परियोजना 28- पनडुब्‍बीरोधी युद्धक कॉर्वेट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

परियोजना 28 भारतीय नौसेना की महत्वाकांक्षी परियोजनाओं में से एक है जिसके अंतर्गत 4 स्‍टेल्‍थ पनडुब्‍बीरोधी (एंटी-सबमरीन) युद्धक कॉर्वेट्स बनाए जाएंगे।[1] इस परियोजना के अंतर्गत निर्मित प्रथम पोत आईएनएस कामोर्ता को 23 अगस्त 2014 को नौसेना में शामिल किया गया।[2] 7852 करोड़ रु०[3] की लागत वाली इस परियोजना का संचालन भारतीय नौसेना के नौसेना डिज़ाइन निदेशालय द्वारा किया जा रहा है तथा पोतों का निर्माण गार्डन रीच शिपबिल्डर्स एण्ड इंजीनियर्स लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है।

आईएनएस कमोर्टा[संपादित करें]

आईएनएस कामोर्ता भारतीय नौसेना के नौसेना डिज़ाइन निदेशालय द्वारा परियोजना 28 के अंतर्गत बनाए जा रहे 4 स्‍टेल्‍थ पनडुब्‍बीरोधी कॉर्वेट्स में से पहला है। 90% स्वदेशी साज़ोसामान के साथ निर्मित इस पोत को 23 अगस्त 2014 को नौसेना में शामिल किया गया।[1]

आईएनएस कदमट्ट[संपादित करें]

आईएनएस कदमट्ट भारतीय नौसेना का एक पनडुब्बी निरोधी युद्धपोत है जिसका जलावतरण 7 2016 को किया गया। यह परियोजना 28 (प्रोजेक्ट 28, पी28) के अंतर्गत दूसरा पोत है।[4]

आईएनएस किलतान[संपादित करें]

आइ.एन.एस किलतान (P30) भारतीय नौसेना का एक पनडुब्बी रोधी लघु युद्धपोत (कार्वेट) है जिसे परियोजना 28 के तहत बनाया गया है। यह भारतीय नौसेना द्वारा अन्तर्ग्रहण के विभिन्न चरणों में कमोर्ता श्रेणी के चार युद्धपोतों में से तीसरा है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "First Indigenously Built Stealth Anti-Submarine Warfare Ship- INS Kamorta- Commissioned". पत्र सूचना कार्यालय, भारत सरकार. 23 अगस्त 2014. अभिगमन तिथि 25 अगस्त 2014.
  2. "देश में बने पहले स्‍टेल्‍थ पनडुब्‍बी-रोधी लड़ाकू जहाज आईएनएस कामोर्ता का जलावतरण". पत्र सूचना कार्यालय, भारत सरकार. 23 अगस्त 2014. अभिगमन तिथि 25 अगस्त 2014.
  3. http://timesofindia.indiatimes.com/india/Navy-to-commission-two-ships-next-month/articleshow/38232147.cms
  4.  http://pib.nic.in/newsite/hindirelease.aspx?relid=44141