प्रवेशद्वार:हिन्दू धर्म/मापन प्रणाली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ग्रह गणित विभाग में स्थित पौलिश, रोमक वासिष्ठ सौर पैतामह इन पाँच सिद्धान्तों में प्रतिपादित युग. बर्ष .अयन .ऋतु .मास .पक्ष . अहोरात्र .प्रहर .मुहूर्त .धटी .पल .प्राण .त्रुटि के अवयव आदि कालों का तथा भगण .राशि .अंश .कला .विकला का ज्ञान है । ख:चतुष्टि अरद वेदा रवि वर्षाणां चतु: युग भवति ।सन्ध्या सन्ध्यांशै: सह चत्वारि पृथक कृत आदीनि ॥ युग दश भागो गुणित:

कृतं चतुभि:त्रिभि:त्रेता । द्विगुणो द्वापरं एकेन षड्गुण:कलियुगं भवति ॥तैतालिस लाख बीस हजार सौर वर्ष ४३२०००० संध्या संध्याशों सहित चारों युग (एक महायुग) का मान है । इस के दशमांश ४३२००० को चार से गुणा करने पर संध्या संध्यांश सहित कृतयुग का मान=१७२८००० तीन से गुणा करने पर त्रेता का मान=१२९६००० दो से गुणा पर द्वापर =८६४००० व एक से गुणा पर कलियुग =४३२००० होता है ॥ मेष से मीनान्त तक सूर्य १५७७९१७८२८/४३२०००० =३६५.२५८७४८१ दिनों में भोगता है ।