नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी
Nawazuddin Siddiqui - IIFA 2017 Green Carpet (36349709816) (cropped).jpg
2017 में सिद्दीकी
जन्म नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी
19 मई 1974 (1974-05-19) (आयु 44)
बुढ़ाना, उत्तर प्रदेश, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
व्यवसाय अभिनेता
जीवनसाथी अंजलि सिद्दीकी[1]
बच्चे 2
संबंधी शमास नवाब सिद्दीकी[2]
वेबसाइट
nawazuddinsiddiqui.com

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी एक भारतीय फ़िल्म अभिनेता हैं।[3][4] यह कई बॉलीवुड फ़िल्मों में कार्य कर चुके है।[5] जैसे ब्लैक फ्राइडे (२००४), न्यू यॉर्क (२००९), पीपली लाइव (२००९), कहानी (२०१०), मांझी: द माउंटेन मैन (2015), सेक्रेड गेम्स (2018), मंटो (2018), ठाकरे (2019) आदि।


कैरियर[संपादित करें]

इन्होंने बॉलीवुड में अपने अभिनय की शुरुआत 1999 में आमिर खान की मुख्य भूमिका वाली फिल्म, सरफरोश से की थी। इसके बाद ये राम गोपाल वर्मा की फिल्म शूल (1999), जंगल (2000) और राजकुमार हिरानी की मुन्ना भाई एमबीबीएस (2003) में भी नजर आए थे। मुंबई में आने के बाद इन्होंने टीवी धारावाहिकों में काम तलाशने की कोशिश की, पर कुछ खास सफलता नहीं मिली। इन्होंने एक छोटी फिल्म, द बायपास (2003) में इरफान खान के साथ काम किया था। 2002 से लेकर 2005 तक इनके पास ज़्यादातर समय कोई काम नहीं था। इन्हें रहने के लिए चार अन्य लोगों के साथ फ्लैट साझा करना पड़ता था। साल 2004 इनके लिए काफी दिक्कतों वाला था। किराये के पैसे न दे पाने के कारण इन्हें अपने एनएसडी सीनियर से रहने की अनुमति मांगनी पड़ी, और उन्होंने इस शर्त पर गोरेगांव के अपार्टमेंट में रहने की इजाजद दी कि वो उनके लिए भी खाना बनाएँ।

2009 में इन्हें देव-डी के इमोश्नल अत्याचार गाने में एक छोटे से रंगीला नाम के किरदार के रूप में काम मिला। इसी साल ये न्यू यॉर्क (2009) में भी दिखाई दिये। लेकिन इन्हें एक अभिनेता के रूप में पहचान अनुषा रिजवी की पीपली लाइव (2010) से मिली थी, जिसमें इन्हें एक पत्रकार की भूमिका मिली थी। 2012 में ये प्रशांत भार्गव के पतंग: द काइट (2012) में दिखाई दिये। इस फिल्म को बर्लिन अंतरराष्ट्रीय फिल्म उत्सव और ट्रिबेका फिल्म उत्सव में दिखाया गया था। इसमें सिद्दीकी के कार्य को फिल्म समीक्षक रोजर एबर्ट ने काफी सराहा था। इसके बाद ये फिल्म संयुक्त राष्ट्र और कनाडा में भी दिखाई गई और न्यू यॉर्क टाइम्स के समीक्षा से भी लोगों का इन पर काफी ध्यान आकर्षित हुआ।

फिल्में[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sarkar, Sonia (20 जनवरी 2013). "Even fairness creams couldn't bring me luck". द टेलीग्राफ. अभिगमन तिथि 12 सितम्बर 2015.
  2. Das, Anirban (18 June 2013). "Nawazuddin Siddiqui backs his brother". Hindustan Times. HT Media Limited. मूल से 19 June 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 October 2017.
  3. "In Bollywood, the heroine is still a prop and the hero must dance and shoot people: Nawazuddin Siddiqui".
  4. "Won't do second lead anymore: Nawazuddin Siddiqui". Deccan Chronicle. 18 March 2012..
  5. PTI (24 April 2017) Watch: Nawazuddin Siddiqui Explains That He Isn't Just A Muslim, But A Bit Of All Religions Huffingtonpost. Retrieved on 24 April 2017.
  6. "नवाज के फैंस को पसंद आ रही है 'बाबूमोशाय बंदूकबाज', जानें कलेक्शन". अमर उजाला. अभिगमन तिथि 27 August 2017.
  7. 'Aatma' not horror film: Nawazuddin Siddiqui
  8. new film aatma

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]