पुष्प विहार, नई दिल्ली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
दिल्ली
—  उपक्षेत्र  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
केन्द्र शासित प्रदेश दिल्ली
निगम पार्षद नागराजन
शासक पद 2 कोई नहीं
जनसंख्या ४०,००० अनुमानित

निर्देशांक: 28°37′N 77°14′E / 28.61°N 77.23°E / 28.61; 77.23

पुष्प विहार भारत की राजधानी नई दिल्ली के दक्षिणी भाग में स्थित एक सरकारी आवासीय कालोनी है। इसके निकटवर्ती क्षेत्र हैं खानपुर, मदनगीर, शेख सराय और साकेत। यह मुख्यतः एक सरकारी कालोनी है और यहाँ अलग-अलग श्रेणी के मकान है जो केंद्रीय सरकार के कर्मचारियों को दिए जाते है। कमरों की संख्या की दृष्टि से इन मकानों को टाइप या श्रेणी १, श्रेणी २ और श्रेणी ३ में विभाजित किया गया है। पुष्प विहार ७ खंडों या सेक्टरों में बँटा है, हालांकि सेक्टर २ और ६ इसमें नहीं है। अन्य सेक्टर हैं सेक्टर १, ३, ४, ५ और ७। सेक्टर १ इनमें सबसे बड़ा है और सेक्टर ५ सबसे छोटा। सभी सेक्टर आपस में जुड़े हुए हैं।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

इन मकानों का निर्माण सन् १९८२ में दिल्ली में हुए एशियाई खेलों के दौरान करवाया गया था। इन मकानों को उस समय एशियाई खेलों में भाग लेने वाले खिलाडियों और उनके प्रशिक्षकों के लिए बनवाया गया था। खेल गाँव भी यहाँ से निकट ही था। खेलों की समाप्ति के बाद इन मकानों को सरकार द्वारा सरकारी कर्मचारियों को आवंटित कर दिया गया ताकि मकान उपयोग में रह सकें।

आसपास के क्षेत्र[संपादित करें]

पुष्प विहार के आसपास के क्षेत्र हैं:- खानपुर, मदनगीर, शेख सराय और साकेत। पुष्प विहार के विपरीत ये सभी निजी कॉलोनियां है और यहाँ लोगो के पास अपने मकान है। हालांकि सुविधाओं की दृष्टि से पुष्प विहार को सरकारी कालोनी होने का लाभ मिला है। इन सभी कॉलोनियों की तुलना में पुष्प विहार एक खुला-खुला क्षेत्र है। सरकार द्वारा हर बात की सुविधा यहाँ दी गयी है जिससे यहाँ के निवासियों का जीवन आसपास की कॉलोनियों की तुलना में अच्छा है। वर्ष २००६ पुष्प विहार में गैस की आपूर्ति भी आरम्भ की गयी जिससे लोगों को मासिक गैस सिलेंडर खरीदने से भी मुक्ति मिली और लोगो की सुविधाओं में और वृद्धि हुई है। एक सरकारी कालोनी होने के कारण यहाँ बिजली गुल होने की समस्या बहुत न्युन्य है और बिजली की उपलब्धता के मामले में ये कालोनी दिल्ली में ही नहीं बल्कि देश में भी आगे हैं जहाँ वर्षभर में बिजली गुल होने के घंटे देशभर में सबसे कम में से है, जबकि दिल्ली की बहुत सी महंगी आवासीय कॉलोनियों में बिजली गुल होने के घंटे यहाँ से कई आधिक हैं।

परिवहन व्यस्था[संपादित करें]

पुष्प विहार से सार्वजानिक यातायात की अच्छी सुविधा है। कई मार्ग-क्रमों (रूटों) की बसें यहाँ से लगती है जैसे:- ४१९, ४२३(डी टी सी), ५२२, ४६९। इसके अतिरिक्त ४२३ (ब्लूलाइन), ५८१, ४२७, ५२५, ७१७, ५४८, ५४४, ४२७ आदि रूटों की बसें भी यहाँ से होकर निकलती हैं।

पिछले वर्ष २००८, में बी आर टी कॉरिडोर के आरम्भ होने से भी यातायात सञ्चालन में कुछ सहायता मिली है हालाँकि कॉरिडोर को लेकर कुछ विवाद भी है। इसके अतिरिक्त साकेत में निर्माणाधीन मेट्रो के बन जाने से भी यहाँ सार्वजनिक यातायात में सुविधा होगी। मेट्रो मार्ग के २०१० तक बन जाने की सम्भावना है।

मनोरंजन[संपादित करें]

मनोरंजन के भी कई साधन पुष्प विहार में उपलब्ध है। कई थिएटर यहाँ से पास ही में है जैसे साकेत में पी वी आर, दक्षिण पूरी में विराट इत्यादि। इसके अतिरिक्त यहाँ हाल ही में बने मॉल जैसे सिटीवाक और एम जी एफ मेट्रोपोलिटन भी है जिनपर चलचित्र देखे जा सकते है। इसके अतिरिक्त ये मॉल खान पान और खरीदारी करने के लिए भी उपयुक्त है, हाँ सामान कुछ महंगा अवश्य हो सकता है।

खेल के शौकीनों के लिए यहाँ साकेत में ही एक खेल परिसर भी है जहाँ क्रिकेट, बैडमिन्टन, तैराकी, इत्यादि खेल सिखाए और कराये जाते हैं। बाहर से आने वाले पर्यटक यहाँ स्थित मैरियट होटल में ठहर सकते है जोकी एक ५ सितारा होटल है। इसके अतिरिक्त अथिति गृहों और छोटे होटलों की भी कोई कमी नहीं है।

इसके अतिरिक्त प्रत्येक सैक्टर में स्थानीय क्रय विक्रय केंद्र है जहाँ पर दैनिक जीवन की आवश्यकताओं का लगभग सभी सामान उपलब्ध रहता है।

शिक्षण संस्थान[संपादित करें]

विद्यालयी शिक्षा प्राप्त करने के लिए यहाँ कई निजी और सरकारी विद्यालय हैं। पुष्प विहार में ही कई विद्यालय है जैसे:-

इसके अतिरिक्त आसपास के क्षेत्रों में भी बहुत से विद्यालय हैं:-

उच्च शिक्षा के लिए सैक्टर ३ में आई आई पी एम है, जहाँ से एम बी ए की शिक्षा प्राप्त की जा सकती है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]