फ़तेहपुर सीकरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
युनेस्को विश्व धरोहर स्थल
फतेहपुर सीकरी
विश्व धरोहर सूची में अंकित नाम
दीवान-ए-खास - निजी भेंट कक्ष
देश Flag of India.svg भारत
प्रकार सांस्कृतिक
मानदंड ii, iii, iv
सन्दर्भ 255
युनेस्को क्षेत्र एशिया-प्रशांत
शिलालेखित इतिहास
शिलालेख 1987 (दसवाँ सत्र)

फतेहपुर सीकरी (उर्दू: فتحپور سیکری), एक नगर है जो कि मुगल सम्राट मो.जलालुद्दीन अकबर ने सन् 1569 में बसाया था आगरा जिला का एक नगरपालिका बोर्ड है। यह भारत के उत्तर प्रदेश राज्य में स्थित है,। यह यहाँ के मुगल साम्राज्य में अकबर के राज्य में 1571 से 1585 तक मुगल समराज्य (भारत) की राजधानी रही फिर इसे खाली कर दिया गया, शायद पानी की कमी के कारण। यह सिकरवार राजपूत राजा की रियासत थी जो बाद में इसके आसपास खेरागढ़ और मध्यप्रदेश के मुरैना जिले में बस गए ।फतेहपुर सीकरी मुसलिम वास्तुकला का सबसे अच्‍छा उदाहरण है। फतेहपुर सीकरी मस्जिद के बारे में कहा जाता है कि यह मक्‍का की मस्जिद की नकल है और इसके डिजाइन हिंदू और पारसी वास्‍तुशिल्‍प से लिए गए हैं। मस्जिद का प्रवेश द्वार ५४ मीटर ऊँचा बुलंद दरवाजा है जिसका निर्माण १५७३ ई० में किया गया था। मस्जिद के उत्तर में शेख सलीम चिश्‍ती की दरगाह है जहाँ नि:संतान महिलाएँ दुआ मांगने आती हैं।

आंख मिचौली, दीवान-ए-खास, बुलंद दरवाजा, पांच महल, ख्‍वाबगाह, जौधा बाई का महल,शेख सलीम चिश्ती के पुत्र की दरगाह,शाही मसजिद,अनूप तालाब फतेहपुर सीकरी के प्रमुख स्‍मारक हैं।

इतिहास[संपादित करें]

मुगल बादशाह बाबर ने राणा सांगा को सीकरी नामक स्थान पर हराया था, जो कि वर्तमान आगरा से 41 कि०मि० है। फिर अकबर ने इसे मुख्यालय बनाने हेतु यहाँ किला बनवाया, परंतु पानी की कमी के कारण राजधानी को आगरा का किला में स्थानांतरित करना पडा़। आगरा से ३७ किलोमीटर दूर फतेहपुर सीकरी का निर्माण मुगल सम्राट अकबर ने कराया था। एक सफल राजा होने के साथ-साथ वह कलाप्रेमी भी था। १५७०-१५८५ तक फतेहपुर सीकरी मुगल साम्राज्‍य की राजधानी भी रहा। इस शहर का निर्माण अकबर ने स्‍वयं अपनी निगरानी में करवाया था। अकबर नि:संतान था। संतान प्राप्ति के सभी उपाय असफल होने पर उसने सूफी संत शेख सलीम चिश्‍ती से प्रार्थना की। इसके बाद पुत्र जन्‍म से खुश और उत्‍साहित अकबर ने यहाँ अपनी राजधानी बनाने का निश्‍चय किया। लेकिन यहाँ पानी की बहुत कमी थी इसलिए केवल १५ साल बाद ही राजधानी को पुन: आगरा ले जाना पड़ा।


वर्णन[संपादित करें]

फतेहपुर सीकरी
—  नगर  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य उत्तर प्रदेश
ज़िला आगरा
जनसंख्या 28,754 (2001 के अनुसार )

निर्देशांक: 27°05′41″N 77°39′46″E / 27.094663°N 77.662783°E / 27.094663; 77.662783


मुख्य इमारतें[संपादित करें]

फ़तेहपुर सीकरी में अकबर के समय के अनेक भवनों, प्रासादों तथा राजसभा के भव्य अवशेष आज भी वर्तमान हैं। यहाँ की सर्वोच्च इमारत बुलंद दरवाज़ा है, जिसकी ऊंचाई भूमि से 280 फुट है। 52 सीढ़ियों के पश्चात दर्शक दरवाजे के अंदर पहुंचता है। दरवाजे में पुराने जमाने के विशाल किवाड़ ज्यों के त्यों लगे हुए हैं। शेख सलीम की मान्यता के लिए अनेक यात्रियों द्वारा किवाड़ों पर लगवाई हुई घोड़े की नालें दिखाई देती हैं। बुलंद दरवाजे को, 1602 ई. में अकबर ने अपनी गुजरात-विजय के स्मारक के रूप में बनवाया था। इसी दरवाजे से होकर शेख की दरगाह में प्रवेश करना होता है। बाईं ओर जामा मस्जिद है और सामने शेख का मज़ार। मज़ार या समाधि के पास उनके संबंधियों की क़ब्रें हैं। मस्जिद और मज़ार के समीप एक घने वृक्ष की छाया में एक छोटा संगमरमर का सरोवर है। मस्जिद में एक स्थान पर एक विचित्र प्रकार का पत्थर लगा है जिसकों थपथपाने से नगाड़े की ध्वनि सी होती है। मस्जिद पर सुंदर नक़्क़ाशी है। शेख सलीम की समाधि संगमरमर की बनी है। इसके चतुर्दिक पत्थर के बहुत बारीक काम की सुंदर जाली लगी है जो अनेक आकार प्रकार की बड़ी ही मनमोहक दिखाई पड़ती है। यह जाली कुछ दूर से देखने पर जालीदार श्वेत रेशमी वस्त्र की भांति दिखाई देती है। समाधि के ऊपर मूल्यवान सीप, सींग तथा चंदन का अद्भुत शिल्प है जो 400 वर्ष प्राचीन होते हुए भी सर्वथा नया सा जान पड़ता है। श्वेत पत्थरों में खुदी विविध रंगोंवाली फूलपत्तियां नक़्क़ाशी की कला के सर्वोत्कृष्ट उदाहरणों में से हैं। समाधि में एक चंदन का और एक सीप का कटहरा है। इन्हें ढाका के सूबेदार और शेख सलीम के पौत्र नवाब इस्लामख़ाँ ने बनवाया था। जहाँगीर ने समाधि की शोभा बढ़ाने के लिए उसे श्वेत संगमरमर का बनवा दिया था यद्यपि अकबर के समय में यह लाल पत्थर की थी। जहाँगीर ने समाधि की दीवार पर चित्रकारी भी करवाई। समाधि के कटहरे का लगभग डेढ़ गज़ खंभा विकृत हो जाने पर 1905 में लॉर्ड कर्ज़न ने 12 सहस्त्र रूपए की लागत से पुन: बनवाया था। समाधि के किवाड़ आबनूस के बने है।


  • Buland Darwaza: Set into the south wall of congregational mosque, the Buland Darwaza at Fatehpur Sikri is 55 metres (180 ft) high, from the ground, gradually making a transition to a human scale in the inside. The gate was added around five years after the completion of the mosque c. 1576-1577 as a victory arch, to commemorate Akbar's successful Gujarat campaign. It carries two inscriptions in the archway, one of which reads: "Isa, Son of Mariam said: The world is a bridge, pass over it, but build no houses on it. He who hopes for an hour may hope for eternity. The world endures but an hour. Spend it in prayer, for the rest is unseen". The central portico comprises three arched entrances, with the largest one, in the centre, is known locally as the Horseshoe Gate, after the custom of nailing horseshoes to its large wooden doors for luck. Outside the giant steps of the Buland Darwaza to the left is a deep well.
  • Jama Masjid: It is a Jama Mosque meaning the congregational mosque and was perhaps one of the first buildings to be constructed in the complex, as its epigraph gives AH 979 (A.D. 1571-72) as the date of its completion, with a massive entrance to the courtyard, the Buland-Darwaza added some five years later. It was built in the manner of Indian mosques, with iwans around a central courtyard. A distinguishing feature is the row of chhatri over the sanctuary. There are three mihrabs in each of the seven bays, while the large central mihrab is covered by a dome, it is decorated with white marble inlay, in geometric patterns.
  • Tomb of Salim Chishti: A white marble encased tomb of the Sufi saint, Salim Chisti (1478–1572), within the Jama Masjid's sahn, courtyard. The single-storey structure is built around a central square chamber, within which is the grave of the saint, under an ornate wooden canopy encrusted with mother-of-pearl mosaic. Surrounding it is a covered passageway for circumambulation, with carved Jalis, stone pierced screens all around with intricate geometric design and an entrance to the south. The tomb is influenced by earlier mausolea of the early 15th century Gujarat Sultanate period. Other striking features of the tomb are white marble serpentine brackets, which support sloping eaves around the parapet. On the left of the tomb, to the east, stands a red sandstone tomb of Islam Khan I, son of Shaikh Badruddin Chisti and grandson of Shaikh Salim Chishti, who became a general in the Mughal army in the reign of Jahangir. The tomb is topped by a dome and thirty-six small domed chattris and contains a number of graves, some unnamed, all male descendants of Shaikh Salim Chisti.
  • Diwan-i-Aam: Diwan-i-Aam or Hall of Public Audience, is a building typology found in many cities where the ruler meets the general public. In this case, it is a pavilion-like multi-bayed rectangular structure fronting a large open space. South west of the Diwan-i-Am and next to the Turkic Sultana's House stand Turkic Baths.
  • Diwan-i-Khas: the Diwan-i-Khas or Hall of Private Audience, is a plain square building with four chhatris on the roof. However it is famous for its central pillar, which has a square base and an octagonal shaft, both carved with bands of geometric and floral designs, further its thirty-six serpentine brackets support a circular platform for Akbar, which is connected to each corner of the building on the first floor, by four stone walkways. It is here that Akbar had representatives of different religions discuss their faiths and gave private audience.
  • Ibadat Khana: (House of Worship) was a meeting house built in 1575 CE by the Mughal Emperor Akbar, where the foundations of a new Syncretistic faith, Din-e-Ilahi were laid by Akbar.
  • Anup Talao: Anup Talao was built by Raja Anup Singh Sikarwar A ornamental pool with a central platform and four bridges leading up to it. Some of the important buildings of the royal enclave are surround by it including, Khwabgah (House of Dreams) Akbar's residence, Panch Mahal, a five-storey palace, Diwan-i-Khas(Hall of Private Audience), Ankh Michauli and the Astrologer's Seat, in the south-west corner of the Pachisi Court.
  • Hujra-i-Anup Talao: Said to be the residence of Akbar's Muslim wife, although this is disputed due to its small size.
  • Mariam-uz-Zamani's Palace: The building of Akbar's Rajput wives, including Mariam-uz-Zamani, shows Gujarati influence and is built around a courtyard, with special care being taken to ensure privacy.
  • Naubat Khana: Also known as Naqqar Khana meaning a drum house, where musician used drums to announce the arrival of the Emperor. It is situated ahead of the Hathi Pol Gate or the Elephant Gate, the south entrance to the complex, suggesting that it was the imperial entrance.
  • Pachisi Court: A square marked out as a large board game, the precursor to modern day Ludo game where people served as the playing pieces.
  • Panch Mahal: A five-storied palatial structure, with the tiers gradually diminishing in size, till the final one, which is a single large-domed chhatri. Originally pierced stone screens faced the facade and probably sub-divided the interior as well, suggesting it was built for the ladies of the court. The floors are supported by intricately carved columns on each level, totalling to 176 columns in all.
  • Birbal's House: The house of Akbar's favourite minister, who was a Hindu. Notable features of the building are the horizontal sloping sunshades or chajjas and the brackets which support them.
  • Hiran Minar: The Hiran Minar, or Elephant Tower, is a circular tower covered with stone projections in the form of elephant tusks. Traditionally it was thought to have been erected as a memorial to the Emperor Akbar's favourite elephant. However, it was probably a used as a starting point for subsequent mileposts.

Other buildings included Taksal (mint), Daftar Khana (Records Office), Karkhana (royal workshop), Khazana (Treasury), Hammam (Turkic Baths), Darogha's Quarters, stables, Caravan sarai, Hakim's quarters, etc.

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

जनसाँख्यकी[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

फतेहपुर सीकरी प्राचीन हिन्दू नगरी है जिसका वर्णन बाबर की आत्मकथा में लिखा गया है तो अकबर ने इसका निर्माण कैसे किया। वास्तुकला भी हिन्दू है । अकबर की एक रानी हिन्दू थी जिसका नाम जोधाबाई था, अकबर एक महान राजा था उसने भारत को एक करने के लिए हिन्दू रानी जोधाबाई से शादी की और उसे कभी मुसलमान नही बनाया, जोधाबाई के लिए महल में एक विशाल मंदिर का भी निर्माण कराया जो आज भी जोधाबाई के महल में स्थित है। जोधाबाई आज भी हमारे लिए एक महान रानी हैं।

बाह्य कडि़याँ[संपादित करें]