सामग्री पर जाएँ

प्रारब्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

प्रारब्ध कर्म का एक विशेष अंश है, जो इस जन्म के भोगों का निर्धारण करता है। जीव स्थूल देह में नवीन कर्म करता रहता है, यह संचितकर्म कहलाते हैं। संचितकर्म में से एक अंश मृत्यु के समय में अलग होता है, इसे प्रारब्ध कर्म कहते हैं। प्रारब्ध कर्म से जाति, आयु और भोग का निर्धारण होता है।कर्मो के भौतिक परिणामों के इतर मनो संचित प्रतिफल प्रारब्ध रूप में व्याप्त होते हैं l

संबंधित शब्द

[संपादित करें]

कर्म, देह

अन्य भारतीय भाषाओं में निकटतम शब्द

[संपादित करें]