नई मस्जिद (इस्तांबुल)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सन् ६६१ में खलीफ़ा क़ा जब निर्माण पूरा होने पर सुल्तान को इसका पता चला तो उसने सख्त नाराजगी जताई क्योंकि इस समय केवल मस्जिद हराम के मेनारों की छह लेकिन क्योंकि मस्जिद का निर्माण पूरा हो चुका था इसलिए समस्या का हल यह निकाला गया कि मस्जिद हराम में मीनार की वृद्धि कर इसे मेनारों की सात कर दी गई। मस्जिद के मुख्य कमरे पर कई गुंबद हैं

.पहले चार ख़लीफ़ा जिन्होने मुहम्मद की मौत के बाद शासन किया उन्हे अक्सर खलीफ़ा राशिदून के रूप में उल्लिखित किया जाता हैं रशीदुन या तो एक परिषद द्वारा(उस्मान और इस्लामी लोकतंत्र के चुनाव को देखें) चुने गए या उनके पूर्ववर्ती की इच्छा के आधार पर चुनें गए थे। उत्तराधिकार के क्रम में, रशीदुन थे