पटना या कम्पनी शैली

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
भिस्ती

पटना कलम एक प्रमुख भारतीय चित्रकला शैली हैं। तत्कालीन जनसामान्य के आम पहलुओं के चित्रण के लिए प्रसिद्ध पटना या कम्पनी चित्रकला शैली का विकास मुगल साम्राज्य के पतन के बाद हुआ जब चित्रकारों ने पटना तथा उसके समीपवर्ती क्षेत्रों को अपना विषय बनाया। इन चित्रकारों द्वारा चित्र बनाकर ब्रिटेन भी भेजे गये जो आज भी वहां के संग्रहालयों में विद्यमान हैं।

पटना कला शैली के प्रमुख चित्रकार महादेव लाल है।

पटना कमल चित्रकला-लघु चित्र है,मुख्यता कागज एवम् हाँथी दाँत पर चित्रों का निर्माण किया जाता है!

चित्रों में आम जनजीवन से संबंधित विषयो को महत्व दिया है,जैसे-त्योहार,बाज़ार,किसान,बढ़ई इत्यादि के कार्यों का दृष्य मिलता है।

इसके प्रमुख संरक्षक थे कम्पनी के कर्मचारी अधिकारी,इसके अधीन ही पटना कमल चित्रकला का विकास हुआ।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]