निकोलस जे॰ स्पीकमैन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

निकोलस जॉन स्पीकमैन (अंग्रेजी:Nicholas John Spykman)(जन्म 1893, मृत्यु 1943) डच मूल के अमेरिकी भूस्त्रातेजिक चिन्तक और येल विश्वविद्यालय में 'अंतर्राष्ट्रीय संबंध' विषय के प्रोफ़ेसर थे। उन्हें कन्टेनमेंट का पितामह कहा जाता है। स्पीकमैन ने परिधिभूमि (रिमलैंड) की संकल्पना का प्रतिपादन किया और यह बताया कि जो शक्ति रिमलैंड पर प्रभुत्व कर लेगी वही हृदयस्थल (हार्टलैण्ड) को नियंत्रित कर सकेगी।[1]

जीवन[संपादित करें]

निकोलस स्पीकमैन (हिंदी में जिसे गलती से स्पाइकमैन उच्चारण किया जाता है) का जन्म सन् 1893 में नीदरलैण्ड में हुआ था। उनके पिता का नाम क्लास स्पीकमैन और माता का नाम एलिजाबेथ वान वर्स्टेन्बर्ग था। उनकी शिक्षा अमेरिका में कैलिफोर्निया के बर्कले में हुई जहाँ उन्होंने 1921 में स्नातक और 1923 में पी॰ एच॰ डी॰ की डिग्री प्राप्त की।[2]

उनकी पत्नी एलिजाबेथ सी॰ स्पीकमैन (Elizabeth Choate Spykman) अंग्रेजी की लेखिका थीं जिन्हें उनके बाल उपन्यासों के लेखन लिये जाना जाता है। स्पीकमैन की दो बेटियाँ एंजेलिका और पैट्रीशिया हुईं।

स्पीकमैन 1928 से 1940 तक येल विश्वविद्यालय में स्टर्लिंग प्रोफ़ेसर के पद पर रहे और 1935 से 1940 तक अंतर्राष्ट्रीय संबंध विभाग के अध्यक्ष भी रहे। वे इस विभाग के संस्थापक अध्यक्ष थे। सन् 1943 में, न्यू हैवेन शहर में, निकोलस स्पीकमैन की कैंसर से असामयिक मृत्यु हो गयी।

विचार[संपादित करें]

स्पीकमैन अपने पूर्ववर्ती अमेरिकी सैन्य चिन्तक अल्फ्रेड थेयर महान और ब्रिटिश भूगोलवेत्ता हेल्फोर्ड जॉन मैकिण्डर के विचारों से प्रभावित थे। उन्होंने मैकिण्डर के ह्रदयस्थल सिद्धांत के सुधार के रूप में अपनी परिधिभूमि (Rimland) की संकल्पना का प्रतिपादन किया और यह बताया कि जो शक्ति रिमलैंड पर प्रभुत्व कर लेगी वही हृदयस्थल (हार्टलैण्ड) को नियंत्रित कर सकेगी।[3] स्पीकमैन का रिमलैंड, मैकिण्डर के इनर क्रीसेंट के क्षेत्र से मिलता है।

उनकी प्रसिद्द उक्ति है, "who controls the Rimland rules Eurasia, Who rules Eurasia controls destinies of the world."

स्पीकमैन ने अंतर्राष्ट्रीय संबंधों में शक्ति की भूमिका पर लिखा।[4]

कृतियाँ[संपादित करें]

पुस्तकें:

  • The Social Theory of Georg Simmel (1925)
  • विश्व राजनीति में अमेरिका की रणनीति (1942)[5]
  • शांति का भूगोल (1950) (मृत्यूपरांत)[6]

लेख:

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. पुष्पेश पंत - निकोलस स्पाइकमैन के विचार, इक्कीसवी शताब्दी संबंध, गूगल पुस्तक
  2. http://www.nndb.com/people/580/000360497/
  3. पुष्पेश पंत - निकोलस स्पाइकमैन के विचार, इक्कीसवी शताब्दी संबंध, गूगल पुस्तक
  4. निकोलस जे॰ स्पीकमैन, विश्व राजनीति में अमेरिका की रणनीति अंग्रेजी गूगल पुस्तक
  5. America's Strategy in World Politics: The United States and the Balance of Power
  6. The Geography of the Peace

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]