नारेड़ा गौत्र

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नारेड़ा गोत्र मीणा समाज का महत्व पूर्ण गोत्र है, इस गोत्र की उत्पत्ति शेर अर्थात बाघ से जुड़ी हुई है, जिसे राजस्थानी भाषा में नाहर' कहते हैं, इसी कारण इस गोत्र का नाम पड़ा नारेड़ा।[1]

नारेड़ा गोत्र वाले मीणाओं के गांव[संपादित करें]

  1. सवाई माधोपुर जिले का झोंपड़ा गांव
  2. सवाई माधोपुर जिले का जगमोंदा गांव
  3. सवाई माधोपुर जिले का बगीना गांव
  4. टोंक जिले का दत्तवास गांव

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. पीयर लेश्चर (१९९९). Firmes et entreprises en Inde [भारतीय कंपनी एवं कंपनियाँ] (फ़्रेंच में). करथाला एडिशन. पृ॰ 92. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9782865379279.