पोट्टि श्रीरामुलु

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
पोट्टि श्रीरामुलु
जन्म 16 मार्च 1901
Padamatipalli, Madras Presidency, British India (Now Nellore District, Andhra Pradesh, India)
मौत 15 दिसम्बर 1952(1952-12-15) (उम्र 51)
Madras, Madras State, India (now Chennai, Tamil Nadu, India)
मौत की वजह Fasting
समाधि चेन्नई
राष्ट्रीयता Indian
शिक्षा Sanitary Engineering
पेशा Engineer, social activist.
पदवी Founding Father of Andhra Pradesh
प्रसिद्धि का कारण Hunger strike for a separate state of Andhra.
माता-पिता Guravayya and Mahalakshmamma

पोट्टि श्रीरामुलु (तेलुगु : పొట్టి శ్రీరాములు; 16 मार्च 1901 – 15 दिसम्बर 1952) भारत के एक क्रांतिकारी थे।[1][2] मद्रास राज्य से अलग आंध्र प्रदेश राज्य के निर्माण की मांग को लेकर उन्होने आमरण अनशन किया जिसके कारण अन्ततः उनकी अनशन के 58 (ncert 12th class 19 October 1952 to 15 december 1952) वे दिन मृत्यु हो गयी। भारत में भाषा के आधार पर राज्यों के निर्माण के निर्णय के पीछे उनकी असामयिक मृत्यु बहुत बड़ा कारण सिद्ध हुई।[3]

वे महात्मा गांधी के परम भक्त थे। उन्होने जीवन पर्यन्त सत्य, अहिंसा, देशभक्ति और हरिजन उत्थान के लिये कार्य किया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Guha, Ramchandra (30 March 2003). "The battle for Andhra". The Hindu. मूल से 14 January 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 December 2012.
  2. Sri Potti Sriramulu. Eemaata.com. Retrieved on 2018-11-26.
  3. Gupta, C. Dwarakanath; Bhaskar, Sepuri (1992). Vysyas: A Sociological Study (अंग्रेज़ी में). Ashish Publishing House. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-7024-450-9.