लिंग चयन प्रतिषेध अधिनियम, 1994

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम, 1994 (प्री-कन्सेप्शन एंड प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक एक्ट, 1994)
जन्म से पूर्व शिशु के लिंग की जांच पर पाबंदी के लिए भारत की संसद द्वारा पारित एक संघीय कानून है। इस अधिनियम से प्रसव पूर्व लिंग निर्धारण पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।
शीर्षक Act No. 57 of 1994
द्वारा अधिनियमित भारत की संसद
अनुमति-तिथि 20 सितंबर 1994
शुरूआत-तिथि 1996
संशोधन
पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (लिंग चयन प्रतिषेध) अधिनियम, 2003

पूर्व गर्भाधान और प्रसव पूर्व निदान तकनीक (PCPNDT) अधिनियम, 1994 भारत में कन्या भ्रूण हत्या और गिरते लिंगानुपात को रोकने रोकने के लिए भारत की संसद द्वारा पारित एक संघीय कानून है। इस अधिनियम से प्रसव पूर्व लिंग निर्धारण पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक ‘पीएनडीटी’ एक्ट 1996, के तहत जन्म से पूर्व शिशु के लिंग की जांच पर पाबंदी है। ऐसे में अल्ट्रासाउंड या अल्ट्रासोनोग्राफी कराने वाले जोड़े या करने वाले डाक्टर, लैब कर्मी को तीन से पांच साल सजा और 10 से 50 हजार जुर्माने की सजा का प्रावधान है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]