पौड़ी गढ़वाल जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(पौरी जिला से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

इतिहास

------------------

गढ़वाल हिमालय के इस क्षेत्र में मानव सभ्यता का विकास समान रूप से भारतीय उपमहाद्वीप के बाकी हिस्सों के समान है। प्रारंभिक ऐतिहासिक वंश राजवंशों (6 वीं शताब्दी के ए.डी. से पहले) और काट्यूरिस (6 से 12 वीं शताब्दी के ए.डी.) थे, जिन्होंने एकीकृत उत्तराखंड पर शासन किया और मंदिरों और शिलालेखों के रूप में महत्वपूर्ण रिकॉर्ड छोड़े। कैट्यूरिस के पतन के बाद, यह माना जाता है कि गढ़वाल क्षेत्र के अध्यक्षों द्वारा चुने गए साठ-चौरे से अधिक राजवंशों में विखंडित किया गया था, चन्द्रगढ़ढ़ के प्रमुख प्रमुखों में से एक था। 15 वीं शताब्दी के मध्य में, चंद्रपुरगढ़ राजा जगतापाल (1455 से 14 9 3 ए.डी.) के शासन के तहत एक शक्तिशाली रियासत के रूप में उभरा, जो कनकपाल के वंशज थे। 15 वीं शताब्दी के अंत में, चंडीपुरगढ़ के राजा अजयपाल ने पूरे क्षेत्र पर शासन किया। इसके बाद, उसके राज्य को गढ़वाल के रूप में जाना जाने लगा और उन्होंने 1506 एडी से पहले चंद्रगढ़ से देवलागढ़ तक अपनी राजधानी और बाद में 1506 और 1519 ए.डी. के बीच श्रीनगर को स्थानांतरित कर दिया। [1] [2]

राजा अजयपाल और उनके उत्तराधिकारियों, पाल (शाह) वंश ने लगभग तीन सौ साल तक गढ़वाल पर शासन किया। इस अवधि के दौरान उन्होंने कुमाऊं, मुगलों, सिखों और रोहिल्ला से कई हमलों का सामना किया। पौरी गढ़वाल जिले के इतिहास में एक महत्वपूर्ण घटना गोरखा आक्रमण थी। इस आक्रमण को अत्यधिक क्रूरता से चिह्नित किया गया था। दत्ता और कुमाऊं को जीतने के बाद, गोरखा ने गढ़वाल पर हमला किया और गढ़वाली बलों से कठोर प्रतिरोध का सामना किया। फिर समाचार चीनी आक्रमण से आए और गोरखाओं को घेराबंदी उठाने के लिए मजबूर किया गया। 1803 में, हालांकि, गोरखाओं ने फिर से एक आक्रमण को घुड़सवार किया। कुमाऊं पर कब्जा करने के बाद, तीन कॉलम गढ़वाल पर हमला 1804 में, गोरखाओं ने राजा प्रद्युम्न शाह की सेना को हराया और सभी गढ़वाल के स्वामी बन गए। उन्होंने बारह साल तक क्षेत्र पर शासन किया।

1816 में, एंग्लो-नेपाली युद्ध के अंत में और गोरखा सेना की हार, गढ़वाल में गोरखाओं का शासन ब्रिटिशों द्वारा समाप्त हो गया था 21 अप्रैल 1815 को, अंग्रेजों ने गलवाल के पूर्वी भाग में अपने शासन को स्थापित करने का फैसला किया, जो अलकनंदा और मंदाकिनी नदियों के पूर्व स्थित है। पश्चिम में गढ़वाल का शेष भाग राजा सुदर्शन शाह को लौटा था जो टिहरी में अपनी राजधानी स्थापित कर चुके थे। प्रारंभ में प्रशासन को कुमाऊं डिवीजन के आयुक्त के पास अल्मोड़ा में मुख्यालय के साथ सौंपा गया था, लेकिन बाद में 1837 में, गढ़वाल अलग हो गए और पाउरी में मुख्यालय के साथ सहायक आयुक्त के तहत एक अलग जिले में गठित किया गया।

पौड़ी गढ़वाल ज़िला
—  जिला  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य उत्तराखण्ड
जनसंख्या
घनत्व
६,९७,०७८ (२००१ तक )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)
५४३८ कि.मी²
• १६५० मीटर
आधिकारिक जालस्थल: pauri.nic.in

निर्देशांक: 30°48′N 78°29′E / 30.8°N 78.49°E / 30.8; 78.49

पौड़ी गढ़वाल भारतीय राज्य उत्तराखण्ड का एक जिला है। जिले का मुख्यालय पौड़ी है। जो कि 5,440 वर्ग किलोमीटर के भौगोलिक दायरे में बसा है यह ज़िला एक गोले के रूप मैं बसा है जिसके उत्तर मैं चमोली, रुद्रप्रयाग और टेहरी गढ़वाल है, दक्षिण मैं उधमसिंह नगर, पूर्व मैं अल्मोरा और नैनीताल और पश्चिम मैं देहरादून और हरिद्वार स्थित है। पौढ़ी हेडक्वार्टर है। हिमालय कि पर्वत श्रृंखलाएं इसकी सुन्दरता मैं चार चाँद लगते हैं और जंगल बड़े-बड़े पहाड़ एवं जंगल पौढी कि सुन्दरता को बहुत ही मनमोहक बनाते हैं।

विवरण[संपादित करें]

संपूर्ण वर्ष मैं यहाँ का वातावरण बहुत ही सुहावना रहता है यहाँ की मुख्य नदियों मैं अलखनंदा ,हेंवल और नायर प्रमुख हैं। पौढ़ी गढ़वाल की मुख्य बोली गढ़वाली है अन्य भाषा मैं हिन्दी और इंग्लिश भी यहाँ के लोग बखूबी बोलते हैं। यहाँ के लोक गीत, संगीत एवं नृत्य यहाँ की संस्कृति की संपूर्ण जगत मैं अपनी अमित चाप छोड़ती है। यहाँ की महिलाएं जब खेतों मई काम करती है या जंगलों मैं घास काटने जाती हैं तब अपने लोक गीतों को खूब गाती हैं इसी प्रकार अपने अराध्य देव को प्रसन्न करने के लिए ये लोक नृत्य करते हैं। पौढ़ी गढ़वाल त्योंहारों मैं साल्टा महादेव का मेला, देवी का मेला, भौं मेला सुभनाथ का मेला और पटोरिया मेला प्रसिद्द हैं इसी प्रकार यहाँ के पर्यटन स्थल मैं कंडोलिया का शिव मन्दिर,केतुखाल में भैरोंगढ़ी में भैरव नाथ का मंदिर, बिनसर महादेव, खिर्सू, लाल टिब्बा, ताराकुण्ड, ज्वाल्पा देवी मन्दिर प्रमुख हैं। यहाँ से नजदीक हवाई अड्डा जोली ग्रांट जो की पौढ़ी से 150-160 किमी की दुरी पर है रेलवे का नजदीक स्टेशन कोटद्वार है एवं सड़क मार्ग मैं यह ऋषिकेश, कोटद्वार एवं देहरादून से जुडा है।

क्षेत्रफल - वर्ग कि॰मी॰

जनसंख्या - (2001 जनगणना)

साक्षरता -

एस॰टी॰डी॰ कोड -

ज़िलाधिकारी - (सितम्बर 2006 में)

समुद्र तल से उचाई -

अक्षांश - उत्तर

देशांतर - पूर्व

औसत वर्षा - मि॰मी॰

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]