पद्माभरण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पद्माभरण पद्माकर की एक काव्य-रचना है। इसमें 350 छंद हैं, जिनमें से अधिकांश दोहे और कुछ चौपाइयाँ हैं।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. उत्तर मध्यकाल (रीति काल : संवत् 1700-1900), "... ऐसा जान पड़ता है कि जयपुर में ही इन्होंने अपना अलंकार ग्रंथ 'पद्माभरण' बनाया जो दोहों में है।.."
  2. A History of Indian literature, Volume 8, Part 1, Ronald Stuart McGregor, Otto Harrassowitz Verlag, 1984, ISBN 978-3-447-02413-6.