प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

प्रधानमंत्री उज्जवला योजना भारत के गरीब परिवारों की महिलाओं के चेहरों पर खुशी लाने के उद्देश्य से केंद्र सरकार द्वारा 1 मई 2016 को शुरू की गई एक योजना है। इस योजना के अंतर्गत गरीब महिलाओं को मुफ्त एलपीजी गैस कनेक्शन मिलेंगे।[1]

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना से गरीब महिलाओं को जल्‍द ही मिट्टी के चूल्‍हे से आजादी मिल जाएगी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में खाना पकाने के लिए उपयोग में आने वाले जीवाश्म ईंधन की जगह एलपीजी के उपयोग को बढ़ावा देना है। योजना का एक मुख्य उद्देश्य महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देना और उनकी सेहत की सुरक्षा करना भी है।

गरीब परिवार की महिला सदस्यों को मुफ्त रसोई गैस (एलपीजी) कनेक्शन मुहैया कराने के लिए मंत्रिमंडल ने 8,000 करोड़ रुपये की योजना को मंजूरी दी है।[2]

आवेदन प्रक्रिया[संपादित करें]

उज्ज्वला योजना में रसोई गैस प्राप्त करने के लिए आवेदन करना बहुत ही आसान है। इसके लिए बस आप के पास बीपीएल (गरीबी रेखा) का कार्ड होना आवश्यक है इच्छुक उम्मीदवार जो इस योजना के तहत रसोई गैस कनेक्शन चाहते हैं उन्हें योजना का आवेदन पत्र भरकर अपने नजदीकी एलपीजी वितरण केंद्र में जमा कराना होगा।[3]

दो पन्ने के आवेदन पत्र में सभी जानकारी भरकर जैसे आप का नाम, पता, आधार नंबर तथा जन धन/बैंक खाता नंबर भरकर वितरण केंद्र पर जमा करवाना होगा।[3]

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभ:-[संपादित करें]

  • इस योजना के प्रारंभ होने से खाने पर धुंआ के असर से मृत्यु में कमी होगी
  • इस योजना से छोटे बच्चे के स्वास्थ्य की समस्या कम होगी
  • प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के प्रारंभ होने से शुद्ध जल के प्रयोग से महिलाओं का स्वास्थ्य सुधरेगा
  • इस सरकारी योजना से अशुद्ध जीवाश्म इंधन के प्रयोग करने वाले वातावरण में कम प्रदूषण होगा|
  • इस योजना के शुरू होने से जंगलों की कटाई कम होगी।
  • महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को नहीं झेलना पड़ेगा।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. गरीबों को अब मुफ्त गैस, पीएम ने किया उज्‍ज्‍वला योजना का आगाज
  2. "प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना". www.india.gov.in. भारत का राष्ट्रीय पोर्टल. अभिगमन तिथि 13 सितम्बर 2019.
  3. "प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना का कैसे उठायें लाभ". ईकोनॉमिक टाइम्स. अभिगमन तिथि 26 जुलाई 2019.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]