प्रह्लादपुरी मंदिर, मुल्तान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
प्रह्लादपुरी मंदिर
پرَہْلادْپُورِی مندر
Prahladpuri Temple View.jpg
प्रहलादपुरी मंदिर के अवशेष
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताहिंदू धर्म
देवताप्रह्लाद
शासी निकायपाकिस्तान हिंदू परिषद
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिमुल्तान, पंजाब पाकिस्तान पाकिस्तान
प्रह्लादपुरी मंदिर, मुल्तान की पाकिस्तान के मानचित्र पर अवस्थिति
प्रह्लादपुरी मंदिर, मुल्तान
पाकिस्तान के मानचित्र पर अवस्थिति
भौगोलिक निर्देशांक30°11′52″N 71°28′11″E / 30.19778°N 71.46972°E / 30.19778; 71.46972निर्देशांक: 30°11′52″N 71°28′11″E / 30.19778°N 71.46972°E / 30.19778; 71.46972
वास्तु विवरण
प्रकारहिंदू मंदिर
वेबसाइट
http://www.pakistanhinducouncil.org/

प्रह्लादपुरी मंदिर पाकिस्तान में पंजाब प्रांत के मुल्तान शहर में स्थित एक प्राचीन हिन्दू मंदिर है जिसे पहले 'कश्यपपुर' के नाम से जाना जाता था। हिंदू देवता नरसिंह को समर्पित इस मंदिर का नाम प्रह्लाद के नाम पर रखा गया है। कहा जाता है कि प्रह्लादपुरी के मंदिर का निर्माण भगवान नरसिंह के सम्मान में प्रह्लाद ने करवाया था।

मंदिर को मुल्तान किले के अंदर एक उच्च मंच पर बनाया गया था। मंदिर हज़रत बहाउल हक़ ज़करिया की कब्र से निकट है। हालांकि, परंपराओं का दावा है कि मूल मंदिर एक स्तंभ संरचना थी और दोनों छत और इसका समर्थन करने वाले स्तंभ शुद्ध सोने से बने थे।[1]

इतिहास[संपादित करें]

प्रह्लादपुरी के मूल मंदिर का निर्माण हिरण्यकश्यपु के पुत्र प्रह्लाद द्वारा किया गया था।[2][3][4][5][1] कहा जाता है कि मंदिर उस स्थान पर स्थित है जहाँ मूल मंदिर का निर्माण प्रह्लाद ने स्वयं किया था और साथ में यह भी कहा जाता है कि यह वह स्थान है जहाँ भगवान नरसिंह ने पिता हिरण्यकशिपु से प्रह्लाद को बचाने के लिए स्तंभ के बाहर प्रकट हुए थे।[3][5][6] इसलिए, हिंदुओं का मानना है कि होली की शुरुआत इस मंदिर से हुई है।

मुल्तान के सूर्य मंदिर की तरह प्रह्लादपुरी मंदिर भी मुल्तान की मुस्लिम विजय के बाद नष्ट हो गया था। डॉ.ए.एन.खान का कहना है कि 1810 के दशक में मंदिर का पुनर्निर्माण किया गया था, जब यह क्षेत्र सिखों के शासन में था। हालांकि, 1831 में मंदिर का दौरा करने वाले अलेक्जेंडर बर्नेस ने कहा कि उन्होंने इसे बिना छत के सुनसान पाया था।

पाकिस्तान की स्वतंत्रता के बाद, अधिकांश हिंदू भारत चले गए और मंदिर के मामलों का प्रबंधन शहर के अल्पसंख्यक हिंदुओं द्वारा किया गया। लेकिन भारत में बाबरी मस्जिद को गिराने के बाद पाकिस्तान में कई हिंदू मंदिरों को गिराया गया, जिनमें से एक प्रल्हादपुरी मंदिर भी था।

अब इस मंदिर में रखी भगवान नरसिंहा की मूर्ति हरिद्वार में है, जिसे 1947 में विभाजन के समय प्रसिद्ध वयोवृद्ध संत बाबा नारायण दास बत्रा ने मुल्तान से भारत लाया गया था।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Archived copy". मूल से 2015-01-07 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-01-07.सीएस1 रखरखाव: Archived copy as title (link) Survey & Studies for Conservation of Historical Monuments of Multan. Department of Archeology & Museums, Ministry of Culture, Government of Pakistan
  2. Syad Muhammad Latif (1963). The early history of Multan. पृ॰ 3,54. Kasyapa, is believed, according to the Sanscrit texts, to have founded Kashyapa-pura (otherwise known as Multan
  3. Gazetteer of the Multan District, 1923-24 Sir Edward Maclagan, Punjab (Pakistan). 1926. पपृ॰ 276–77. मूल से 7 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 दिसंबर 2019.
  4. Imperial rule in Punjab: the conquest and administration of Multan, 1818-1881 by J. Royal Roseberry. पपृ॰ 243, 263. मूल से 8 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 दिसंबर 2019.
  5. All the year round , Volume 51. Charles Dickens. 1883. मूल से 8 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 दिसंबर 2019.
  6. "संग्रहीत प्रति". मूल से 11 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 17 दिसंबर 2019.