निरोध (बौद्ध धर्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

बौद्ध धर्म में निरोध एक मूल अवधारणा है। बुद्ध ने ज्ञान प्राप्त करने के बाद अपने पहले शिक्षण में जिन चार महान सत्यों की व्याख्या की थी, उसमें से यह तीसरा है। यह दुख और उसके कारणों का अंत है। थूबटेन चॉड्रन (बौद्ध भिक्षुणी) के अनुसार, निरोध सभी बुरे अनुभवों और उनके कारणों का अंतिम रूप से इस तरह गायब होना है कि वे दोबारा उभरकर नहीं आ सकें। [1]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. Thubten Chodron. Articles & Transcripts of Teachings on Lamrim: The Gradual Path to Enlightenment Archived 9 जुलाई 2014 at the वेबैक मशीन.. Dharma Friendship Foundation. (The Twelve Links, part 2 of 5)

सूत्रों का कहना है[संपादित करें]

  • Ajahn Sumedho (2002), The Four Noble Truths, Amaravati Publications