पंजाबी किस्से

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

पंजाबी किस्से पंजाबी भाषा की मौखिक कहानी की परंपरा है जो स्थानीय लोगों, अरब प्रायद्वीप के प्रवासियों और समकालीन ईरान के प्रवासियों के मिश्रण के साथ दक्षिण एशिया में आई है।

हालांकि क़िस्से मुसलमानों के बीच प्रेम, वीरता, सम्मान और नैतिक अखंडता की लोकप्रिय कहानियों को प्रसारित करने की एक इस्लामी और / या फारसी विरासत को प्रतिबिंबित करते हैं। लेकिन जब वह भारत पहुँचें तो उन्होंने पूर्व-इस्लामिक पंजाबी संस्कृति के मौजूदा तत्वों और लोकगीतों को अपने अंदर सम्मलित कर लिया।

व्युत्पत्ति[संपादित करें]

क़िस्सा एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ है 'महाकाव्य कथा' या 'लोक कथा'। इसने दक्षिण एशिया की लगभग सभी भाषाओं को प्रभावित किया है और यह पंजाबी, बंगाली, गुजराती, उर्दू और हिंदी जैसी भारतीय भाषाओं में सामान रूप से प्रयोग होता है। यदि इसका अनौपचारिक रूप से उपयोग किया जाता है, तो शब्द का अर्थ 'दिलचस्प कहानी' या 'कल्पित कहानी' है।

पंजाबी संस्कृति में[संपादित करें]

पंजाबी भाषा क़िस्से के अपने समृद्ध साहित्य के लिए प्रसिद्ध है, जिनमें से अधिकांश प्रेम, जुनून, विश्वासघात, बलिदान, सामाजिक मूल्यों और मौजूदा प्रणाली के खिलाफ एक आम आदमी के विद्रोह के बारे में हैं। पंजाबी परंपरा में, दोस्ती, वफादारी, प्यार और 'क़ौल' (मौखिक समझौता या वादे) को अत्यधिक महत्व दिया जाता है और इन महत्वपूर्ण तत्वों पर क़िस्सो में अधिकांश कहानियाँ हैं।

किस्से को पंजाबी में लोक संगीत को प्रसिद्ध करने का जिम्मेदार ठहराया जाता है। इन परंपराओं का मौखिक या लिखित रूपों में पीढ़ियों से चलन है और अक्सर इन्हें बच्चों के सोते वक्त कहानियों के रूप में बताया जाता था या लोक गीतों के रूप में संगीतमय प्रदर्शन किया जाता था। वारिस शाह का (1722–1798) ‘हीर राँझा’ का क़िस्सा सबसे प्रसिद्ध क़िस्सों में से एक है।

सन्दर्भ[संपादित करें]