सामग्री पर जाएँ

पुष्पक्रम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(पुष्पण से अनुप्रेषित)
अलोए हेरेरोएन्सिस,पुष्पक्रम डंठल के साथ दिखाई जा रही हैं।

पुष्पाक्ष पर पुष्पों के लगने के क्रम को पुष्पक्रम कहते हैं। पुष्प एक रुपान्तरित प्ररोह है जहाँ पर प्ररोह का शीर्ष विभज्योतक पुष्पी विभज्योतक में परिवर्तित होता है। पोरियाँ दैर्घ्य में नहीं बढ़ती और अक्ष दबकर रह जाती है। गाँठों पर क्रमानुसार पत्रों की बजाय पुष्पोपांग निकलते हैं। जब प्ररोह शीर्ष पुष्प में परिवर्तित होता है, तब वह सदैव एकल होता है। शीर्ष का पुष्प में परिवर्तित होना है अथवा सतत रूप से वृद्धि के आधार पर पुष्पक्रम को दो प्रकार असीमाक्षी तथा ससीमाक्षी में बाँटा गया है।

असीमाक्षी प्रकार के पुष्पक्रम के प्रमुख अक्ष में सतह वृद्धि होती रहती है और पुष्प पार्श्व में अग्राभिसारी क्रम में लगे रहते हैं। ससीमाक्षी पुष्पक्रम में प्रमुख अक्ष के शीर्ष पर पुष्प लगता है, इसलिए इसमें सीमित वृद्धि होती है। पुष्प तलाभिसारी क्रम में लगे रहते हैं।[1][2][3]

सामान्य विशेषताएँ[संपादित करें]

पुष्पक्रम में कैसे फूल डंठल पर व्यवस्थित कर रहे हैं सहित कई अलग विशेषताओं द्वारा बताए गए, फूलों के खिलने क्रम और फूलों की कैसे विभिन्न समूहों के भीतर इसे समूहीकृत कर रहे हैं। प्रकृति में पौधों प्रकार का एक संयोजन कर सकते हैं के रूप में इन शर्तों के सामान्य प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।

सहपत्र[संपादित करें]

पुष्पक्रम शूटिंग पत्ते संयंत्र के वनस्पति भाग से अलग आम तौर पर संशोधित किया है। शब्द का विस्तृत अर्थ ध्यान में रखते हुए, किसी भी पत्ता एक उन्नति के साथ जुड़े एक सहपत्र कहा जाता है। एक सहपत्र आसंथि जहाँ पुष्पक्रम रूपों संयंत्र है, लेकिन अन्य सहपत्रों की मुख्य तना करने के लिए शामिल हो गए, मुख्य तना पुष्पक्रम के भीतर ही मौजूद कर सकते हैं में आमतौर पर स्थित है। वे कार्य जो पोल्लिनातोर्स को आकर्षित करने और युवा फूल की रक्षा करने में शामिल हैं कि एक किस्म की सेवा। उपस्थिति या अनुपस्थिति सहपत्र और उनकी विशेषताओं के अनुसार हम भेद कर सकते हैं: इब्रातिएट पुष्पक्रम:कोई सहपत्र पुष्पक्रम में नहीं हैं।

ब्रातिएट पुष्पक्रम:सहपत्र पुष्पक्रम में बहुत ही विशेष, कभी कभी करने के लिए विभाजित या छोटी तराजू, कम कर रहे हैं।

पत्तेदार पुष्पक्रम :हालांकि अक्सर आकार में कम, सहपत्र ना विशिष्ट हैं और शब्द फूल स्टेम पुष्पक्रम के बजाय आम तौर पर लागू किया जाता है ताकि संयंत्र, के ठेठ पत्तियों की तरह देखो। उनके 'सामान्य' उपस्थिति के बावजूद, इन पत्तियों, वास्तव में, सहपत्र , माना जाता है के रूप में, ताकि 'पत्तेदार पुष्पक्रम' बेहतर है इस उपयोग तकनीकी रूप से सही है, नहीं है।

पत्तेदार सहपत्र सहित पुष्पक्रम :ब्रातिएट और पत्तेदार पुष्पक्रम के बीच मध्यवर्ती।

कई सहपत्र् मौजूद हैं और वे कड़ाई से तना करने के लिए जुड़ा होना हैं, तो जैसे परिवार में आस्टेरासिए, सहपत्र सामूहिक रूप से एक झिल्ली कहा जा सकता है। यदि उन्नति की एक दूसरी इकाई को डंठल सहपत्र आगे, वे एक इन्वोलूसेल कहा जा सकता है।

टर्मिनल फूल संयंत्र अंगों दो विभिन्न बीमा योजनाओं के अनुसार, अर्थात् मोनोपोडियल या रेसिमोस और सिंपोडियल या सैमोस विकसित कर सकते हैं।

पुष्पक्रम बिना डंठल डिस्क फ्लोरेट्स बनाने के सिर या कापिटुलं।

संगठन[संपादित करें]

असीमाक्षी/असीमित[संपादित करें]

प्रमुख अक्ष पुष्प में समाप्त नहीं होता है बल्कि निरन्तर बढ़ता रहता है। पुष्प अग्राधिवारी क्रम में उत्पन्न होते हैं जिसमें पुराने पुष्प नीचे तथा नए शीर्ष में पाए जाते हैं। असीमाक्षी पुष्पक्रम के प्रकार:

दीर्घ मुख्य अक्ष[संपादित करें]

  • असीमाक्ष: अक्ष पर लगे पुष्प सवृन्त और अग्राभिसारी क्रम से व्यवस्थित होते हैं। उदाहरण: सर्सों
  • कणिश: असीमाक्ष जैसा किन्तु पुष्प अवृन्त होते हैं। उदाहरण: अपामार्ग
  • कणिशिका: एक या एकाधिक पुष्पगुच्छ (जिसमें सहपत्रों के साथ लगे रहते हैं।) उदाहरण: गेहूँ
  • नतकणिश: कणिश जैसा किन्तु यहाँ अक्ष नीचे की ओर लटका हुआ होता है जिस पर एकलिंगी पुष्प लगे होते हैं। उदाहरण: शहतूत
  • स्थूल मंजरी: कणिश जैसा किन्तु यहाँ अक्ष मांसल तथा आकर्षक रंग के बड़े सहपत्र (स्पेद) से आवृत रहता है। उदाहरण: अरवी

लघु मुख्य अक्ष[संपादित करें]

  • समशिख: नीचे (पुराने) पुष्पों के वृन्त नए पुष्पों के वृन्त से लम्बे, इस प्रकार सभी पुष्प एक ही तल तक पहुँच जाते हैं। उदाहरण: आइबरिस
  • छत्रक: समान वृन्त वाले पुष्प एक ही बिन्दु से उत्पन्न होते हैं। उदाहरण: धनिया

चप्टा मुख्य अक्ष[संपादित करें]

  • मुण्डक: प्रमुख अक्ष फैलकर उत्तल पुष्पासन बनाता है जिस पर पुष्पक नामक अवृन्त पुष्प स्थित होते हैं। ये अभिकेन्द्रीय क्रम में लगे होते हैं अर्थात् पुराने पुष्प परिधि की ओर स्थित होते हैं। सम्पूर्ण पुष्पक्रम सहपत्रों के परिचक्र से घिरा रहता है। उदाहरण: सूर्यमुखी

ससीमाक्षी/सीमित[संपादित करें]

प्रमुख अक्ष पुष्प में समाप्त होता है तथा वृद्धि सीमित होती है। पुष्प तलाभिसारी क्रम में व्यवस्थित होते हैं जिसमें अग्रस्थ पुष्प सबसे पुराना होता है। ससीमाक्षी पुष्पक्रम के प्रकार:

  • एकशाखी ससीमाक्ष: मुख्य अक्ष का अन्त एक पुष्प में होता है। उससे एक पार्श्व शाखा निकलती है तथा उसके अन्त में भी एक पुष्प बनता है। उदाहरण: कपास
  • द्विशाखी ससीमाक्ष: अग्रस्थ पुष्प के द्विपार्श्व दो पार्श्व शाखाएँ बनती हैं तथा प्रत्येक शाखा का अन्त एक पुष्प से होता है। उदाहरण: चमेली
  • बहुशाखी ससीमाक्ष: अग्रस्थ पुष्प के पास से अनेक शाखाएँ उत्पन्न होती हैं तथा प्रत्येक शाखा का अन्त एक एक पुष्प से होता है। उदाहरण: मदार

विशेष प्रकार[संपादित करें]

  • हिपैन्थियम: मांसल पुष्पासन एक कप के समान गुहा बनाता हैं। इसके शीर्ष पर एक छिद्र द्वार होता है। नर एवं मादा पुष्प गुहा की अन्तर्भित्ति पर लगे रहते हैं। उदाहरण: अंजीर, पीपल
  • सायैथियम: एक विशेष प्रकार का पुष्पक्रम जो विशेषतः यूफोर्बिया में होता है। इसमें एक कप समान परिचक्र होता है जो नर पुष्पों को और उनके द्वारा घेरी हुई केवल एक मादा पुष्प को चतुर्दिकों से घेरे रहते हैं। परिचक्र के क्रोड पर मकरन्द कोश उपस्थित होती है।
  • कूटचक्रक: यह एक सघन द्विशाखी ससीमाक्ष पुष्पक्रम है, जिसमें प्रत्येक पर्णसन्धि के अवृन्त पुष्पों के गुच्छे निकट तथा पत्रों के कक्षों में व्यवस्थित रहते है। उदाहरण: तुलसी, सैल्विया आदि।

चित्रावली[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Kubitzki, Klaus, and Clemens Bayer. 2002. Flowering plants, Dicotyledons: Malvales, Capparales, and non-betalain Caryophyllales. The Families and genera of vascular plants, 5. Berlin: Springer. p. 77
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 7 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2016.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 5 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2016.

इन्हें भी देखें[संपादित करें]