निश्चुताश्म

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

कन्दरा की छत से टपकता हुआ जल फर्श पर धीरे-धीरे एकत्रित होता रहता है। इससे फर्श पर भी स्तंभ जैसी आकृति बनने लगती है। यह विकसित होकर छत की ओर बढ़ने लगती हैं।