पतरातू सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पतरातू सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट
पतरातू सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट की झारखण्ड के मानचित्र पर अवस्थिति
पतरातू सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट
Location of the Patratu Super Thermal Power Station
देशभारत
स्थानपतरातू, रामगढ़ जिला, झारखंड
निर्देशांक23°40′N 85°17′E / 23.67°N 85.28°E / 23.67; 85.28निर्देशांक: 23°40′N 85°17′E / 23.67°N 85.28°E / 23.67; 85.28
स्थितिunder-construction
निर्माण शुरूMay 2018
स्वामित्वएनटीपीसी लिमिटेड
ताप विद्युत केंद्र
प्राथमिक ईंधनCoal
विद्युत उत्पादन
इकाइयाँ परिचालन3 X 800 MW(Stage 1) 2 X 800 MW(Stage1) under construction
बनाओ और प्रणालीभारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड
नेमप्लेट क्षमता4,000 MW upcoming

पतरातू सुपर थर्मल पावर परियोजना निर्माणाधीन है। यह 4000 मेगावाट (800 मेगावॉट × 5) है, जो पतरातू, रामगढ़ जिला, झारखंड में स्थित है।[1] यह मौजूदा पतरातू थर्मल पावर स्टेशन के साथ उपलब्ध 6300 एकड़ में से 1859 एकड़ का उपयोग करेगा। 25 मई 2018 को, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सिंधरी में एक कार्यक्रम में झारखंड के रामगढ़ जिले में पतरतु सुपर थर्मल पावर प्रोजेक्ट की 2,400 मेगावाट (एम॰वी॰) क्षमता के पहले चरण की नींव रखी।[2] एक अप्रैल 2016 को पी॰टी॰पी॰एस॰ प्लांट की चिमनियों ने धुआं उगलना बंद कर दिया था। इसकी जर्जर की स्थिति को देखते हुए झारखंड सरकार ने पतरातू में बिजली उत्पादन के लिए एन॰टी॰पी॰सी॰ के साथ ऐतिहासिक समझौता कर नया पावर प्लांट खोलने की योजना तैयार की। एक अप्रैल 2016 से झारखंड बिजली वितरण निगम (जे॰बी॰वी॰एन॰एल॰) और नेशनल थर्मल पावर कॉरपोरेशन (एन॰टी॰पी॰सी॰ लिमिटेड) का संयुक्त उपक्रम पीवीयूएनएल का संचालन कर रहा है। जे॰बी॰वी॰एन॰एल॰ और एन॰टी॰पी॰एस॰ की सहमति से जनवरी 2017 से ही पतरातू थर्मल पावर प्लांट स्टेशन (पी॰टी॰पी॰एस॰) से बिजली का उत्पादन बंद कर दिया था।[3] नये ज्वाइंट वेंचर पी॰वी॰यू॰एन॰एल॰ द्वारा पुरानी आधारभूत संरचना को हटा कर नया प्लांट तैयार करने के बाद से ही पतरातू से बिजली उत्पादन शुरू किया जा सकेगा।

पतरातू परियोजना झारखंड सरकार और पतरातू विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड की 26 प्रतिशत हिस्सेदारी के 74 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ एक संयुक्त उद्यम है। पी॰वी॰यू॰एन॰एल॰ एन॰टी॰पी॰सी॰ की सहायक कंपनी है। पी॰वी॰यू॰एन॰एल॰ इस चरण को 2,400 मेगावाट क्षमता के साथ दो चरणों में विकसित करने की योजना बना रहा है जिसमें प्रथम चरण में 800 मेगावाट क्षमता की तीन इकाइयाँ और 1,600 मेगावाट की कमी होगी, जिसमें चरण -2 में प्रत्येक की 800 मेगावॉट क्षमता होगी।[4] यह परियोजना झारखंड से उत्पन्न बिजली का 85 प्रतिशत आवंटित करेगी। परियोजना का पहला चरण लगभग 18,000 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत पर स्थापित किया जाएगा। एन॰एन॰पी॰सी॰ ने परियोजना के इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट एंड कंस्ट्रक्शन (ईपीसी) अनुबंध से भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड(बी॰एच॰ई॰एल॰) को सम्मानित किया है।[5][6] इसकी पहली इकाई 2022 में शुरू होने की उम्मीद है।[7] अन्य दो इकाइयों को बाद में एक वर्ष के भीतर शुरू किया जाएगा।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "PM Modi inaugurates NTPC's Rs 18,000 crore Patratu thermal power plant in Jharkhand". मूल से 27 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.
  2. "पतरातू में 4000 मेगावाट के नए पावर प्लांट का शिलान्यास". मूल से 27 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.
  3. "पतरातू थर्मल पावर स्टेशन पर बिजली उत्पादन ठप". मूल से 27 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.
  4. "बंद हो गया पतरातू थर्मल पावर स्टेशन, बिजली उत्पादन ठप". मूल से 28 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.
  5. "भेल बनायेगा नया पावर प्लांट झारखंड को मिलेगी 85 % बिजली, होगा 18000 करोड़ का निवेश". मूल से 28 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.
  6. "BHEL wins Rs.11,700 Crore order for 3x800 MW Supercritical Power Plant in Jharkhand". मूल से 28 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.
  7. "पीवीयूएनएल सुपर पावर प्लांट के ऑनलाईन शिलान्यास का गवाह बने पतरातू के हजारों लोग". मूल से 27 मई 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 27 मई 2018.