नारायण सुर्वे

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

नारायण सुर्वे पद्म श्री से सम्मानित प्रसिद्ध मराठी कवि एवं सामाजिक कार्यकर्ता थे।

जीवन वृत्त[संपादित करें]

जन्म के कुछ दिनों के बाद ही नारायण सुर्वे के माता-पिता का निधन हो गया था। उनका जीवन मुंबई की गलियों में ही बीता। वे रोजी-रोटी चलाने के लिए दिहाड़ी पर छोटे-मोटे काम करते थे। सुर्वे प्रख्यात सामाजिक कार्यकर्ता भी थे। उन्होंने कई मजदूर संगठनों में काम किया था। 83 वर्ष की अवस्था में लंबी बीमारी के बाद 16 अगस्त 2010 को ठाणे में उनका निधन हो गया।

रचनाएँ[संपादित करें]

वर्ष 1966 में सुर्वे की पहली पुस्तक "माझे विद्यापीठ" (मेरा विश्वविद्यालय) प्रकाशित हुई थी।

पुरस्कार/सम्मान[संपादित करें]

  • 1998- पद्म श्री सम्मान, साहित्य और शिक्षा के क्षेत्र में योगदान के लिए

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]