प्रवेशद्वार वार्ता:सामग्री

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

श्री स्वामी राजेंद्रदास जी महाराज 'मलूक पीठ'

श्री मलुक पीठ जी सत्य और विश्वास की आत्मा है। वह प्रकृति की वास्तविक सुंदरता का वर्णन करते हैं । उनके वचन आपको भगवान के प्रति आपकी सच्ची भावनाओं को समझायेंगे। एक भक्त की भक्ति उसके जीवन की यात्रा का मुख्य बिंदु है।​ कई पवित्र संतों, गुरुओं तथा ऋषियों ने अपने दिव्य ज्ञान, प्राचीन ग्रंथों का ज्ञान और आध्यात्मिक ज्ञान के साथ दुनिया को आशीर्वाद दिया है। ऐसे ही ऋषि मुनियों के समरूप मलूक पीठ के पीठाधीश श्री राजेंद्र दास जी महाराज है, और उनका अलौकिक चिंतन और मनन हर प्राणी मात्र की सुख समृद्धि के लिए समर्पित है।

जीवन चरित महाराज जी बड़े ही प्रखर वक्ता है, और उनके मुख से राम कथा का उच्चारण सुनना बड़े सौभाग्ये की बात है। महाराज जी की मुख्य बात ये है कि वो बड़ी सरल और सुँदर भाषा से राम कथा का व्याख्यान करते है। भगवान के प्रति पूर्ण समर्पण ने उन्हें ज्ञानी और दिव्य व्यक्तित्व के रूप में स्थापित किया है। वे संस्कृत भाषा और श्रीमद्भगवत पुराण की भाषा में विशेष ज्ञान रखते हैं। जब कोई उनके कथन और भजन सुनता है, तो वो राम कथा के लिए प्यार करता है और अपने आसपास और भीतर आनंद महसूस करता है। ऐसा कोई मनुष्य नहीं जिसने उन्हें सुना और मंत्रमुग्ध नहीं हुआ। सभी भक्त उनके वर्णन की प्रशंसा करते हैं। जो व्यक्ति उनको सुनता है, वह जीवन के सभी कष्टो और निराशा से विमुक्त हो जाता है। जैसा कि सभी सुनने वाले बताते है कि वातावरण में निर्मित जादू को महसूस किया जा सकता है; ज्ञान, भक्ति, दिव्यता चारों ओर फैल जाती है और सबको परमात्मा आनंद की खुशी महसूस होती है जो कि अनन्त सत्य है। हर बार जब आप उनके कथन को सुनने का विशेषाधिकार प्राप्त करेंगे, तो हर बार वह एक नया और ताज़ा आयाम देता है, जहां आपको लगता है कि आप इसे पहली बार अनुभव कर रहे हैं। ​ इनका जन्म ओरछा (जिला टीकमगढ़) मध्य प्रदेश के निकट एक छोटे से गांव आचर्रा (वर्तमान समय में नाम परिवर्तित हो कर "श्री आचार्य धाम") में भारद्वाज गोत्रीय अध्वर्यु कुल में हुआ था । इनके पिताजी का नाम पण्डित श्री रामस्वरूप जी तथा माताजी श्रीमती वृजलता अध्वर्यू जी हैं ।

गोसेवा - मलूक पीठ गोशाला

श्री मलूक पीठ से कुछ किलोमीटर आगे स्थित वृंदावन परिक्रमा मार्ग के साथ स्थित 'मलूक पीठ गोशाला' सबको गौमाता की सेवा का अवसर प्रदान करता है। सुरभि श्याम गौशाला एक गौ तीर्थ है जो यमुना एक्सप्रेस मार्ग राजमार्ग पर अलीगढ़ मथुरा रोड की उत्तर दिशा में स्थित है और 2.5 एकड़ भूमि क्षेत्र में फैला है। जहां 14 पूरी तरह से आरामदायक शेड होते हैं जिसमें 650 से अधिक गाय 'राजमाता' जैसी रहती हैं जहां 7 खुले और स्वस्थ यौगिकों में पूर्ण देखभाल के साथ गिर गायों के समूह वहां प्रजनन करते हैं। जहां प्रत्येक गाय की दैनिक जाँच की जाती है और जरूरतमंद उपचार प्रदान किया जाता है। ​

शास्त्र सेवा

कई वर्षों से गुरुकुल में छात्रों को वैदिक जीवन जीना,संस्कृत भाषा और शास्त्रीय संगीत सिखाया जा रहा है, मलूक पीठ की अनेक सेवा कार्यो में अग्रसर​ है जिनमे गौ सेवा और शिक्षा कार्य प्रमुख है। महाराज जी का मुख्य उद्देश्य​ सभी को शिक्षा प्राप्त कराना और गौ रक्षा करना है।

साधु सेवा

श्री मलूक पीठ से आगे कुछ किलोमीटर स्थित वृंदावन परिक्रमा मार्ग के साथ स्थित मलूक पीठ गोशाला सबको अवसर प्रदान करता है ताकि वे गौमाता कि सेवा कर सके ।

सुरभि श्याम गोशाला गोवर्धन मथुरा

"सुरभि श्याम गोशाला" गोवर्धन, मथुरा में गायों और बैल को प्रसन्न करके, आप एक साथ कृष्ण और बलराम को एक साथ प्रसन्न करते हैं। आप वस्तुतः उनके गोपा और गोपी में से एक हो जाते हैं क्योंकि आप उनकी प्यारी गायों की देखभाल में मदद करते हैं।

गायों को विभिन्न प्रकार के घास और अन्य चारा के साथ खिलाया जाता है। सूखी घास के अलावा, मकई घास और 'हसी घास' या 'हाथी घास' नामक एक प्रकार की घास है। इसके अलावा, गायों को कुचल गेहूं, गुड़ (गुरु) और खली (सोयाबीन बीज से तेल निकालने के बाद अवशेष) खिलाया जाता है। गायों की सभी चिकित्सा आवश्यकताओं को अच्छी तरह से ध्यान रखा जाता है। गाय का दूध देवता के लिए मीठी खीर​ और अन्य प्रसाद बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। 1996 में आध्यात्मिक प्रेरणा के साथ गौ सेवा यात्रा केवल 21 गायों के साथ शुरू हुई। आज 15 साल की ईमानदारी से गौ सेवा कई लोगों के दिलों में अपनी जगह बना चुकी है। ​ इसके अलावा स्वास्थ्य और भोजन के रख-रखाव का सख्ती से ध्यान​ रखा गया है। यहां गाय दुग्ध केवल आय के स्रोत के लिए ही नहीं बल्कि पांच तत्वों - दूध, दही, घी, गाय मूत्र (गौमूत्र) और गाय डंग जैसे पंच ग्रावों को चिकित्सकीय रूप से इस्तेमाल किया जाता है। यही भावना हर घर में गाय की परवरिश कर रही है और घर-घर में फिर से गौपालन की धारणा को स्थापित कर रही है। सुरभि श्याम गोशाला में गाय की सेवा के