प्राचीन मिथिला विद्यापीठ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

प्राचीन मिथिला विद्यापीठ भारत का एक प्राचीन विश्वविद्यालय था जो न्याय शास्त्र तथा तर्कशास्त्र के लिए प्रसिद्ध था। इस विद्यापीठ का मुख्यालय कहाँ स्थित था इस बारे में सही-सही ज्ञान नहीं है। बलिराजगढ़, जो बिहार के मधुबनी के पास स्थित है, या जनकपुर, जो वर्तमान समय में नेपाल में स्थित है, सम्भवतः इसके केन्द्र थे। यह विद्यापीठ प्राचीनकाल से ही दर्शनशास्त्र के साथ-साथ राजनीतिशास्त्र और अन्य विद्याओं का केन्द्र था। १५वीं-१६वीं शताब्दी में कुछ दार्शनिकों ने इस केन्द्र से निकलकर नवद्वीप को इसी प्रकार के विद्याव्यसन का केन्द्र बनाया, जिससे मिथिला विद्यापीठ की ख्याति धीरे-धीरे कम हुई तथा नवद्वीप भारतीय दर्शन के अध्ययन का नया केन्द्र बन गया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]