पाप का अंत

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पाप का अंत
पाप का अंत.jpg
पाप का अंत का पोस्टर
निर्देशक विजय रेड्डी
निर्माता गौतम बोकाड़िया
अभिनेता राजेश खन्ना,
हेमामालिनी,
माधुरी दीक्षित,
गोविन्दा,
रंजीत,
तेज सप्रू
संगीतकार बप्पी लाहिड़ी
प्रदर्शन तिथि(याँ) 8 दिसम्बर, 1989
देश भारत
भाषा हिन्दी

पाप का अंत 1989 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है।

संक्षेप[संपादित करें]

वकील ज्योति (हेमामालिनी) और पुलिस उपायुक्त खन्ना (राजेश खन्ना) प्यार में हैं और जल्द ही विवाह करने की उम्मीद करते हैं। इस बीच खन्ना ने दो अपराधियों को तिहरे हत्याकांड के लिये विक्रम और शाकाल को गिरफ्तार कर लिया। वो उन्हें एक अदालत में पेश करता है और अगली कार्यवाही और मुकदमे के लिये उन्हें कैद रखता है। विक्रम एक भ्रष्ट मंत्री प्रजापति का एकमात्र पुत्र होता है, जबकि शाकाल उनका गुंडा होता है। वो शाकाल और विक्रम दोनों अपनी मंत्रिस्तरीय स्थिति का उपयोग करके निकाल लेते हैं। वो खन्ना को मार देते हैं और जिसके बाद वे तुरंत जेल लौट जाते हैं। ज्योति सिर्फ अपने मंगेतर की हत्या को देखने के लिए समय पर आती है। वो उन्हें अदालत के समक्ष रखती है लेकिन उसके गवाह पलट जाते हैं और परिणामस्वरूप अदालत दोनों को बरी कर देती है। ज्योति तब प्रजापति के सच्चे रंग को जनता के सामने लाती है और प्रतिशोध में प्रजापति के आदमियों ने ज्योति का अपहरण कर लिया और उसकी आँखों के सामने उसकी छोटी बहन निशा (माधुरी दीक्षित) से बलात्कार किया। इस घटना से निशा को गहरा आघात लगता है और उसका सामान्य जीवन जीना मुश्किल हो गया। फिर ज्योति कानून को अपने हाथों में लेती है और प्रतिशोध की कसम खाती है।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी गीत समीर और अनजान द्वारा लिखित; सारा संगीत बप्पी लाहिड़ी द्वारा रचित।

क्र॰शीर्षकगायकअवधि
1."हम तुम डांस करेंगे"अमित कुमार, अलका याज्ञनिक7:52
2."कोई वादा कोई इकरार ना किया"लता मंगेशकर, मुहम्मद अज़ीज़7:19
3."दीवाने दिल के दीवाने"कविता कृष्णमूर्ति, मुहम्मद अज़ीज़8:40
4."इश्क तेरे ने तन मन में"शब्बीर कुमार, कविता कृष्णमूर्ति6:28
5."जिंदगी ने किये"मुहम्मद अज़ीज़6:16

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]