पोलितब्यूरो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सोवियत पोलितब्यूरो द्वारा 17 जनवरी 1940 को पारित और सचिव जोसेफ़ स्टालिन द्वारा हस्ताक्षरित प्रस्ताव। इस प्रस्ताव के द्वारा सोवियत संघ की कम्युनिस्ट पार्टी और सोवियत सरकार के उन 346 दुश्मनों को मृत्युदंड देने की घोषणा की गयी है जिन्होने, "क्रांतिविरोधी, ट्रॉटस्कीवाद के समर्थन, साजिश रचने और जासूसी करने" जैसी गतिविधियों को बढ़ावा देने का नेतृत्व किया।

पोलितब्यूरो (रूसी:Политбюро), पोलित ब्यूरो, या राजनीतिक ब्यूरो (रूसी: политическое бюро), विभिन्न देशों के साम्यवादी दलों (कम्युनिस्ट पार्टियों) की कार्यकारी समिति है। यह प्राय सभी पूर्व और मौजूदा साम्यवादी राष्ट्रों में मौजूद है। ट्रॉटस्कीवाद के तहत, पोलितब्यूरो केंद्रीय समिति का एक ब्यूरो है।

इतिहास[संपादित करें]

दुनिया का पहला पोलितब्यूरो 1917 में रूस की बोल्शेविक पार्टी द्वारा, उसी वर्ष घटित रूसी क्रांति को एक मजबूत और निरंतर नेतृत्व प्रदान करने के उद्देश्य से बनाया गया था। पहले पोलितब्यूरो में सात सदस्य थे: लेनिन, ज़िनोविव, कामेनेव, ट्रॉट्स्की, स्टालिन, सोकोलनिकोव और बुबनोव। 20 वीं शताब्दी के दौरान, जिन देशों में पोलित ब्यूरो था, उनमें सोवियत संघ, पूर्वी जर्मनी, अफगानिस्तान, चेकोस्लोवाकिया और चीन शामिल थे। आज भी विश्व के पांच देशों चीन, उत्तर कोरिया, लाओस, वियतनाम और क्यूबा में पोलितब्यूरो प्रणाली काम कर रही है।

सन्दर्भ[संपादित करें]