निंद्रा लकवा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

निंद्रा लकवा/पक्षाघात (अंग्रेज़ी: Sleep paralysis) एक परिघटना है जिसमें व्यक्ति निंद्रा में पड़ते समय या निंद्रा से निकलते समय कुछ समय के लिए हिलने, बोलने या कोई भी प्रतिक्रिया करने में असमर्थता महसूस करता है। कई सभ्यताओ में लोग इसे भूत पिसाच से जोड़कर देखते है और कोई प्रतिक्रिया करने में असमर्थता के कारण भयभीत हो जाते हैं। इस परिघटना की अबधि कुछ मिनट तक कि हो सकती है। यह एक बार या लगातार हो सकता है।यह समस्या आम है और अधिकांश तौर पर किसी गम्भीर समस्या की सूचक नहीं है। नींद वाला लकवा अक्सर उन लोगों को प्रभावित करता है जिन्हें बहुत ज़्यादा नींद आने का रोग (नार्कोलेप्सी) या सोते समय सांस रुक जाने का रोग (स्लीप एप्निया) होता है, लेकिन यह समस्या किसी को भी हो सकती है.[श्रेणी:मनोविज्ञान]]