पारंपरिक संगीत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
इन्हें भी देखें: Indigenous music

साँचा:Infobox Music genre

ग्रैमी अवार्ड्स की शब्दावली में अब पारंपरिक संगीत शब्द का प्रयोग "लोक संगीत " के स्थान पर किया जाता है। इस बदलाव का पूर्ण विवरण विश्व संगीत लेख के शब्दावली अनुभाग में पाया जा सकता है। अन्य संगठनों ने इसी तरह के परिवर्तन किए हैं, हालांकि गैर-शैक्षणिक हलकों में, तथा सीडी बेचने वाली कई वेबसाइटों पर, "लोक संगीत" वाक्यांश का प्रयोग बहुत सारे अर्थों में किया जाता है।

विशेषताओं की व्याख्या[संपादित करें]

ऐतिहासिक दृष्टिकोण से, पारंपरिक संगीत की निम्न विशेषताएं थीं:

बीसवीं सदी से पहले, खेत में काम करने वाले आम मजदूर और कारखाने के कर्मचारी अनपढ़ थे। वे गानों को याद कर के उन्हें अपनाते थे। जाहिर है, इसमें किताबों, रिकॉर्ड गीतों (कैसेट या सीडी) या प्रसारण मीडिया (इंटरनेट) की कोई भूमिका नहीं थी। गायक बड़े पोस्टरों, गानों की पुस्तकों या सीडी की सहायता से अपने प्रदर्शनों की सूची का विस्तार कर सकते हैं, लेकिन ये माध्यमिक संवर्द्धन वही एहसास दिलाते हैं जो मौलिक गीतों को सुन कर मिलता था।
  • संगीत अक्सर राष्ट्रीय संस्कृति से संबंधित होता था।
यह विशेष रूप से सांस्कृतिक था - अर्थात किसी विशेष

क्षेत्र या संस्कृति से संबंधित था। एक आप्रवासी समूह के संदर्भ में, सामाजिक सामंजस्य के लिए लोक संगीत को एक अतिरिक्त आयाम प्राप्त है। ऐसा संयुक्त राज्य अमेरिका में विशेष रूप से अधिक स्पष्ट है, जहां पोलिश मूल के अमेरिकी, आयरिश मूल के अमेरिकी और एशियाई अमेरिकी मुख्य धारा से अलग होने का पुरजोर प्रयास कर रहे हैं। वे मूलतः उन देशों से संबंधित गीत और नृत्य सीखेंगे जहां से उनके बुजुर्ग आए हैं।

  • वे (पारंपरिक संगीत) ऐतिहासिक और व्यक्तिगत घटनाओं का स्मरण कराते हैं।
ईस्टर, मई दिवस और क्रिसमस हो (Christmas hoe) जैसे साल के कुछ खास दिनों में विशेष गीतों द्वारा वार्षिक चक्र मनाया जाता है। शादियों, जन्मदिन तथा मृत्यु समारोहों में गानों, नृत्यों और विशेष वेशभूषा का मेलजोल देखा जा सकता है। धार्मिक उत्सवों में लोक संगीत एक घटक के रूप में अक्सर पाया जाता है। भजन संगीत के इन आयोजनों में बच्चों और गैर-पेशेवर गायकों को सार्वजनिक मंच पर भाग लेने का अवसर मिलता है, जिससे एक ऐसे भावनात्मक संबंध की अनुभूति होती है, जिसका संगीत के सौन्दर्यबोधक गुणों के साथ कोई संबंध नहीं है।

एक दुष्प्रभाव के रूप में, कभी-कभी निम्नलिखित विशेषताएं पाई जाती हैं:

  • गीतों का कॉपीराईट न होना
उन्नीसवीं सदी के ऐसे सैंकड़ों गीत हैं जिनके लेखक ज्ञात हैं। हालांकि, संगीत प्रकाशन के प्रयोजनों के लिए, वे "पारंपरिक" कहे जाने की सीमा तक मौखिक परंपरा के रूप में इन्हें जारी रखे हुए हैं। 1970 के बाद से ऐसा लगातार कम होता गया है। आज, रिकॉर्ड किए जाने वाले लगभग हर लोक गीत के लिए एक व्यवस्था को श्रेय दिया जाता है, उदाहरण के रूप में " ट्रेड अर्र डायलान" (Trad arr Dylan).
  • संस्कृतियों का मिश्रण
जिस प्रकार अलग-अलग महाद्वीपों से संबंध रखने वाले अभिभावकों के बच्चों की मिश्रित पृष्ठभूमि हो सकती है, उसी प्रकार संगीत में भी प्रभावों का मिश्रण हो सकता है। एक विशेष रूप से तालबद्ध पैटर्न, या एक विशेष वाद्य यंत्र, संगीत को एक पारंपरिक एहसास देने के लिए पर्याप्त है, चाहे इसे हाल ही में रचा गया हो. संगीत की छोटी सी धुन में बैगपाइप या तबले की पहचान करना आसान है। इस प्रकार गानों को हल्का फुल्का बनाने या इस तरीके से उन्हें सुनने से आम तौर पर युवा कम असहज महसूस करते हैं। इसी तरह एक पुराने गाने में एक इलेक्ट्रिक गिटार का प्रयोग किया जा सकता है। यह अपनी निजी पसंद पर निर्भर करता है कि इससे संगीत की सुन्दरता बढ़ती है या यह एक घटिया नौटंकी है। प्रासंगिक कारकों में वाद्य यंत्र, राग, स्वर, वाक्य शैली, विषय और निर्माण के तरीके भी शामिल हो सकते हैं।
  • गैर-व्यवसायिक
सांस्कृतिक पहचान समारोह का प्रदर्शन कभी-कभी बिना किसी लाभ के मकसद के किया जाता है। अतीत में आयोजक के लिए वित्तीय इनाम का न होना अत्यंत सामान्य था।

पारंपरिक संगीत के विषय[संपादित करें]

अर्मेनियाई परंपरागत संगीतकार

वाद्ययंत्र संगीत के अतिरिक्त, जो कि पारंपरिक संगीत, विशेष रूप से नृत्य संगीत परंपराओं का एक हिस्सा है, अधिकांश पारंपरिक संगीत गायन संगीत है, क्योंकि ऐसे संगीत की रचना में प्रयुक्त होने वाले वाद्य यंत्र आम तौर पर आसान हैं। इसलिए अधिकांश पारंपरिक संगीत में सार्थक बोल हैं।

कई संस्कृतियों के पारंपरिक संगीत में कथात्मक छंद मिलते हैं। यह पारंपरिक महाकाव्य का रूप ले लेते हैं, मूलत इसका अधिकांश हिस्सा मौखिक प्रदर्शन से संबंधित था, जिसमे कभी-कभी वाद्य यंत्रों का भी प्रयोग किया जाता था। विभिन्न संस्कृतियों के कई महाकाव्य पारंपरिक कथात्मक छंदों के छोटे हिस्सों को जोड़ कर बनाए गए थे, जो उनकी प्रासंगिक संरचना का वर्णन करते हैं और अक्सर उनमे कथानक के विकास का समावेश होता है। परंपरागत कथात्मक छंदों के अन्य रूप युद्धों तथा अन्य त्रासदियों या प्राकृतिक आपदाओं के परिणामों से संबंधित हैं। कभी-कभी, जैसे कि बाइबल की बुक ऑफ़ जजेस (Book of Judges) में मिलने वाले विजयी गीत सॉन्ग ऑफ़ डेबोरा में, ये गीत विजय का जश्न मनाते हैं। कई परंपराओं में हारी गई लड़ाइयों और युद्धों, तथा उनमें मरने वालों के लिए किए जाने वाले गीत रूपी विलाप उतने ही प्रमुख हैं; ये विलाप उस कारण की याद दिलाते हैं जिसके लिए युद्ध लड़ा गया था। पारंपरिक गीतों की कथात्मक व्याख्याएं जॉन हेनरी से ले कर रॉबिन हुड जैसे लोक नायकों को याद करती हैं। कुछ पारंपरिक गीतों में कही गई कथाएं अलौकिक घटनाओं या रहस्यमय मौतों की याद दिलाती हैं।

भजन और धार्मिक संगीत के अन्य प्रकार अक्सर पारंपरिक और अज्ञात मूल के होते हैं। पश्चिमी संगीत चिह्नों को मूल रूप से ग्रेगोरियन मंत्र की लाइनों को याद रखने के लिए संरक्षित रखने के लिए बनाया गया था, जो अपने अविष्कार से पहले मठ समुदायों में मौखिक परंपरा के रूप में पढ़ाए जाते थे। ग्रीन ग्रो द रशेस, ओ (Green grow the rushes, O) जैसे पारंपरिक गाने याद रखने वाले ढंग से धार्मिक विद्या प्रदान करते हैं। पश्चिमी दुनिया में, क्रिसमस कैरोल तथा अन्य पारंपरिक गाने धार्मिक विद्या को गीत के रूप में संरक्षित रखते हैं।

काम से संबंधित गीत अक्सर पुकार और जवाब संबंधी संरचनाओं को प्रदर्शित करते हैं और इस ढंग से डिजाइन किये गए हैं कि उन्हें गाने वाले श्रमिक गानों की लय के साथ अपने काम का समन्वय कर सकें. वे अक्सर, लेकिन हमेशा नहीं, संगीतबद्ध किए जाते हैं। अमेरिकी सशस्त्र बलों में, सैनिकों के मार्च के दौरान जॉडी कॉल ("डकवर्थ मंत्र") की एक जीवंत परंपरा गाई जाती है। पेशेवर नाविकों ने समुद्री लोकगीतों के एक बड़े हिस्से का प्रयोग किया है। प्रेम कविताएं, जो अक्सर दुखद या खेदजनक प्रकृति की होती हैं, कई लोक परंपराओं का एक अहम् हिस्सा हैं। नर्सरी कविताएं है और निरर्थक कविताएं भी पारंपरिक गीतों के अक्सर चुने जाने वाले विषय हैं।

पारंपरिक संगीत में भिन्नता[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: List of folk music traditions
कोरियाई पारंपरिक संगीतकार
चीनी पारंपरिक संगीतकार

एक समुदाय के माध्यम से मौखिक रूप से संचारित होने वाले संगीत में, आने वाले समय में, कई भिन्नताओं का विकास होगा, क्योंकि इस प्रकार के संचरण के लिए सटीक शब्द और व्याख्या बनाना संभव नहीं है। दरअसल, कई पारंपरिक गायक काफी रचनात्मक हैं और वे जान-बूझकर सीखी गई जानकारी को संशोधित करते हैं।

उदाहरण के लिए, "आई'म ए मैन यू डोंट मीट एवरी डे" (रोउड 975) के शब्द बोडलेइयन लाइब्रेरी के पोस्टर (कागज़ की एक बड़ी शीट) से लिए गए हैं।[1] तिथि लगभग निश्चित रूप से 1900 से पहले की है और यह (गीत) आयरिश लगता है। 1958 में कनाडा में एक गीत रिकॉर्ड किया गया था (माई नेम इज़ पैट एंड आई एम् प्राउड ऑफ़ दैट). जैनी रोबेर्टसन ने 1961 में रिकॉर्ड होने वाला अगला संस्करण बनाया। उसने अपने एक रिश्तेदार "जॉक स्टीवर्ट" के लिए इसे बदल दिया है और इसमें कोई आयरिश सन्दर्भ नहीं है। 1976 में आर्ची फिशर ने जानबूझकर गोली से मरने जा रहे कुत्ते का सन्दर्भ हटाने के लिए गीत में परिवर्तन किया। 1985 में द पोग्स ने सभी आयरिश सन्दर्भों को बहाल करके यह चक्र पूर्ण किया।

क्योंकि भिन्नताएं स्वाभाविकता को बढ़ाती हैं, इसलिए ऐसा मानना मूर्खता है कि बारबरा एलन. जैसे एक गाथा गीत का कोई एकल प्रामाणिक "संस्करण" मौजूद है। पारंपरिक गीतों के अनुसंधानकर्ताओं को (नीचे देखें) अंग्रेजी भाषी दुनिया में इस गाथा गीत के अनगिनत संस्करण मिले हैं और अक्सर ये संस्करण एक दूसरे से काफी अलग हैं। कोई भी मज़बूती से मूल गीत होने का दावा नहीं कर सकता और बहुत संभव है कि जो कुछ भी "मूल" गीत था, वह सदियों पहले गाया जाता था। कोई भी संस्करण प्रामाणिकता के लिए तब तक समान दावा कर सकता है, जब तक यह पूरी तरह से एक पारंपरिक गायन समुदाय से संबंधित है और इस पर किसी बाहरी संपादक ने कोई बदलाव नहीं किया है।

सेसिल शार्प के पास लोक संगीत में बदलाव के बारे में एक प्रभावशाली विचार था: उन्होंने महसूस किया कि एक पारंपरिक गीत के संस्करण तैयार करने की होड़ एक जैविक प्राकृतिक चयन के सदृश थी: केवल वे नए संस्करण जो साधारण गायकों को सर्वाधिक आकर्षित करते थे, को दूसरों द्वारा चुना जाता था और समय के साथ बदलाव के साथ संचारित किया जाता था। इस प्रकार, समय बीतने के साथ हम एक पारंपरिक गीत में सौन्दर्यबोध के और अधिक आकर्षक होने की उम्मीद करेंगे - क्योंकि यह सामूहिक रूप से समुदाय द्वारा अपने सर्वोत्तम स्वरूप में बना होगा।

दूसरी ओर, इस दृष्टिकोण के समर्थन के लिए भी सबूत मौजूद हैं कि पारंपरिक गीतों में बदलाव घटिया हो सकता है। कभी-कभी, संगृहित पारंपरिक गीत के संस्करणों में अलग-अलग गीतों से ली गई जानकारी या छंद इस प्रकार के होते हैं जिनका इसके सन्दर्भ के साथ बहुत कम संबंध होता है। साराह क्लीवलैंड (बी 1905) एक सम्मानित पारंपरिक आयरिश-अमेरिकी गायिका हैं। उनके गीत "लेट नो मैन स्टील योर थाइम" के संस्करण में एक अन्य गीत - "सीड्स ऑफ़ लव" का मिश्रण है। (साराह का संस्करण). दोनों गीतों में फूलों का उल्लेख है, लेकिन विषय काफी अलग है। इसी तरह, कई पारंपरिक गीतों को केवल टुकड़े के रूप में ही जाना जाता है। शायद एक आध मामले में केवल एक या दो पंक्तियां रिकॉर्ड की गई हैं।

क्षेत्रीय भिन्नताएं[संपादित करें]

यद्यपि दुनिया भर में लोकप्रिय संगीत को बढ़ावा मिलने के कारण पारंपरिक संगीत का ह्रास हो रहा है, किन्तु ऐसा दुनिया भर में एक समान दर से नहीं हो रहा है। जबकि कई आदिवासी संस्कृतियां पारंपरिक संगीत और लोक संगीत को खो रही हैं, यह प्रक्रिया उन क्षेत्रों में सर्वाधिक तीव्र गति से हो रही है "जहाँ संस्कृति का औद्योगीकरण एवं व्यावसायीकरण सबसे उन्नतहैं".[2] फिर भी उन देशों या क्षेत्रों में, जहां परंपरागत संगीत सांस्कृतिक या राष्ट्रीय पहचान को दर्शाता है, पारंपरिक संगीत के नुकसान को धीमा किया जा सकता है; ऐसा सच में हो सकता है, उदाहरण के लिए जैसे बांग्लादेश, हंगरी, भारत, आयरलैंड, लातविया, तुर्की, पुर्तगाल, ब्रिट्टेनी तथा गैलिसिया, यूनान तथा करीट के मामले में, जो कुछ हद तक अपने पारंपरिक संगीत को बचाए हुए हैं, कुछ क्षेत्रों में पारंपरिक संगीत के स्तर में गिरावट और संस्कृति में ह्रास को रोका गया है। यह वहां सबसे अधिक स्पष्ट है जहां पर्यटक एजेंसियों द्वारा कुछ क्षेत्रों को "केल्टिक" नाम दिया गया है। आयरलैंड, स्कॉटलैंड, कॉर्नवाल, ब्रिट्टेनी तथा नोवा स्कोटिया की मार्गदर्शक पुस्तकों तथा इश्तेहारों में संगीत प्रदर्शनों के सीधे प्रसारण/श्रवण का उल्लेख है। स्थानीय सरकार अक्सर पर्यटन सत्रों के दौरान ऐसे आयोजनों को प्रायोजित करके तथा बढ़ावा दे कर खोई हुई परंपरा को पुर्नजीवित करती है।

पारंपरिक संगीत में शोध और छात्रवृत्ति[संपादित करें]

19 वीं सदी का यूरोप[संपादित करें]

19वीं सदी की शुरुआत में, इसमें रूचि रखने वाले लोगों - शिक्षाविदों और शौकिया विद्वानों - ने इस बात पर ध्यान देना शुरू किया कि वे क्या खो रहे थे और उन्होनें लोगों के संगीत को बचाने के लिए कई प्रयास किए। ऐसा ही एक प्रयास 19वीं सदी के अंत में फ्रांसिस जेम्स चाइल्ड का संग्रह था, जो अंग्रेजी तथा स्कॉट परंपराओं के तीन सौ से अधिक गाथागीतों का ग्रंथ था (जिसे चाइल्ड बालाड कहते हैं). 1960 के दौरान और 1970 के दशक के मध्य की शुरुआत में, अमेरिकी विद्वान बर्ट्रेंड हैरिस ब्रॉन्सन ने उस समय के लेखों तथा धुनों में बदलावों का चार-भागों का एक विस्तृत संग्रह प्रकाशित किया, जिसे चाइल्ड कैनन के रूप में जाना गया। कहने सुनने की परंपरा के कामकाज के सिद्धांतों के संबंध में भी उसने महत्वपूर्ण प्रगति की।

चाइल्ड के समकालीन श्रद्धेय सबीन बेरिंग-गुल्ड तथा इसके बाद एवं विशेष रूप से सेसिल शार्प आए जिन्होनें 20वीं सदी की शुरुआत में अंग्रेजी के ग्रामीण पारंपरिक गीत, संगीत व नृत्य की महान विरासत के संरक्षण के लिए इंग्लिश फोल्क डांस एंड सॉन्ग सोसाइटी (अंग्रेजी लोक नृत्य तथा गीत संस्था) (ईऍफ़डीएसएस/EFDSS) के तत्त्वाधान में काम किया। शार्प ने अमेरिका में भी काम करते हुए मौड कार्पेल्स एवं ओलिव डेम कैम्पबेल के साथ मिल कर 1916-1918 में एप्पलाचियन पर्वतों के पारंपरिक गीतों की रिकॉर्डिंग की। आधुनिक फिल्म "सॉन्गकैचर" में अभिनेताओं द्वारा कैम्पबेल और शार्प का प्रतिनिधित्व दूसरे नामों से किया गया है।

अन्य देशों में भी इसी प्रकार की गतिविधि चल रही थी। रीगा में सबसे व्यापक काम शायद क्रिस्जनिस बरोन्स द्वारा 1894 एवं 1915 के बीच छह संस्करणों को प्रकाशित कर के किया गया जिसमे 217 996 लातवियाई लोक गीतों, लात्व्जू डेनास (Latvju dainas) के लेख थे।

इस समय के आसपास, शास्त्रीय संगीत के संगीतकारों ने पारंपरिक गीतों के संग्रह में अत्यधिक रूचि दिखाई और कई जाने माने संगीतकारों ने खुद पारंपरिक गीतों पर गहन कार्य किया। इनमें इंग्लैंड के पर्सी ग्रेंजर एवं रॉल्फ वॉन विलियम्स तथा हंगरी के बेला बर्तोक शामिल थे। इन संगीतकारों ने, अपने कई पूर्ववर्तियों की तरह, अपनी शास्त्रीय रचनाओं में पारंपरिक जानकारी को शामिल किया। लात्विजू डेनास (Latviju dainas) का प्रयोग व्यापक रूप से एंड्रेज़ जुरान्स, जेनिस सिम्ज़ तथा एमिलिस मेल्न्गैलिस के शास्त्रीय भजनों में किया जाता है।

उत्तरी अमेरिका[संपादित करें]

उत्तरी अमेरिका में 1930 व 1940 के दशक के दौरान, लाइब्रेरी ऑफ़ काँग्रेस ने पारंपरिक संगीत संग्रहकर्ताओं रॉबर्ट विनस्लो गोर्डन, एलन लोमेक्स तथा अन्यों के कार्यालयों के माध्यम से उत्तरी अमेरिका के क्षेत्र से संबंधित यथा संभव जानकारी प्राप्त की।

पारंपरिक गीत का अध्ययन करने वाले लोगों ने कभी आशा व्यक्त की थी कि उनके काम के द्वारा लोगों में पारंपरिक संगीत बहाल होगा। उदाहरण के लिए, सेसिल शार्प ने स्कूली बच्चों को अंग्रेजी पारंपरिक गीत (उसके अपने अत्यधिक संपादित तथा सुधारे गए संस्करणों द्वारा) सिखाने के लिए चलाए गए अभियान द्वारा कुछ सफलता प्राप्त की।

एक विषय, जो विद्वानों के पारंपरिक गीत संग्रह की महान अवधि के दौरान चलता रहा है, "लोक" संगीत के कुछ सदस्यों की प्रवृत्ति पर आधारित है, जिनसे आशा की जाती थी कि वे अध्ययन का उद्देश्य बनेंगे, ताकि वे स्वयं ही विद्वान बन सकें और अपने पक्ष को बढ़ावा दे सकें. उदाहरण के लिए जीन रिची वाइपर, केंटुकी के बड़े परिवार की सबसे छोटी बच्ची थी जिसने एप्पालाचियन क्षेत्र के कई पुराने पारंपरिक गीतों का संरक्षण किया। रिची उस समय हुई थी जब एप्पालाचियन बाहरी दुनिया के संपर्क में आए ही थे, उसने यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की थी और अंततः न्यूयॉर्क शहर में स्थानांतरित हो गई, जहां उसने परिवार के प्रदर्शनों की कई क्लासिक रिकार्डिंग बनाईं तथा इन गीतों का एक महत्वपूर्ण संकलन प्रकाशित किया। (हेडी वेस्ट भी देखें)

बीसवीं सदी के अधिकांश समय उत्तरी अमेरिकी लोकगीत और पारंपरिक गीतों के बारे में एक और महत्वपूर्ण मुद्दा यह था कि क्या मौखिक रूप से संचारित की जाने वाली जानकारी रुपांकनों की श्रृंखला में (न्यूनकारी दृष्टिकोण) के रूप में प्रदान की जाए या फिर पूरे गीत के रूप में (समग्र दृष्टिकोण) प्रदान की जाए, जिसमे पहले वाला दृष्टिकोण बाद वाले से पहले घटित हो गया और अपने उद्भव के समय दोनों दृष्टिकोणों ने सीखने के प्रचलित मनोवैज्ञानिक सिद्धांतों को परिलक्षित किया। संगीत विद्वानों के बीच न्यूनकारी दृष्टिकोण का एक प्रमुख वक्ता जॉर्ज पुलेन जैक्सन था, जिसने 1930 और 1940 के दशक में, "तानयुक्त आवरण" या विलक्षण संगीतमय धुनों के चिह्नों की अवधारणा स्थापित की और इसका बचाव किया, जो अक्सर प्रयोग में लाए जाने के कारण संग्रह की वस्तु बन गए और नई धुनों को तैयार करने तथा मौजूदा धुनों को संशोधित करने की प्रक्रिया में कड़ी बन गए। 1950 में, सैम्युअल प्रेस्टन बेयर्ड ने अपने दम पर कथन और भावों द्वारा संगीत विज्ञान की दुनिया स्थापित करते हुए स्पष्ट रूप से यह कहते हुए समग्र दृष्टिकोण का बचाव किया कि संगीत को याद करने और दोहराने की प्रक्रियाएं उस तरह से काम नहीं करतीं जैसे कि जैक्सन तथा अन्य कल्पना करते हैं। बेयर्ड ने गेस्टाल्ट संगीत विज्ञान, जो सदी के मध्य में लोकप्रिय बन गया था, के हवाले से तर्क दिया कि वाक्यांश जैसी बड़ी संरचनात्मक इकाइयां तथा यहां तक कि पूरी धुन भी मोटे तौर पर रूप-रेखा के रूपात्मक नियमों का पालन करती हैं तथा यह कि पूर्ण संगीतमय धुन की वक्रीय रेखाएं, न कि लय के छोटे नमूने, ही पारंपरिक संगीतकार के मस्तिष्क में स्मृति चिह्नों के रूप में शामिल हो पाती हैं। इन विचारों को अपनाया गया, विभिन्न तरीकों से संशोधित किया गया और सिर्वार्ट पोलाडियन तथा अन्यों द्वारा पुनः प्रस्तुत किया गया।

न्यूनकारी और समग्र दृष्टिकोणों का संयोजन[संपादित करें]

1960 और 70 के दशक में बर्ट्रेंड बरॉन्सन और अन्यों ने इस धारणा पर काम शुरू किया कि यह प्रक्रिया न तो पूरी तरह से न्यूनकारी हो सकती थी और न ही समग्र, अपितु यह इन दोनों का जटिल मिश्रण थी, जबकि इन्हें आकार देने में म्यूज़िकल स्केल का भी योगदान था। इस विचार तथा इससे मिलते जुलते विचारों का प्रयोग करके एक निष्कर्ष पर पहुंचते हुए, किन्तु साथ ही पुराने दृष्टिकोणों को ध्यान में रखते हुए तथा अपनी खुद के विस्तृत विश्लेषण को इसमें जोड़ते हुए, 1980 के दशक में संगीतविज्ञानी जे. मार्शल बेविल ने संगीतमय पीढ़ी, प्रसारण, आत्मसात करने तथा फिर से स्मरण करने का सिद्धांत विकसित किया एवं इसे प्रस्तुत किया, जिसमे समग्र दृष्टिकोण के महत्त्व को पहचाना गया किन्तु साथ ही स्मृति सहायक तथा सन्दर्भ बिन्दुओं के रूप में फार्मूलाबद्ध खंड के प्रारंभ तथा समापन (जिसे उसने प्राथमिक सेल्स कहा) के महत्त्व पर भी जोर दिया, जिसमे बड़े खण्डों में और अधिक परिवर्तनशील प्रारंभ तथा समापन वाक्यांश थे (माध्यमिक सेल्स) जो कम महत्त्व के थे लेकिन फिर भी पूरी तरह से नकारने योग्य छोटी इकाई के रूप में नहीं थे। उन्होनें आगे कहा कि धुनों की श्रृंखला (अर्थात, स्केल) के बीच प्रतिक्रिया द्वारा शासित कहने-सुनने की प्रक्रिया पारंपरिक गीत के स्वरूप तथा विशेष धुन, खंड तथा पारंपरिक संगीतमय प्रकार की वाक्यांश रुपरेखा से जुड़ी थी। इन दृष्टिकोणों तथा संगीत की विशेषताओं, जिनकी वह जांच कर रहे थे, जो कि मुख्यतः अमेरिकी दक्षिणी पहाड़ों (दक्षिणी एप्पलाचिया, स्मोकी पर्वत इत्यादि) के गाथागीत तथा पारंपरिक भजनों की धुनें थीं, के आधार पर बेविल ने तुलनात्मक संगीतमय विश्लेषण की एक प्रणाली का विकास किया जिसने कई भाषाविदों, विशेष रूप से क्रियात्मक व्याकरण को स्थापित करने वाले नोअम चोम्स्की तथा अन्यों को आकर्षित किया। विस्तृत विश्लेषण प्रक्रिया में शामिल आंकड़ों को तीव्रता तथा सटीकता से संभालने के लिए उन्होंने एक डेस्कटॉप कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का ढांचा भी तैयार किया तथा धुनों के बीच प्रकृति की झलक तथा समानता की हद उत्पन्न करने के लिए क्रमादेशित मानकों का एक सेट लागू किया। उन्होनें अपने निष्कर्षों को पीएच.डी. शोधपत्र (उत्तर टेक्सास विश्वविद्यालय, 1984) द्वारा 1986 के एक लेख में, जो विशेष रूप से पारंपरिक संगीत स्केल के मुद्दे को समर्पित था तथा 1987 के एक अध्ययन में प्रकाशित किया, जिसमे उसी क्षेत्र के आप्रवासियों के धुनों में बदलाव का संग्रह था जिसकी यात्रा सेसिल शार्प ने सत्तर साल पहले की थी। तब से ही बेविल ने इस लोकप्रिय क्षेत्र से वर्तमान और पुराने संगीत के अपने सिद्धांतों का विस्तार किया है और यह जांच की है कि यह कैसे अनुभव किया जाता है, पहचाना जाता है तथा याद किया जाता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

डिस्कोग्राफी[संपादित करें]

  • हैरी स्मिथ की अमेरिकी लोक संगीत
  • लोगों की आवाज (यूके पारंपरिक लोक संगीत)
  • Fieldrecorder.com अमेरिकी परंपरागत शैली

सन्दर्भ[संपादित करें]

नोट्स[संपादित करें]

  1. Bodley24 OX.ac.uk
  2. एलिसन वर्डी, एट अल. पारंपरिक संगीत के पेज के बारे में, केल्टिक वीणा शीट संगीत साइट. 16 फ़रवरी 2007 से एक्सेस.

आगे पढ़ें[संपादित करें]

  • इंग्लिश फ़ॉक सोंग्स फ्रॉम द सदर्न अप्पैलाशिंस . सेसिल जे शार्प द्वारा एकत्रित. एड. मॉड कर्पेलेस. 1932. लंदन. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  • कर्पेलेस, मॉड. ऐन इंट्रोडक्शन टू इंग्लिश फोक सॉन्ग . 1973. ऑक्सफ़ोर्ड. ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  • तेज, सेसिल. फोल्क सॉन्ग: सम कन्क्लुसंस . 1907. चार्ल्स नदी की पुस्तकें
  • ब्रोंसन, बर्ट्रेंड हैरिस. द बैलाड ऐस सॉन्ग (बर्कले: कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय प्रेस, 1969).
  • ब्रोंसन, बर्ट्रेंड हैरिस. द ट्रेडिशनल ट्यून्स ऑफ़ द चाइल्ड बैलाड्स, विथ दियर टेक्स्ट्स, अकोर्डिंग टू द एक्स्टंट रिकॉर्ड्स ऑफ़ ग्रेट ब्रिटेन ऐंड नॉर्थ अमेरिका, 4 संस्करण (प्रिंसटन और बर्कले: प्रिंसटन विश्वविद्यालय और कैलिफोर्निया के विश्वविद्यालय, 1959, ऍफ़ऍफ़.)
  • ब्रोंसन, बर्ट्रेंड हैरिस. द सिंगिंग ट्रेडिशन ऑफ़ चाइल्ड'स पोपुलर बैलाड्स (प्रिंसटन: प्रिंसटन विश्वविद्यालय प्रेस, 1976).
  • पोलाडियन, सिर्वार्ट. "मेलोडिक कोंटुर इन ट्रेडिशनल म्युज़िक." जर्नल ऑफ़ द इंटरनैशनल फॉक म्युज़िक काउंसिल III (1951), 30-34.
  • पोलाडियान, सिर्वार्ट. "द प्रॉब्लमऑफ़ मेलोडिक वेरिएशन इन फॉकसॉन्ग," जर्नल पफ अमेरिकन फॉकलोर (1942), 204-211.
  • रूकस्बाई, रिक्की, डॉ विक गैमन एट अल. द फॉक हैन्डबुक . (2007). बैकबीट

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

साँचा:Folk music साँचा:Traditional beliefs