प्रसंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search


चर्चा के लिये जब किसी विषय वस्तु को तैयार किया जाता है, तो पहले उसकी सूक्ष्म व्याख्या की जाती है, इसी सूक्ष्म व्याख्या को प्रसंग कहा जाता है। जैसे ज्योतिष के बारे में कुछ भी बताने से पहले ज्योतिष का अर्थ, और ज्योतिष के ज्ञान की आवश्यकता, ज्योतिष के ज्ञान से होने वाले लाभ और हानियां, फ़िर जो कुछ भी कहना है उसके लिये आगे का विषय बनता है।