पेरू

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(पेरु से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
पेरू गणराज्य
रिपब्लिका देल पेरू  (language?)
ध्वज कुल चिह्न
राष्ट्रवाक्य: "Firme y feliz por la unión" (स्पेनिश)
"संघ के लिए दृढ़ और खुशहाल"
राष्ट्रगान: Himno Nacional del Perú
"अल पेरू का राष्ट्रीय गान"

साँचा:Vunblist
राष्ट्रीय चिन्ह
Gran Sello de la República del Perú.svg
दक्षिण अमेरिका में पेरू (गहरा हरा) का स्थान
दक्षिण अमेरिका में पेरू (गहरा हरा) का स्थान
राजधानी
और सबसे बडा़ नगर
लीमा
आधिकारिक भाषा स्पेनिश
सह-आधिकारिक भाषाएं
मानवजातीय वर्ग (2017)
धर्म 72.9% रोमन कैथोलिक
17.4% प्रोटेस्टैंट
2.2% अन्य
7.5% नास्तिक
निवासी पेरूआनी
सदस्यता {{{membership}}}
सरकार एकात्मक अध्यक्षीय गणराज्य[2][3]
 -  राष्ट्रपति मार्टिन विज़कारा
 -  उप-राष्ट्रपति मर्सिडीज एरिओज़
 -  प्रधानमंत्री सीज़र विल्यानोएवा
विधान मण्डल गणराज्य का कांग्रेस
स्वराज्य स्पेन साम्राज्य से
 -  घोषणा 28 जुलाई 1821 
 -  समेकित 9 दिसम्बर 1824 
 -  मान्यता 14 अगस्त 1879 
क्षेत्रफल
 -  कुल 1,285,216 वर्ग किलोमीटर (19th)
496,225 वर्ग मील
 -  जल (%) 0.41
जनसंख्या
 -  2018 जनगणना 32,677,822[4] (41वां)
 -  2007 जनगणना 28,220,764
 -  घनत्व 23/वर्ग किमी
57/वर्ग मील
सकल घरेलू उत्पाद (पीपीपी) 2018 प्राक्कलन
 -  कुल $450.148 बिलियन[4] (38वां)
 -  प्रति व्यक्ति $13,993[4] (90वां)
सकल घरेलू उत्पाद (सांकेतिक) 2018 प्राक्कलन
 -  कुल $231.567 बिलियन[4] (42वां)
 -  प्रति व्यक्ति $7,198[4] (82वां)
गिनी (2015)negative increase 44.3[5]
मध्यम
मानव विकास सूचकांक (2015)Green Arrow Up Darker.svg 0.740[6]
उच्च · 87वां
मुद्रा सोल (PEN)
समय मण्डल पीईटी (यू॰टी॰सी॰−5)
दिनांक प्रारूप dd.mm.yyyy (सीई)
यातायात चालन दिशा दायें
दूरभाष कूट +51
इंटरनेट टीएलडी .pe

पेरू दक्षिणी अमरीका महाद्वीप में स्थित एक देश है। राजधानी लीमा है।

प्रमुख नदी अमेजॉन और मुद्रा न्यूवो सोल है। यहाँ तीन तरह की जलवायु पाई जाती है- एँडीज़ में सर्द, तटवर्ती मैदानों में खुश्क-सुहानी और वर्षा वाले जंगलों में गर्म और उमस वाली। यह देश इंका नाम की प्राचीन सभ्यता के लिए भी जाना जाता है। पेरू की भाषा स्पेनिश और क्वेशुका हैं तथा ९० प्रतिशत लोग ईसाई धर्म का पालन करते हैं। प्रमुख उद्योग मछली और खनन हैं। यहाँ सभी प्रकार की धातुओं का प्रचुर खनिज भंडार है तथा अनाज, फल और कोको की खेती होती है। पर्यटन उद्योग भी यहाँ की आय का एक प्रमुख साधन है।

इतिहास[संपादित करें]

कोलंबियन पूर्व पेरू[संपादित करें]

पेरू में मानव उपस्थिति के साक्ष्य 9,000 ईसा पूर्व तक के देखे गये है।[7] लौरिकोचा, पचैकैम, जुइनिन और तेलमाचाय की गुफाओं में शिकार उपकरण खोजे गए हैं। ये पैराकास और चिल्का के तटीय क्षेत्रों और कैलेज़ोन डी हुयलास के पहाड़ी क्षेत्र में भी स्थित थे। बाद के वर्षों में, बसने वालों ने कपास और मकई जैसे पौधों की खेती की शुरुआत कर अपनी जीवन शैली को बदल दिया और उन्होंने अल्पाका, गिनी पिग और लामा जैसे घरेलू जानवरों को भी पालना शुरू कर किया। उन्होंने बर्तन, टोकरी, बुनाई और ऊन और सूती कताई में भी महारत हासिल कर ली। इन अभ्यासों ने उन्हें एंडियन पहाड़ों और तट के किनारे घरों और नए समुदायों का निर्माण करने में मदद की। इस प्रकार, लीमा से 200 किमी उत्तर में कैरल के नाम का पहला अमेरिकी शहर का निर्माण हुआ। इस अवधि को उत्तरी चिको सभ्यता के रूप में जाना जाता था।[8] और इस अवधी के लगभग 30 पिरामिड संरचनाएं आज भी उपस्थित है।

इन घटनाओं के बाद पुरातत्व सभ्यताओं ने इनका अनुशरण करते हुए पूरे पेरू में एंडियन और तटीय इलाकों में विकसित हुए। इन संस्कृतियों में से एक क्युप्स्निक संस्कृति थी, जो लगभग 1000 से 200 ईसा पूर्व तक रही।[9] यह संस्कृति वर्तमान में पेरू के प्रशांत तट पर समृद्ध थी और प्रारंभिक पूर्व-इंका सभ्यता के लिये एक आदर्श थी।

क्युप्स्निक संस्कृति के बाद चाविन सभ्यता का जन्म हुआ जो 1500 से 300 ईसा पूर्व तक रहा। यह एक राजनीतिक व्यक्ति की बजाय कम या ज्यादा धार्मिक विचारधारा थी। उनका आध्यात्मिक केंद्र चाविन दे हुंतार में था।[10] यह सभ्यता ईसाई सहस्राब्दी की शुरुआत में खत्म हो गई। हजारों सालों तक पहाड़ी क्षेत्रों और तट दोनों में अन्य कई संस्कृतियां बनती और नष्ट होती रही। इनमें से कुछ संस्कृतियों में वारी, पराकास, नाज़का और प्रसिद्ध मोच और चिमु शामिल थे। मोचे अपने चतुर धातुकर्म, सुंदर इमारतों, शुष्क क्षेत्र को उर्वरक बनाने के लिए सिंचाई प्रणाली का प्रयोग और बर्तनों की कलाकृति के लिए जाने जाते थे। दूसरी तरफ चिमू, इंका सभ्यता से पहले सबसे अच्छे शहर के निर्माणकर्ता थे और वे 1150 से 1450 तक समृद्ध थे। उनकी राजधानी चान चान में वर्तमान के त्रुहियो के बाहर थी। पहाड़ी क्षेत्रों में, तियाआआआनाको समाज, बोलिविया और पेरू दोनों में टिटिकाका झील के नजदीक, और वर्तमान दिन अयाकुचो शहर के पास वारी संस्कृति ने 500 से 1000 ईस्वी के बीच विशाल शहरी गांवों और व्यापक राष्ट्र स्थापित किया।[11]

उस समय तक, इंका धीरे-धीरे अपने साम्राज्य का विस्तार कर रहे थे। अधिकांश संस्कृतियां इंक के प्रति अपने निष्ठा जताने को तैयार नहीं थीं, लेकिन अंत में उनको साम्राज्य में सम्मिलित कर लिया गया।

इंका साम्राज्य (1438-1532)[संपादित करें]

इंका 15वीं शताब्दी में एक शक्तिशाली राष्ट्र बन कर उभरा और उसने पूर्व-कोलंबियाई अमेरिका में सबसे बड़ा साम्राज्य स्थापित किया और उसकी राजधानी कुज़्को में थी।[12] उन्होंने अपने साम्राज्य का विस्तार और एकीकृत करते हुए अपने पड़ोसी राज्यों को अपने में सम्मलित कर लिया। 15वीं शताब्दी के मध्य में महान सम्राट पाचकुति के शासन में साम्राज्य विस्तार की गति में वृद्धि हुई। अपने और उसके बेटे टोपा इंका युपान्की के शासन काल में इंका ने एंडियन क्षेत्र पर नियंत्रण प्राप्त कर लिया था। पाचकुति ने अपने दूरदराज के साम्राज्य को नियंत्रित करने के लिए कानूनों का एक व्यापक संहिता भी प्रस्तुत किया, जबकि सूर्य के देवता के रूप में अपने पूर्ण अस्थायी और आध्यात्मिक अधिकार को मजबूत करते हुए, जिन्होंने एक शानदार पुनर्निर्मित कुस्को से शासन किया।[13] इस युग के दौरान, इंका द्वारा पश्चिमी दक्षिण अमेरिका के पूर्व में अमेज़ॅन वर्षावन से लेकर पश्चिम में प्रशांत महासागर और दक्षिण कोलंबिया से लेकर चिली तक जैसे बड़े हिस्से को एकीकृत करने के लिए विभिन्न विधियों का प्रयोग किया गया। इन प्रयोगो में शांतिपूर्ण समझौतों से लेकर उनपर सशस्त्र विजय शामिल थे। क्वेशुआ, साम्राज्य की औपचारिक भाषा थी और साम्राज्य को तवांतिनुयू के रूप में जाना जाता था, जिसका अर्थ "चार एकीकृत प्रांत" या "चार क्षेत्र" होता है। हारे हुए समुदायों को भव्य राजधानी में श्रमदान और सम्मान प्रदान करना होता था। १६वीं शताब्दि में उत्तराधिकार को लेकर दो भाइयों अताहुल्पा और हूस्कर के बीच गृहयुद्ध छिड़ गया और उसी समय 1530 के दशक में पेरू के तट पर स्पेनिश विजयविदो को आगमन हुआ।

स्पेनिश विजय और औपनिवेशिक शासन (1532-1824)[संपादित करें]

1532 में, स्पेनिश विजयविद फ्रांसिस्को पिज़्ज़ारो के नेतृत्व में पेरू के चांदी और सोने में समृद्ध साम्राज्य को जीतने के उद्देश्य से पहुंचे। उस समय अताहुल्पा ने अपने भाई को हराकर सत्ता हासिल कर चुका था। पिज्जारो ने कजामार्का में इंका राजा, अताहुल्प को हरा दिया उसे पकड़ कर मौत की सजा दे दी गई। आखिरकार स्पेनिश सैनिकों ने नवंबर 1533 में कुज़्को पर भी कब्ज़ा कर लिया। उन्होंने ह्यूना कैपेक के बेटे मैनको इंका युपांक्की को नए कठपुतली राजा के रूप में नियुक्त कर दिया।

पिज्जारो ने वर्ष 1535 में अपने नए अधिग्रहीत क्षेत्रों की राजधानी के रूप में लीमा शहर को विकसित किया। मैनको इंका कुज़्को से भाग निकला और उसकी घेराबंदी की योजना बनाई जो कुछ महीनों तक चली, लेकिन सफल नहीं हुई। मैनको ने 1537 में ओलंटैटाम्बो में एक महत्वपूर्ण रक्षात्मक युद्ध जीता, लेकिन उसे पीछे हटना पड़ा। उसने जंगलो में विल्काबम्बा नाम की बस्ती से नव-इंका राष्ट्र की स्थापन की जोकि 1572 तक चला। 1541 में लीमा में डिएगो अल्माग्रो द्वारा पिज़्ज़ारो की हत्या कर दी गई, जोकि उसका पूर्व सहयोगी था। स्पेन ने 1542 में पेरू की गवर्नरशाही का गठन किया। इसमें ब्राजील अलावा दक्षिण अमेरिका के अधिकांश क्षेत्रों शामिल थे।

इस अवधि के दौरान, पेरू की स्थानीय आबादी यूरोपीय बीमारियों की वजह से बहुत तेजी से कम होने लगी।[14] स्थानीय लोगों को ईसाई धर्म में धर्मान्तरित कराया गया और यूरोप के जंमीदार वर्ग के जमीनों में जबरन श्रम कराया जाता था।[15]

गवर्नर फ्रांसिस्को टोलेडो 1569 में जीते हुए क्षेत्रों को नियंत्रित करने के लिए पेरू आए। उन्होंने वहां व्यापक सुधार किया, जिससे स्थानीय लोगों जिनके पास जमीन नहीं थी के शोषण को सुव्यवस्थित किया। यह दो सौ साल तक चला।[16]

1700 के दशक की शुरुआत में, स्पैनिश साम्राज्य को और मजबूती प्रदान करने के लिए कुछ और सुधार लागु किए गए।[17] यह सब स्थानीय अभिजात वर्ग के क्रेओल के खर्च से किया गये थे। हालांकि, इसका अनुमानित प्रभाव नहीं हुआ, क्योंकि उस समय तक सभी स्पेनिश उपनिवेशों में आजादी के लिए क्रांति पनपने लगी थी।

स्वतंत्रता और आधुनिक पेरू[संपादित करें]

पेरू की आजादी की क्रांति स्पेनिश-अमेरिकी भूमि मालिकों और उनकी सेना, वेनेजुएला के सिमोन बोलिवार और अर्जेंटीना के जोसे डी सैन मार्टिन के नेतृत्व से शुरू हुआ। सैन मार्टिन ने लगभग 4,200 सैनिकों की एक सेना का नेतृत्व किया। इस अभियान में युद्धपोतों भी शामिल थे जिसके लिये चिली द्वारा वित्त दिया गया था और अगस्त 1820 में वालपाराइसो से इसकी शुरुआत की गई। 28 जुलाई, 1821 को सैन मार्टिन ने निम्नलिखित शब्दों के साथ पेरू की आजादी की घोषणा की थी,[18]

"…इस पल से पेरू मुक्त और स्वतंत्र है, लोगों की सामान्य इच्छा और उसके कारण के न्याय के द्वारा भगवान ने बचाव किया है। लंबे समय तक मातृभूमि अमर रहे! आजादी अमर रहे! हमारी स्वतंत्रता लंबे समय तक जीवित रहें!"

20वीं शताब्दी की शुरुआत में, पेरू के राजधानी शहर लीमा ने समृद्धि का एक युग का आनंद लिया है। इस युग के दौरान लीमा में सबसे प्रतिष्ठित इमारतें बनाई गई, अधिकांशतः भव्य नवनिर्मित डिजाइन में जिसमें प्रारंभिक औपनिवेशिक युग की प्रतिलिपि थी। बैरनको और मिराफ्लोरेस जैसे तटीय आवासों को जोड़ने के लिए बड़े बुल्ववर्ड भी बनाए गए।

20वीं शताब्दी के मध्य तक, पेरू लोकतांत्रिक प्रशासन और सैन्य अत्याचारों के अंतःस्थापित कड़ी के साथ आर्थिक और राजनीतिक अशांति में उलझा रहा। जनरल जुआन वेलास्को ने सैन्य शासन लागू किया था, जिन्होंने मीडिया और तेल का राष्ट्रीयकृत किया और कृषि में कई सुधार किए। 1980 के दशक में गणतंत्र शासन वापस आ गया। हालांकि, देश मुद्रास्फीति के बहुत उच्च स्तर के साथ एक गंभीर आर्थिक आपदा में डूब चुका था। साथ ही, दो आतंकवादी समूह पनप चुके थे जिससे पेरू में काफी हिंसा फैल गई।

1990 के दशक में, तत्कालीन राष्ट्रपति अल्बर्टो फुजीमोरी ने कई कानूनों लागू किये जिससे वहां की आतंकवादी गतिविधियां समाप्त होने लगी। उन्होंने पेरू को अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संरचना में फिर से एकीकृत किया।

इसी दौर में ग्रामीण से शहरी क्षेत्रों, खासकर लीमा में प्रवासन का दौर चालू हो गया था। इसके परिणामस्वरूप राजधानी में एक जनसांख्यिकीय विस्फोट हुआ। इस अवधि के दौरान कुज़्को और अरेक्विपा जैसे अन्य बड़े शहर भी तेजी से बढ़ने लगे।

भूगोल[संपादित करें]

पेरू, पश्चिमी दक्षिण अमेरिका के 1,285,216 किमी2 (496,225 वर्ग मील) क्षेत्र में फैला हुआ है। यह उत्तर में इक्वाडोर और कोलंबिया, पूर्व में ब्राजील, दक्षिण-पूर्व में बोलीविया, दक्षिण में चिली, और पश्चिम में प्रशांत महासागर से घिरा हुआ है। एंडीज़ पर्वत प्रशांत महासागर के समानांतर स्थित हैं; ये भौगोलिक दृष्टि से देश का वर्णन करने के लिए परंपरागत रूप से उपयोग किए जाने वाले तीन क्षेत्रों को परिभाषित करते हैं।

पश्चिम में कोस्टा (तट), एक संकीर्ण मैदान है, जो मौसमी नदियों द्वारा बनाए गए घाटियों को छोड़कर काफी हद तक शुष्क है। सिएरा (पहाड़ी क्षेत्र) एंडीज का क्षेत्र है; इसमें अल्टीप्लानो पठार के साथ-साथ देश की सबसे ऊंची चोटी, हुआस्करन 6,768 मीटर (22,205 फीट) शामिल है।[19] तीसरा क्षेत्र सेल्वा (जंगल) है, जो अमेज़न वर्षावन द्वारा कवर सपाट इलाके का एक विस्तृत विस्तार है जो पूर्व में फैला हुआ है। देश का लगभग 60 प्रतिशत क्षेत्र, इस क्षेत्र के भीतर स्थित है।[20]


अधिकांश पेरूवियन नदियाँ एंडीज़ के शिखर में निकलती हैं और तीन में से एक बेसिन में समाती हैं। प्रशांत महासागर की तरफ जाने वाली नदी तीव्र ढलानवाली और छोटी होती हैं, जो केवल अंतःस्थापित होती हैं। अमेज़न नदी की सहायक नदियों में बहुत अधिक प्रवाह होता है, और सिएरा से बाहर निकलने के बाद लंबे और कम ढलानवाली होती हैं। टिटिकाका झील में समाने वाली नदियां आम तौर पर छोटी होती हैं और इनका बड़ा प्रवाह होता है।[21] पेरू की सबसे लंबी नदियों में उकायाली, मारनॉन, पुतुमायो, यवारि, हुलागा, उरुबांबा, मंतरो और अमेज़न आदि हैं।[22]

टिटिकाका झील, पेरू की सबसे बड़ी झील है, यह एंडीज़ में पेरू और बोलीविया के बीच स्थित है, और दक्षिण अमेरिका की भी सबसे बड़ी झील है।[23] पेरू के तटीय क्षेत्र में सबसे बड़े जलाशयों में पोचोस, टिनजोन, सैन लोरेन्ज़ो और एल फ्रैइल जलाशय आदि हैं।[24]

प्रशासन और राजनीति[संपादित करें]

1933 के संविधान के आधार पर पेरू, राष्ट्रपति द्वारा शासित किया जाता है। देश 3 मुख्य शाखाओं द्वारा प्रशासित किया जाता है: कार्यकारी, विधान, और न्यायिक। 18 से 70 वर्ष के बीच नागरिक मत देने के पात्र होते हैं। राष्ट्रपति राज्य और सरकार का मुखिया है और आधिकारिक वैश्विक मामलों में देश का प्रतिनिधित्व करता है। राष्ट्रपति 5 साल की अवधि के लिए चुने जाते हैं और पुन: चयन के लिए अयोग्य होते हैं।[25] राष्ट्रपति प्रधानमंत्री और बाकी मंत्रिपरिषद को गठन करते हैं।[26] सदनीय कांग्रेस पांच साल के लिये, चुने गए 120 प्रतिनिधियों से बना होता है।[27] न्यायिक शाखा को गणराज्य के सुप्रीम कोर्ट द्वारा प्रशासनित किया जाता है। दूसरे स्तर पर सुपीरियर कोर्ट आते है, इनके नीचे प्रथम दृष्टांत और शांति के न्यायालय आते हैं। न्यायपालिका तकनीकी रूप से स्वतंत्र है[28], हालांकि राजनीतिक हस्तक्षेप अभी भी आम बात हैं।[29] समग्र 28 न्यायिक जिलें हैं। पेरूवियन सेना में थलसेना, नौसेना और वायु सेना शामिल है।

पेरू के अधिकांश वैदेशिक संबंध, पड़ोसी देशों के साथ हुए क्षेत्रीय संघर्षों के कारण प्रभावित है। 20वीं शताब्दी के दौरान, इसके कई सीमा मुद्दों का समाधान हो चुका है।[30] पेरू संयुक्त राष्ट्र, अमेरिकी राज्य संगठन, और राष्ट्रों के एंडियन समुदाय जैसे कई मान्यता प्राप्त संगठनों का एक सक्रिय सदस्य है।

प्रशासनिक विभाग (प्रांत)[संपादित करें]

Peru - Regions and departments (labeled)

पेरू 25 क्षेत्रों (प्रांत) और लीमा प्रांत (राजधानी क्षेत्र) में बांटा गया है। प्रत्येक क्षेत्र की अपनी एक निर्वाचित सरकार होती है जो राष्ट्रपति और परिषद से बना होता है और चार साल की अवधी का होता है।[31] ये सरकारें क्षेत्रीय विकास की योजना बनाती हैं, सार्वजनिक निवेश परियोजनाओं को कार्यान्वित करती हैं, आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देती हैं और सार्वजनिक संपत्ति का प्रबंधन करती हैं।[32] लीमा प्रांत को नगर परिषद द्वारा प्रशासित किया जाता है।[33] लोकप्रिय भागीदारी में सुधार के लिए क्षेत्रीय और नगर पालिकाओं को सत्ता में लाने का कारण था। एनजीओ ने विकेंद्रीकरण प्रक्रिया में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और अभी भी स्थानीय राजनीति को प्रभावित करती है।[34]

क्षेत्र (प्रदेश)[संपादित करें]

राजधानी क्षेत्र[संपादित करें]

अर्थव्यवस्था[संपादित करें]

पेरू दक्षिण अमेरिकी क्षेत्र में सबसे व्यवसायिक अर्थव्यवस्थाओं में से एक है। 2007 में इसका जीडीपी $198 बिलियन थी जोकी इसे अनुमानित क्रय शक्ति (पीपीपी) के आधार पर दुनिया की 49वां सबसे बड़ा देश बनाती है। उस वर्ष के दौरान, यहां लगभग 9% की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर दर्ज की गई थी।[35] वर्तमान में पेरू की अर्थव्यवस्था दुनिया में 48वी सबसे बड़ी है।[36] प्रमुख उद्योगों में खनन और परिष्करण खनिजों, इस्पात और धातु निर्माण, मछली पकड़ने और मछली प्रसंस्करण, कपड़ा, और खाद्य प्रसंस्करण शामिल हैं। सेवा क्षेत्र देश के सकल घरेलू उत्पाद का 65% हिस्सा का प्रतिनिधित्व करता है; इसके बाद विनिर्माण 26.4% और 8.5% के साथ कृषि आते है।[37]

1990 के दशक के मध्य में पेरूवियन अर्थव्यवस्था ने एक मजबूत विकास का अनुभव किया। जिसमें से विभिन्न निजीकरण क्षेत्रों में 46% प्रत्यक्ष विदेशी निवेश ने इसमें एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।[38][39] अर्थव्यवस्था में गत 1990 के दशक से 2000 के उत्तरार्ध के बीच स्थिरता देखी गई, जिसके लिये ज्यादातर एल निनो घटना, वैश्विक वित्तीय संकट और बढ़ती व्यापार स्थितियों को जिम्मेदार ठहराया गया। 2002 के मध्य तक, लगभग सभी क्षेत्रों में महत्वपूर्ण सुधार किये गये। मत्स्य पालन-निर्यात उद्योग में काफी सुधार हुआ और एंटामिना तांबा-जिंक खदान में एक पंजीकृत विस्तार किया गया जिसके बाद खनिजों और धातुओं के निर्यात क्षेत्र के व्यापार में सुधार किया गया। 2006 के अंत में नेट अंतरराष्ट्रीय रिजर्व $17 बिलियन और 2007 में $20 बिलियन से अधिक पहुंच गया, जोकि 2001 से करीब 11 बिलियन डॉलर अधिक था।

१२ अप्रैल २००६ में, पेरू ने संयुक्त राज्य के साथ एक मुक्त व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर किए जो संयुक्त राज्य अमेरिका-पेरू व्यापार संवर्धन के रूप में जाना जाता है।[40] नवंबर 2008 में, यह चीन-पेरू मुक्त व्यापार समझौते को अंतिम रूप दिया गया। पेरूवियन सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ एक समझौते पर भी हस्ताक्षर किए हैं जिसमें अगले 5 वर्षों में बहुत ही उत्कृष्ट आर्थिक विकास दृष्टिकोण शामिल हैं।

संस्कृति[संपादित करें]

पेरू की संस्कृति, अमेरिकी आदिवासी और हिस्पैनिक संस्कृतियों के बीच के संबंधों से प्रभावित रही है।[41] पेरू की सांस्कृतिक विविधता ने विभिन्न परंपराओं और रीति-रिवाजों को अस्तित्व में रखने की अनुमति दी है। आजादी के बाद पेरू संस्कृति कई बौद्धिक स्तरों के माध्यम से औपनिवेशिक हिस्पैनिक से यूरोपीय स्वछंदतावाद की ओर गई हैं।

आम तौर पर, पेरू तीन सामाजिक वर्गों में बना है। ऊपरी वर्ग अल्पसंख्यक है और आमतौर पर लीमा में स्थित है। वे पूरी आबादी का लगभग 3% बनाते हैं। पेशेवर और कर्मचारी मध्यम वर्ग के हैं। वे आबादी का लगभग 60% हिस्सा हैं। निचला वर्ग देश के किसानों/ग्रामीण लोगों (कैंपेसिनो) का बना हुआ है।

पेरूवियन का वास्तुकला स्वदेशी कल्पना से प्रभावित यूरोपीय शैलियों के लिए संयोजक है। शुरुआती औपनिवेशिक काल के दौरान कुज़्को के सांता क्लारा और कैथेड्रल इसके दो परिचित उदाहरण हैं। औपनिवेशिक के बाद सफल अवधि बारोक है। बारोक अवधि का उदाहरण कुज्को विश्वविद्यालय, सैन फ्रांसिस्को डी लीमा का कॉन्वेंट, और अरेक्विपा, कॉम्पेनिया और सैन अगुस्टिन के सांता रोजा के चर्चों का केंद्र है।

पेरूवियन संगीत में लोक संगीत पूरी तरह से लिप्त है। ऐसे नृत्य हैं जो शिकार (एलली-पुली, choq'elas और गुडी-दादा), कृषि कार्य और युद्ध (जैसे chiriguano, chatripuli और केनेकेनास) के समय किये जाते थे।[42] पेरू में सबसे अधिक किये जाने वाला नृत्य मारिनरा नॉर्टिना है। ऐसे कई नृत्यरूप भी हैं जो ईसाई प्रभाव को व्यक्त करते हैं। पेरू में एंडियन नृत्य के दो लोकप्रिय उदाहरण वेननो या हुयनो और कशुआ हैं। हुयनो बंद जगहों में जोड़ों द्वारा किया जाता है। कशुआ आमतौर पर खुली जगहों में समूहों में किया जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Ethnic groups of El Perú". CIA Factbook. https://www.cia.gov/library/publications/the-world-factbook/geos/pe.html. अभिगमन तिथि: 28 November 2017. 
  2. Shugart, Matthew Søberg (September 2005). "Semi-Presidential Systems: Dual Executive and Mixed Authority Patterns". Graduate School of International Relations and Pacific Studies (United States: University of California, San Diego). http://dss.ucsd.edu/~mshugart/semi-presidentialism.pdf. अभिगमन तिथि: 31 August 2017. 
  3. Shugart, Matthew Søberg (December 2005). "Semi-Presidential Systems: Dual Executive And Mixed Authority Patterns". French Politics (Palgrave Macmillan UK) 3 (3): 323–351. doi:10.1057/palgrave.fp.8200087. ISSN 1476-3427. OCLC 6895745903. https://link.springer.com/content/pdf/10.1057%2Fpalgrave.fp.8200087.pdf. अभिगमन तिथि: 31 August 2017. "Only in Latin America have all new democracies retained a pure presidential form, except for Peru (president-parliamentary) and Bolivia (assembly-independent).". 
  4. "Peru". International Monetary Fund. http://www.imf.org/external/pubs/ft/weo/2018/01/weodata/weorept.aspx?pr.x=36&pr.y=7&sy=2016&ey=2023&scsm=1&ssd=1&sort=country&ds=.&br=1&c=293&s=NGDPD%2CPPPGDP%2CNGDPDPC%2CPPPPC%2CLP&grp=0&a=. 
  5. "Gini Index". World Bank. https://data.worldbank.org/indicator/SI.POV.GINI?locations=PE. 
  6. "2016 Human Development Report". United Nations Development Programme. 2016. http://hdr.undp.org/sites/default/files/2016_human_development_report.pdf. 
  7. Dillehay, Tom, Duccio Bonavia and Peter Kaulicke (2004). "The first settlers". In Helaine Silverman (ed.), Andean archaeology. Malden: Blackwell, ISBN 0631234012, p. 20.
  8. Haas, Jonathan, Creamer, Winifred and Ruiz, Alvaro (2004). "Dating the Late Archaic occupation of the Norte Chico region in Peru". Nature 432: 1020–1023. doi:10.1038/nature03146. PMID 15616561. https://www.scribd.com/doc/93993434/HAAS-Et-Al-2004-Dating-the-Late-Archaic-Occupation-of-the-Norte-Chico-Region-in-Peru. 
  9. Cordy-Collins, Alana (1992). "Archaism or Tradition?: The Decapitation Theme in Cupisnique and Moche Iconography". Latin American Antiquity 3 (3): 206–220. doi:10.2307/971715. JSTOR 971715. 
  10. UNESCO Chavin (Archaeological Site) Archived 8 May 2016 at the Wayback Machine.. Retrieved 27 July 2014
  11. Pre-Inca Cultures Archived 3 November 2016 at the Wayback Machine.. countrystudies.us.
  12. D'Altroy, Terence (2002). The Incas. Malden: Blackwell, ISBN 1405116765, pp. 2–3.
  13. Peru The Incas Archived 3 November 2016 at the Wayback Machine.
  14. Lovell, W. George (1992). "'Heavy Shadows and Black Night': Disease and Depopulation in Colonial Spanish America". Annals of the Association of American Geographers 82 (3): 426–443. doi:10.1111/j.1467-8306.1992.tb01968.x. JSTOR 2563354. 
  15. Bakewell, Peter (1984). Miners of the Red Mountain: Indian labor in Potosi 1545–1650. Albuquerque: University of New Mexico, ISBN 0826307698, p. 181.
  16. Conquest and Colony of Peru."Archived copy". Archived from the original on 18 August 2016. http://www.discover-peru.org/conquest-and-colony-of-peru/. अभिगमन तिथि: 28 July 2014. . Retrieved 28 July 2014
  17. Burkholder, Mark (1977). From impotence to authority: the Spanish Crown and the American audiencias, 1687–1808. Columbia: University of Missouri Press, ISBN 0826202195, pp. 83–87.
  18. Discover Peru (Peru cultural society). War of Independence Archived 21 October 2016 at the Wayback Machine.. Retrieved 28 July 2014
  19. Andes Handbook, Huascarán Archived 8 October 2016 at the Wayback Machine.. 2 June 2002.
  20. Instituto de Estudios Histórico–Marítimos del Perú, El Perú y sus recursos: Atlas geográfico y económico, p. 16.
  21. Instituto de Estudios Histórico–Marítimos del Perú, El Perú y sus recursos: Atlas geográfico y económico, p. 31.
  22. Instituto Nacional de Estadística e Informática, Perú: Compendio Estadístico 2005, p. 21.
  23. Instituto Nacional de Estadística e Informática, Perú: Compendio Estadístico 2005, p. 21.
  24. Oficina nacional de evaluación de recursos naturales (previous INRENA). "Inventario nacional de lagunas y represamientos". INRENA. Archived from the original on 25 June 2007. https://web.archive.org/web/20070625070846/http://www.inrena.gob.pe/irh/inv_nac_lagunas_represas/inv_nac_lag_rep.pdf. अभिगमन तिथि: 3 March 2008. 
  25. Constitución Política del Perú, Article No. 112.
  26. Constitución Política del Perú, Article No. 122.
  27. Constitución Política del Perú, Article No. 90.
  28. Constitución Política del Perú, Article No. 146.
  29. Clark, Jeffrey. Building on quicksand. Retrieved 24 July 2007.
  30. St John, Ronald Bruce (1992). The foreign policy of Peru. Boulder: Lynne Rienner, ISBN 1555873049, pp. 223–224.
  31. Ley N° 27867, Ley Orgánica de Gobiernos Regionales, Article No. 11.
  32. Ley N° 27867, Ley Orgánica de Gobiernos Regionales, Article No. 10.
  33. Ley N° 27867, Ley Orgánica de Gobiernos Regionales, Article No. 66.
  34. "Mixed Feelings". dandc.eu. February 2013. http://www.dandc.eu/en/article/perus-ngos-want-government-decentralisation-serve-social-goals-and-public-participation. 
  35. BBC (31 July 2012), Peru country profile Archived 5 November 2016 at the Wayback Machine..
  36. Peru Archived 5 November 2016 at the Wayback Machine.. CIA, The World Factbook
  37. 2006 figures. (स्पेनिश) Banco Central de Reserva, Memoria 2006 Archived 9 September 2016 at the Wayback Machine., p. 204. Retrieved 27 December 2010.
  38. Reforms have permitted sustained economic growth since 1993, except for a slump after the 1997 Asian financial crisis
  39. Thorp, pp. 318–319.
  40. Office of the U.S. Trade Representative, United States and Peru Sign Trade Promotion Agreement, 12 April 2006. Retrieved 27 December 2010.
  41. Belaunde, Víctor Andrés (1983). Peruanidad. Lima: BCR, p. 472.
  42. Turino, Thomas (1993). "Charango". In: Stanley Sadie (ed.), The New Grove Dictionary of Musical Instruments. New York: MacMillan Press Limited, vol. I, ISBN 0333378784, p. 340.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]