निठारवाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

निठारवाल एक जाट गोत्र है। यह लोग मुख्यतया राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली सहित भारत के उतरी राज्यों में निवास करते हैं. सीकर, राजस्थान के लोठू निठारवाल इस गोत्र के सबसे प्रसिद्ध व्यक्ति रहे हैं, जिन्होंने आखिरी सांस तक सामन्ती प्रथा के विरुद्ध व किसानों के हित के लिये जंग लड़ी.निठारवाल शब्द की उत्पत्ति वि सं 1241मे हूई। चौहान वंश के राजपूत राजा माणक राव सांभर नरेश के पुत्र लाखनराव के पुत्र नरबध राव से हुई।नरबध राव ने सांभर से चलकर आमेर रियासत में गांव बसाया विक्रम संवत 1241 में।जिसका नाम निठारा हुवा। और राज काज छोड़ कर खेती-बाड़ी करनें लगे और निठारा गांव से चलकर कई राज्यों में अपना बसेरा किया।यह सभी निठारवाल कहलाए।

सन्दर्भ[संपादित करें]