पश्चिमी उत्तर प्रदेश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पश्चिमी उत्तर प्रदेश का स्थान ("ब्रज" लेबल)

पश्चिमी उत्तर प्रदेश, भारत का एक क्षेत्र है जिसमें उत्तर प्रदेश राज्य के पश्चिमी जिले शामिल हैं, जिसमें रोहिलखंड और ब्रज के क्षेत्र आते हैं। इस क्षेत्र के कुछ जनसांख्यिकीय, आर्थिक और सांस्कृतिक स्वरूप, उत्तर प्रदेश के अन्य हिस्सों से अलग हैं, और हरियाणा और राजस्थान राज्यों से अधिक निकटता से मिलते जुलते हैं।[1][2] हरित क्रांति की सफलताओं के कारण, पश्चिमी उत्तर प्रदेश ने हरियाणा और पंजाब के समान तेजी से आर्थिक विकास किया है।[3][4] पश्चिमी उत्तर प्रदेश का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भारत के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का एक हिस्सा है। इस क्षेत्र का सबसे बड़ा शहर गाजियाबाद है, जबकि दूसरा सबसे बड़ा शहर, आगरा एक प्रमुख पर्यटन स्थल है।

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

Religions in Western Uttar Pradesh
Religion Percent
Hindus
  
72.29%
Muslims
  
26.21%
Others†
  
1.41%
Distribution of religions
Includes Sikhs, Buddhists, Christians, Jains.[5]

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनसंख्या राजपूतों, अहीरों, ब्राह्मणों, दलितों, गुर्जरों, जाटों, कुर्मियों, रोहिल्ला पश्तूनों, चमारों सहित कई समुदायों और जनजातियों से बनी है।[6] इस क्षेत्र की 5% आबादी ब्राह्मणों की हैं, जिनमें त्यागी (हिंदू और मुसलमान) भी शामिल हैं।[7]

2011 की जनगणना के अनुसार, पश्चिमी उत्तर प्रदेश की कुल जनसंख्या 71,217,132 है, जिसमें से 72.29% हिन्दू और 26.21% मुसलमान हैं। हालाँकि हिन्दू बहुसंख्यक हैं, लेकिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुस्लिमों का प्रतिशत (~ 26%) पूरे उत्तर प्रदेश की तुलना में अधिक है (जहाँ यह 19.3% है)। [8] 2012 के विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र की 77 विधानसभा सीटों में से, मुस्लिम उम्मीदवारों ने 26 सीटें जीतीं।[9] "हिंदू और मुस्लिम दोनों घटकों के साथ कई समुदाय द्वि-धार्मिक हैं, जैसे कि त्यागी जो मुस्लिम त्यागी उपसमुदाय हैं, हालांकि वे बड़े पैमाने पर हिंदू हैं।[10]

इस क्षेत्र के रोहिला में, सदियों पहले आये अप्रवासी समूहों के वंशज है, और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के एक बड़े उप-क्षेत्र, रोहिलखंड, का नाम उसी पश्तून जनजाति से लिया गया है।[11]

विभाजन के बाद पाकिस्तान से आए पश्चिम पंजाब के सिख भी बड़ी संख्या में इस क्षेत्र में आकर बस गए। [12]

भूगोल[संपादित करें]

पश्चिमी उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान और मध्य प्रदेश राज्यों के साथ-साथ पीलीभीत जिले में नेपाल] के साथ एक संक्षिप्त अंतरराष्ट्रीय सीमाएँ साझा करता है। क्षेत्र के प्रमुख शहरों और कस्बों में बागपत, बरेली, बदायूँ, आगरा, मथुरा, मुरादाबाद, अमरोहा, ग़ाज़ियाबाद, नोएडा, बुलन्दशहर, मेरठ, हापुड़, सहारनपुर, अलीगढ़, हाथरस, मुज़फ़्फ़रनगर, रामपुर, शाहजहाँपुर, एटा, फ़िरोज़ाबाद, मैनपुरी, शामली, बिजनौर, फ़र्रूख़ाबाद, इटावा और औरैया शामिल हैं।

मिट्टी की स्थिति[संपादित करें]

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की मिट्टी राज्य के पूर्वी हिस्से से मतभेद दर्शाती है।[13] मिट्टी, रेतीली मिट्टी की कुछ लक्षण के साथ हल्की बनावट वाली दोमट होती है।[14] कुछ लोयस मिट्टी, राजस्थान के पूर्व की ओर थार मरुस्थल से लगातार बह कर आ रही हवाओं से जमा हुआ है।[15]

वर्षण[संपादित करें]

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भारतीय मानसून और पश्चिमी विक्षोभ के माध्यम से वर्षा होती है। मानसून गर्मियों के अंत में हिन्द महासागर से उत्तर की ओर नमी लेकर आता है, जोकि खरीफ या शरद ऋतु की फसल के लिए महत्वपूर्ण होता है। [16] दूसरी ओर, पश्चिमी विक्षोभ, एक बाह्य मौसम की घटना है जो भूमध्य सागर, कैस्पियन सागर और अटलांटिक महासागर से पूर्व की ओर नमी लेकर आती है।[17][18][19] जिससे वर्षा मुख्य रूप से सर्दियों के मौसम के दौरान होते हैं और गेहूँ, जो रबी या वसंत फसल की एक प्रमुख फसल हैं, के लिए अत्याधिक महत्वपूर्ण होती है।

प्रशासनिक विभाग[संपादित करें]

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में छह प्रभागों के 30 जिले शामिल हैं:

  1. मेरठ मंडल
  2. सहारनपुर मंडल
  3. मुरादाबाद मंडल
  4. बरेली मंडल
  5. आगरा मंडल
  6. अलीगढ़ मंडल
  7. कानपुर मंडल के कुछ जिले

ज़िलें : मेरठ, बुलंदशहर, गौतम बुद्ध नगर, गाजियाबाद, हापुड़, बागपत, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मुरादाबाद, बिजनौर, रामपुर, अमरोहा, संभल, बरेली, बदायूं, पीलीभीत, शाहजहांपुर, आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, मथुरा, अलीगढ़, एटा, हाथरस, कासगंज, इटावा, औरैया और फर्रुखाबाद

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Murray J. Leaf (1998). Pragmatism and development: the prospect for pluralist transformation in the Third World. Greenwood Publishing Group. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0897895736. मूल से 9 जुलाई 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020. ... Village organization and district administration in western Uttar Pradesh is generally much more like the neighboring states of Rajasthan and Haryana than like eastern Uttar Pradesh. Eastern Uttar Pradesh is more like Bihar than western Uttar Pradesh ... Of all these regions, western Uttar Pradesh is generally regarded as having the best administration, the most productive agriculture, and the best managed canals ...
  2. Alfred De Souza (1983), Urban growth and urban planning: political context and people's priorities, Indian Social Institute, 1983, मूल से 9 जुलाई 2014 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020, ... The difference in the urban settlement pattern between western and eastern Uttar Pradesh is so pronounced that one could almost feel that the two regions were located in two different countries with completely different economic systems ...
  3. Mohamad Riad El Ghonemy, "The Dynamics of Rural Poverty", Food and Agriculture Organization of the United Nations, 1986. ... Haryana and West Uttar Pradesh recorded spectacular production increases ...
  4. B. M. Bhatia, "Food Security in South Asia", Oxford & IHB Pub. Co., 1985.
  5. "संग्रहीत प्रति". मूल से 14 जनवरी 2020 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020.
  6. "भाजपा को बड़ा झटका: यूपी का सबसे बड़ा वोट बैंक भाजपा के खिलाफ करेगा मतदान". www.patrika.com (hindi में). मूल से 27 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-03-27.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  7. "भाजपा को बड़ा झटका: यूपी का सबसे बड़ा वोट बैंक भाजपा के खिलाफ करेगा मतदान". www.patrika.com (hindi में). मूल से 27 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2019-10-15.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  8. "Minister's demand for Muslim Pradesh condemned", Times of India, 2006-07-19, मूल से 13 नवंबर 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 2009-07-24, "... demand is neither feasible nor proper," said Manzoor Ahmad, former vice-chancellor of Dr B R Ambedkar University, Agra ... Muslim population which is not more than 25% in Western UP. ...
  9. Mishra, Mayank (19 September 2013). "Why the Jat-Muslim coalition has fallen apart in UP". Business Standard. मूल से 25 जुलाई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 July 2018.
  10. A Glossary of the Tribes & Castes of Punjab by H. A Rose
  11. Ghaus Ansari (1960), Muslim caste in Uttar Pradesh: a study of culture contact (Volumes 12-13 of The Eastern anthropologist), Ethnographic and Folk Culture Society, 1960, मूल से 8 जनवरी 2014 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020, ... confined primarily to the Rohilkhand and Meerut divisions of Uttar Pradesh. Pathans are generally considered to have come either from Afghanistan or from the Pashto-speaking tribes of the North-West ...
  12. Bagaulia (2005), Encyclopaedia Of Human Geography (Set Of 3 Vols.), Anmol Publications PVT. LTD., 2005, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126124442, मूल से 8 जनवरी 2014 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020, ... Sikhs also settled down in the Terai region of Uttar Pradesh, transforming this once malaria-infested wetland into a granary of northern India ...
  13. Aijazuddin Ahmad (2009), Geography of the South Asian subcontinent: a critical approach, Concept Publishing Company, 2009, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788180695681, मूल से 28 मई 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020, ... These differences are caused by the depositional work of rivers, local climates, natural vegetation cover and the soil. Even the difference between the plains of western Uttar Pradesh and eastern Uttar Pradesh is quite well marked ...
  14. A.K. Kolay (2007), Soil Genesis, Classification Survey And Evaluation, Volume 2, Atlantic Publishers & Distributors, 2007, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126908035, मूल से 28 मई 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020, ... ...
  15. M. Hanif (2005), Encyclopaedia of Agricultural Geography, Anmol Publications Private Limited, 2005, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9788126124824, मूल से 28 मई 2013 को पुरालेखित, अभिगमन तिथि 23 जनवरी 2020, ... Loess is the finest particle of sand carried by winds from desert (Thar desert) to the neighbouring areas of Haryana, Punjab, western Uttar Pradesh and western Madhya Pradesh. Here a thin layer of loess particles ...
  16. Ajit Prasad Jain and Shiba Prasad Chatterjee, "Report of the Irrigation Commission, 1972", Ministry of Irrigation and Power, Government of India, 1972.
  17. "Western disturbances herald winter in Northern India". The Hindu Business Line. 2005-11-17. मूल से 14 February 2009 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2008-10-20.
  18. R.K. Datta (Meteorological Office, Dum Dum) and M.G. Gupta (Meteorological Office, Delhi), "Synoptic study of the formation and movements of Western Depressions", Indian Journal of Meteorology & Geophysics, India Meteorological Department, 1968.
  19. A.P. Dimri, "Models to improve winter minimum surface temperature forecasts, Delhi, India", Meteorological Applications, 11, pp 129-139, Royal Meteorological Society, Cambridge University Press, 2004.