नौरादेही वन्य अभयारण्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
नौरादेही वन्य अभयारण्य
Nauradehi Wildlife Sanctuary
नौरादेही वन्य अभयारण्य की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
नौरादेही वन्य अभयारण्य की अवस्थिति दिखाता मानचित्र
मध्य प्रदेश में स्थान
अवस्थितिमध्य प्रदेश, भारत
निर्देशांक23°35′20″N 79°12′50″E / 23.589°N 79.214°E / 23.589; 79.214निर्देशांक: 23°35′20″N 79°12′50″E / 23.589°N 79.214°E / 23.589; 79.214
क्षेत्रफल1,197 कि॰मी2 (1.288×1010 वर्ग फुट)
स्थापित1975
शासी निकायवन विभाग, मध्य प्रदेश

नौरादेही वन्य अभ्यारण्य (Nauradehi Wildlife Sanctuary) भारत के मध्य प्रदेश राज्य में स्थित एक वन्य अभ्यारण्य है। 1,197 वर्ग किलोमीटर (462 वर्ग मील) पर विस्तारित यह संरक्षित क्षेत्र राज्य के सागर, दमोह, नरसिंहपुर और रायसेन ज़िलों पर फैला हुआ है। यह जबलपुर से 90 किमी और सागर से 56 किमी दूर स्थित है। यहाँ पर चीता को पुनर्स्थापित करने के लिए विचार करा जा रहा है।[1][2][3]

विवरण[संपादित करें]

इस अभयारण्य में ट्रैकिंग, एडवेंचर और वाइल्ड सफारी का आनंद लिया जा सकता है। नौरादेही अभयारण्य की स्‍थापना सन् 1975 में की गई थी। यह करीब 1200 वर्ग किमी क्षेत्र में फैली है। इस सेंक्चुरी में वन्यजीवों की भरमार है, जिनमें तेंदुआ मुख्य है। एक समय यहां कई बाघ भी पाए जाते थे लेकिन संरक्षण नहीं मिलने के कारण वे लुप्त हो गये थे परंतु राज्य सरकार द्वारा बाघौं की संख्या बढ़ाने के प्रयास के अंतर्गत 2018 में फिर बाघ और बाघिन को यहा छोड़ा गया। अभी नौरादेही में बाघों की संख्या 5 है। बाघों की तरह तेंदुओं को भी संरक्षण की जरूरत है क्योंकि तेंदुऐ भी यहां लुप्त होने कि कगार पर है। चिंकारा, हिरण, नीलगाय, सियार, भेडि़या, लकड़बघ्घा ,जंगली कुत्ता, रीछ, मगर, सांभर,मोर, चीतल तथा कई अन्य वन्य जीव इस क्षेत्र में पाए जाते हैं। वनविभाग इसके संरक्षण का काम करता है।

यहाँ पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कुछ नई योजनाएं बनाई गई हैं। नौरादेही सेंक्‍चुरी में पहुंचने के लिए डीजल या पैट्रोल स चलने वाले ऐसे किसी भी वाहन के प्रयोग की छूट है जो पांच वर्ष से अधिक पुराना ना हो। यह MP राज्य का सबसे बडा अभ्यारण है। इसमे सागौन,साल,बांस और तेंदु के पेड बहुत मात्रा में पाये जाते है। यहाँ मृगन्नाथ की गुफाएँ बहुत ही रोमान्चक तथा धार्मिक है। नये जंगली पक्षी - डस्की ईगल ओउल ,पेंडेट सैडग्राउज ,जो पहली बार अभ्यारण में देखे गए गिद्धों की 3 प्रजातियां इंडडियन पिट्टा किंग वल्चर इंडियन वल्चर सामने आई है प्रमुख पक्षियों मैं सिने रस टीट,मोर ग्रीन सैड पाइपर क्रेस्टेड ट्रीरिवफ्ट क्रेस्टेड वॉर्डिंग सल्फर वैली बाँब्लर पैंटेड स्टार्क यूरिशियन डार्टर ब्राउन ओउल बोनिली ईगल ओरियंटल हनीबजार्ड भी देखे गये।

यह क्षेत्र का सबसे बड़ा वन ब्लॉक है। यहाँ भारत के दो प्रमुख नदी घाटियों को गंगा और नर्मदा से घेर लिया गया है। डब्ल्यूएलएस का तीन चौथाई यमुना [गंगा] में और एक चौथाई डब्ल्यूएलएस नरमाड़ा बेसिन में पड़ता है। इस प्रकार यह अद्वितीय पीए पर है जहां इस तरह के महान संक्रमणकालीन जैव विविधता मूल्य मौजूद हैं। (पीए के अंदर स्थित 70 गांवों के बावजूद)। NWLS न केवल इस क्षेत्र की जैव विविधता संरक्षण का ध्यान रखता है, बल्कि इस क्षेत्र की सांस्कृतिक विविधता को भी संरक्षित करता है, बल्कि इस क्षेत्र की सांस्कृतिक विविधता को भी संरक्षित करता है और इसके विशाल वनाच्छादित जलग्रहण के माध्यम से सभी उद्देश्यों के लिए पानी की आवश्यकता को पूरा करता है और इस तरह स्थानीय अर्थव्यवस्था में जोड़ता है एक शानदार तरीके से। यहाँ का वन पथ ठेठ विंध्यन प्रकार का है। यह शुष्क पर्णपाती प्रकार है, कई पैच में इसकी प्रमुख प्रजातियों के रूप में टीक के साथ। कोपरा बामनेर और बेर्मा नदी पीए और उसके आस-पास उत्पन्न होती हैं और अभयारण्य में और इसके आसपास मानव निवास और वन्य जीवन के लिए मुख्य जल पाठ्यक्रम हैं। मुख्य पुष्प तत्वों में सागौन, साजा, धौरा, भीरा, बेर और आंवला आदि शामिल हैं।

जड़ी-बूटियों की श्रेणी में प्रमुख पशु तत्व में नीलगाय, चिंकारा, चीतल, सांभर, काला बक, बार्किंग हिरण, कॉमन लंगूर और रीसस मैकाक शामिल हैं। सरीसृपों की विविधता में ताजे पानी के कछुए, स्थलीय कछुआ मोनिटर छिपकली और ताजे पानी के मगरमच्छ और सांप शामिल हैं। पक्षियों के एक छोटे से सर्वेक्षण में एवियन आबादी की समृद्धि का पता चला है जिसमें सबसे दुर्लभ पक्षी में से एक है स्पॉटेड ग्रे क्रीपर (सालपोनिस स्पिलोनोटोस)। अन्य महत्वपूर्ण निवासी और प्रवासी पक्षी समूहों में स्टॉर्क (चित्रित, एडजुटेंट, ओपनबिल्ड), क्रेन, एग्रेस, लापविंग्स, गिद्ध, पतंग, उल्लू, किंगफिशर, ईगल, पैट्रिज, बटेर, कबूतर आदि शामिल हैं। अभयारण्य के मांसाहारियों के स्पेक्ट्रम को देखा जाता है। इसमें टाइगर, पैंथर्स, इंडियन वुल्फ, वाइल्डडॉग, जैकल, ग्रे फॉक्स, कॉमन ओटर शामिल हैं। इस अभयारण्य में एक बाघ या पैंथर का दिखाई देना एक कठिन प्रस्ताव है। उच्च जैविक दबाव और मानव उपस्थिति के कारण वे बहुत अधिक मायावी हो गए हैं। लेकिन इन दो बड़ी बिल्लियों के सबूत हर जगह देखने के लिए हैं। हाइना और स्लॉथ बियर आम हैं।

नौरादेही प्रबंधन ने अपने प्रमुख शिकारी स्वभाव के कारण इंडियन वुल्फ (कैनिस ल्यूपस पल्लिप्स) को अपने प्रमुख पत्थर की प्रजातियों के रूप में चुना और NWLS के मोनो पर श्रेय दिया। अभयारण्य का एक और महत्व प्रजातियों की समृद्धता में है और जहां सूचीबद्ध कुत्ते के प्रतिनिधित्व की संख्या अधिक है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sumit K Sen. "Part 3: Central & Western India". Geographical locations of protected places in India Using Latitude and Longitude coordinates. Kolkatabirds. अभिगमन तिथि 2012-02-12.
  2. "Inde du Nord: Madhya Pradesh et Chhattisgarh Archived 2019-07-03 at the Wayback Machine," Lonely Planet, 2016, ISBN 9782816159172
  3. "Tourism in the Economy of Madhya Pradesh," Rajiv Dube, Daya Publishing House, 1987, ISBN 9788170350293