पद्मसम्भव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
पद्मसम्भव
Guru - Boudha.jpg
Padmasambhava statue at Ghyoilisang peace park, बौद्धनाथ
जन्म Oddiyana
व्यवसाय Vajra master
प्रसिद्धि कारण Credited with founding the Nyingma school of Tibetan Buddhism
भारत के सिक्किम में गुरू रिन्पोचे की प्रतिमा

पद्मसम्भव (तिब्बती: པདྨ་འབྱུང་གནས), (अर्थ: कमल से उत्पन्न) भारत के एक साधुपुरुष थे जिन्होने आठवीं शती में तांत्रिक बौद्ध धर्म को भूटान एवं तिब्बत में ले जाने एवं प्रसार करने में महती भूमिका निभायी। वहाँ उनको "गुरू रिन्पोछे" (बहुमूल्य गुरू) या "लोपों रिन्पोछे" के नाम से जाना जाता है। ञिङमा सम्प्रदाय के अनुयायी उन्हें द्वितीय बुद्ध मानते हैं।

ऐसा माना जाता है कि मंडी के राजा अर्शधर को जब यह पता चला कि उनकी पुत्री ने गुरु पद्मसंभव से शिक्षा ली है तो उसने गुरु पद्मसंभव को आग में जला देने का आदेश दिया, क्योंकि उस समय बौद्ध धर्म अधिक प्रचलित नहीं था और इसे शंका की दृष्टि से देखा जाता था। बहुत बड़ी चिता बनाई गई जो सात दिन तक जलती रही। इससे वहाँ एक झील बन गई जिसमें से एक कमल के फूल में से गुरु पद्मसंभव एक षोडशवर्षीय किशोर के रूप में प्रकट हुए।[1] यह झील आज के रिवालसर शहर में है जो हिमाचल प्रदेश के मंडी जिले में स्थित है।

स्थानीय मोनपा जनजाति के तिब्बती बौद्ध किंवदंतियों के अनुसार, चुमी ग्यात्से जलप्रपात, जिसे '108 झरने' के रूप में भी जाना जाता है, गुरु पद्मसंभव और बोनपा संप्रदाय के एक महायाजक के बीच एक पौराणिक प्रदर्शन के बाद बनाया गया था, जो तिब्बत और अरुणाचल सहित आसपास के क्षेत्रों में सर्वोच्च शासन करता था। बौद्ध-पूर्व काल में प्रदेश। जलप्रपात तब बना था जब गुरु पद्मसंभव ने एक चट्टान पर अपनी माला फेंकी थी और 108 धाराएं निकली थीं।[2] चुमी ग्यात्से जलप्रपात तिब्बती बौद्धों मोनपाओं के लिए पूजनीय और पवित्र है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "One version of the Buddhist legend". मूल से 13 अगस्त 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि September 3, 2006.
  2. "Border Clash: India's Tourism Push Near Yangtze, Holy Site for Arunachal and Tibet, Riled Up the Chinese?".

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]