पख्तून तहफ्फुज मूवमेंट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
पख्तून तहफ्फुज मूवमेंट
(पख्तून रक्षा आन्दोलन)
پښتون ژغورنې غورځنګ
150px
संक्षेपाक्षर PTM[1]
सिद्धांत
  • ये जो दहशतगर्दी है, इसके पीछे वर्दी है[1]
  • दा संगा आजादी दा? (ये कैसी आजादी है?)[1]
प्रकार मानवाधिकार आन्दोलन
उद्देश्य

पख्तूनों की रक्षा तथा अधिकार

अध्यक्ष
मंजूर पश्तीन
Formerly called
महसूद तहफुज मूवमेन्ट (मई 2014 से जनवरी 2018 तक)[1]

पख्तून तहफ्फुज मूवमेंट (पश्तो: پښتون ژغورنې غورځنګ, उर्दू: پشتون تحفظ تحریک; abbreviated PTM), या पख्तून रक्षा आन्दोलन, पाकिस्तान के खैबर-पख़्तूनख्वा तथा बलूचिस्तान प्रान्तों में चल रहा सामाजिक आन्दोलन है जिसका उद्देश्य पख्तूनों के मानवाधिकारों की रक्षा करना है। पहले इसका नाम महसूद तहफ्फुज था और इसकी स्थापना मई २०१४ में गोमल विश्वविद्यालय के आठ छात्रों ने की थी।[5][1] जनवरी २०१८ में यह आन्दोलन बहुत मुखर हुआ जब इसने नकीबुल्लाह महसूद की हत्या के लिए एक न्याय आन्दोलन आरम्भ किया। [6] जनवरी २०१८ के अन्त में जब यह आन्दोलन पख्तूनों के बीच प्रसिद्ध हो गया तब इसके नाम में जो 'महसूद' शब्द था उसे हटाकर 'पख्तून' कर दिया गया। 'महसूद', वजीरिस्तान की एक जनजाति का नाम है। इस आन्दोलन ने पाकिस्तान सरकार और इसकी सेना के नाम अनेकों मांगे रखी जिनमें राव अनवर को सजा देना भी शामिल है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Anatomy of a political moment". Himal Southasian. 15 June 2018. अभिगमन तिथि 25 August 2018.
  2. PTM seeks formation of commission on extrajudicial killings. Dawn. April 23, 2018.
  3. Produce missing persons in courts, says PTM. Dawn. April 30, 2018.
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; DW नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. "د پښتنو منظور پښتون له کومه راغی؟". BBC Pashto (पश्तो में). 2018-03-11. अभिगमन तिथि 2018-03-12.
  6. "Young Pashtuns have shown the mirror to 'mainstream' Pakistan". Daily Times (अंग्रेज़ी में). 2018-02-11. अभिगमन तिथि 2018-02-12.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]