नीरद चंद्र चौधरी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नीरद चंद्र चौधुरी (बंगला : নীরদ চন্দ্র চৌধুরী नीरदचन्द्र चौधुरी ; 23 नवम्बर 1897 – 1 अगस्त 1999) बंगाल के एक विद्वान एवं अंग्रेजी-लेखक थे। इनके द्वारा रचित एक जीवनी स्कॉलर एक्स्ट्राऑर्डिनरी के लिये उन्हें सन् 1975 में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित किया गया।[1]

कृतियाँ[संपादित करें]

बांग्ला[संपादित करें]

  • बंगाली जीबने रमणी (बंगाली जीवन में नारी की भूमिका)
  • आत्मघाती बंगाली
  • आत्मघाती रबीन्द्रनाथ
  • आमार देबोत्तर सम्पत्ति (My Bequeathed Property)
  • निर्बाचित प्रबन्ध (चुने हुए निबन्ध)
  • आजी होते शतबर्ष आगे (सौ वर्ष पहले)

अंग्रेजी[संपादित करें]

  • The Autobiography of an Unknown Indian (1951)
  • A Passage to England (1959)
  • The Continent of Circe (1965)
  • The Intellectual in India (1967)
  • To Live or Not to Live (1971)
  • Scholar Extraordinary, The Life of Professor the Right Honourable Friedrich Max Muller, P.C. (1974)
  • Culture in the Vanity Bag (1976)
  • Clive of India (1975)
  • Hinduism: A Religion to Live by (1979)
  • Thy Hand, Great Anarch! (1987)
  • Three Horsemen of the New Apocalypse (1997)
  • The East is East and West is West (collection of pre-published essays)
  • From the Archives of a Centenarian (collection of pre-published essays)
  • Why I Mourn for England (collection of pre-published essays)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "अकादमी पुरस्कार". साहित्य अकादमी. अभिगमन तिथि 11 सितंबर 2016.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]