पूर्वजगत बंदर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पूर्वजगत बंदर
Old World monkeys[1]
जीवाश्म काल: Oligocene–Recent
ओलिव बाबून (Papio anubis)
ओलिव बाबून (Papio anubis)
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत (रेगन्म): जंतु
संघ (फाइलम): रज्जुकी (Chordata)
वर्ग (क्लास): स्तनधारी (Mammalia)
गण (ऑर्डर): नरवानर (Primates)
उपगण (सबऑर्डर): हैप्लोरिनी (Haplorrhini)
इन्फ्राऑर्डर: सिमिफ़ोर्मीज़ (Simiiformes)
पार्वऑर्डर: कैटारिनी (Catarrhini)
अधिकुल (सुपरफैमिली): सेर्कोपिथेकोइडेआ (Cercopithecoidea)
ग्रे, १८२१
कुल (फैमिली): सेर्कोपिथेसिडाए (Cercopithecidae)
ग्रे, १८२१
प्रकार वंश
सेर्कोपिथेकस (Cercopithecus)
उपकुल

Cercopithecinae - १२ वंश
Colobinae - १० वंश

पूर्वजगत बंदर (Old World monkey) एशिया और अफ़्रीका के महाद्वीपों पर मिलने वाले बंदरों का जीववैज्ञानिक कुल है। इसमें वर्षावनों, सवाना घासभूमि और अन्य स्थानों पर रहने वाले कई बंदर आते हैं। यूरोप में भी इस कुल के बंदरों के जीवाश्म (फ़ॉसिल) मिले हैं और जिब्राल्टर पर भी कुछ बंदरों की टोलियाँ अस्तित्व में हैं हालांकि यह शायद अन्य जगहों से लाई गई हो। जीववैज्ञानिक नाम से पूर्वजगत बंदरों के कुल को सेर्कोपिथेसिडाए (Cercopithecidae) बुलाया जाता है। ध्यान दे कि केवल पूर्वजगत के बंदर ही इस कुल में आते है। नवजगत (मसलन दक्षिण अमेरिका) के बंदरों का कुल अलग है।

लक्षण[संपादित करें]

पूर्वजगत बंदर मध्यम से बड़े आकार के होते हैं। इनमें से कुछ कोलोबस बंदरों जैसे वृक्षों पर रहने वाले और कुछ बाबूनों जैसे अधिकतर धरती पर घूमने वाले होते हैं। सबसे छोटी जाति टैलापोइन है, जिसकी बिना-पूँछ की लम्बाई ३४-३७ सेंटीमीटर की और वज़न केवल ७०० ग्राम से लेकर १.३ किलोग्राम के बीच होता है। सबसे बड़ा पूर्वजगत बंदर मैन्ड्रिल जाति का नर है जो ७० सेमी लम्बा और ५० किलोग्राम तक के भार का होता है।[2]

देखने में पूर्वजगत बंदर कपियों से अलग होते हैं क्योंकि जहाँ कपियों की कोई विशेष दुम नहीं नहीं होती वहाँ अधिकतर पूर्वजगत बंदरों की स्पष्ट पूँछ होती है। लेकिन यह नवजगत बंदरों से भी अलग दिखते हैं क्योंकि अधिकतर नवजगत बंदरों की परिग्राही पूँछ होती है (यानि वे अपनी पूँछ से डालियाँ या अन्य चीज़ें पकड़ सकते हैं) जबकि पूर्वजगत बंदरों की दुमों में यह क्षमता नहीं होती। पूर्वजगत और नवजगत बंदरों के दाँतो की संख्या बराबर होती है लेकिन इनके दाँतो का अकार अलग-अलग है। इनकी नासिकाओं में भी अंतर है - नवजगत बंदरों की नासिकाएँ नीचे की ओर खुलती हैं जबकि पूर्वजगत बंदरों की दाई-बाई ओर।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Groves, C.P. (2005). Wilson, D.E.; Reeder, D.M., eds. Mammal Species of the World: A Taxonomic and Geographic Reference (3rd ed.). Baltimore: Johns Hopkins University Press. pp. 152–178. OCLC 62265494. ISBN 0-801-88221-4.
  2. Brandon-Jones, Douglas & Rowell, Thelma E. (1984). Macdonald, D.. ed. The Encyclopedia of Mammals. New York: Facts on File. पृ॰ 370–405. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-87196-871-1.