पाण्डे गणपत राय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पाण्डे गणपत राय झारखंड के दूसरे जमींदार थे जो 1857 के क्रांति के नेता बने। वे नागवंशी राजा के भूतपूर्व दीवान थे। इस क्रांति में वे इस क्षेत्र के मुख्य सेना नायक बने और लगातार अपने गुरिल्ला युद्ध से अंग्रेजी सेना और सेनानायकों को परेशान करते रहे। उनका जन्म पुतिया गाँव के एक कायस्थ परिवार में 17 फ़रवरी सन् 1809 ई० में हुआ था। उनके पिता का नाम श्री राम कृष्ण राय था।[1][2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "1857 की क्रांति के नायक पांडेय गणपत राय". www.prabhatkhabar.com. मूल से 4 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 मई 2019.
  2. "शहीद पांडेय गणपत राय की जयंती पर विशेष : झारखंडी मानस ने कभी भी गुलामी को स्वीकार नहीं किया". www.prabhatkhabar.com. मूल से 4 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 4 मई 2019.


झारखंड के प्रसिद्व लोग

जयपाल सिंह मुंडा|तिलका माँझी| अलबर्ट एक्का|राजा अर्जुन सिंह| जतरा भगत|बिरसा मुण्डा|गया मुण्डा|फणि मुकुट राय|दुर्जन साल|मेदिनी राय|बुधू भगत|तेलंगा खड़िया|ठाकुर विश्वनाथ साही|पाण्डे गणपत राय|टिकैत उमराँव सिंह|शेख भिखारी