पार्वती बाउल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पार्वती बाउल
Parvathy Baul at Kolkata concert 2015 2.jpg
पार्वती बाउल रुहानियत मिस्टिक संगीत उत्सव, पुराना किला, दिल्ली में
जन्म १९७६
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय बाउल नर्तक, लोक गायिका, संगीतज्ञ एवं मौखिक कथावाचक
सक्रिय वर्ष २०००
प्रसिद्धि कारण बाउल नृत्य एवं गायन

पार्वती बाउल (जन्म १९७६) बंगाल से एक बाउल लोक गायिका, संगीतज्ञ एवं मौखिक कथावाचक हैं। ये भारत की अग्रणी बाउल संगीतज्ञ भी हैं।[1] बाउल गुरु, सनातन दास बाउल, शशांको घोष बाउल की देखरेख में, ये भारत एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर भी बाउल कार्यक्रम १९९५ से करती आ रही हैं।[2] इनका विवाह रवि गोपालन नायर, जो एक जाने माने पाव कथकली दस्ताने वाली कठपुतलीकार हैं, से हुआ। अब पार्वती १९९७ से तिरुवनंतपुरम, केरल में रहती हैं। यहां वे एकतारा बाउल संगीत कलारी नामक बाउल संगीत विद्यालय भी चलाती हैं। संगीत के अलावा पार्वती पेंटिंग, प्रिंट मेकिंग , नाटक, नृत्य और चित्रों की सहायता से किस्सागोई की विधा में भी महारत रखती हैं।[3]

पार्वती बाउल लोक गायिका और संगीतकार हैं। वहबंगाल और भारत के प्रमुख बाउल संगीतकारों में से एक हैं। वह 1995 से भारत और अन्य देशों में प्रदर्शन कर रही हैं। उन्होंने रवि गोपालन नायर से शादी की जो कि प्रसिद्ध पाव कथकली घराने वाले कठपुतली कलाकार हैं। वह 1997 से केरल के तिरुवनंतपुरम में रहती हैं, जहाँ वे "एकतरफा दुल्हन सुनीता कलारी" नामक स्कूल भी चलाती हैं।[4]

प्रारंभिक जीवन और पृष्ठभूमि[संपादित करें]

पार्वती बाउल का जन्म एक पारंपरिक बंगाली ब्राह्मण परिवार के रूप में पश्चिम बंगाल में हुआ था। उनका परिवार मूल रूप से पूर्वी बंगाल से था, और भारत के विभाजन के बाद पश्चिम बंगाल में चला गया। उनके पिता, जो भारतीय रेलवे के इंजीनियर थे, भारतीय शास्त्रीय संगीत के लिए उत्सुक थे और अक्सर अपनी बेटी को संगीत कार्यक्रमों में ले जाते थे। उनकी माता, एक गृहिणी, रहस्यवादी संत रामकृष्ण की भक्त थीं। अपने पिता के क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर पोस्टिंग के कारण, वह पश्चिम बंगाल के असम, कूच बिहार और सीमावर्ती क्षेत्रों में पली बढ़ी। उन्होंने सुनीति अकादमी, कूच बिहार से उच्च माध्यमिक परीक्षा उत्तीर्ण की। अपने शुरुआती वर्षों में, उन्होंने श्रीलेखा मुखर्जी से कथक शास्त्रीय नृत्य सीखा। उन्होंने कला भवन, विश्व-भारती विश्वविद्यालय, शांतिनिकेतन में एक दृश्य कलाकार के रूप में प्रशिक्षण प्राप्त किया। हालांकि उसने हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में अपना प्रारंभिक संगीत प्रशिक्षण प्राप्त किया, लेकिन यह शांतिनिकेतन परिसर में एक ट्रेन में था, कि उसने पहली बार एक अंधे बाउल गायक को सुना। बंगाल से रहस्यवादी टकसालों के पारंपरिक संगीत का प्रदर्शन हुआ करता था। इसके बाद फुलमाला दाशी, एक महिला बाल गायिका से मुलाकात की, जिसने परिसर में लगातार प्रदर्शन किया। जल्द ही, उसने फूलमाला से संगीत सीखना शुरू कर दिया और कई बौल आश्रम का दौरा किया, बाद में फूलमाला ने उसे एक और शिक्षक खोजने की सलाह दी। इस अवधि के दौरान, उन्होंने पश्चिम बंगाल के बांकुरा के एक 80 वर्षीय बाउल गायक सनातन दास बाउल के प्रदर्शन को देखा और उनसे सीखने का फैसला करते हुए, उन्होंने बांकुरा जिले में सोनमुखी के अपने आश्रम का दौरा किया। 15 दिनों के बाद, उसने उससे दीक्षा दीक्षा प्राप्त की, और वह उसकी पहली गुरु बन गई। अगले सात वर्षों के लिए, उसने अपने गुरु के साथ यात्रा की, प्रदर्शनों के दौरान मुखर सहायता प्रदान की, बाल गाने, बाल नृत्य, और इक्ता और डग्गी को बजाया, एक छोटी सी केतली-ड्रम को ढँक दिया। कमर तक। अंत में, उन्होंने उसे अपने दम पर गाने की अनुमति दी और जल्द ही वह अपने अगले गुरु शशांको गोशाई बुल के पास चली गई। गोशाई, जो उस समय 97 साल के थे और बांकुरा जिले के एक छोटे से गाँव खोरबोनी में रहते थे। वह शुरुआत में एक महिला शिष्य को लेने से हिचकिचा रही थीं, इस तरह कुछ दिनों तक उनके समर्पण का परीक्षण किया। अपने जीवन के शेष तीन वर्षों में, उन्होंने अपने कई गीतों, और बाल परंपरा की जटिलताओं को सिखाया।

बाउल में पार्वती[संपादित करें]

दिल्ली के पुराना किला में रुहानियत

मंच पर पार्वती हाथ में इकतारा, कंधे पर डुग्गी एवं अन्य पारंपरिक वाद्य यंत्र टांगे बाउल नृत्य करती दिखायी देती हैं। गर्दन में पुष्पमाला एवं पैरों में खनकती पायल के साथ कुमकुम आलता लगाए गेरुई वेषभूषा में वे भक्ति गीत का प्रदर्शन करती हैं। ये बाउल नृत्य में प्रायः राधा या कृष्ण की रासलीला दिखाती हैं, जिनमें प्रायः राधा बनकर सूफी संगीत पर अपना नृत्य प्रस्तुत करती हैं। बाउल नृत्य शैली में गायन, नृत्य और संकीर्तन सभी एक सामंजस्य बनाये हुए एक ही समय में उपकरणों के प्रयोग की तरह किया जाता है।[2] बाउल के के बारे में कहते हैं कि यह गति में ध्यान की साधना है।

रचनात्मक, प्रेम, भक्ति और शांति की महिमा बताती बाउल को संगीत से अधिक उपयुक्त माध्यम बताते हैं। इस ऐतिहासिक लोक परंपरा में प्रायः विशेष प्रकारकी भूषा एवं संगीत के वाद्ययंत्र ही होते हैं। ये शैली बंगाली परिवेष से निकल ही रही है, तथा चैतन्य महाप्रभु से प्रेरित है। बाउल में गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर की कविता और संगीत का काफी प्रभाव देखा जाता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Bengal folk meets Kerala's spirituality in Parvathy Baul's music". CNN-IBN. 9 November 2012. मूल से 31 मई 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 May 2014.
  2. "पार्वती बाउल के संकीर्तन पर झूमेगी प्रकृति". दैनिक जागरण. ३. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद); |date=, |year= / |date= mismatch में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  3. सुर-ताल-संगीत की सरताज (भाग-7)।बीबीसी-हिन्दी। २६-११-२०१५।अभिगमन तिथि: १७-०२-२०१७
  4. Ishani, Duttagupta. "Minstrel in the gallery: Parvathy Baul is on a mission to bridge the gap between esoteric Baul akharas and world music". THE ECONOMICS TIMES. मूल से 4 जुलाई 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27/2/2020. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]