नागवंशी राजवंश

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
नागवंशी राजवंश

 

83–1952 ई.
राजधानी खुखरागड़, (नवरतनगड़)दोइसागड़, रातु
भाषाएँ प्रकृत,
नागपुरी
धार्मिक समूह श्रमण धर्म,
बौद्ध धर्म
जैन धर्म
शासन पूर्ण राजशाही
राजा
 -  83- 177 ई. फणि मुकुट राय
 -  1950-1952 ई. लाल चिंतामणि शरण नाथ शाहदेव
इतिहास
 -  स्थापित 83
 -  अंत 1952 ई.
आज इन देशों का हिस्सा है:
Warning: Value not specified for "continent"

नागवंशी राजवंश ब्रिटिश भारत में रियासतों के कई शासकों में से एक थे। उनकी राजधानी वर्तमान के झारखंड राज्य के नवरतनगड़, खुखरागड़, रातू में थी। [1] [2][3][4][5]

नवरतनगड़

शासक[संपादित करें]

  • राजा फणि मुकुट राय (83- 177 ई.)
  • राजा मुकुट राय (177- 232)
  • राजा धट राय (232- 273)
  • राजा मदन राय (273- 326)
  • राजा प्रताप राय (326- 353)
  • राजा गोन्डु राय (548- 563)
  • राजा हरि राय (563- 601)
  • राजा गजराज राय (601- 627)
  • राजा सुन्दर राय (627- 635)
  • राजा मुकुन्द राय (635- 653)
  • राजा उदय राय (653- 710)
  • राजा कन्दन राय (710- 756)
  • राजा जगन राय (756- 772)
  • राजा भगन राय (772- 811)
  • राजा मोहन राय (811- 869)
  • राजा जगधट राय (869- 905)
  • राजा चन्द्र राय (905- 932)
  • राजा अन्दुन्द राय (932- 969)
  • राजा श्रीपती राय (969- 997)
  • राजा जोगन्द राय (997-1004)
  • राजा न्रुपेन्द्र राय (1004-1047)
  • राजा गन्धर्व राय (1047-1098)
  • राजा भिम कर्ण (1098-1132)
  • राजा जोश जश (1132-1180)
  • राजा जल-?-कर्ण (1280-1218)
  • राजा गो कर्ण (1218-1236)
  • राजा शिवदास कर्ण (1367-1389)
  • राजा उदय कर्ण
  • राजा प्रताप कर्ण (1451-1469)
  • राजा छत्र कर्ण (1469-1496)
  • राजा भिरात कर्ण (1497-1501)
  • राजा पानकेतु राय (1501-1512)
  • राजा बौदोशाल (1512-1530)
  • राजा मधु सिंह
  • राजा बैरीसाल (1599-1614)
  • राजा दुर्जन साल (1614-1615)(1627-1640)
  • राजा राम शाह (1640-1665)
  • राजा रघुनाथ शाह (1665-1706)
  • राजा यदुनाथ शाह (1706-1724)
  • राजा शिवनाथ शाह (1724-1733)
  • राजा उदयनाथ शाह (1733-1740)
  • राजा श्यामसुंदर नाथ शाह
  • राजा बलराम नाथ शाह
  • राजा महिनाथ शाह
  • राजा ध्रुपनाथ शाह
  • राजा देव नाथ शाह
  • राजा गोबिंद नाथ शाह देव (1806-1822)
  • महाराजा जगन्नाथ शाह देव (1817-1872)
  • महाराजा उदय प्रताप नाथ शाह देव (1872–1950)
  • महाराजा लाल चिंतामणि शरण नाथ शाहदेव (1950-1952)

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Eye on Nagvanshi remains - Culture department dreams of another Hampi at Gumla heritage site". www.telegraphindia.com. मूल से 14 फ़रवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 मार्च 2019.
  2. "Archaeologists uncover remains of ancient empire in Jharkhand". oneindia.com. 11 May 2009. मूल से 12 जनवरी 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 मार्च 2019.
  3. "The Lost Kingdom of Navratangarh". IndiaMike.com. मूल से 7 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-11-14.
  4. "1600s: Heera Raja and The Nagvanshis of Chotanagpur". india-historyofournation.blogspot.in. Ranchi. 2012-03-12. मूल से 17 मार्च 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2016-11-14.
  5. "चुटिया नाम एक, विभूतियां अनेक". www.prabhatkhabar.com. मूल से 30 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 30 मार्च 2019.