प्रोमिथियस (फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(प्रोमेथियस (फ़िल्म) से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
प्रोमिथियस
एक तलाश (होम मीडिया शीर्षक)
Prometheusposterfixed.jpg
पोस्टर
निर्देशक रिडली स्कॉट
निर्माता रिडली स्कॉट
डेविड गिलर
वाल्टर हिल
लेखक जोन स्पैह्ट्स
डेमन लिंडेलऑफ़
अभिनेता नूमी रापेस
माइकल फ़ासबेंडर
गाय पियर्स
इदरिस एल्बा
लोगन मार्शल-ग्रीन
चार्लीज़ थेरॉन
संगीतकार मार्क स्ट्रेटनफ़ील्ड
छायाकार दारिउज़ वोल्सकी
संपादक पेट्रो स्कालिया
स्टूडियो स्कॉट फ्री
ब्रैंडीवाइन प्रोडक्शंस
वितरक 20थ सेंचुरी फॉक्स
प्रदर्शन तिथि(याँ)
  • मई 30, 2012 (2012-05-30) (बेल्जियम,
    फ्रांस एवं स्विट्जरलैंड[1])
  • जून 1, 2012 (2012-06-01) (युनाइटेड किंगडम)
  • जून 8, 2012 (2012-06-08) (उत्तर अमेरिका)
समय सीमा १२४ मिनट[2]
देश
  • युनाइटेड किंगडम
  • संयुक्त राष्ट्र अमेरिका
भाषा अंग्रेजी
लागत $१२०-१३० करोड़[3]
कुल कारोबार $ ४०३.४ करोड़[4]

प्रोमिथियस (अंग्रेज़ी: Prometheus/ prəˈmiːθɪəs/ pro-MEE -thee-uhs) वर्ष २०१२ की विज्ञान-फंतासी आधारित फ़िल्म है जिसे रिड्ली स्काॅट ने निर्देशन किया है, तथा पटकथा जोन स्पैह्ट्स और डैमन लिंडेलाॅफ ने लिखा है, और मुख्य भूमिकाओं में नूमी रैपेस, माइकल फेस़बेंडर, गाइ पियर्स, इदरिस एल्बा, लोगन मार्शल-ग्रीन एवं चार्लीज़ थेरॉन शामिल हैं। फ़िल्म की कहानी अनुसार यह २१वीं शताब्दी के अंतिम दशकों में बने एक अंतरिक्ष यान 'प्रोमिथियस' के उन खोजी दलों का जिक्र है जिन्होंने पृथ्वी पर मिले प्राचीन सभ्याताओं के आधार एक 'स्टार-मैप' (नक्षत्रों का नक्शा) ढुंढ़ निकाला हैं। मानवता के उद्गमस्थल की खोज में यह दल एक सुदूरवर्ती ग्रह में उतरता है और जल्द ही उन सबका सामना मानव जाति के विनाश जैसी परिस्थिति से होता है।

फ़िल्म की निर्माण प्रक्रिया सन् २००० के पूर्व से ही बतौर एलियन फ्रैंचाइज़ी के नाम से शुरू हो चुकी थी। स्काॅट एवं निर्देशक जेम्स कैमरून का इसी विचार को जुट चुके थे कि वे इसे स्काॅट की १९७९ की रिलीज हाॅर्रर विज्ञान-फंतासी आधारित फ़िल्म एलियन की बतौर प्रिक्विल पेश करेंगे। लेकिन २००३ में, एलियन वर्सेज प्रीडेटर की निर्माण विकास को वरीयता मिलने के बाद, वर्ष २००९ तक स्काॅट ने दुबारा इस सुप्त पड़ी परियोजना के लिए रुचि जाहिर की। स्पैह्ट्स ने फ़िल्म एलियन की तमाम घटनाओं को ध्यान देते हुए इसकी पटकथा लिखी, लेकिन स्काॅट अपनी ही चुनिंदा निर्देशित फ़िल्मों पर दुबारा काम नहीं करना चाहते थे। २०१० के आखिर में, लिंडेल के प्रोजेक्ट से जुड़ने पर उन्होंने स्पैह्ट्स की पटकथा पर पुनर्लेखन किया, उनके तथा स्काॅट द्वारा विकसित कहानी का यही लक्ष्य था कि यह फ़िल्म एलियन से पहले घटित तो हो पर प्रत्यक्ष रूप से उसी फ्रेंचाइजी से संबंधित ना हो। स्काॅट के मुताबिक, हाँलाकि इस फ़िल्म से वे उन "एलियनों के डीएनए की, एक तरह की शुरुआत भर" ही कह सकते है, जिसे प्रोमेथियस उनसे जुड़ी मिथकों और खुलासों को खोजती है।

प्रोमिथियस ने अपनी निर्माण प्रक्रिया अप्रैल २०१० से शुरू की, जिनमें उन प्राणियों और तकनीकी डिजाइनों पर व्यापक रूप से काम किया गया जैसे फ़िल्मानुसार मांग थी। मुख्य फ़िल्मांकन का काम मार्च २०११ से आरंभ हूआ, जिसकी अनुमानित बजट अमेरिकी $१२०-१३० मिलियन डाॅलर तक आंकी गयी। इस पूरे परियोजना में 3डी कैमरों से शुटिंग की गई है, करीब-करीब सभी प्रेक्टिकल सेट्स और लोकेशनों जैसे इंग्लैंड, आइसलैंड और स्काॅटलैंड पर। फिर इसके मार्केटिंग कैंपेनिंग के लिए प्रचार किया गया जिससे वेबसाइट पर इसकी गतिविधियाँ वायरल हुई। जिनमें से तीन विडियो पर फ़िल्म में मौजूद तीन मुख्य कलाकारों द्वारा उस काल्पनिक ब्रह्मांड के अंशों के बारे में जिक्र किया था, फ़िल्म की रिलीज बाद इसे बतौर सकारात्मक स्वागत किया गया तथा कई पुरस्कारों से नवाजा भी गया।

प्रोमिथियस को युनाइटेड किंगडम में जून ०१, २०१२ और फिर उत्तरी अमेरिका में जून ८, २०१२ रिलीज किया गया। इसने करीब $४०३ मिलियन से अधिक का वैश्विक व्यवसाय किया। फ़िल्म की कलात्मक विजुवल डिजाइनिंग एवं अभिनय पर काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया दी गई, विशेषकर फ़ासबेंडर द्वारा अभिनीत एंड्राॅएड डेविड पर। यद्यपि, आलोचकों ने पटकथा पर अपनी मिश्रित प्रतिक्रिया दर्ज की कि उनके अनुसार पटकथा के कई तत्व तो किसी जगह अनसुलझे और पूर्वानुमानित होने के कारण नीरस लगी। फ़िल्म का आगामी कड़ी एलियन: काॅवेनैंट को अक्टूबर ०६, २०१७ में प्रदर्शन करने के लिए सूचीबद्ध किया है। यह एच.आर. गिगेर को बतौर अंतिम श्रद्धांजलि है जिनकी गत २०१४ में देहांत हो गया।

सारांश[संपादित करें]

फ़िल्म का पहला दृश्य पृथ्वी से प्रस्थान करते एक अंतरिक्षयान से होता है, जिससे बाहर आया एक मानव समान परग्रही एक सतरंगी किस्म का पेय पीकर; गलने लगता है। और लगभग क्षत-विक्षत हो चुकी उस परग्रही की लाश उस जलप्रपात में गिर जाती है।

वर्ष 2089 में, आर्कियोलाॅजिस्ट (पुरातत्ववक्ता) एलिज़ाबेथ शाॅ और चार्ली हाॅलोवे स्काॅटलैंड में एक स्टारमैप खोज निकालते हैं जो अन्य प्राचीन सभ्यताओं के समान होने के बावजूद उनसे असंबंधित थी। उन्होंने इनका यही निष्कर्ष लगाया कि यह उन "इंजीनियर्स" का न्यौता होगा, जिन्होंने मानवजाति की नींव रखी। पीटर वेयलैंड, जो वेयलैंड कार्पोरेशन के सबसे बुजुर्ग सीइओ है, वे इसपर शीघ्र खोज के लिए पुंजी व्यवस्था करते हैं ताकि उस नक्षत्र नक्शे के जरिए सुदूरवर्ती चाँद एलवी-223 तक पहुंचाने के लिए प्रोमिथियस नाम के वैज्ञानिक जहाज को रवाना कर सके। जहाज में मौजूद सभी दल डेविड नाम के ह्युमैनाॅयड की देखरेख पर सुप्तावस्था में यह अंतरिक्ष यात्रा करते हैं। पृथ्वी से लांच हुए लगभग दो साल बाद 2093 में, मिशन डायरेक्टर मेरेडिथ विकर्स उन इंजीनियर्स को ढुंढ़ने के अभियान के लिए सचेत करती है, और साथ ही बिना इजाजत उनसे किसी तरह की बातचीत न करने की हिदायत देती है।

जल्द ही प्रोमिथियस उस बंजरनुमा जमीन पर उतरती है, पहाड़ों की बनावट कृत्रिम ढांचे समान लगने पर टीम उसके अन्वेषण करने जाती है। और वहां उन्हें कई पथरीले मर्तबान, एक विशालकाय शिला प्रतिरूप जोकि मनुष्यसमान सिर है, और एक मृत परग्रही का कटा हुआ सिर देखने मिलता है, जिन्हें वे इंजीनियर मान रहे थे; शाॅ उस सर को बरामद करती है। दल को और कई लाशें मिलती, जिससे उन सभी प्रजातियों की मौत पर सवाल खड़ा होता है। लेकिन दल के अन्य मेंबर्स मिलबर्न और फ़ायफील्ड इस खोज में असहज महसूस करते है और प्रोमिथियस लौटने की कोशिश करते हैं, लेकिन उस ढांचे में रास्ता ढुंढ़ ना पाने पर वे गुम हो जाते हैं। पर बाकी दल को अपना यह सफर, तेज तूफान आने पर फौरन रद्द करते हुए वापिस जहाज को जल्द लौटना पड़ता है। डेविड सबकी नजरों से बचाकर उस ढांचे से एक सिलिण्डर उठा लाता है, जहां उन बाकी मर्तबानों की तरह कोई काला तरल रिसता रहता है। फिर उसी जहाज की प्रयोगशाला में, उन इंजीनियरों का डीएनए मनुष्यों से मेल समान होने की पुष्टि होती है। डेविड उस सिलिण्डर की जाँच करते हुए उनमें मौजूद तरल निकालता है। फिर अपने मकसद के लिए उसी तरल को जाम में दूषित कर, इनसे अंजान हाॅलोवे को पीने दे देता है, जिसके मुताबिक अपना जवाब पाने के लिए कुछ भी कर गुजर सकता है। थोड़ी देर में, शाॅ और हाॅलोवे आपस में शारीरिक संबंध बनाते हैं।

वहीं उस गुफानामे ढांचे में, एक साँप जैसा जंतु मिलबर्न को मार डालता है और अपने काॅरोसिव (तत्काल पचाने वाला अम्लीय) तरल की फुहार से फ़ायफिल्ड की हेलमेट पिघला देता है। फ़ायफिल्ड मुँह के बल उस काले तरल से भरे गड्ढे पर गिर पड़ता है। सुबह जब दल उनको लेने पहुँचती, तो उनको मिलबर्न की लाश मिलती है। उधर उन सबसे अलग में डेविड एक नियंत्रण कक्ष खोज निकालता है, जहाँ उसे सुप्तावस्था में पड़ा एक आखिरी जीवित इंजीनियर और पृथ्वी की ओर संकेत करता एक स्टारमैप मिलता है। इस दौरान, हाॅलोवे बेहद बीमार हो जाता है। उसे फौरन प्रोमेथियस वापस ले जाया जाता है, लेकिन विकर्स उसे सवारी पर ले जाने से इंकार करती है, इस गुस्से में वह, फ्लेमथ्रोवर (आग फेंकनेवाली मशीन) से जलाकर मार डालती है। बाद में, एक मेडिकल स्कैन के जरिए शाॅ, के गर्भवती होने पर उसका गर्भ गिराने की कोशिश होती है। लेकिन इस अंजाने डर के ख्याल से, वह स्वाचलित सर्जरी टेबल की मदद से अपने उदर में पल रहे स्कीवड-नुमा जीव बाहर करती है। शाॅ तब वेयलैंड से रूबरू होती है जो प्रोमेथियस में सवार, उन्हीं के साथ सुप्तावस्था में पहुँचे थे। उनके मुताबिक वह महज उन इंजीनियरों से बुढ़ापे से मौत रोकने की मदद चाहते हैं? वेयलैंड के उस ढांचे में जाने से पहले, विकर्स उनको "पिता" कहकर संबोधित करती है।

उधर लगभग विकृत हो चुकी फ़ायफिल्ड की लाश जिंदा होकर प्रोमिथियस के विमानशाला में हमला कर तबाही मचाता है, और कई दल सदस्यों की जाने लेता है। प्रोमिथियस के कैप्टन, जेनेक, यह अंदाजा लगाता है कि यह ढांचा उन इंजीनियरों द्वारा स्थापित सैन्य भंडारगृह हो सकता है जहाँ उनके यह काले तरल जैसे धात्तक जैविक हथियार बेकाबू हो जाते हैं। उसे पूरा यकीन होता है कि उनका यह भवननुमा ढांचा, असल में एक अंतरिक्षयान है। वेयलैंड और उनकी टीम दुबारा उस ढांचे में, शाॅ के साथ लौटती है। डेविड उस सुप्तावस्था में पड़े इंजीनियर को जगाता है और बात करने की कोशिश करता है, ताकि वेयलैंड की मांग समझा सके। लेकिन वह इंजीनियर जवाब देने के बदले डेविड का सिर धड़ से अलग करता है और वेयलैंड एवं उसकी टीम को मार कर, उस पूरे अंतरिक्षयान को पूनर्सक्रिय करता है। शाॅ भाग निकलती है और रेडियो पर जेनेक को चेताती है कि अब उस इंजीनियर का इरादा पृथ्वी पर उस खतरनाक तरल को पहुँचाना है, वह इस स्पेसक्राफ्ट को रोकने की दर्खास्त करती है। जेनेक तब विकर्स के लिए लाइफबोट इजैक्ट कर, अपने जहाज प्रोमिथियस को उस परग्रही के योन पर जोरदार टक्कर मारता है, इस बीच विकर्स पाॅड की मदद से बच निकलती है। उड़ान भरने में नाकाम इंजीनियर का यान धराशायी होकर जमीन पर गिर पड़ता है; और जान बचाने के लिए भागती विकर्स उस मलबे में कुचली जाती है। शाॅ उस लाइफबाॅट में जाती है, जहां वो परग्रही स्कीवड अबभी जिंदा था और काफी दानव रूप में बढ़ चुका था। उधर डेविड का सिर तब भी सक्रिय रूप से शाॅ को उस इंजीनियर के बचने की चेतावनी देता है। इंजीनियर जबरन उस लाइफबोट के एअरलाॅक को खोलकर घुसता है और शाॅ पर हमला करता है, लेकिन जल्द ही वह उसके छुड़ाए परग्रही की गिरफ्त में आ जाता है, और उसके गले में अपने शिशन जैसा तंतु घुसेड़कर उसे निढाल कर देता है। शाॅ दुबारा डेविड के अवशेष पाकर उसकी मदद से, और दूसरे इंजीनियर के यान को लांच करती है। अब उसका मकसद वापिस पृथ्वी जाने के बजाय उन इंजीनियरों के निवासस्थान जाने की होती है ताकि उनसे मानवजाति के विनाश की तैयारी की वजह जान सके।

यहां उस लाइफबोट में मौजूद निर्जीव हो चुके इंजीनियर का सीना फाड़ते हुए एक नवजात एलियन बाहर आता है।

भूमिकाएँ[संपादित करें]

  • नूमी रैपेस - एलिज़ाबेथ शाॅ: शाॅ के मुखातिब नूमी ने एक आर्कियोलाॅजिस्ट (पुरातत्व) की भूमिका की है, साथ ही जिसका ईश्वर पर अटूट आस्था है और कहा है "इस फ़िल्म के मध्य तक जब परिस्थितियां बदली तो वह उनसे लड़ने को लिए तैयार हो गई। पर अंत में वह एक सर्वाइव की भूमिका में आ गई।"[5] अपनी मेथड एक्टिंग की बदौलत, उन्होंने शाॅ के पिछली जीवन की कहानी रच ली थी, [6] और एक भाषा विशेषज्ञ के साथ उन्होंने ब्रिटिश लहजे में बोलचाल करना भी सीखा।[7] वह अक्सर अपने मेकअप आर्टिस्ट से अतिरिक्त खून और पसीना लगाने को कहती ताकि फ़िल्मांकन दौरान वह सटीकता से किरदार निभा सके।[8] बकौल रैपेस, "मैं पिछले छह महीनों से वहां फ़िल्म कर रही थी और इतने जबरदस्त अनुभवों से, मेरा शरीर बुरी तरह पस्त हो जाने बाद भी मुझे यह सब रोचक लगता है।" [9] हाँलाकि वह इस अपनी भूमिका की तुलना एलियन फ्रेंचाइजी की एलेन रिप्ले से किए जाने की बात खारिज करती है।[10] रैपेस पर निर्देशक रिड्ली स्काॅट का ध्यानाकर्षण 2009 की अपराध-ड्रामा फ़िल्म द गर्ल विथ द ड्रैगन टैटु में उनकी अभिनीत लिस्बेथ सैलेण्डर के किरदार से हुआ था। उन्होंन स्काॅट से अगस्त 2010 में मुलाकात की,[11] और जनवरी 2011 में उनका रोल निश्चित हुआ। [12] हाँलाकि उनकी भूमिका के चयन से पूर्व अभिनेत्री ऐनी हैथवे , नैटाली पाॅर्टमैन, गेमा आर्टेर्टन, कैरे मलीगन और एबी काॅर्निश पर भी विचार किया गया था। [13][14][15]
    • लूसी हचीनसन, ने वर्ष 2012 में आठ वर्ष की थी, उन्हें शाॅ के बचपन की भूमिका का अवसर मिला। [16]
  • माइकल फास़बेंडर - डेविड: वे एक ह्युमैनाॅयड की भूमिका में है जो जहाज के बटलर होने के साथ उसकी मेनटेनैंस का भी जिम्मा संभालते हैं। उनकी डिजाइनिंग लगभग इस तरह से की गई है कि वह इंसानों से ज्यादा अलग न लगे, और बावजूद वह उनके जैसे भावों"उनके अहम, असुरक्षा, ईर्ष्या और खुन्नस" आदि खुद में विकसित कर लेता है।[17][18] लेखक डैमन लिंडेलाॅफ के मुताबिक फ़िल्म में मौजूदा घटनाओं से हम पात्र द्वारा उसके गैर-मानवीय दृष्टिकोण के प्रति तैयारियों से भी अवगत होते जाते हैं, और साथ ही वह बताते हैं, "इस मूवी के बदौलत पता चलता है कि रोबोट अपने नजरिए से कैसा सोचता है? अगर कभी आप उनसे पुछे तो, 'तुम्हारा इन सबका क्या विचार है? इसके आगे क्या होगा? तुम इन इंसानो के बारे में क्या सोचते हो जिनसे तुम घिरे रहते हो?' क्या यह दिलचस्प नहीं होगा यदि हमें रोबोट के इन प्रश्नों का उत्तर मालूम हो जाए तो?"[19] फास़बेंडर कहते हैं, "मानव सदस्यों पर डेविड का नजरिया लगभग काफी-कुछ बच्चों जैसा ही है। वह ईर्ष्यालु और दंभी भी है क्योंकि उसे लगता है उसमें लगभग हर प्रकार की जानकारियों का समावेश है, और इसलिए यहाँ तक वो स्वयं को मानवों से भी श्रेष्ठ मान लेता है। डेविड चाहता है की उसे जानकारी मिलने साथ उसकी बुद्धिमत्ता की भी प्रशंसा मिले"।[20]
  • चार्लीज़ थेरॉन - मेरेडिथ विकर्स: वेयलैंड काॅरपोरेशन की कर्मचारी जिसपर इस अभियान की माॅनिटरिंग करती हैं।[20][27] थेराॅन अपने किरदार का ब्यौरा "किसी जिल्ददार शख्स की तरह करती हैं जिनमें तह बारी-बारी से फ़िल्म में उतरती जाती है",[28] और जहाँ तक "किसी के विलेन [कोई भी] होने की.. तो यकीनन उसका एजेंडा ही होगा"।[29] उनके बयान मुताबिक "विकर्स हर मामले में दखलांदाजी है, और चाहे-अनचाहे ढंग से वह हर तरह की परिस्थितियों पर पर अपने नियंत्रण में लेने को आतुर रहती है।" [20] स्काॅट चाहते थे कि यह पात्र दृश्यों के बैकग्राउंड से ही अन्य पात्रों पर घात लगाए रहे बजाय उनपर ध्यान लगाया जा रहा हो। थेराॅन बताती है इसकी मदद से वह परतदार किरदार बना सकी "उसे तत्काल आप पर संदेह हो जाएगा।" [30] वहीं विकर्स तथा डेविड के आगमन तथा व्यवहार में बारीक समानता देख सकते है जहाँ तक दोनों के निर्माण के संभावना को देखें तो डेविड यहां विकर्स के डीएनए पर आधार पर बना है, और विकर्स स्वयं एण्ड्राॅइड की तरह बर्ताव करती है।[31]

थेराॅन की रोल कास्टिंग होने पर, स्काॅट एवं लिंडेलाॅफ ने उनके साथ और तीन नए दृश्य रचे गए ताकि किरदार को सही से उभारा जा सके।[32] हाँलाकि शारीरिक एक्शन के दौरान, जिनमें रेत पर उनको तीस पाउण्ड (14 कि.ग्रा.) जितने वजन के बूट पहनकर दौड़ना पड़ता है, जिससे थेराॅन को काफी दिक्कतें आती थी। [30] हाँलाकि थेराॅन को शाॅ की भूमिका पहले मिलने को थी, लेकिन अपनी अन्य फ़िल्म मैड मैक्स: फ्युरी रोड के प्रति वचनबद्ध होने पर उन्होंने शामिल होने से इंकार कर दिया। लेकिन फ़िल्म के कुछ वक्त देरी लगने पर, वह दुबारा प्रोमिथियस से जुड़ने को रजामंद हुई।[33] फ़िल्म में इस रोल से पूर्व, अभिनेत्री मिशैल योह और एंजोलीना जाॅली[12] के बारे में भी विचार किया गया था।[17]

  • इदरिस एल्बा - जेनेक: प्रोमिथियस जहाज के कप्तान।[34] एल्बा अपने पात्र का वर्णन किसी "बोझा उतारनेवाले मजदूर या नाविक" की तुलना से करते है, जिसकी पृष्ठभूमि मिलिट्री से जुड़ी हुई हो।[20][35] वह बताते हैं, "[बतौर कप्तान] उसकी जिंदगी और बाकी सदस्यों की जिम्मेवारी उसी पर बनती है," [20] तथा "यह किरदार वास्तविक होने साथ काफी व्यावहारिक भी है। इस जगह वह लगभग फंसे हुए से थे ... ऐसी फ़िल्म जिसमें कई बड़े आइडियाज है, आप भी तब इस किरदार की जरूरत समझने लगेंगे, जो कह सके 'रुको जरा... हम भला ऐसा क्यों करें?'"।[35]
  • गाइ पियर्स - पीटर वेयलैंड: वेयलैंड काॅरपोरेशन के सीइओ और उसके अरबपति संस्थापक।[36][37] लिंडेलाॅफ ने इसका वर्णन बेहद अंहकारी और ईश्वरीय जटिलताओं से जुझते दिखाया गया है।[36] जरूरी प्रोस्थेटिक्स सामानो एवं मेक-अप से पियर्स को बुढ़े वेयलैंड में बदलने में पाँच घंटे लगते, तो उन्हें उतारने में कुछेक घंटे लगते। पियर्स ने अपने पात्र को आत्मसात करने के लिए बुजुर्ग लोगों के बीच समय बिताया ताकि भलीभाँति उनकी चाल समझें, उन्हें उनकी स्वाभाविक मंद शारीरिक गतिविधियों की भी नकल उतारनी थी जो इस भूमिका में सबसे मुश्किल हिस्सा रहा था।[38] यद्यपि स्काॅट की पहले पसंद मैक्स वाॅन साइडाॅ थे, लेकिन पियर्स की कास्टिंग में उन्होंने वेयलैंड जैसे बुजुर्गवान पात्र, और बतौर युवा आदमी के लिए पूर्व में लिखी पटकथा को संभव कर दिया।[39]
  • लोगन मार्शल-ग्रीन - चार्ली हाॅलोवे: वे एक आर्कियोलाॅजिस्ट की भूमिका में हैं जिनका शाॅ के साथ उनका प्रेम संबंध है।[40][41] मार्शल-ग्रीन की कास्टिंग चयन उनके स्टेज प्रदर्शित "ऑफ-ऑफ-ऑफ ब्राॅडवे" में किए अभिनय के बाद ही किया गया।[41] हाॅलोवे की भूमिका का वर्णन वह किसी "एक्स गेम किस्म के वैज्ञानिक" की तरह करते हैं, और उनके मुताबिक इस किरदार का मामले को "भरोसे से पहले आजमाने" का तर्क काफी पसंद आया था। वे हाॅलोवे के मुखातिब कहते है "उसे सिर्फ अपने रचियता से नहीं मिलना है। बल्कि उसे तो उन रचियता के रचनाकारों से मिलना है। इस बात को जानने को किसी भी हद तक जा सकता है।"[41] अपने किरदार की उत्साहजनक प्रेरणा का ब्यौरा बताते है: "वह लगभग किसी भी हद से गुजरने को अधीर रहते हैं, फिर चाहे वह भला हो या फिर उससे भी बुरा [यहां तक प्रोमिथियस के दल पर भी], मैं बस यही सोचता हूँ कि ऐसी क्या चीज है जो इस खोज में भी उसे रोमांचक बनाए रखता है"[20] हाँलाकि मार्शल-ग्रीन अपने पात्र हाॅलोवे और शाॅ के संबंधों पर यही तुलना करते हैं: "वह ईश्वर पर यकीन रखती है। तो मुझे वैज्ञानिक सिद्धांतों पर। यदि वो आस्तिक है तो मैं नास्तिक हूँ।"[42]
  • सीन हैरिस - भूवैज्ञानिक फ़ायफील्ड, जो इस मिशन के खातिर कई पड़ाव पर असहमति दिखाता है।[43] [44] अपने किरदार का विवरण देते हुए हैरिस बताते है "यह कुछ वैसा शख्स है जो स्थिति बदलने पर प्रतिक्रिया देता है। वह आप दर्शकों के भांति ही कहेगा, 'उस सुरंग में मत जाना। हमें ऐसा नहीं करना चाहिए वगैरह।"[44] फ़ायफिल्ड के लाल रंग की मोहाॅक हेयरस्टाइल की डिजाइन की तरकीब हैरिस और स्काॅट की ही देन है, जो स्काॅट की बनाए "कड़े और कटीले हेयरस्टाइल" वाले शख्स पर बनी स्केच पर आधारित है।[44]
  • रैफ स्पाॅल - जैव-वैज्ञानिक मिलबर्न. स्पाॅल हाँलाकि अन्य रोल के ऑडिशन को आए थे, पर स्काॅट चाहते थे कि वह मिलबर्न की ही भूमिका करें। [45][46] कास्टिंग के वक्त, स्पाॅल का कहना था " एलियन अब तक की बेहतरीन फ़िल्मों से एक रही है, यह काफी अनूठा एहसास था जब आप स्पेससूट पहने एलियन की शुटिंग सेट पर मौजूद स्काॅट के निर्देशों को सुने जो वो कहते है। ये लाजवाब है। और एक अभिनेता होने के नाते कौन नहीं चाहेगा, कि कभी उसे एलियन के सेट पर स्पेस सूट पहनने को मिले"।[47]

अन्य सदस्यों की भूमिका में जो शामिल रहे उनमें केट डीकी ने जहाज की चिकित्साकर्मी, फोर्ड के किरदार में; [46] एमन एलिओट और बेनेडिक्ट वाॅन्ग ने क्रमशः जहाज के चालक चेंस तथा रैवेल की अदाकारी की;[48][49] और पैट्रिक विल्सन ने शाॅ के पिता की भूमिका की है। [50] वहीं दो अन्य इंजीनियरों की भूमिका में इयान व्हायट और डैनियल जेम्स ने अदा की है।[51]

पात्र[संपादित करें]

चरित्र विश्व अभिनेता मूल भारत हिन्दी डबिंग
एलिज़ाबेथ शाॅ नूमी रैपेस ????
डेविड माइकल फ़ेसबेंडर, राजेश खट्टर
पिटर वेलैंड गाय पियर्स ????
जेनेक इदरिस एल्बा ????
होलोवे लाॅगन मार्शल-ग्रीन ????
मेरेडिथ विकर्स चार्लीज़ थेरॉन ????

हिन्दी डबिंग कर्मचारी[संपादित करें]

विषय वस्तु[संपादित करें]

निर्माण[संपादित करें]

विकास[संपादित करें]

लेखन[संपादित करें]

पूर्व-निर्माण[संपादित करें]

प्रमुख फोटोग्राफी[संपादित करें]

प्रमुख फोटोग्राफी की शुरुआत मार्च २१, २०११ से की गई, जिसे ८२ दिनों में खत्म किया गया, और अनुमान है कि इसे $ १२०–१३० मिलियन के बजट में पूरा किया गया।[32][102][103] फ़िल्मांकन का आरंभ इंग्लैंड स्थित शेपर्टन स्टुडियोज तथा पाइनवुड स्टुडियोज से किया गया।[7][104] स्काॅट ने फ़िल्मांकन के लिए आठ साउण्ड स्टेजों का इस्तेमाल किया, जिनमें ००७ स्टेज को भी शामिल किया गया।[94][104] स्टुडियो का स्थान काफी सीमित था और समूह को तकरीबन १६ सेट्स पर कार्य के लिए ऐसे पाँच स्टुडियों की आवश्यकता थी, तथा इसके लिए उन्होंने ००७ स्टेज के आकार में ३०% की बढ़ोतरी करवाई।[105]

परग्रही दुनिया के दृश्यों की शूटिंग के लिए आइसलैंड को चुना गया,[106] जहाँ फ़िल्मांकन में दो हफ्ते लग गए। इसकी शुरुआत जुलाई ११, २०११ से की गई, बेसकैंप हेक्ला में रखा गया, जो दक्षिणी आइसलैंड में स्थित सक्रिय ज्वालामुखी के निकट ही है। ज्वालामुखी के सामने काम करने पर, स्काॅट कहते हैं, "यदि कोई इस पेशे में रहते हुए प्रकृति से डरता हो तो अच्छा होगा कि वह दूसरा काम तलाश लें"।[107] फ़िल्मांकन के लिए डेटीफाॅस को भी चुना गया, जो युरोप के सबसे ताकतवर जलप्रपातों में से एक हैं।[108] आइसलैंड की शूटिंग में करीबन १६० स्थानीय आइसलैंडवासी तथा २०० से ज्यादा आयातित तकनीशियनों के समूह शामिल रहे थे।[107] स्काॅट बताते हैं कि आइसलैंड में हुए फ़िल्मांकन के सिर्फ़ पंद्रह मिनट की फुटेज ही फ़िल्म में दिखाए गए हैं, तथा उस क्षेत्र की बतौर प्रतिनिधित्व के लिए फ़िल्म की शुरुआत में ही रखा गया था।[109]

वहीं इस दृश्यांकन के लिए मोरोक्को के लोकेशन भी चुने गए थे, मगर २०१० के अरब में वसंतीय विरोध को देखते हुए उनको यह स्थान बदलाव करना पड़ा।[32] इस अन्य विकल्प में माॅजैव रेगिस्तान को भी सूची में रखा गया था, [110] लेकिन आइसलैंड पर स्काॅट अपनी निर्णायक चुनाव रख चुके थे इसकी वजह वे "इसका बेहद बीहड़ होना तथा 'जुरासिक-जैसा' (प्रागितिहासकाल जैसा) होना बताया और इसके बारे में वह पक्का निश्चय कर चुके थे"।[107]

सितम्बर २०११ में, फ़िल्मांकन का रुख स्पेन स्थित ऐलिकैंटे के सिउडेड डी ला लुज़ नामक ऑडियोविजुवल काॅमप्लेक्स में किया गया। शूटिंग क्षेत्र में काॅमप्लेक्स में मौजूद विशाल जल टैंक को भी शुमार किया गया, और रह तट के समीप ही था।[111][112] इस काॅमप्लेक्स को अगस्त २२, २०११ से लेकर, दिसम्बर १०, २०११ तक बुकिंग कर ली गई थी, तथा सेट निर्माण में अगस्त से गत सितम्बर तक का वक्त लग गया।[111] तकरीबन २५० लोगों ने इस तीन माह लंबे स्पेन में हुए शूटिंग पर काम किया, स्थानीय अर्थव्यवस्था देखते हुए इसमें € १ मिलियन से अधिक का उत्पादन हुआ। [113] बाकी का फ़िल्मांकन जाॅर्डन स्थित वादी रम की घाटियों में किया गया।[32]

वहीं स्काॅट ने हरे पर्दों को गैर जरूरी समझते हूए इसके उपयोग को इंकारते रहे। इसके बजाय, उन्होंने कई विभिन्न चीजों का उपयोग किया ताकि अदाकार जान पाए कि उनको इस प्रेक्टिकल सेट पर किस विशेष दृश्यों को देख अभिव्यक्त करना है जिससे पोस्ट-प्रोड्क्शन में डाल सीजीआई तत्वों द्वारा विशेष प्रभाव ला सकें। [114] रैपेस बताती है कि उन ग्रीन स्क्रीनों का फ़िल्मांकन दौरान महज छह बार ही उपयोग हुआ था।[90] इस निर्माण मे पाँच 3यालिटी के टेक्नीकल ऐटम 3डी सामाग्रियों का उपयोग हुआ, जिनमें से चार दृश्य निर्माण के लिए रेड एपिक 3डी कैमरों को सेट पर मौजूद कैमरा डोलियों तथा ट्रायपाॅड के साथ इस्तेमाल किया गया, जिसका निरंतर फ़िल्मांकन के दौरान में उपयोग हुआ। पाँचवीं सामाग्रियो में से एक स्टिडियाकैम नामक एपिक कैमरा भी इस्तेमाल किया गया, जिसकी कभी-कभार अथवा विशेष अवसरों पर ही सेवा ली गई।[98][115]

पोस्ट-प्रोड्क्शन[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

डिजाइन[संपादित करें]

वेशभूषा एवं ध्वनि[संपादित करें]

सेट्स तथा वाहन[संपादित करें]

सृजत-जीव इफैक्टस[संपादित करें]

विजुवल इफैक्टस[संपादित करें]

मार्केटिंग[संपादित करें]

वायरल कैम्पेनिंग[संपादित करें]

प्रदर्शन[संपादित करें]

पूर्व-प्रदर्शन[संपादित करें]

बाॅक्स ऑफिस[संपादित करें]

समीक्षक प्रतिक्रिया[संपादित करें]

पुरस्कार[संपादित करें]

घरेलू मिडिया[संपादित करें]

सिक्विल[संपादित करें]

काॅमिक्स[संपादित करें]

वर्ष 2013 में, एक काॅमिक्स पुस्तक सिरिज में यह घोषणा की है, कि डार्क हाॅर्स काॅमिक्स ने प्रोमिथियस के उपोत्पाद पर काम करना चाहती है। शीर्षक का नाम, "फायर एंड स्टोन" का सुझाव दिया गया जोकि एलियन वर्सेज प्रीडेटर का ही क्राॅसओवर था, जिनमें प्रोमिथियस के ही कई विशिष्ट सामाग्रियों को जोड़ा गया। फायर एंड स्टोन की पहली किस्त का प्रकाशन सितम्बर 10, 2014 में किया गया। [5]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; ReleaseEarliest नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; Runtime नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; THRMay1612B नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; BOM नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; ComicFireStone नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।