पूर्णिमा महतो

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पूर्णिमा महतो

दीपिका (बायाँ) पूर्णिमा महतो के साथ, विश्व कप फाइनल, इंस्ताबुल
व्यक्तिगत जानकारी
राष्ट्रीयता भारतीय
जन्म जमशेदपुर
निवास जमशेदपुर, झारखंड, भारत
खेल
देश भारत
खेल तीरंदाजी
क्लब टाटा तीरंदाजी अकादमी
टीम भारतीय तीरंदाजी टीम की कोच
कैरियर की शुरुआत 1993
उपलब्धियाँ एवं खिताब
उच्चतम विश्व रैंकिंग राष्ट्रीय चैंपियन

पूर्णिमा महतो जमशेदपुर, एक भारतीय तीरंदाज और तीरंदाजी कोच हैं। उन्होंने 1998 के राष्ट्रमंडल खेलों में एक रजत पदक और भारतीय राष्ट्रीय तीरंदाजी चैंपियनशिप जीती है। वह 2008 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भारतीय राष्ट्रीय टीम के लिए कोच थीं और 2012 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भी टीम की कोच चुनी गईं। उन्हें 29 अगस्त 2013 को भारत के राष्ट्रपति से द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

करियर[संपादित करें]

एक बच्चे के रूप में, महतो ने जमशेदपुर के बिरसानगर में एक मैदान पर तीरंदाजी देखी।[1] उन्होंने 1992 में भारतीय राष्ट्रीय टीम में जगह बनाई और टीम के साथ प्रशिक्षण लेने के लिए दिल्ली चली गई। एक तीरंदाज के रूप में, महतो ने राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय तीरंदाजी दोनों प्रतियोगिताओं में पदक अर्जित किए। वह एक भारतीय राष्ट्रीय चैंपियन भी थीं। 1993 की अंतर्राष्ट्रीय तीरंदाजी चैम्पियनशिप में, उन्होंने टीम स्पर्धा में स्वर्ण पदक अर्जित किया। 1994 के पुणे राष्ट्रीय खेलों में, उन्होंने तीरंदाजी में छह स्वर्ण पदक जीते।[1] उन्होंने 1994 के एशियाई खेलों में भाग लिया लेकिन पदक नहीं जीता। 1997 में नेशनल चैंपियनशिप में, उन्होंने दो स्वर्ण पदक अर्जित किए तथा दो राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाए। उन्होंने 1998 के राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक अर्जित किया। 1999 के भारतीय राष्ट्रीय खेलों में, डोला बेनर्जी ने वो राष्ट्रीय रिकॉर्ड तोड़ दिया जो महतो ने 2 साल पहले तीरंदाजी प्रतियोगिता में 30 मीटर प्रतियोगिता में बनाया था।

अनुशिक्षण[संपादित करें]

महतो तीरंदाजी कोच हैं। 1994 से शुरू होकर, उन्होंने टाटा तीरंदाजी अकादमी में प्रवेश लिया और वह 2012 तक इस स्थान पर रहीं। जिन तीरंदाजों को उन्होंने व्यक्तिगत रूप से कोचिंग दी है, उनमें 2012 की ग्रीष्मकालीन ओलंपियन दीपिका कुमारी भी शामिल हैं।[2]

महतो स्पेन में 2005 के सीनियर वर्ल्ड आउटडोर तीरंदाजी चैम्पियनशिप सहित कई प्रतियोगिताओं में भारतीय राष्ट्रीय टीमों के लिए कोच रह चुकी हैं, जहाँ उनकी टीम ने रजत पदक अर्जित किया। उन्होंने 2007 में चीन में सीनियर एशियन तीरंदाजी चैंपियनशिप में भारतीय टीम में भी हिस्सा लिया, जहाँ पुरुषों की टीम ने पहला स्थान पाया और महिला टीम ने तीसरा स्थान पाया।[1] वह 2008 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भारत के लिए सहायक कोच थीं। उन्होंने क्रोएशिया में 2008 विश्व कप में भारतीय टीम में भी हिस्सा लिया, जहां उनके तीरंदाजों ने इस कार्यक्रम में एक रजत पदक और एक कांस्य पदक अर्जित किया। उन्होंने 2009 विश्व युवा तीरंदाजी चैम्पियनशिप में भारत की कोचिंग की। उन्होंने 2010 के तीरंदाजी विश्व कप ग्रैंड में तीन भारतीय तीरंदाजों को कोचिंग दी। उन्होंने 2010 के एशियाई खेलों में भारतीय राष्ट्रीय टीम में भाग लिया, जहां उनके तीरंदाजों ने व्यक्तिगत स्पर्धाओं में दो कांस्य पदक अर्जित किए। उन्होंने 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों में भारतीय राष्ट्रीय टीम को कोचिंग दी, जिसमें उनके तीरंदाजों ने तीन स्वर्ण और दो कांस्य पदक अर्जित किए।

महतो को 2012 के ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए राष्ट्रीय टीम के कोच के रूप में चुना गया था। पूर्णिमा महतो को 29 अगस्त 2013 को 2013 के लिए भारत के राष्ट्रपति से द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।[3] पूर्णिमा महतो झारखंड की पहली महिला हैं जिन्हें प्रतिष्ठित द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "तीरंदाजी की द्रोणाचार्य है पूर्णिमा". दैनिक जागरण. 8 मार्च 2015. अभिगमन तिथि 22 फरवरी 2019.
  2. "द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिये पूर्णिमा महतो के नाम की सिफारिश". नवभारत टाइम्स. 8 अगस्त 2013. मूल से 22 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 फरवरी 2019.
  3. "द्रोणाचार्य पुरस्कार के लिए पूर्णिमा महतो, नरेंद्र सैनी के नाम की सिफारिश". एनडीटीवी इंडिया. 8 अगस्त 2013. मूल से 22 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 22 फरवरी 2019.