प्रौद्योगिकी का प्रभाव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


आगे बढते रहने के लिये प्रौद्योगिकी बहुत ही महत्वपूर्ण है। आज कल प्रगमन बढवार, विकास और लगातार सुधार का अर्थ है। यदि समाज और मनुष्य को एक समान एक परत से किसी वरिष्ठ परत की ओर चलना है तो प्रौद्योगिकी का उपयोग करना बहुत ही ज़रूरी है। मानव हमेशा अपने जीवन को सुखमय बनाने का प्रयास करता है। मनुष्य अपने कार्य और सोच के प्रति परिवर्तन लाकर उसे नया बनाना चाहता है। मानव जीवन के दो पहलू है जो हर वक़्त बदलते रहता है।

  • समाज
  • प्रौद्योगिकि

प्रौद्योगिकी उपकरणों और तकनीकों का आविष्कार है। प्रौद्योगिकीय परिवर्तन एक तकनीक का आविष्कार, एक तकनीक में सुधार की निरंतर प्रक्रिया है और इस उद्योग या समाज में अपनी प्रसार है। सोसायटी सामाजिक संबंधों के माध्यम से लोगों का समूह है। सामाजिक परिवर्तन सामाजिक व्यवस्था की प्रगति या परिवर्तन है। शुरुआत से ही प्रौद्योगिकी से हमारे जीवन में एक कारक था, यह वास्तव में हमारे अस्तित्व को आकार करने लगे जब यह औद्योगिक क्रांति तक ही था। प्रौद्योगिकी समाज के इतिहास में एक जटिल कारक में एक चर रहा है।

वर्तमान दिन में, समाज में प्रौद्योगिकी एक वरदान या अभिशाप है। प्रौद्योगिकी के निर्माण और सुधार के लिए एक अच्छा तरीका है और बुरी तरह से दोनों में देखा जाता है। प्रौद्योगिकी के उपयोग के कई मायनों में और दुनिया भर के कई स्थानों में इस्तेमाल किया जाता है, क्योंकि यह एक सकारात्मक रास्ते में देखा जाता है। मशीनों रोगियों की जान बचाने के लिए प्रौद्योगिकी अस्पतालों में प्रयोग किया जाता है। प्रौद्योगिकि ने मनुश्य को इस दुनिया और अंतरिक्ष की भी जानाकारी दी है।

प्रौद्योगिकी के प्रभाव का गौरव[संपादित करें]

प्रौद्योगिकी के प्रभाव का तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है।. वे इस प्रकार हैं: -

  • सामाजिक निहितार्थ
  • आर्थिक निहितार्थ
  • संयंत्र स्तर में परिवर्तन
  • शैक्षिक प्रभाव

सामाजिक निहितार्थ[संपादित करें]

व्यापार आदमी नई खोजों वस्तुओं और सेवाओं में परिवर्तित हो जाने की उम्मीद में मदद करता है। व्यापार संगठनों के प्रबंधकों को एक साथ आवश्यक संसाधन लाने के लिए और उपयोगी उत्पादों में उन्हें बदलने के लिए नई खोजों पर काम करते हैं। व्यापार माल और लोगों के लिए आवश्यक हैं जो सेवाओं को बनाने और सामाजिक विकास में मदद करते है। प्रौद्योगिकि के वजह से अनेक तरह के वस्तु और सेवाओं का उत्पादन किया जा सकता है और उसे मनुश्य तक पहुनचाया जा रहा है जिस्के इस्तेमाल से लोगो की 'रहने के मानक बढ जाता है। क्योंकि तकनीकी युग है लोगो के उम्मीदें भी बढ जाती है। वे सिर्फ पुराने चीज़े नहीं बल्कि नये चीज़ के इन्तेज़ार में रेह्ते है। अनुसंधान और विकास में बड़ा निवेश (आर एंड डी) की अवश्यक्ता हो गयी है जिसके वजह से व्यापारी के व्यय भी बढ गया है। प्रौद्योगिकी जटिलता पैदा करता है और जीवन को कठिन बनाता है। प्रौद्योगिकि के कारण अनेक वस्तुऔ क उत्पदन बहुत ही जल्दी हो जाता है। प्रौद्योगिकी स्थिति मतभेद बनाया और सामाजिक मतभेद को हटा दिया गया है। प्रौद्योगिकी संचार और जीवन के अन्य पहलुओं के मामले में एक नया चलन बन गया है।

आर्थिक निहितार्थ[संपादित करें]

प्रौद्योगिकी उत्पादकता वृद्धि में योगदान दिया ह। प्रौद्योगिकी ने उत्पादन के तरीके बदल गया है। यह कुशल श्रम की आवश्यकता बढ़ गई है और उत्पादन का समय कम हो गया है। हालांकि यह संगठनों के उत्पादन की लागत बढ़ गई है। संगठनों की अनुसंधान एवं विकास पर खर्च करने की जरूरत बढ गयी है जिसके वजह से सन्स्थान के वृद्धि की वजह से खर्च भी बढ गया है। मानक कार्यालय लैपटॉप और स्मार्ट फोन के अलावा, संगठनों सुचारू रूप से चलाने के संचालन रखने के लिए सूचना प्रणाली, कस्टम सॉफ्टवेयर या विशेष प्रौद्योगिकी उपकरणों को लागू करने। प्रौद्योगिकी में प्रगति के लिए एक कार्य को पूरा करने के लिए आवश्यक समय कम, या कुछ मामलों में एक व्यापार प्रक्रिया या नौकरी समारोह के लिए की आवश्यकता को समाप्त करने की क्षमता है। काफी कंपनी के संचालन को प्रभावित कर सकते हैं जो एक संगठन के भीतर प्रौद्योगिकी की वृद्धि हुई उत्पादकता उन्नयन। कंप्यूटर और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में प्रगति के लिए एक व्यापार की दक्षता में सुधार होगा। संगठनात्मक संरचना, विभागों के पुनर्गठन की स्थिति आवश्यकताओं को संशोधित करने या नौकरियों जोड़ने और हटाने के द्वारा बदला जा रहा है। यह उद्योग मानक बन जाता है अगर नियोक्ता अक्सर एक नौकरी की आवश्यकता के रूप में नए सॉफ्टवेयर प्रोग्राम पर प्रशिक्षण या उपकरण की आवश्यकता होती है। वेब आधारित व्यवसायों प्रौद्योगिकी के नए क्षेत्रों में विशेषज्ञता के लिए नए विभाग या जॉब जोड़ सकते हैं। कुछ अवसरों पर, प्रौद्योगिकी के नए रूपों को लागू करने में कुछ उद्योगों में अप्रचलित कुछ काम कर्तव्यों प्रस्तुत करना हो सकता है।

शैक्षिक प्रभाव[संपादित करें]

आज कल छात्र मोबाइल आदि उपकरणों का इस्तेमाल करते है जिसके माध्यम से वे अनेक कार्य कर पाते है। प्रौद्योगिकि का उप्योग शिक्षा प्राप्ति में भी किया जाता है। इस वजह से विद्यालय में अध्यापक की ज़रुरत कम होती जा रही है क्युन्कि कक्षाओं में वीडियो और अन्य माध्यमों का उप्योग हो रहा है। आज कल कोइ भी व्यक्ती कही भी बैठकर पढ सकता है यदि उसके पास एक कंप्यूटर और इंटरनेट कनेक्शन हो।

प्रौद्योगिकी कुछ शिक्षकों को प्रभावित कर सकते हैं।

  1. वे कंप्यूटर या अन्य कार्यक्रमों का उपयोग करने के लिए अनुभवहीन हैं के रूप में शिक्षकों के ते आत्मविश्वास कम कर देता है।
  2. शिक्षकों को अपने कौशल और कर्मचारियों के विकास और प्रौद्योगिकी प्रशिक्षण के साथ शिक्षण प्रदर्शनों की सूची पर निर्माण कर सकते हैं।
  3. शिक्षक वृद्धि हुई कंप्यूटर अनुभव के साथ शिक्षा में आत्मविश्वास और प्रभावशीलता हासिल करेंगे।

प्रौद्योगिकी के छात्रों लाभ क्यों

  1. शिक्षकों प्रौद्योगिकी का उपयोग में एक सकारात्मक रवैया है, वे अक्सर के रूप में अच्छी तरह से प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में छात्रों के हित उत्तेजित।
  2. छात्रों को भविष्य में उनके इस्तेमाल कौशल को जोड़ना होगा जो प्रौद्योगिकी से जुड़े हुए हैं कि कौशल सीखने में सक्षम हैं।

प्रौद्योगिकी यह भविष्य में जरूरी होगा कि कौशल विकसित करने के लिए छात्रों को सक्षम कर सकते हैं। कक्षा में प्रौद्योगिकी के सफल प्रत्यारोपण के साथ, छात्रों वे से लाभ होगा कि एक आधुनिक और व्यापक शिक्षा प्राप्त करने में सक्षम हैं। उनकी शिक्षा उनकी पीढ़ी और हमारे समाज के अंदर बढ़ रहा है उस दिशा के लिए अधिक अनुकूल होगा।

समापन[संपादित करें]

प्रौद्योगिकी के अपने गुण और दोष है, लेकिन वर्तमान दिन में प्रौद्योगिकी के बिना कोई विकास नहीं हो सकता। आर्थिक, सामाजिक और मानव विकास तकनीकी प्रगति पर निर्भर करता है। आदमी प्रौद्योगिकी की मदद से अपने जीवन को आसान और बेहतर बना सकते हैं, संगठनों तकनीक के साथ अधिक से अधिक लाभ कमा सकते हैं और आर्थिक समृद्धि के लिए नेतृत्व कर सकते हैं। अन्त में आर्थर सी. क्लार्क द्वारा कही गयी बात-

कोइ भी पर्याप्त रूप से उन्नत प्रौद्योगिकी को जादू से कम नहीं मानना चाहिए।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]