प्रसूति-विज्ञान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रसूति-विज्ञान (लैटिन शब्द ऑब्स्टेयर, अर्थात्, "साथ देते रहना" से) गर्भावस्था (प्रसव से पहले की अवधि), शिशु-जन्म और प्रसव के बाद की अवधि के दौरान महिलाओं और उनके बच्चों की देखभाल से जुड़ी हुई शल्य चिकित्सीय विशेषता है। प्रसूति-विद्या गैर-शल्य समतुल्य है। पशु प्रसूति-विज्ञान, पशु चिकित्सा की अवधारणा के समान है। लगभग सभी आधुनिक प्रसूति-विशेषज्ञ, स्त्री रोग विशेषज्ञ भी हैं।

प्रसवपूर्व देखभाल[संपादित करें]

प्रसव पूर्व देखभाल, गर्भावस्था की विभिन्न जटिलताओं की जांच के लिए महत्वपूर्ण है। इसके लिए शारीरिक और नियमित प्रयोगशाला परीक्षणों के लिए नियमित रूप से परीक्षण स्थल जाना पड़ता है:

पहली तिमाही[संपादित करें]

  • पूर्ण रक्त गणना (कम्प्लीट ब्लड काउंट) (सीबीसी (CBC))
  • रक्त का प्रकार (ब्लड टाइप)
  • एचडीएन (HDN) के लिए सामान्य रोग-प्रतिकारक की जांच (अप्रत्यक्ष कूम्ब्स परीक्षण)
    • आरएच डी (Rh D) नकारात्मक प्रसव पूर्व रोगियों को आरएच (Rh) रोग की रोकथाम करने के लिए 28 सप्ताह में रोगैम (RhoGam) लेना चाहिए।
  • द्रुत प्लाज्मा अभिकर्मक (आरपीआर (RPR)) जो उपदंश की जांच करता है
  • रूबेला रोगप्रतिकारक जांच
  • हेपटाइटिस बी सतह प्रतिजन
  • सूजाक और क्लामीडिया संवर्ध
  • तपेदिक (टीबी) के लिए पीपीडी (PPD)
  • पैप स्मीयर
  • मूत्र-विश्लेषण और संवर्ध
  • एचआईवी (HIV) की जांच
  • ग्रुप बी गोलाणु की जांच - सकारात्मक होने पर आइवी पेनिसिलिन (IV penicillin) या एम्पीसिलीन (यह बहुत सस्ता होता है और यह कई जगह उपलब्ध होता है) दिया जाएगा (यदि माता को एलर्जी होती हो तो वैकल्पिक चिकित्सा के रूप में आइवी क्लिंडामाइसिन (IV clindamycin) और आइवी वैंकोमाइसिन (IV vancomycin) दिया जाता है)

डाउंस सिंड्रोम (त्रिगुणसूत्रता 21) और त्रिगुणसूत्रता 18 की आनुवंशिक जांच आम तौर पर 16-18 सप्ताह की अवधि वाली दूसरी तिमाही में किया जाने वाले डाउंस सिंड्रोम की एएफपी-क्वैड (AFP-Quad) जांच से संयुक्त राज्य अमेरिका में राष्ट्रीय मानक बड़ी तेज़ी से विकास हो रहा है। भ्रूण की ग्रीवा (मोटी त्वचा ठीक नहीं होती है) और दो रसायन (विश्लेष्य पदार्थ) पैप-ए (Papp-a) और बीएचसीजी (bhcg) (स्वयं गर्भावस्था हार्मोन स्तर) के अल्ट्रासाउंड के साथ 10 से 13 सप्ताह के बाद नवीन एकीकृत जांच (जिसे पहले फास्टर (F.A.S.T.E.R) कहा जाता था, जो फर्स्ट एण्ड सेकण्ड ट्राइमेस्टर अर्ली रिज़ल्ट्स अर्थात् पहली और दूसरी तिमाही के आरंभिक परिणाम का संक्षिप रूप है) की जा सकती है। यह बहुत जल्द एक सटीक जोखिम प्रोफ़ाइल प्रदान करता है। उसके बाद 15 से 20 सप्ताह में दूसरी बार खून की जांच की जाती है जिससे जोखिम के बारे में और अधिक स्पष्ट जानकारी प्राप्त होती है। अल्ट्रासाउंड और द्वितीय रक्त परीक्षण की वजह से इसका खर्च, एएफपी-क्वैड जांच से अधिक होता है लेकिन देखा गया है कि इसके पीछे खर्च करने की दर 92% है।

दूसरी तिमाही[संपादित करें]

  • एमएसएएफपी/क्वैड (MSAFP/quad) जांच (एक साथ चार बार खून की जांच) (मातृ सीरम अल्फा-भ्रूणप्रोटीन; इनहिबिन; एस्ट्रियॉल; बीएचसीजी या मुफ्त बीएचसीजी) - उत्थान, कम संख्या या विषम पद्धति जो त्रिगुणसूत्रता 18 या त्रिगुणसूत्रता 21 के बढ़े हुए जोखिम और तंत्रिका नली दोष के जोखिम से सहसम्बन्धित है
  • गर्भाशय ग्रीवा, गर्भनाल, तरल पदार्थ और बच्चे का मूल्यांकन करने के लिए पेट या पारयोनि का अल्ट्रासाउंड
  • उल्ववेधन (गर्भवती महिला के गर्भाशय की जांच) उन महिलाओं के लिए राष्ट्रीय मानक है जिनकी उम्र 35 से अधिक है या जो मध्य गर्भावस्था तक 35 की हो जाती हैं या जिन्हें पारिवारिक इतिहास या जन्म पूर्व इतिहास की दृष्टि से ज्यादा खतरा होता है।

तीसरी तिमाही[संपादित करें]

  • लोहितकोशिकामापी (दिए हुए रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की आयतन प्रतिशतता) (कम होने पर माता को लौह अनुपूरण दिया जाएगा)
  • ग्लूकोज़ भरण परीक्षण (जीएलटी (GLT)) - गर्भकालीन मधुमेह की जांच; 140 मिलीग्राम प्रति डेसीलिटर से अधिक होने पर ग्लूकोज़ सहिष्णुता परीक्षण (जीटीटी (GTT)) किया जाता है; ग्लूकोज़ की मात्रा 105 मिलीग्राम प्रति डेसीलिटर से अधिक होने पर गर्भकालीन मधुमेह होने का संकेत मिलता है।

अधिकांश डॉक्टर कोला, नींबू या संतरे में 50 ग्राम ग्लूकोज़ के एक पेय के रूप में सुगर (शर्करा) भरते हैं और एक घंटे (5 मिनट आगे या पीछे) बाद रक्त निकालते हैं; 1980 के दशक के अंतिम दौर के बाद से मानक संशोधित मानदंड को कम करके 135 कर दिया गया है

प्रसव पूर्व रिकॉर्ड[संपादित करें]

प्रसूति-विशेषज्ञ या प्रसूति-सहायिका से पहली मुलाक़ात के समय गर्भवती महिला को प्रसव पूर्व रिकॉर्ड को साथ लाने के लिए कहा जाता है, जिसमें उसकी चिकित्सा का इतिहास और शारीरिक परीक्षा की रिपोर्ट शामिल रहती है। उसके बाद जितनी बार वह डॉक्टर से मिलने जाती है, उतनी बार उसके गर्भ की आयु की जांच की जाती है।

सिम्फाइसिस-फंडल हाईट या अस्थिसंयोजिका-बुध्‍नपरक ऊंचाई (जिसे संक्षेप में एसएफएच या SFH कहा जाता है और सेंटीमीटर में व्यक्त किया जाता है), गर्भधारण के 20 सप्ताह बाद गर्भ की आयु के बराबर होनी चाहिए और भ्रूण की वृद्धि को प्रसव पूर्व मुलाक़ात के दौरान एक वक्र पर दर्शाना चाहिए। गर्भ के अन्दर के बच्चे की स्थिति का पता लगाने के लिए प्रसूति-सहायिका या प्रसूति-विशेषज्ञ, लियोपोल्ड कौशल का इस्तेमाल करके छूकर बच्चे का परीक्षण करते हैं। रक्तचाप पर भी नज़र रखी जानी चाहिए जो सामान्य गर्भधारण में 140/90 तक हो सकता है। उच्च रक्तचाप (हाई ब्लड प्रेशर) से अतिरक्तदाब (हाइपरटेंशन) का संकेत मिलता है और अगर गंभीर सूजन (एडीमा अर्थात् शोफ़ अर्थात् पानी वाला सूजन) होती है और पेशाब के माध्यम से प्रोटीन भी निकलता है, तो शायद पूर्व-प्रसवाक्षेप होने का भी संकेत मिलता है।

भ्रूण की जीवन-क्षमता के साथ-साथ जन्मजात समस्याओं के आकलन में मदद करने के लिए भ्रूण की जांच भी की जाती है। आनुवंशिक दशा वाले शिशु का धारण करने में जिन परिवारों को ज्यादा खतरा होने की सम्भावना रहती है, उन परिवारों को अक्सर आनुवंशिक परामर्श प्रदान किया जाता है। भ्रूण में डाउंस सिंड्रोम और अन्य गुणसूत्र असामान्यताओं की जांच करने के लिए 35 या उससे अधिक उम्र की महिलाओं के लिए कभी-कभी 20 सप्ताह के आसपास उल्ववेधन किया जाता है।

उल्ववेधन करने से भी पहले डाउन सिंड्रोम जैसे विकारों की जांच करने के लिए भी माता को त्रिगुण परीक्षण, पश्चग्रीवा की जांच, नाक की हड्डी, अल्फा-भ्रूणप्रोटीन की जांच और जरायुगत अंकुर नमूना लेना जैसे परीक्षणों को से गुजरना पड़ सकता है। उल्ववेधन, भ्रूण की एक प्रसव पूर्व आनुवंशिक जांच है, जिसके तहत गर्भोदक से भ्रूण के डीएनए (DNA) निकालने के लिए माता के पेट की दीवार और गर्भाशय की दीवार में एक सुई घुसाया जाता है। इस उल्ववेधन की क्रिया में गर्भपात और भ्रूण की क्षति होने का खतरा रहता है क्योंकि इसके तहत शिशु धारित गर्भाशय का वेधन किया जाता है।

चित्रण (इमेजिंग)[संपादित करें]

12 सप्ताह में किया गया डेटिंग स्कैन.

चित्रण या इमेजिंग, गर्भावस्था की निगरानी करने का एक और महत्वपूर्ण तरीका है। गर्भावस्था की पहली तिमाही में भी आम तौर पर माता और भ्रूण का चित्र लिया जाता है। ऐसा माता से जुड़ी समस्याओं की भविष्यवाणी करने के लिए, गर्भाशय के अन्दर गर्भावस्था की पुष्टि करने के लिए, गर्भ की आयु का अनुमान लगाने के लिए, भ्रूणों और गर्भनाल की संख्या का निर्धारण करने के लिए, अस्थानिक गर्भावस्था और पहली तिमाही के रक्तस्राव का मूल्यांकन करने के लिए और विसंगतियों के आरंभिक लक्षणों का आकलन करने के लिए किया जाता है।

आयनकारी विकिरण की वजह से, विशेष रूप से पहली तिमाही में, एक्स-रे और कंप्यूटरीकृत टोमोग्राफी (सीटी (CT)) का प्रयोग नहीं किया जाता है, जिसका भ्रूण पर टेराटोजेनिक असर पड़ता है। भ्रूण पर मैग्नेटिक रेज़ोनंस इमेजिंग या चुंबकीय अनुनाद चित्रण (एमआरआई (MRI)) का कोई प्रभाव नहीं देखा गया है,[1] लेकिन यह तकनीक नियमित अवलोकन के लिए काफी महंगी है। इसके बजाय, पहली तिमाही में और गर्भावस्था के शुरू से अंत तक चित्रण विकल्प के रूप में अल्ट्रासाउंड का सहारा लिया जाता है क्योंकि इससे कोई विकिरण नहीं निकलता है, इसे उठाकर ले जाया जा सकता है और वास्तविक समय के चित्रण की सुविधा उपलब्ध कराता है।

गर्भावस्था के दौरान किसी भी समय अल्ट्रासाउंड इमेजिंग किया जा सकता है, लेकिन इसका प्रयोग आमतौर पर 12वें सप्ताह (कालनिर्धारणकारी जांच) और 20वें सप्ताह (विस्तृत जांच) में किया जाता है।

एक सामान्य गर्भधारणकाल में एक गर्भ थैली, पीतक थैली और भ्रूणीय स्तम्भ दिखाई देगा। छठीं सप्ताह से पहले मीन जेस्टेशनल सिक डायमीटर या औसत गर्भ थैली व्यास (एमजीडी (MGD)) और छठीं सप्ताह के बाद क्राउन-रम्प लेंथ या शीर्ष से पुट्ठे तक की लंबाई का मूल्यांकन करके गर्भ की आयु का आकलन किया जा सकता है। एकाधिक गर्भ का मूल्यांकन मौजूद गर्भोदक थैलियों और गर्भनालों की संख्या द्वारा किया जाता है।

जटिलताएं और आपातकालीन परिस्थितियां[संपादित करें]

प्रमुख आपातकालीन परिस्थितियों में शामिल हैं:

  • अस्थानिक गर्भावस्था (एक्टोपिक प्रेगनैन्सी) उस अवस्था का नाम है जब फैलोपियन ट्यूब में या (शायद ही कभी) अंडाशय पर या पेरिटोनियल कैविटी के अन्दर एक भ्रूण का प्रत्यारोपण किया जाता है। इससे बहुत ज्यादा आंतरिक रक्तस्राव हो सकता है।
  • पूर्व-प्रसवाक्षेप (प्रि-इक्लैम्पसिया) जो एक ऐसा रोग है जिसे मातृत्व अतिरक्तदाब से सम्बन्धित संकेतों और लक्षणों द्वारा परिभाषित किया जाता है। इसका कारण मालूम नहीं है और गर्भावस्था के आरंभिक चरणों से इसके विकास की भविष्यवाणी करने के लिए मार्करों की मांग की जा रही है। कुछ अज्ञात कारकों की वजह से अन्तःकला (एंडोथीलियम) में संवहनी क्षति का सामना करना पड़ता है जिससे अतिरक्तदाब का समस्या उत्पन्न हो जाती है। गंभीर होने में यह प्रसवाक्षेप का रूप धारण कर लेता है जिसके तहत आक्षेप (पेशी-स्फुरण के साथ बेहोशी और ऐंठन) आते हैं जो घातक हो सकता है। हेल्प सिंड्रोम (HELLP syndrome) वाले पूर्वप्रसवाक्षेपग्रस्त रोगियों में यकृत विफलता (लीवर फेल्योर) और डिसेमिनेटेड इंट्रावैस्क्यूलर कोएगुलेशन या प्रसृत अंतर्वाहिकी स्कंदन (डीआईसी (DIC)) की समस्या दिखाई देती है।
  • गर्भनाल पृथक्करण (प्लेसेंटल एब्रप्शन) जिसका उचित प्रबन्ध नहीं करने पर खून निकलते रहने से रोगी की मौत हो सकती है।
  • भ्रूण वेदना (फेटल डिस्ट्रेस) जहां गर्भाशयिक वातावरण में भ्रूण की क्षति हो रही होती है।
  • स्कंधीय कष्टकारी प्रसव (शोल्डर डिस्टोसिया) जहां योनि के माध्यम से होने वाले प्रसव के दौरान भ्रूण का एक कन्धा अटक जाता है, ऐसा विशेष रूप से मधुमेह से ग्रस्त माताओं के अत्यधिक बड़े शरीर वाले बच्चों के साथ होता है।
  • गर्भाशयिक विदारण (यूटेरिन रप्चर) जो कष्टकारी प्रसव के दौरान हो सकता है जिससे भ्रूण और माता के जीवन को खतरे में डाल देता है।
  • भ्रंशित रज्जु (प्रोलैप्स्ड कॉर्ड) जो भ्रूण के घुटन के जोखिम के साथ प्रसव के दौरान भ्रूण के रज्जु के भ्रंश को संदर्भित करता है।
  • प्रासविक रक्तस्राव (ऑब्स्टेट्रिकल हेमरेज) जिसके होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे - सम्मुखी गर्भनाल (प्लेसेंटा प्रीविया), गर्भाशयिक अश्रुपूर्ण विदारण (यूटेरिन रप्चर ऑफ़ टियर्स), गर्भाशयिक कमजोरी (यूटेरिन एटोनी), यथावत गर्भनाल या गर्भनालिक अंश, या रक्तस्राव विकार.
  • प्रासूतिक पूतिता (प्यूरपीरल सेप्सिस) जो प्रसव के दौरान या प्रसव के बाद गर्भाशय का एक विकसित संक्रमण है।

भ्रूण आकलन[संपादित करें]

भ्रूण के आकार से गर्भावस्था के गर्भकालीन आयु का निर्धारण करने के लिए अल्ट्रासाउंड का नियमित प्रयोग किया जाता है, सबसे सटीक तिथि-निर्धारण भ्रूण के विकास पर महत्वपूर्ण रूप से अन्य कारकों का प्रभाव पड़ने से पहले पहली तिमाही में होता है। अल्ट्रासाउंड का इस्तेमाल आनुवंशिक विसंगतियों (या अन्य भ्रूणीय विसंगतियों) का पता लगाने और बायोफिज़िकल प्रोफाइलों या जैवशारीरिक रूपरेखाओं (बीपीपी (BPP)) का निर्धारण करने के लिए भी किया जाता है, जिसका पता आम तौर पर दूसरी तिमाही में आसानी से किया जाता है जब भ्रूणीय संरचनाएं पहले से बड़ी और अधिक विकसित होती हैं। विशेष प्रकार के अल्ट्रासाउंड उपकरणों से नाभ्य धमनी में कम/अनुपस्थित/विपरीत या अनुशिथिलक रक्त प्रवाह का पता लगाने के लिए नाभ्य रज्जु में रक्त प्रवाह वेग का भी मूल्यांकन किया जा सकता है।

मूल्यांकन के लिए प्रयोग किए जाने वाले अन्य साधनों में शामिल हैं:

  • आनुवंशिक बीमारियों की जांच करने के लिए भ्रूणीय कुपोषण (फेटल केरियोटाइप) का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे उल्ववेधन या कोरियोनिक विलस सैम्पलिंग अर्थात् जरायुगत अंकुर नमूना (सीवीएस (CVS)) के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है।
  • भ्रूणीय रक्ताल्पता (फेटल एनीमिया), आरएच आइसोइम्युनाइज़ेशन (Rh isoimmunization), या हाईड्रॉप्स (hydrops) के मूल्यांकन के लिए भ्रूण की लोहितकोशिकामापी का निर्धारण पर्क्यूटेनियस अम्बिलिकल ब्लड सैम्पलिंग (पब्स (PUBS)) द्वारा किया जा सकता है जिसे गर्भाशय में पेट के माध्यम से एक सुई घुसाकर और नाभ्य रज्जु का एक अंश निकालकर किया जाता है।
  • भ्रूण के फेफड़ों की परिपक्वता इस बात से जुड़ा हुआ है कि भ्रूण कितना पृष्‍ठसक्रियाकारक का उत्पन्न कर रहा है। पृष्‍ठसक्रियाकारक के कम उत्पादन से फेफड़े की कम परिपक्वता का संकेत मिलता है और यह शिशु श्वास कष्ट सिंड्रोम का एक अति जोखिमपूर्ण कारक है। आम तौर पर 1.5 से अधिक लेसिथिन:स्फिंगोमायलिन अनुपात, फेफड़े की अधिक परिपक्वता से जुड़ा होता है।
  • भ्रूणीय हृदय गति के लिए नॉन स्ट्रेस टेस्ट (एनएसटी (NST))
  • ऑक्सीटोसिन चैलेन्ज टेस्ट

शिशु-जन्म[संपादित करें]

प्रेरण[संपादित करें]

प्रेरण, एक महिला में कृत्रिम रूप से या समय से पहले प्रसव को उत्तेजित करने की एक विधि है। प्रेरित करने के कारणों में पूर्व प्रसवाक्षेप, जन्म समूह, मधुमेह और अन्य विभिन्न सामान्य चिकित्सीय हालत, जैसे - गुर्दे की बीमारी शामिल हो सकते हैं। यदि भ्रूण या माता का जोखिम फेफड़े की परिपक्वता की परवाह किए बिना समय से पहले भ्रूण के प्रसव के जोखिम से अधिक होता है तो गर्भधारण के 34 सप्ताह के बाद कभी भी प्रेरण किया जा सकता है। यदि कोई महिला अंत में 41-42 सप्ताह तक बच्चे को जन्म नहीं देती है, तो उसे प्रेरित किया जा सकता है, क्योंकि गर्भनाल इस तारीख के बाद अस्थिर हो सकता है।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

कई तरीकों से प्रेरित किया जा सकता है:

  • प्रोस्टिन क्रीम, प्रोस्टाग्लैंडीन E2 का पेसारी
  • अन्तर्योनि या मुंह में मिसोप्रोस्टल देना
  • गर्भाशय की ग्रीवा में एक 30-एमएल फोली कैथेटर को

प्रवेश करना

  • गर्भोदक झिल्लिओं का विदारण
  • सिंथेटिक ऑक्सीटोसिन (पिटोसिन या सिंटोसिनोन) को अंतःशिरा में लगाना

प्रसव[संपादित करें]

खुद प्रसव के दौरान, प्रसूति-विशेषज्ञ या डॉक्टर या निवासी चिकित्सक या पर्यवेक्षणाधीन मेडिकल छात्र को असंख्य कार्य करने के लिए बुलाया जा सकता है। इन कार्यों में निम्न कार्य शामिल हो सकते हैं:

  • नर्सिंग चार्ट की समीक्षा करके, योनि की परीक्षा करके और भ्रूणीय निगरानी उपकरण (कार्डियोटोकोग्राफ) से मिले सुराग का आकलन करके प्रसव की प्रगति की निगरानी करना
  • हार्मोन ऑक्सीटोसिन को प्रेरित करके प्रसव की प्रगति को तेज करना
  • संवेदनाहारकों, किसी संवेदनाहरण-विशेषज्ञ या किसी नर्स एनेस्थेटिस्ट द्वारा या तो नाइट्रस ऑक्साइड, पीड़ाहारी या निद्राकारी दवाओं, या उपरिदृढ़तानिक संज्ञाहरण का प्रयोग करके दर्द से राहत दिलाना
  • संदंश या वेंटूज़ (भ्रूण के सिर पर लगाया जाने वाला एक चूषण टोपी) द्वारा शल्य चिकित्सीय ढ़ंग से प्रसव में सहायता करना
  • शल्य जनन या सीज़रियन सेक्शन (शल्‍यक्रिया द्वारा प्रसव कराना), अगर योनि के माध्यम से प्रसव कराने में खतरा हो, जैसे कि भ्रूण या माता को जान का खतरा हो, जो सबूतों और दस्तावेजों से स्पष्ट होता है। प्रसव से पहले शल्य जनन का विकल्प चुना जा सकता है या उसकी व्यवस्था की जा सकती है अथवा इंतजार की घड़ियों को ख़त्म करने के विकल्प के रूप में प्रसव के दौरान शल्य जनन कराने का फैसला किया जा सकता है। सच्चा "आपातकालीन" शल्य जनन, गर्भनाल के अलग होने या टूटने की स्थिति में किया जाता है और बहुप्रासूतिक रोगियों या वैजाइनल बर्थ आफ्टर सीज़रियन सेक्शन अर्थात् शल्य जनन पश्चात् योनिक प्रसव (वीबीएसी (VBAC)) का विकल्प चुनने वाले रोगियों में यह अधिक आम है।

प्रसव पश्चात्[संपादित करें]

पश्चिमी दुनिया में एक अस्पताल में बच्चे को जन्म देने वाली महिला उतनी जल्दी अस्पताल से छुट्टी ले सकती है जितनी जल्दी वह चिकित्सा की दृष्टि से स्थिर हो जाती है और घर जाने का विकल्प चुनती है, जो ज्यादा से ज्यादा प्रसव होने के कुछ घंटे बाद का समय हो सकता है, हालांकि सहज योनिक प्रसव (एसवीडी (SVD)) के बाद रूकने की औसत अवधि 1 से 2 दिन और शल्य क्रिया द्वारा प्रसव होने के बाद रूकने का औसत समय 3 से 4 दिन है। इस अवधि के दौरान रक्तस्राव, आंत्र और मूत्राशय की क्रियाशीलता के लिए माता की निगरानी और बच्चे की देखभाल की जाती है। शिशु के स्वास्थ्य पर भी नज़र रखी जाती है।[2]

वेतन[संपादित करें]

देश के आधार पर प्रसूति-विशेषज्ञ के वेतन में अंतर होता है। संयुक्त राज्य अमेरिका में, वेतन की सीमा $200,000 से $339,738 तक है।

देश वार्षिक वेतन (अमेरिकी डॉलर)
यूनाइटेड किंगडम 187,771[3]
संयुक्त अरब अमीरात 231,809[4]
संयुक्त राज्य अमेरिका 236,411

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • प्राचीनकालीन शिशु-जन्म और प्रसूति-विज्ञान
  • घर पर बच्चे का जन्म
  • हेनरी जेकस गैरिगस, जिन्होंने उत्तरी अमेरिका में एंटीसेप्टिक प्रसूति-विज्ञान का आरम्भ किया था
  • प्रासूतिक विषयों की सूची
  • प्रासूतिक अल्ट्रासोनोग्राफी
  • प्रसूतिकाल

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ibrahim A. Alorainy, Fahad B. Albadr, Abdullah H. Abujamea (2006). "Attitude towards MRI safety during pregnancy" ([मृत कड़ियाँ]). Ann Saudi Med. 26 (4): 306–9. PMID 16885635.
  2. "विथ वीमन, मिडवाइव्स इक्सपीरीयंस: फ्रॉम शिफ्टवर्क टु कंटिन्युइटी ऑफ़ केयर, डेविड वर्नन, ऑस्ट्रेलियन कॉलेज ऑफ़ मिडवाइव्स, कैनबरा, 2007 ISBN 978-0-9751674-5-8, p17f
  3. यूनाइटेड किंगडम में काम करने वाला प्रसूति-विशेषज्ञ, यूके वेतन, SalaryExpert.com, 23-03-2009 को उद्धृत
  4. संयुक्त राज्य अमीरात में काम करने वाला प्रसूति-विशेषज्ञ, SalaryExpert.com. 23-03-2009 को उद्धृत

आगे पढ़ें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • इनजीनियस - प्रसूति-विज्ञान, स्त्री रोग विज्ञान और गर्भ निरोध से सम्बन्धित ऐतिहासिक चित्रों का संग्रह.