प्राकृतिक दृश्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
स्विस आल्प्स की ऐशिना झील, एक अत्यंत विविधतापूर्ण प्राकृतिक दृश्य का एक उदाहरण.
तोलिमा कोलम्बिया की प्राकृतिक दृश्य संबंधी तस्वीर
बर्न में आरे नदी

प्राकृतिक दृश्य भूमि के किसी एक हिस्से की सुस्पष्ट विशेषताएं हैं, जिनमें इसके प्राकृतिक स्वरूपों के भौतिक तत्त्व, जल निकाय जैसे कि नदियाँ, झीलें एवं समुद्र, प्राकृतिक रूप से उगनेवाली वनस्पतियों सहित धरती पर रहने वाले जीव-जंतु, मिट्टी से बनी उपयोगी मानव निर्मित वस्तुओं सहित भवन एवं संरचनाएं और अस्थायी तत्त्व जैसे कि विद्युत व्यवस्था एवं मौसम संबंधी परिस्थितियाँ शामिल हैं।

इनके भौतिक स्रोत तथा मानवीय संस्कृति की छवि, जो बनने में सहस्राब्दियाँ लग जाती हैं, दोनों मिलकर प्राकृतिक दृश्य किसी भी स्थल के लोग तथा वह स्थल दोनों की स्थानीय तथा राष्ट्रीय पहचान को प्रतिबिंबित करते हैं। प्राकृतिक दृश्य, इनकी विशेषता और गुणवत्ता, किसी क्षेत्र की आत्म छवि और, उस स्थान की भावनात्मक अनुभूतियाँ, जो इसे दूसरे क्षेत्रों से अलग करती है, को परिभाषित करने में मदद करती है। यह लोगों के जीवन की गतिशील पृष्ठभूमि है।

पृथ्वी पर प्राकृतिक दृश्यों का एक व्यापक विस्तार है जिसमें ध्रुवीय क्षेत्रों के बर्फीले प्राकृतिक दृश्य, पहाड़ी प्राकृतिक दृश्य, विस्तृत मरुस्थलीय प्राकृतिक दृश्य, द्वीपों और समुद्रतटों केप्राकृतिक दृश्य, घने जंगलों या पेड़ों के प्राकृतिक दृश्यों सहित पुराने उदीच्य वन एवं उष्णकटिबंधीय वर्षावन और शीतोष्ण एवं उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों के कृषि योग्य प्राकृतिक दृश्य शामिल हैं।

प्राकृतिक दृश्यों की समीक्षा आगे सांस्कृतिक प्राकृतिक दृश्य, प्राकृतिक दृश्यपरिदृश्य पारिस्थितिकी, परिदृश्य विनियोजन, परिदृश्य मूल्यांकन और परिदृश्य डिजाइन अध्यायों के अंतर्गत की जायेगी.

शब्द व्युत्पत्ति[संपादित करें]

माना जाता है कि लैंडस्किफ्ट, लैंडस्काइप या लैंडस्केफ जैसे शब्द ब्रिटेन में 5वीं सदी के कुछ समय बाद आये[1]. इन शब्दों का संदर्भ भूमि पर मानव निर्मित परिसरों की एक प्रणाली से है - कुछ परिसर जैसे कि सीमांकित खेत, जिन्हें हालांकि बाड़ों या दीवारों से परिभाषित नहीं किया जा सकता. इसे एक प्राकृतिक इकाई कह सकते हैं, इसका संदर्भ भूमि के किसी क्षेत्र या हिस्से जैसे कि किसी नदी की घाटी या कभी आदिवासियों के कब्जे में रही अथवा बाद में संप्रभु सामंतों के अधिपत्य में आयी पर्वतों की श्रृंखला से भी है। अर्थ की दृष्टि से यह शब्द जर्मन लैंडशाफ्ट के समतुल्य है जो छोटी प्रशासनिक इकाई या क्षेत्र को संदर्भित करता है। बाद में यह शब्द उपयोग से बाहर हो गया और 11वीं सदी में डूम्सडे बुक के समय तक यह शब्द लैटिन भाषा के किसी भी अनुवाद में दिखाई नहीं दिया.

इस शब्द का आधुनिक स्वरुप अपनी दृश्यात्मक व्याख्याओं सहित 16वीं शताब्दी में सामने आया जब लैंडस्केप शब्द का परिचय अंतर्देशीय प्राकृतिक या ग्रामीण भूदृश्य की चित्रकारियों के संदर्भ में डच चित्रकारों द्वारा कराया गया। लैंडस्केप को सबसे पहले 1598 में दर्ज किया गया था, जिसे 16वीं सदी के दौरान एक चित्रकार संबंधी शब्द के रूप में डच भाषा से लिया गया था, जब डच चित्रकार प्राकृतिक दृश्य निर्माण कला के क्षेत्र में पारंगत होने की स्थिति में थे। पहले डच शब्द लैंड्सचैप का मतलब केवल भूमि का एक क्षेत्र या हिस्सा था लेकिन फिर इसे कलात्मक भाव के लिए अपना लिया गया, जिसे अंग्रेजी में भूमि पर मौजूद किसी दृश्यात्मक चित्र की व्याख्या के लिए शामिल किया गया।

जैक्सन के अनुसार: "हैरिसन द्वारा ब्रिटेन की व्याख्या के साथ 1577 के बाद से, प्राकृतिक दृश्य की सौन्दर्यात्मक प्रकृति की नयी व्याख्या एक नए तरह के निखरे स्थलाकृतिक लेखन के रूप में उभरकर सामने आयी।.."[2]. मूलतः इस शब्द का लैंडस्किप के रूप में अनुवाद किया गया जिसे ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी ने शब्द का एक अपभ्रंश स्वरुप बताया, फिर धीरे-धीरे इसकी जगह लैंडस्केप ने ले ली. भौतिकीय प्राकृतिक दृश्य के लिए अंग्रेजी शब्द के उपयोग का जिक्र पहले कहीं दर्ज नहीं है।[3]

जर्मन शब्द लैंडशाफ्ट पर एक गहन विश्लेषण पर ध्यान केंद्रित करते हुए एक रिचर्ड हार्टशोर्न[4] ने लैंडस्केप को एक "पृथ्वी की एक बाहरी, दिखाई देने योग्य (या छूने योग्य) सतह के रूप में परिभाषित किया। यह सतह उन बाहरी सतहों से निर्मित है जो वातावरण, वनस्पतियों, बंजर भूमि, बर्फ, या जलीय जीवों या मानव निर्मित सुविधाओं के तत्काल संपर्क में आती है।

हार्टशोर्न ने इस शब्द को रीजन से अलग रखा जो उनकी समझ में एक अधिक बड़े और लचीले आकार का है। उन्होंने आकाश को इस आधार पर हटा दिया क्योंकि वायुमंडल केवल मात्र वह माध्यम है जिसके जरिये पृथ्वी की सतह को देखा जाता है और इसमें भूमिगत खणिज उत्पादन कार्य, वनों के नीचे की मिट्टी और वर्षा शामिल नहीं है। हालांकि, उन्होंने चलायमान वस्तुओं को इस टिपण्णी के साथ शामिल किया कि ब्रॉडवे (न्यूयॉर्क सिटी) का कोई दृश्य इसके ट्रैफिक के बगैर अधूरा है। उन्होंने प्राकृतिक दृश्य में महासागरों को शामिल किये जाने को नज़रअंदाज कर दिया. उन्होंने दृश्यों के अतिरिक्त प्राकृतिक दृश्यों की व्याख्या, जैसे उस भूमि पर आवाज और गंध, का विरोध किया क्योंकि ये सभी किसी एकीकृत अवधारणा को स्पष्ट नहीं करते. प्राकृतिक और सांस्कृतिक महत्व वाले प्राकृतिक दृश्यों की अवधारणा के संदर्भ में कार्ल सौर ने दूसरों से अलग धारणा रखी, उन्होंने कहा "जैसे ही दृश्य में इंसान की मौजूदगी होती है, प्राकृतिक दृश्य का स्वाभाविक अस्तित्व समाप्त हो जाता है". प्राइमेवल लैंडस्केप शब्द का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि जब इसका अर्थ मानव-पूर्व का प्राकृतिक दृश्य हो सकता है तो वर्त्तमान नैचुरल लैंडस्केप का अर्थ है "एक ऐसी सैद्धांतिक परिकल्पना जो कभी मौजूद नहीं थी".

1920 और 1930 के दशक के दौरान, ऐसी कार्य-प्रणालियाँ विकसित की गयीं जिससे प्राकृतिक दृश्य भूगोल का विशिष्ट नहीं तो अनिवार्य विषय बन गया।[5] सौर के नज़रिए से यह व्याख्या निकली कि भूगोल की भूमिका "प्राकृतिक दृश्य की सैद्धान्तिकता" की सिलसिलेवार जाँच थी। सौर ने प्राकृतिक दृश्यों को मोटे तौर पर उन क्षेत्रों के रूप में देखा जो भौतिकीय एवं प्राकृतिक, दोनों प्रकार के स्वरूपों का विशिष्ट समूह है और प्राकृतिक दृश्य के अध्ययन को स्वाभाविक प्राकृतिक दृश्यों से सांस्कृतिक महत्व के प्राकृतिक दृश्यों में विकसित होने का पता लगाना कहा.

1940 के दशक से, इस अवधारणा को मान कर पारित कर दिया गया था क्योंकि भौतिकवेत्ताओं ने पाया कि अतीत की पुनर्रचना के साथ जुड़ी कठिनाइयाँ भयावह हैं और वर्तमान दुनिया के साथ उनकी प्राथमिक चिंता को दर्शाती है। पर्यावरण पर मानवीय प्रभाव की जानकारी होने के साथ-साथ स्वाभाविक प्राकृतिक दृश्य की अवधारणा पर तेजी से सवाल उठाये जाने लगे. हाल के दिनों के भौतिकवेत्ताओं ने मानवीय भूगोल के अंतर्गत किसी स्थान की व्यक्तिपरक विशेषताओं को समझाया है और इस प्रकार किसी क्षेत्र के वस्तुपरक और व्यक्तिपरक मूल्यांकन के बीच के पुल को पार किया है।[6]

शब्दकोशों में बतायी गयी प्राकृतिक दृश्य की लोकप्रिय धारणा एक विशेष और सामान्य अर्थ देती है; पृथ्वी की सतह के किसी क्षेत्र का विशेष संदर्भ और सामान्य अर्थ है वह चीज जिसे किसी प्रेक्षक द्वारा देखा जा सके.

हाल के दशकों में मनोवैज्ञानिकों द्वारा पर्यावरण की समझ पर अधिक से अधिक ध्यान देने से, प्राकृतिक दृश्य को उस कच्चे माल के रूप में देखा जाता है जिससे मानवीय धारणाओं और मानवीय सूचना प्रणाली का अध्ययन किया जाता है। इस प्रकार डेनियल और कॉसग्रोव[7] ने लैंडस्केप को एक भौतिक शब्दावली के रूप में नहीं बल्कि मानवीय धारणा की सार्वजनिक अभिव्यक्ति के रूप में इस प्रकार परिभाषित किया: "प्राकृतिक दृश्य एक सांस्कृतिक छवि है और आसपास की चीजों के प्रतिनिधित्व, संरचनात्मकता या संकेतन का एक सचित्र माध्यम है।" मीनिग ने मनोवैज्ञानिक और भौतिक, दोनों पहलुओं को संयुक्त रूप से देखा: "कोई भी प्राकृतिक दृश्य न केवल हमारी आँखों के सामने की चीज है बल्कि वह है जो हमारे मस्तिष्क के अंदर मौजूद है।[8].

हाल के दशकों में पर्यावरण शब्द का उपयोग काफी तेजी से बढ़ा है। जे एप्लेटन (देखें पर्यावरण मनोविज्ञान) ने पर्यावरण को प्राकृतिक दृश्य से यह कहते हुए अलग रखा कि प्राकृतिक दृश्य "एक जाना-पहचाना परिवेश" है। जैसा कि बोरासा ने टिपण्णी की[9], प्राकृतिक दृश्य के बनिस्पत पर्यावरण शब्द का एक लाभ यह है कि पर्यावरण को शहरी दृश्यों से अधिक बेहतर समझा जा सकता है, हालांकि शहरी प्राकृतिक दृश्य (अर्बन लैंडस्केप) शब्द भी आम तौर पर उपयोग में है। चूंकि पर्यावरण शब्द किसी क्षेत्र विशेष के संपूर्ण भौतिक, जैविक, सांस्कृतिक और सौंदर्य के घटकों को अपने अन्दर समाहित किये है, आम तौर पर इसे अत्यंत व्यापक और प्राकृतिक दृश्य के लिए एक दायरे के अंदर का शब्द समझा जाता है।

सीन, सीनिक और सीनरी जैसे शब्द प्राकृतिक दृश्य की सटीक व्याख्या प्रस्तुत नहीं करते हैं। थियेटर में इस शब्द के मूल को देखें, जहाँ सीन का मतलब है किसी नाटक का एक हिस्सा, इस प्रकार सीन किसी प्राकृतिक दृश्य का एक हिस्सा हो सकता है। सीनरी, जो किसी स्टेज पर उपयुक्त एक सजावटी पृष्ठभूमि को दर्शाता है, साथ ही यह किसी स्थान के सामान्य स्वरुप, विशेषकर एक चित्रात्मक संदर्भ को बताता है। हालांकि प्राकृतिक दृश्य के साथ इसका उपयोग एक दूसरे के स्थान पर किया जा सकता है लेकिन यह अर्थ की उसी गहराई को व्यक्त नहीं करता है।

प्राकृतिक दृश्य सौंदर्य शास्त्र या सिर्फ सौंदर्य शास्त्र शब्द का साहित्य में अक्सर इस्तेमाल किया जाता है। प्राकृतिक दृश्य की तुलना में सौंदर्य शास्त्र का मूल कहीं अधिक विवादास्पद है। इसे ग्रीक शब्द ऐस्थेसिस से लिया गया है, जिसका अर्थ है "भावनात्मक समझ." इस शब्द का उपयोग एक युवा जर्मन दार्शनिक एलेक्जेंडर बौमगार्टन [1714 - 62] द्वारा ऐस्थेटिका [1750-58] के शीर्षक के रूप में किया जाता था, जिन्होंने इस ग्रीक शब्द का उपयोग गलत तरीके से सौंदर्य की आलोचना या स्वाद (समाजशास्त्र) के सिद्धांत के रूप में किया। इस प्रकार जो शब्द वास्तव में भावनात्मक समझ (सेंस परसेप्शन) के विस्तृत क्षेत्र पर लागू होता है, उसे स्वाद के क्षेत्र तक ही सीमित कर दिया गया था। इमैनुअल कैंट ने 1781 में इस उपयोग की आलोचना की और इसे इसके सुन्दरतम अर्थ "भावनात्मक समझ का दर्शनशास्त्र" के रूप में इस्तेमाल किया"[10]. हालांकि, 1830 के बाद इंग्लैण्ड में प्रवेश पाते ही अशुद्ध शब्द ऐस्थेटिक्स की लोकप्रियता बढ़ने लगी और ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी के अनुसार, बौमगार्टन द्वारा इसके अर्थ की नयी व्याख्या के एक सदी के अंदर ही, समूचे यूरोप में इसका व्यापक रूप से प्रयोग होने लगा था।

सौंदर्य शास्त्र की डिक्शनरी व्याख्या बौमगार्टन की त्रुटि को दूर करती है और इसे "सोचने योग्य या अभौतिक चीजों की बजाए इन्द्रियों द्वारा समझी जाने वाली चीजें"[11], "सुन्दरता की अनुभूति से संबंधित या सौंदर्य शास्त्र का विज्ञान" मैकेरी डिक्शनरी, 1981., या "सौंदर्य शास्त्र अथवा सुन्दरता के अर्थ में या इससे संबंधित" चीजों के रूप में परिभाषित करती है"[12]. सौंदर्य शास्त्र को दर्शनशास्त्र की एक ऐसी शाखा के रूप में देखा जाता है, जो "प्रकृति और स्वाद से कला के नियमों एवं सिद्धांतों, ललित कला के सिद्धांत का पता लगाता है; सौंदर्य विज्ञान ..."[13] अथवा "[जो] सौंदर्य की प्रकृति के साथ और सौंदर्य संबंधी निर्णयों के साथ उपयोग में आता है"[14].

इस प्रकार प्राकृतिक दृश्य सौंदर्य की समझ के प्रति उत्सुकता को मिटाने में सौंदर्य शास्त्र (ऐस्थेटिक्स) के व्यापक ढांचे के भीतर अक्सर एक जिज्ञासा का विषय रहा है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. [1] कैल्डर, डब्ल्यू., 1981, बियांड द व्यू - आवर चेंजिंग लैंडस्केप्स. इंकाता प्रेस, मेलबोर्न. जैक्सन, जे.बी., 1986, द वल्नरेबल लैंडस्केप, इन पेनिंग रौसेल, ई.सी. एंड डी. लौवेंथल, लैंडस्केप मीनिंग्स एंड वैल्यूज, एलेन एंड अनविन, लन्दन, पे. 65 - 79. जेम्स, पी.ई., 1934. द टर्मिनोलोजी ऑफ रीजनल डिसक्रिप्शन. एनल्स ऑफ एसोक ऑफ जियोग, 2, 78 - 79.
  2. [2] जैक्सन, जे.बी., 1986, द वल्नरेबल लैंडस्केप, इन पेनिंग रौसेल, ई.सी. एंड डी. लौवेंथल, लैंडस्केप मीनिंग्स एंड वैल्यूज, एलेन एंड अनविन, लन्दन, पे. 65 - 79.
  3. [69] ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी
  4. [4] हार्टशोर्न, आर. 1939. द नेचर ऑफ ज्योगाराफ़ी, ए क्रिटिकल सर्वे ऑफ करेंट थॉट इन द लाईट ऑफ द पास्ट [संशोधनों के साथ पुनर्प्रकाशित 1961, एनल्स ऑफ एसोक ऑफ जियोग. 29:3-4.]
  5. [5] माइकसेल, एम.डब्ल्यू., 1968, लैंडस्केप. इन इंटरनेशनल एनसाइक्लोपीडिया ऑफ द सोशल साइंसेस.
  6. [6] तुआन वाय.एफ़., 1976. "द एक्सपीरिएंस ऑफ लैंडस्केप" की समीक्षा. पेशेवर भूगोलवेत्ता, 28:1, 104-5.
  7. [7] डेनियल्स एस. एंड डी. कॉसग्रोव, इंट्रोडक्शन: आइकनोग्राफ़ी एंड लैंडस्केप, इन कॉसग्रोव, डी. एंड एस. डेनियल्स, 1988. आइकनोग्राफ़ी ऑफ लैंडस्केप: एसेज ऑन द सिम्बोलिक रिप्रेजेंटेशन, डिजाइन, एंड यूज ऑफ पास्ट एनवाइरौनमेंट्स. कैम्ब्रिज स्टडीज इन हिस्टोरिकल ज्योगाराफ़ी, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, कैम्ब्रिज.
  8. [8] मीनिग, डी.डब्ल्यू., 1976. द बीहोल्डिंग आईज, एक ही दृश्य के दस संस्करण. लैंडस्केप आर्किटेक्चर, 66, 47 - 54.
  9. [9] बौरासा, एस.सी., 1991. द ऐस्थेटिक्स ऑफ लैंडस्केप, बेल्हावेन प्रेस, लंदन.
  10. [10] ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ऑफ इंग्लिश एटिमोलोजी, 1966. सीटी ओनियंस, [एड], मैकमिलन, न्यूयॉर्क.
  11. [11] शॉर्टर ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी, 1973
  12. [12] वेबस्टर्स डिक्शनरी, 1973.
  13. [13] ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी ऑफ इंग्लिश एटिमोलॉजी, 1966. सीटी ओनियंस, [एड], मैकमिलन, न्यूयॉर्क.
  14. [69] ऑक्सफोर्ड इंग्लिश डिक्शनरी