पुलिन्दा पुल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पुलिन्दा पुल या ट्रस ब्रिज वो पुल होते हैं जिनके अन्दर खिचाव और तनाव बल के रूप मे लगते है। ये सबसे पुराने पुलों में आते हैं। इन पुलों का आरम्भ १९वीं व २० वीं सदी हुआ था। इन पुलों को बनाने मे कम खर्च और बनाने की सामग्री सहजता से मिल जाती है।

रचना[संपादित करें]

इन पुलों में वर्टिकल मॅम्बर्ज़ (सीधे खड़े हुआ) और लोवर हॉरिज़ॉण्टल मॅम्बर्ज़ (समतल) पर खिचाव लगता है।