पिस्कारेवस्कोए शहीद स्मारक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
Piskarevskoye Memorial Cemetery Central Alley.jpg

पिस्कारेवस्कोए शहीद स्मारक (रूसी : Пискарёвское мемориа́льное кла́дбище) रुस के सेंट पीटर्सबर्ग में स्थित लेनिनग्राद की घेराबंदी के शिकार लोगों को समर्पित कब्रिस्तान है।

स्मारक परिसर[संपादित करें]

अलेक्जेंडर वेसिलिव और येवजेनिय लेविनसन द्वारा डिजाइन किये गये इस स्मारक को ९ मई, १९६० में खोला गया था। द्वितीय विश्वयुद्ध के समय भूख व बमबारी में मारे गये नगर के ४२०००० नागरिकों तथा लेनिनग्राद मोर्चे के शहीद ५०००० सैनिकों को यहाँ १८६ सामूहिक कब्रों में दफनाया गया था। इसके प्रवेश द्वार के पास एक अखंड ज्योति स्थित है।यहाँ एक संगमरमर की तख्ती लगाईं हुई है जिस पर उकेरा हुआ है कि ४ सितंबर, १९४१ से २२ जनवरी, १९४४ तक १०७१५८ बम आकाश से शहर पर गिराए गए, १४८४७८ गोले दागे गए, १६७४४ पुरुषों की मृत्यु हुई ३३७८२ घायल हुए थे तथा ६४१८०३ की भूख से मृत्यु हुई थी।

स्मारक के मध्य भाग में मातृभूमि की कांस्य प्रतिमा स्थित है। अखंड ज्योति से होकर ग्रेनाइट से बना ४८० मीटर का मार्ग है जो इस भव्य प्रतिमा तक जाता है।

१ जून २०१७ को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहाँ आकर शहीदों को पुष्पांजलि अर्पित की थी।[1]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

  • साँचा:पीएम मोदी ने पीटर्सबर्ग में दूसरे विश्वयुद्ध के मारे गए लोगों को दी श्रद्धांजलि