नीलम सक्सेना चंद्रा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
नीलम सक्सेना चंद्रा
Neelam Chandra Saxena.jpg
नीलम सक्सेना चंद्रा
जन्म27 जून 1969
नागपुर, महाराष्ट्र, भारत
व्यवसायलेखिका, प्रशासनिक अधिकारी
भाषाअंग्रेजी, हिंदी
राष्ट्रीयताभारतीय Flag of India.svg
उच्च शिक्षाविश्वेश्वरय्या राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान
विधाकविता, कहानी
उल्लेखनीय सम्मानरबिन्द्रनाथ टैगोर अन्तराष्ट्रीय पुरस्कार
प्रेमचंद पुरस्कार
सन्तानसिमरन चंद्रा
जालस्थल
http://www.neelamsaxenachandra.in/

नीलम सक्सेना चंद्रा (जन्म २७ जून, १९६९) एक प्रसिद्ध भारतीय उपन्यासकार, लेखिका, कवियित्री, गीतकार एवं बाल साहित्यकार हैं।[1] इनकी अब तक कुल २७ पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। वे अंग्रेजीहिंदी दोनों भाषाओ में लिखती हैं। वर्ष २०१४ में इन्हें प्रतिष्ठित रबिन्द्रनाथ टैगोर अन्तराष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[2][3][4] फोर्ब्स इंडिया की १०० सबसे प्रभावशाली हस्तियों की सूची (२०१४ संस्करण) में इनका नाम है।[5]

जीवन परिचय[संपादित करें]

नीलम सक्सेना का जन्म वर्ष १९६९ में महाराष्ट्र के नागपुर शहर में माता श्रीमती शशि सक्सेना और पिता स्व. संतोष सक्सेना के यहाँ हुआ। विश्वेश्वरय्या राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान, नागपुर से इंजीनियरिंग के बाद इन्होनें ह्युमन रिसोर्स डेवलपमेंट तथा वित्तीय प्रबंधन में पी.जी. डिप्लोमा किया। वें भारतीय अभियांत्रिकी सेवा (IES) की परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात भारतीय रेल सेवा से जुड़ गई। सिमरन चंद्रा नाम की इनकी एक पुत्री है। वर्तमान मे वेें दिल्ली मे विद्यमान है।

करियर[संपादित करें]

नीलम सक्सेना चंद्रा को रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा कहानी संग्रह ‘रिश्ते मोहब्बत के’ एवं बाल संग्रह ‘सुंदरवन की कहानियां’ के लिए प्रेमचंद पुरस्कार से नवाजा गया है। इन्हें अमेरिकी दूतावास द्वारा आयोजित काव्य प्रतियोगिता में गुलज़ार द्वारा वर्ष २०१० में पुरस्कार प्रदान किया गया। इन्होंने गीतकार के रूप में भी कुछ गीत लिखे हैं।[6] संगीतकार शंकर टकर द्वारा निर्मित और नीलम चंद्रा द्वारा लिखे गीत ‘मेरे साजन सुन सुन’ को रेडियो सिटी फ्रीडम पुरस्कार प्राप्त हुआ।[7][8] विभिन्न विधाओ में अब तक इनकी कविताओं और कहानियों की दो दर्जन से भी अधिक पुस्तके प्रकाशित हो चुकी है। दो बार लिम्का बुक ऑफ़ रिकार्ड्स में भी नाम दर्ज हैं।

प्रकाशित कृतियाँ[संपादित करें]

काव्य संग्रह[संपादित करें]

  • टेल्स ऑफ़ इअन (२०१५)
  • ट्रांससेंडिंग हार्ट्स (२०१५)
  • सैण्ड्स ऑफ़ टाइम (२०१५)
  • दिल से (२०१५)
  • प्रीत पाखी (२०१५)
  • आशा के पंख (२०१५)
  • जिंदगी के कलम से (२०१४)
  • विंटर शैल फेड (२०१४)
  • द पर्पल मून (२०१४)
  • द डेलिकेट विंग्स (२०१४)
  • लेयर्स ऑफ़ फ्लिकेरिंग लाइट्स (२०१३)
  • ह्यूस ऑफ़ लव (२०१३)
  • सिलवेट ऑफ़ रेफ्लेक्शन्स (२०१३)
  • टाँके है कुछ सितारे (२०१५)
  • बुलबुले ख्यालों के (२०१५)

कहानी संग्रह[संपादित करें]

  • प्लक आउट ऑफ़ द हार्ट (२०१५)
  • कास्केट ऑफ़ स्टोरीज (२०१५)
  • एस अ बिगनिंग फॉर अ बेगिनेर (२०१५)
  • गीत गाता चल (२०१५)
  • स्काइलाइन्स (२०१४)
  • हर स्टोरी (२०१४)
  • रिश्ते मोहब्बत के (२०१३)
  • मैं हवा हो गयी हूँ (२०१६)
  • बटरफ्लाइस ऑफ होप (२०१६)

बाल कहानी संग्रह[संपादित करें]

  • पंखुड़ियां (२०१३)
  • सुंदरवन की कहानियाँ (२०११)
  • चन्दा (२०१०)
  • पाँच कहानियाँ (२००९)
  • ताविशी के तारे (२०१५)
  • तितलियों के लोक में (२०१५)
  • रज्जो, रानो और सूरजमुखी (२०१६)

उपन्यास[संपादित करें]

  • कैन आई हैव दिस चांस (२०१४)
  • सोल सीकर्स (२०१३)
  • ट्रैचेरस लेडी (२०१२)

सम्मान/पुरस्कार[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Book Review: Neelam Saxena Chandra's Silhouette of Reflections" (PDF). The Criterion-monthly magazine-vol.5, issue 1. February 2014. अभिगमन तिथि July 15, 2014.
  2. "3rd Rabindranath Tagore Award - 2014 - xpresspublications". xpresspublications. अभिगमन तिथि 2014-04-08.
  3. "The Rainbow Hues (2014): A wonderful mingling of creativity and scholarship with a social message". Merinews. October 25, 2015.
  4. "Exclusive Interview with Neelam Saxena Chandra". Spectral Hues. December 25, 2013.
  5. Forbes India Celebrity 100 Nominees List for 2014, Forbes India, Nov 26, 2014
  6. Novelist:Neelam Saxena Chandra Novelist:Neelam Saxena Chandra, The Spark Times, January 11, 2014
  7. ""Mere Saajan Sun Sun" - Shankar Tucker ft. Shweta Subram". अभिगमन तिथि 2014-04-08.
  8. "Radio City Freedom Awards". Planetradiocity. 2013-05-30. अभिगमन तिथि 2014-04-08.
  9. "The latest whole novel was completed in two months straight: Interview with Neelam Saxena Chandra". Merry Brains. August 12, 2014.
  10. "Most English and Hindi books published in a year". Limca Book of Records. November 19, 2015.
  11. "First mother'n'daughter poetry book". Limca Book of Records. November 19, 2015.
  12. "CBSE results: Lucknow boy Anirudh Deb tops in Allahabad region". हिन्दुस्तान टाईम्स. May 25, 2015.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]