद)-और इसमें 250 सीनेटर थे- the Conseil des Anciens (बड़ों की परिषद)

कार्यकारी शक्ति में पांच "निर्देशक" थे, जिनके नाम Conseil des Anciens के द्वारा वार्षिक रूप से दिए जाते थे, इसके लिए Conseil des Cinq-Cents के द्वारा एक सूची बनायी जाती थी.[तथ्य वांछित] इसके आलावा, 1793 के सार्वभौमिक मताधिकार को सम्पत्ति पर आधारित सीमित मताधिकार के द्वारा प्रतिस्थापित कर दिया गया.[तथ्य वांछित] इस निर्देशिका की स्थापना के साथ, समकालीन प्रेक्षकों ने कल्पना की होगी कि क्रांति ख़त्म हो चुकी थी. युद्ध की स्थिति से गुजर चुके राष्ट्र के नागरिक स्थिरता, शांति चाहते थे, अशांति और शर्तों की स्थिति को समाप्त करना चाहते थे.

वे लोग जो लुईस XVII को सिंहासन पर बैठाकर राजतंत्र और पुरानी व्यवस्था को कायम रखना चाहते थे, और वो लोग जिन्होंने आतंक के राज्य को नवीनीकृत कर दिया था, उनकी संख्या नगण्य थी.

पहले गठबंधन की विफलता के साथ विदेशी हस्तक्षेप की संभावना गायब हो गयी थी. पहले के अत्याचारों ने पार्टियों के बीच विशवास और सदभावना को असंभव बना दिया था.आत्म संरक्षण की सामान भावना जिसके कारण सम्मलेन के सदस्यों ने नयी विधायिका में दावा किया और पूरी निर्देशिका ने उनकी पूर्व प्रभाविता को बनाये रखने के लिए उन्हें प्रवृत किया.[तथ्य वांछित]

क्योंकि बहुत से फ्रांसीसी नागरिक निर्देशिका पर भरोसा नहीं करते थे,[72] निर्देशक अपने उद्देश्यों को केवल असाधारण तरीकों से ही प्राप्त कर सकते थे.

वे आदतन, संविधान की शर्तों का सम्मान नहीं करते थे, और यहाँ तक कि चुनाव के दौरान उनके खिलाफ जाते थे,[73] निर्देशक नियमित रूप से असंतोष को शांत करने के लिए कठोर पुलिस के तरीकों का उपयोग करते थे.

इसके अलावा, निर्देशिका ने युद्ध का उपयोग अपनी शक्तियों को बढ़ने के लिए सर्व ओत्तम उपाय के रूप में किया, और इस प्रकार से निर्देशक को सेना पर भरोसा करना पड़ता था, जो भी युद्ध की इच्छा रखते थे और कम नागरिक विचार के थे और उनकी वृद्धि कम हुई थी.[तथ्य वांछित] इस दिशा में अन्य कारणों से उन्हें प्रभावित किया.क्रांति की प्रारंभिक अवस्था के दौरान राज्य की वित्तीय अवस्था इतनी बर्बाद हो चुकी थी कि सरकार विदेशी सहायता या लूट के बिना अपने खर्चों को पूरा नहीं कर सकती थी .

यदि शांति बनायी जाती तो निर्देशकों को पद और फाइल की दृष्टि से क्रोध का समना करना पड़ता, जो अपनी आजीविका खो चुके थे, साथ ही जनरल की महत्वाकांक्षा जो एक क्षण में इसे ख़त्म कर सकते थे.

बर्रस और रयूबेल कुख्यात रूप से भ्रष्टाचारी बन चुके थे, और दूसरों में भ्रष्टाचार की जांच कर रहे थे. निर्देशकों का संरक्षक बीमार था, और सामान्य कुशासन ने उसे कुख्यात बना दिया था.[तथ्य वांछित]

18 ब्रुमैरे के तख्तापलट में नेपोलियन बोनापार्ट (फ्रंकोइस बुशोत के द्वारा एक ओलियो का वर्णन)

विधायिका में संवैधानिक पार्टी नॉन-जूरी पादरियों की सहिष्णुता चाहती थी, प्रवासियों के रिश्तेदारों के खिलाफ कानूनों को निरस्त करना चाहती थी, और खुद प्रवासियों के लिए कुछ दयालु भेदभाव चाहती थी.

निर्देशकों ने ऐसे सभी प्रयासों को विस्मित कर दिया. दूसरी तरफ, बेबूफ़ की समाजवादी साजिश आसानी से टल गयी. वित्त में सुधार लाने के लिए थोडा प्रयास किया गया और अस्सिग्नेट की कीमत निरंतर गिरती रही.[तथ्य वांछित] नए शासन का शेष जेकोबसिन्स और शाही लोगों के द्वारा विरोध किया गया. सेना ने दंगों और प्रति क्रांतिकारी गतिविधियों का दमन कर दिया. इस तरह से सेना और उसके सफल जनरल, नेपोलियन बोनापार्ट ने अंततः अधिक शक्ति प्राप्त की. 9 नवंबर 1799 को (18 Brumaire of the Year VIII) नेपोलियन बोनापार्ट ने 18 ब्रुमैरे के तख्तापलट का मंचन किया जिसने वाणिज्य दूतावास की स्थापना की. इससे प्रभावी रूप से बोनापार्ट की तानाशाही को मदद मिली और अंत में (1804 में) उसे सम्राट (Empereur) बनाया गया. जो फ्रांसीसी क्रांति की रिपब्लिकन अवस्था को विशेष रूप से करीब ले आया.[तथ्य वांछित]

ऐतिहासिक विश्लेषण[संपादित करें]

संवैधानिक सभा कई कारणों से विफल रही: कई राजतन्त्रवादी थे जिनके पास गणतंत्र था, और बहुत से रिपब्लिकन भी थे जो राजतंत्र के पक्ष में थे; बहुत से लोग राजा के विरोधी थे (विशेष रूप से वारेनीज की उड़ान के बाद) ,इसका अर्थ यह है कि जो लोग राजा का पक्ष ले रहे थे उनकी प्रतिष्ठा कम हो गयी थी; पादरी वर्ग का नागरिक संविधान; और बहुत कुछ.[तथ्य वांछित]

इतिहासकार क्रांति की राजनीतिक और सामाजिक आर्थिक प्रकृति से सहमत नहीं हैं. पारंपरिक मार्क्सवादी व्याख्यायें जैसे कि जो जोर्जेस लेफ्ब्वर के द्वारा प्रस्तुत की गयीं,[74] सामंतवादी कुलीन वर्ग और पूंजीवादी संपत्तिजीवी वर्ग के बीच संघर्ष के परिणामस्वरूप क्रांति का वर्णन करती हैं.

कुछ इतिहासकारों[कौन?]का तर्क यह है कि[कौन?]प्राचीन व्यवस्था का पुराना कुलीन क्रम बढ़ते पूंजीवाद, पीड़ित किसानों, और शहरी मजदूरी अर्जकों की मजदूरी के सामने झुक गया.[तथ्य वांछित] फिर भी एक और व्याख्या यह है[कौन?]कि क्रांति तब शुरू हुई जब विभिन्न कुलीनतंत्रीय और संपत्तिजीवी सुधार आंदोलन नियंत्रण के बाहर हो गए.

इस मॉडल के अनुसार, ये आंदोलन संयोगवश नए मजदूरी अर्जक वर्ग व प्रांतीय किसानों के लोकप्रिय आन्दोलन के साथ हुए लेकिन इन वर्गों के बीच में कोई भी सम्बन्ध आकस्मिक और प्रासंगिक था.[तथ्य वांछित]

पिछले वर्षों में गरीबी का बहुत अधिक बढ़ जाना इस क्रांति में एक योगदान कारक था. कुछ विद्वान इसे कई वर्षों के आवर्तक मौसमी विचलन से सम्बंधित करते हैं, जिसका कारण था 1783 का लाकी विस्फोट,[75] और गंभीर अल नीनो प्रभाव.[76]

यह भी देखें[संपादित करें]

संबंधित पेज[संपादित करें]

फ्रांसीसी इतिहास में अन्य क्रांतियां या विद्रोह[संपादित करें]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. [7] ^अल नीनो प्रतिरूप का हाल ही का अध्ययन बताता है कि यूरोप में 1788-1789 में फसलों के कम उत्पादन के परिणामस्वरूप 1789 और 1793 के बीच एक असामान्य प्रबल अल नीनो प्रभाव उत्पन्न हुआ. रिचर्ड एच. ग्रोव, "1789-93 अल नीनो का वैश्विक प्रभाव" नेचर 393 (1998), 318-319.
  2. [8] ^ लिटल आइस एज : बिग चिल इतिहास चैनल.
  3. "Encyclopedia Britannica - Traite". http://www.britannica.com/EBchecked/topic/602094/traite. अभिगमन तिथि: 2008-10-16. 
  4. [11] ^ डोयले 1989, pp.73-74
  5. [13] ^ फ्रे, पी. 3
  6. "France’s Financial Crisis: 1783–1788". http://www.sparknotes.com/history/european/frenchrev/section1.html. अभिगमन तिथि: 2008-10-26. 
  7. [16] ^ हिब्बेर्ट, पी. 35, 36
  8. [18] ^ फ्रे, पी. 2
  9. [20] ^ डोयले 2001, पी. 34
  10. [21] ^ डोयले 2001, पी. 36
  11. [30] ^ फ्रे, पीपी. 4, 5
  12. [24] ^ डोयले 2001, पी. 38
  13. [25] ^ डोयले 1989, p.89
  14. [26] ^ नीली, पी. 56
  15. [28] ^ हिब्बेर्ट, पी पी .42-45
  16. [32] ^ नीली, पीपी. 63, 65
  17. [35] ^ फुरत, पी. 45
  18. [37] ^ हिब्बेर्ट, पी. 54
  19. [38] ^ स्चामा 2004, पी.300-301
  20. [40] ^ जॉन हॉल स्टीवर्ट. फ्रांसीसी क्रांति का एक वृत्तचित्र सर्वेक्षण. न्यू यॉर्क: मैकमिलन, 1951, पी.86.
  21. [41] ^ स्चामा 2004, पी.303
  22. [42] ^ स्चामा 2004, पी.312
  23. [44] ^ स्चामा 2004, पी.317
  24. [45] ^ स्चामा 2004, पी.331
  25. [46] ^ स्चामा 2004, पी.344
  26. [47] ^ स्चामा 2004, पी.357
  27. [50] ^ हिब्बेर्ट, 93
  28. [55] ^ डोयले 1989, पी.121
  29. [56] ^ डोयले 1989, पी.122
  30. [60] ^ स्चामा 2004, पी.433-434
  31. Mignet, François (1824). Histoire de la Révolution française. Chapter III. 
  32. [65] ^ स्चामा 2004, पी.449
  33. [67] ^ स्चामा 2004, पी.442
  34. [69] ^ स्चामा 2004, पी.496
  35. [71] ^ ब्रिटैनिका विश्वकोश ग्यारहवें संस्करण
  36. [72] ^ लिन्द्क्विस्त, हरमन (1991). एक्सल वॉन फेरसेन. स्टॉकहोम: फिशर एंड कम्पनी
  37. [73] ^ लूमिस, स्टेनली (1972). दी फेटल फ्रेंडशिप एवोन पुस्तकें-आईएसबीएन 0931933331
  38. [74] ^ टिमोथी टेकेट, वेन दी किंग टुक फ्लाईट (केम्ब्रिज: हार्वर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.2003)
  39. [75] ^ http://penelope.uchicago.edu/Thayer/E/Gazetteer/Places/Europe/France/_Texts/CROROY/Fuite_de_Varennes *. html
  40. [79] ^ स्चामा 2004, पी.481
  41. [81] ^ स्चामा 2004, पी.500
  42. Mignet, François (1824). Histoire de la Révolution française. Chapter IV. 
  43. "French Revolution". About LoveToKnow 1911. http://www.1911encyclopedia.org/French_Revolution. अभिगमन तिथि: 2009-04-10. 
  44. [96] ^ स्चामा 2004, पी.505
  45. [100] ^ डोयले 2002, पी. 196
  46. Zamoyski, Adam (1999). Holy Madness. प॰ 1-2. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0297 815717. 
  47. "Date of Marie Antoinette execution". http://www.eyewitnesstohistory.com/louis.htm. अभिगमन तिथि: 2008-10-15. 
  48. [106] ^ व्हाइट, ई. ""फ्रांसीसी क्रांति और सरकार के वित्त की राजनीती, 1770-1815 "दी जर्नल ऑफ़ इकोनोमिकल हिस्ट्री 1995, पी 244
  49. Gough, Hugh (1998). The Terror in the French Revolution. प॰ p.77. 
  50. [111] ^ डोयले 1989, पी. 258
  51. [112] ^ स्चामा 2004, पी.616
  52. [113] ^ स्चामा 2004, पी.641
  53. [114] ^ स्चामा 2004, पी.637
  54. इन अ कोर्नर ऑफ़ फ्रांस, लॉन्ग लाइव दी ओल्ड रेजाइम, न्यूयॉर्क टाइम्स
  55. [116] ^ मेक फी, रेनाल्ड सेशर की पीटर समीक्षा, एक फ्रांसीसी नरसंहार: दी विंडी एच -फ्रांस रिव्यू खंड 4 (मार्च 2004), संख्या 26
  56. [118] ^ डेवीस, नोर्मन. यूरोप: अ हिस्ट्री पिमलिको, (1997). पी. 705
  57. [119] ^ स्चामा 2004, पी.666
  58. फ्रेडेरिक औग्रिस, हेनरी फोरेस्तिएर, जनरल अ 18 ans , एडिशन दी चोलेताइस, 1996
  59. जीन कृपाशोल मार्टिन, कोन्तरे-रेवोल्यूशन, रेवोल्यूशन इत नेशन एन फ्रांस, 1789-1799, एडिशन ड्यू स्युल, संग्रह अंक, 1998, पी.219
  60. [122] ^ जीन क्लेमेंट मार्टिन, गुएर्रे डी वेंडी, डेंस एन्साइक्लोपीडिया बोर्डस, हिस्ट्री दे ला फ्रांस एट देस फ़्रेन्काइस, पेरिस, एडिशन बोर्डस, 1999, पी 2084, एट कोंतरे-रेवोल्यूशन, रेवोल्यूशन एट नेशन एन फ्रांस, 1789 -- 1799, पी.218.
  61. [123] ^ जीन क्लेमेंट मार्टिन, वोयलेंस एट रेवोल्यूशन. Essai sur la naissance d'un mythe national, éditions du Seuil, 2006, p. 181 181
  62. [124] ^ 117 000 रेनाल्ड सेचेर के अनुसार, ला वेंडी-वेंगे, ले जीनोसाइड फ्रेंको-फ़्रेन्काइस (1986); 200 000 - 250 000 जीं क्लेमेंट मरतीं के अनुसार, एडिशन ड्यू स्युल, संग्रहण बिंदु, 1987, 200 000 लुईस मरी क्लेनेट के अनुसार, ला कोंतरे रेवोल्यूशन , पेरिस, PUF, संग्रह क्यू सेज-जे?, 1992; 170 000 जेक्स हुसेनेट के अनुसार (dir.), « देट्रूसेज ला वेंडी  ! » रिगार्ड्स क्रोइसेस सुर लेस विक्टिम्स एट डिस्ट्रक्शन दे ला ग्युरे दे वेंडी , ला रोची-सुर-यों, सेंटर वेंदीन दे रिचार्चेज हिस्टोरिक, 2007, p.148.
  63. [125] ^ इन अ कोर्नर ऑफ़ रन्स, लॉन्ग लाइव दी ओल्ड रेजाइम. दी न्यूयॉर्क टाइम्स 17 जून, 1989
  64. माइकल वोवेल्ले, «ल 'हिस्तोरिओग्रफिए डे ला रेवोल्यूशन फ्रंकैज अ ला वेले ड्यू बाई सेंत्नेर , Estudos avançados , Octobre-décembre 1987, खंड 1, n ° 1, पी.61-72. Http://www.scielo.br/scielo.php?pid=S0103-40141987000100006&script=sci_arttext कहां http://www.scielo.br/pdf/ea/v1n1/v1n1a06.pdf
  65. [127] ^ स्चामा 2004, पी.646
  66. [128] ^ जीन बाप्टिस्ट कैरियर, ब्रिटैनिका विश्वकोश
  67. [130] ^ स्चामा 2004, पि .658
  68. [131] ^ स्चामा 2004, पी .689
  69. [132] ^ स्चामा 2004, पी .706
  70. [135] ^ डोयले 1989, पी .320
  71. [140] ^ कोल एट अल 1989, पी.39 अल
  72. [144] ^ डोयले 1989, पी .331
  73. [145] ^ डोयले 1989, पी .332
  74. Lefebvre, Georges (1947). The Coming of the French Revolution. 
  75. [159] ^ वुड, सीए, 1992. "1783 के लकी विस्फोट के जलवायु प्रभाव" सी. आर.हेरिंग्टन में (संस्करण), दी इयर विदाउट अ समर? कनाडा का प्राकृतिक संग्रहालय, ओटावा, पीपी 58-77
  76. [160] ^ रिचर्ड एच. ग्रोव, "1789-93 अल नीनो का वैश्विक प्रभाव" प्रकृति 393 (1998), 318-319

इस लेख की सामग्री सम्मिलित हुई है ब्रिटैनिका विश्वकोष एकादशवें संस्करण से, एक प्रकाशन, जो कि जन सामान्य हेतु प्रदर्शित है।. साँचा:Mignet

उद्धृत कार्य[संपादित करें]

ऐतिहासिक युग[संपादित करें]

पूर्वाधिकारी
The Old Regime
French Revolution
1789-1792
उत्तराधिकारी
First French Republic

बाहरी सम्बन्ध[संपादित करें]

साँचा:French revolution footer